सोलापुर महाराष्ट्र की पूजा कौल का एक अनोखा स्टार्टअप…

Founder of OrganiKo Pooja Kaul

हम जीवन में गधों को कोई महत्व नहीं देते है और उस शख्स को गधे की संज्ञा दी जाती है जो कोई काम नहीं करता है। यानी की गधा हमारे लिए यूजलेस और नाकारा है लेकिन ये हमारे और आपके लिए हो सकता है, पूजा कौल के लिए नहीं।

पूजा कौल ने गधो का महत्व समझ और ये जाना की उनका दूध बहुत अधिक फायदेमंद होता है। उन्होंने इस क्षेत्र में जानकारी जुटाई और खोल दिया खुद का स्टार्टअप और उसे नाम दिया “आर्गेनिको”। ये स्टार्टअप गधे के दूध से ब्यूटी प्रोडक्ट बनाता है और बेचता है।

Founder of OrganiKo Pooja Kaul

सोलापुर महाराष्ट्र की पूजा कौल का एक अनोखा स्टार्टअप – Founder of OrganiKo Pooja Kaul

ये अनोखा आईडिया आया पूजा कौल को, जो सोलापुर महाराष्ट्र राज्य के रहने वाली है। पूजा ने जब अपनी पढ़ाई पूरी की तो उसके बाद उन्हें घर में ही रहने का मन हुआ। इसके लिए उनके पास दो आप्शन थे की एक तो वो सरकारी नौकरी करे या फिर अपने सपनो की तरफ भागे।

पूजा ने खुद का बिजनस करने का विचार किया और इस क्षेत्र में रिसर्च किया। उन्हें पता चला की मिस्र की रानी बहुत सुंदर थी और इसकी वजह थी वो गधे के दूध का इस्तेमाल करती थी। यही से पूजा को आईडिया आया और उन्होंने अपने स्टार्टअप को नाम दे दिया “ओर्गैनिको”। इस स्टार्टअप का दावा है की वो शत-प्रतिशत शुद्ध चीजे बेच रहे है।

गधे की दूध के फ़ायदे – Donkey Milk Benefits

पूजा ने कहा की “उन्होंने जब रिसर्च किया तो पता चल की गधे के दूध में विटामिन सी, ए, बी और ओमेगा 3 जैसे महत्वपूर्ण तत्व होते है और ये सभी तत्व त्वचा को कोमल और सुंदर बनाने के लिए बहुत आवश्यक है। चेहरे पर आने वाले दागो को भी दूर करने में सहायक है।

कैसे होता है काम –

पूजा ने उन किसानो से संर्पक किया जो गधे का पालन करते थे और उनका दूध निकालते थे। इसकी कीमत लगभग तीन हजार रुपये प्रति लीटर होती है। पूजा ने किसानो से बात की और दो हजार रुपये लीटर के हिसाब से दूध खरीदना चालू किया और इसके बाद उससे ब्यूटी प्रोडक्ट बनाने की शुरुआत की।

पूजा इस दूध से तैयार किया गया साबुन, चारकोल और हनी सोप बेचती है। वह ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीको को आजमाती है और दोनों से लगभग उनके पास ग्राहक आते है। पूजा ने कहा की उनका टारगेट 25 से 50 साल के उम्र तक की महिलाएं है। वो महिलाये जो की खुद को सुंदर बनाने के लिए बहुत पैसा खर्च करती है लेकिन सही उत्पाद नहीं मिल पाता है।

पूजा ने कहा की शुरुआत में उन्होंने उन किसानो से सम्पर्क किया जो गधे पालते थे और उन्हें ऐसे लगभग दस किसान मिले और फिर पूजा उनसे दूध लेना शुरू किया। दरअसल उनका कहना है की वो एक गधे का दूध रोज नहीं निकलवाती है। इससे गधा कमजोर होने लगता है और कही ना कही उसके बच्चो को भी बराबर पोषण नहीं मिल पाता है।

पूजा का कहना है की वो आगामी साल तक ये प्लान बना रही है की लगभग सौ गधा पालक किसानो के साथ उनका व्यवसाय चले और वो आर्गेनिक के क्षेत्र में कुछ बड़ा करे। बाकी भी ऐसे उत्पाद है जिन्हें गधे के दूध से बनाया जा सकता है।

नहीं था आसान-

पूजा ने कहा की ये आसान नहीं था क्योकि एक महिला होने के नाते ऐसा करना समाज को सही नहीं लगता है। शुरू शुरू में जब वो सुबह दूध लेने जाती थी तो उन्हें खुद बहुत असुरक्षित महसूस होता था।

पूजा कहती है की वो अगर पुरुष होती तो उन्हें ये डर नहीं होता। लेकिन बाद में धीरे धीरे डर निकलने लगा और वो आगे बढती चली गई। जब वो अपना आईडिया किसी की बताती थी तो लोग हसते थे लेकिन बाद में इसके फायदे बताने पर हर कोई उनके साथ हो लेता था। पूजा के साथ उनके क्लासमेट ऋषभ यश तोमर भी है।

पूजा ने कहा की छोटे शहरो में उद्यमियों की बढ़ावा दिया जाना चहिये क्योकि कही ना कही सकारात्मक सन्देश जाता है। आज पूजा बहुत खुश है और उन्हें तरक्की भी मिल रही है। पूजा को कई सारे सम्मान भी मिले है। यहाँ से मिलने वाली राशि को भी पूजा अपने इसी काम में लगा देती है और इसे आगे ले जाने की कोशिश करती है।

Loading...

Read More:

Hope you find this post about ”Founder of OrganiKo Pooja Kaul” useful and inspiring. if you like this articles please share on Facebook & Whatsapp. and for the latest update download: Gyani Pandit free android App.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.