भारतीय गणितज्ञ आनंद कुमार | Anand Kumar Biography

Anand Kumar – आनंद कुमार एक बहुत ही प्रसिद्ध और मशहूर भारतीय गणितज्ञ है और गणित विषय पढ़ाने के लिए वो पुरे देश में जाने जाते है। पुरे देशमें उनके 30 कोचिंग सेण्टर है जहापर गरीब छात्रों को मुफ्त में पढाया जाता है।

Anand Kumar भारतीय गणितज्ञ आनंद कुमार – Anand Kumar Biography

आनंद कुमार का जन्म 1 जनवरी 1973 को बिहार के पटना शहर में एक बहुत ही गरीब परिवार में हुआ। उनके पिताजी भारतीय डाक विभाग में केवल एक लिपिक थे इसीलिए वो आनंद कुमार को महँगी प्राइवेट स्कूल में नहीं भेज सके। इसीलिए आनंद को इच्छा ना होते हुए भी सरकारी स्कूल में हिंदी माध्यम में पढाई करनी पड़ी।

आनंद कुमार बचपन से ही काफी चतुर और बुद्धिमान छात्र थे। उन्होंने बचपन से खुद की प्रतिभा का विकास करना शुरू कर दिया था। जब उनकी उम्र के लड़के एक या दो गणित के सवाल करने के बाद थक जाते थे उसी उम्र में आनंद लगातार गणित के कई सारे सवाल बड़ी आसानी से ह्ल करते थे और इतना ही नहीं बल्की कठिन से कठिन सवाल के जवाब बहुत ही कम समय में निकाल लेते थे।

उनकी इसी बुद्धिमत्ता के कारण उन्हें स्कूल के दिनों में ही गणित विषय अच्छा लगने लगा था। वो अपने पढाई का ज्यादा समय गणित के सवाल जवाब में ही लगा देते थे।

जब वो डिग्री की पढाई कर रहे थे तो उस वक्त उन्होंने नंबर थ्योरी पे कुछ नोट्स बनाये थे और बाद में फिर उन्हें मैथमेटिकल स्पेक्ट्रम और मैथमेटिकल गजट में प्रकाशित किया गया था।

उन्होंने जितने भी काम किये उस पर एक डाक्यूमेंट्री बनाई गयी है और उसे डिस्कवरी चैनल पे भी दिखाया गया है। उन्हें मेसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी में भी आमंत्रित किया गया था। अभी कुछ ही दिनों के बाद उनके जिंदगी पर भी फ़िल्म बनायीं जाएगी।

आनंद कुमार का करियर – Anand Kumar Career

आनंद कुमार के पिताजी गुजरने के बाद वह उनकी माँ के साथ में शाम के वक्त पापड़ बेचने में मदत करते थे और दिन में गणित की पढाई करते थे। आनंद ने घर से अपना छोटासा बिज़नस शुरू कर दिया था और ज्यादा का पैसा कमाने के लिए बच्चो को गणित पढाना शुरू कर दिया था।

सन 1992 में उन्होंने एक कमरा 500 रुपये के किराये से लेकर बच्चो को गणित पढ़ाने के लिए रामानुजन स्कूल ऑफ़ मैथमेटिक्स नाम का खुद का कोचिंग सेण्टर शुरू कर दिया था। शुरुवात में जब उन्होंने पढाना शुरू कर दिया था तो उस वक्त केवल 2 छात्र थे और एक साल के अन्दर ही यह आकडा 36 तक पहुच गया था। आगे के तीन साल में ही उनके कोचिंग सेण्टर में 500 से भी ज्यादा छात्र थे।

2002 में एक बहुत ही गरीब लड़का उनके पास आया था, वो बहुत ही गरीब होने के कारण आई आई टी की परीक्षा नहीं दे सकता था। उस लड़के से प्रेरित होकर उन्होंने सुपर 30 – Anand Kumar Super 30 का नया मुहीम हाथ में लिया था।

उनके इस ‘सुपर 30’ में हर साल 30 छात्रों को आई आई टी का प्रशिक्षण दिया जाता था और वो भी बिना कोई पैसा लिए। ऐसे 30 बुद्धिमान लेकिन गरीब लडको को मुफ्त में पढ़ने के लिए हर साल एक परीक्षा ली जाती थी और उस परीक्षा में से 30 गरीब और बुद्धिमान छात्रों को चुना जाता था।

उन तिस लडको के लिए उनकी माँ खाना बनाती थी और आनंद कुमार उन लडको को पढ़ाते थे। उन सब लडको को पुरे साल भर हॉस्टल में रहने को दिया जाता था।

2003 से 2016 के दौरान उनके इस सुपर 30 में 450 लडको को पढाया गया था और उनमेसे 391 छात्रों ने आई आई टी जैसी कठिन परीक्षा अच्छे अंको के साथ उत्तीर्ण कर ली।

2017 में भी उनके 30 छात्रों में से सभी 30 छात्र आई आई टी में चुने गए।

उनके इस सुपर 30 कोचिंग सेण्टर के लिए सरकार और निजी संघटना भी समर्थन करते है। जब उनका यह कोचिंग सेण्टर धीरे धीरे ज्यादा बड़ा होने लगा तो उसे स्पोंसर करने के लिए कई सारी कंपनिया सामने आयी लेकिन आनंद कुमार ने उन्हें साफ़ इंकार कर दिया।

जून 2016 में आनंद कुमार के जीवन पर आधारित लिखी गयी किताब को बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार के हातो रिलीज़ किया गया था। आनंद कुमार की तारीफ़ करते हुए उन्होंने कहा की आनंद कुमार बिना किसी स्वार्थ से यह काम कर रहे है और वो पुरे बिहार की पहचान बन चुके है।

उनके इस किताब को कनाडा के मनोचिकित्सक बीजू मेथ्यु और पत्रकार अरुण कुमार ने साथ में लिखी। इस किताब को पेंग्विन रैंडम हाउस ने इंग्लिश में प्रकाशित किया है और हिंदी में प्रभात प्रकाशन ने प्रकाशित किया है।

आनंद कुमार को मिले हुए पुरस्कार – anand kumar award

उन्हें भारत सरकार से भी कई सारे प्रतिष्टित पुरस्कार भी मिल चुके है और उनके इस सुपर 30 अभियान के लिए अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भी आनंद कुमार की तारीफ़ की थी।

आनंद कुमार के इस ‘सुपर 30’ अभियान पर मार्च 2009 में डिस्कवरी चैनल पर एक घंटे की डाक्यूमेंट्री भी दिखाई गयी थी। उनकी इस जबरदस्त कहानी को ‘द न्यू यॉर्क टाइम्स’ में भी प्रकाशित किया गया था।

गरीब बच्चो को आईआईटी-जेईई की कोचिंग देने के लिए उनका नाम सन 2009 में लिम्का बुक ऑफ़ रिकार्ड्स में भी शामिल किया गया है। उनका जो सुपर 30 अभियान था उसे ‘टाइम’ मैगज़ीन में ‘बेस्ट ऑफ़ एशिया 2010’ की सूची में भी शामिल किया गया था।

2010 में उन्हें इंस्टीट्यूट फॉर रिसर्च एंड डॉक्यूमेंटेशन इन सोशल साइंसेज (आईआरडीएस) की तरफ़ से ‘रामानुजन अवार्ड’ दिया गया था।

भारत में ही उन्हें राजकोट के आठवे राष्ट्रीय गणित सम्मलेन में रामानुजन गणित पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था। मध्य प्रदेश सरकार ने भी उन्हें महर्षि वेद व्यास पुरस्कार से सम्मानित किया था और उन्हें कर्पगम यूनिवर्सिटी से डी एस सी की डिग्री भी दी गयी थी।

परदेश में भी उन्हें ब्रिटिश कोलम्बिया सरकार, कनाडा और जर्मनी के सैक्सनी शिक्षा मंत्रालय की तरफ़ से भी उन्हें सम्मानित किया गया है।

आईआईएफए, राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार जितने वाले निर्देशक विकास बहल ने मई 2016 में यह घोषित कर दिया था की गणितज्ञ आनंद कुमार के जीवन पर एक फ़िल्म बन रही है। इस फ़िल्म का निर्माण प्रीति सिन्हा करने वाली है और इस फ़िल्म की ज्यादातर शूटिंग पटना में ही की जाएगी और इस फ़िल्म में सुपरस्टार ह्रितिक रोशन नजर आएंगे।

हमारे देश ने दुनिया को कई सारे महान व्यक्ति दिए है। उन्होंने अपने अपने क्षेत्र में काफी बड़ा योगदान दिया है। किसी ने कला और साहित्य को बढ़ाने का काम किया तो किसीने खेल के क्षेत्र मे देश का नाम रोशन किया है।

उसी तरह ही हमारे देश के महान गणितज्ञ आनंद कुमार ने भी गणित के क्षेत्र में बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान दिया है। उन्होंने केवल अपनी खुद की कोचिंग क्लासेज ही शुरू नहीं की बल्की उन गरीब लडको के लिए भी पढ़ाने की व्यवस्था की और उन गरीब लडको को वो पूरी तरह से निशुल्क पढ़ाते है।

इस ज़माने में इस तरह का नेक काम करने वाले लोग बहुत कम देखने को मिलते है। आनंद कुमार जैसे लोगो से सभी ने अच्छे काम करने की प्रेरणा लेनी चाहिए।

Read More:

Note: If you have more info in Anand Kumar Biography in Hindi. Or if I feel anything wrong, we will keep updating this as soon as we wrote a comment.

If you like our information about Anand Kumar History in Hindi, then we can share and share it on Facebook.

Note: E-MAIL Subscribes and Receives All Information and Biography of Anand Kumar in Hindi on your email.

1 COMMENT

  1. How can you say for Indian mathematics for Anand Kumar? if he is really a good mathematician then please accept our challenge and defeat me in the mathematician.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.