“नृत्य के स्वामी” नटराज के बारेमें | Lord Shiva Nataraja History

नटराज जिन्हेँ “नृत्य का स्वामी” भी कहा जाता हैं और जो भगवान शिव का ही एक रूप है। भगवान शिव जी के तांडव के दो स्वरुप हैं लेकिन आज तक हमने सिर्फ शिव जी के रौद्र तांडव रूप ही पता हैं जो वो क्रोध में करते हैं और उनका दूसरा तांडव स्वरुप हैं आनंद प्रदान करने वाला आनंद तांडव। जिसे हम नटराज- Nataraja कहते हैं।

Nataraja

“नृत्य के स्वामी” नटराज के बारेमें – Lord Shiva Nataraja History

नटराज को अक्सर मूर्ति के माध्यम से चित्रित किया जाता है। उनकी मुद्रा और कलाकृति को कई हिंदू ग्रंथों में वर्णित किया गया है जैसे अंशुमाद्दीद अग्मा और उत्तरकाम्का आगामा। नटराज की मूर्ति को आमतौर पर कांस्य में बनाया जाता है। लेकिन कई जगह ये पत्थर से बनी पाई गयी है। जैसा कि एलोरा गुफाएं और बदामी गुफाएं

नटराज कलाकृति का विवरण भारतीय विद्वानों द्वारा विभिन्न रूप से व्याख्या किया गया है। नटराज भारत में एक प्रसिद्ध मूर्तिकला प्रतीक है और इसे भारतीय संस्कृति का प्रतीक माना जाता है, विशेष रूप से हिंदू कला के बेहतरीन चित्रों में से एक के रूप में।

History of Lord Shiva Nataraja

ओडिशा के आसानपत गांव में पुरातात्विक स्थल में सबसे पहले ज्ञात नटराज कलाकृति में से एक है, जिसमें एक शिलालेख भी शामिल है। आसनपेट शिलालेख में साईंकार्यस साम्राज्य में एक शिव मंदिर का भी उल्लेख है।

Loading...

नटराज के शास्त्रीय रूप को चित्रित करने वाले पत्थर, 6 वीं शताब्दी के आसपास भारत के कई गुफा मंदिरों जैसे एलोरा गुफाएं (महाराष्ट्र), एलीफेंटा गुफाएं और बदामी गुफाएं (कर्नाटक) में पाए जाते हैं।

नटराज के चारो तरफ़ अग्नी हैं और उस अग्नि में भगवान शिव ने एक पैर से एक बौने राक्षस जो अज्ञानता का प्रतिक माना जाता हैं उस को दबा रखा हैं और दूसरा पैर नृत्य की मुद्रा में ऊपर की तरफ़ उठाया हुआ हैं। डमरू की आवाज भगवान् शिव जी को बहुत पसंद हैं नटराज की के स्वरुप में शिव जी ने अपने दाहिने हाथ में जो की ऊपर उठाया हुआ हैं उसमे डमरू पकड़ा हैं डमरू की आवाज को निर्माण का प्रतिक माना जाता हैं । और उनके ऊपर उठाये गए बाये हाथ में अग्नि हैं जो की विनाश का प्रतिक होती हैं।

इसका यही मतलब हैं की भगवान् शिव एक हाथ से निर्माण करते हैं और एक हाथ से विनाश करते हैं। उनका दूसरा दाहिना हाथ नृत्य मुद्रा में आशीर्वाद के रुप में उठा हुआ हैं जिससे उनका आशीर्वाद बुराईयों से हमारी रक्षा करता हैं। नटराज का जो दूसरा पाव ऊपर की और उठाया हुआ हैं वो मोक्ष को दर्शाता हैं और दूसरा बाया हाथ उस पाव की तरफ़ इशारा कर मोक्ष के मार्ग पर चलने का सुझाव देता हैं। गौर से देखा जाए तो उनकी यह पूरी मूर्ति ॐ के स्वरुप जैसी दिखती हैं।

पुरातत्व की खोजों ने ग्वालियर पुरातात्विक संग्रहालय में आयोजित मध्य प्रदेश के उज्जैन से 9 वीं से 10 वीं शताब्दी तक, एक लाल नटराज बलुआ पत्थर प्रतिमा प्राप्त की है। इसी प्रकार, नटराज कलाकृति हिमालय क्षेत्र जैसे कश्मीर में पुरातात्विक स्थलों में मिली, हालांकि कुछ नस्ल नृत्य और माइकोग्राफी जैसे ही दो हथियार या आठ हथियार थे।

बंगाल, आसाम और नेपाल में पाए गए शिव के मध्यकालीन युग के कलाकृतियों और ग्रंथों में उन्हें कभी-कभी अपने वाहन नंदी, बैल पर नृत्य के रूप में दिखाया जाता है; आगे, वह क्षेत्रीय रूप से नर्तेश्वर के रूप में जाना जाता है। नटराज कलाकृति आंध्र प्रदेश, गुजरात, और केरल में भी खोजी गई है।

सबसे बड़ी नटराज प्रतिमा तमिलनाडु में नेवेली में है। 2004 में, जिनेवा में कण भौतिकी में रिसर्च सेंटर के यूरोपीय केन्द्र सीईआर एन, पर नृत्य शिव का एक 2m प्रतिमा का अनावरण किया गया था।

सैकड़ों वर्ष पहले, भारतीय कलाकारों ने शिव को ब्रांज की सुंदर श्रृंखला में नृत्य करने की दृश्य छवियां बनाई थीं। ब्रह्मांडीय नृत्य का रूप इस प्रकार प्राचीन पौराणिक कथाएं, धार्मिक कला और आधुनिक भौतिकी को जोड़ता है।

आज जिसे भी नृत्य से प्यार हैं वो आपना नृत्य नटराज की मूर्ति को प्रमाण करके ही शुरू करता हैं और हर डांसिंग स्कूल में नटराज की मूर्ति की पूजा होती हैं।

Read More:

I hope these “Lord Shiva Nataraja History” will like you. If you like these “Lord Shiva Nataraja History” then please like our facebook page & share on whatsapp. and for latest update download : Gyani Pandit android App. Some Information taken from Wikipedia about Nataraja History in Hindi.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here