संत ज्ञानेश्वर महाराज की जीवनी | Sant Dnyaneshwar Information in Hindi

Sant Dnyaneshwar – संत ज्ञानेश्वर या ज्ञानदेव या बस माउली एक 13 वीं सदी के मराठी संत, कवि, और नाथ परंपरा के योगी थे, जिनके “ज्ञानेश्वरी” और “अमृतानुभव” को मराठी साहित्य में पवित्र ग्रंथ माने जाते है।

संत ज्ञानेश्वर महाराज की जीवनी – Sant Dnyaneshwar Information in Hindi

ज्ञानेश्वर का जन्म 1275 में यादव राजा रामदेवराव के शासनकाल के दौरान कृष्ण जन्माष्टमी के शुभ दिन महाराष्ट्र के पैठण के पास गोदावरी नदी के किनारे पर आपेगावं में हुआ था। ज्ञानेश्वर के पिता विठ्ठलपंत आपेगावं के ब्राह्मण थे, उन्हें वह अपने पूर्वजों से विरासत में मिला एक पेशा था। उन्होंने आलंदी के कुलकर्णी की बेटी, रुख्मिणीबाई से शादी कर ली। शादी के बहुत सालों बाद भी संतान न होने पर आखिरकार विठ्ठलपंत अपनी पत्नी की सहमति के साथ, उन्होंने सांसारिक जीवन छोड़ दिया और संन्यासी बनने के लिए वाराणसी चले गये।

आध्यात्मिक शिक्षक रामशराम उनके द्वारा विठ्ठलपंत ने अपना जीवन संन्यासी के रूप में शुरू किया गया को था, जिन्हें कई स्रोतों में रामानंद, नृसिंहश्रम, रामदाय और श्रीपाद भी कहा जाता है। जब विठ्ठलपंत के गुरु रामश्राम को पता चला कि विठ्ठलपंत ने अपने परिवार को एक भिक्षु बनने के लिए पीछे छोड़ दिया था, तब उन्होंने विठ्ठलपंत को अपनी पत्नी के पास वापस जाने के लिए आदेश दिया और गृहस्थ के रूप में अपने कर्तव्यों का पालन करने को कहा। तब विठ्ठलपंत अपनी पत्नी रुख्मिणीबाई के पास लौट आये और आलंदी में बस गए, बादमें रुख्मिणीबाई ने चार बच्चों-निवृत्तीनाथ (1273 सीई), ज्ञानेश्वर (1275 सीई), सोपान (1277 सीई) और मुक्ताबाई (1279 सीई) को जन्म दिया।

उन दिनों के रूढ़िवादी ब्राह्मणों ने एक घर में संन्यास लेकर अपनी संसारिक ज़िंदगी में लौटने वाले इन्सान को पाखंडी माना जाता था; इस वजह से विठ्ठलपंत और उनके परिवार पर बहिष्कार डाला और उन्हें सताया गया। ज्ञानेश्वर और उनके भाइयों को पवित्र धागा समारोह के अधिकार से वंचित किया गया था, जो हिंदू धर्म में वेदों को पढ़ने का अधिकार का प्रतीक है।

विठ्ठलपंत को ब्राह्मणों ने अपने पापों के लिए प्रायश्चित्त करने का साधन सुझाया; उन्होंने तपस्या के रूप में अपना जीवन छोड़ने का सुझाव दिया तब विठ्ठलपंत और उनकी पत्नी ने गंगा में कूदकर अपनी जिंदगी को छोड़ दिया, फ़िर भी रूढ़िवादी ब्राह्मणों ने उनके बच्चों को शुद्ध मानने से इनकार कर दिया और सुझाव दिया कि वे रूढ़िवादी शिक्षा का केंद्र पैठना के पंडितों से प्रायश्चित (शुद्धि) का प्रमाणीकरण प्राप्त करे।

शुद्धि के प्रमाण पत्र प्राप्त करने के लिए गए हुए ज्ञानेश्वर की पैठण यात्रा के दौरान, ज्ञानेश्वर ने भैंस के माथे पर अपना हाथ रख दिया और उसने वैदिक गीत पढ़ना शुरू कर दिया। उसी बीच निवृत्तीनाथ की मुलाकात से गहिनीनाथ, जिन्होंने निवृत्तीनाथ को नाथ योगियों के ज्ञान में पहचाना।

पैठाना के पंडितों को चार भाइयों की आध्यात्मिक शिक्षा और बुद्धि से प्रभावित किया गया और उन्हें शुद्धि का प्रमाण पत्र दिया गया। यात्रा से आलंदी लौटने पर, बच्चों नेवसे में रुक गए, जहां ज्ञानेश्वर ने 1290 में “ज्ञानेश्वरी” (भगवद गीता पर एक टिप्पणी) बनायी, जो बाद में वारकरी संप्रदाय का मूल पाठ बन गयी।

परंपरा के अनुसार, निवृत्तीनाथ टिप्पणी से संतुष्ट नहीं थे और ज्ञानेश्वर को एक स्वतंत्र दार्शनिक काम लिखने के लिए कहा। उसके काम को बाद में अमृतानुभव के नाम से जाना जाने लगा। ज्ञानेश्वर ने अमृतानुभव लिखा था, उसके बाद भाई-बहन पंढरपुर गए जहां उन्होंने नामदेव से मुलाकात की, जो ज्ञानेश्वर का करीबी दोस्त बन गया। ज्ञानेश्वर और नामदेव ने भारत भर में विभिन्न पवित्र केंद्रों की तीर्थ यात्रा शुरू की जहां उन्होंने कई लोगों को वारकरी संप्रदाय में शामिल किया; इस अवधि के दौरान ज्ञानेश्वर की अभिमानी रचनाएं तैयार किए जिन्हें अभंग कहा जाता है।

ज्ञानेश्वर को संजीवन समाधि में प्रवेश करने की इच्छा थी, मात्र २१ वर्ष की उम्र में यह महान संत एवं भक्तकवि ने इस नश्वर संसार का परित्याग कर समाधिस्त हो गये। उनकी समाधि अलंदी में सिध्देश्वर मंदिर परिसर में निहित है। कई वारकरी भक्तों का मानना है कि ज्ञानेश्वर अभी भी जीवित है।

Pasaydan – “पसायदान” मराठी

आता विश्वात्मकें देवें । येणे वाग्यज्ञें तोषावें ।
तोषोनिं मज द्यावे । पसायदान हें ॥

जें खळांची व्यंकटी सांडो । तया सत्कर्मी- रती वाढो ।
भूतां परस्परे पडो । मैत्र जिवाचें ॥

दुरितांचे तिमिर जावो । विश्व स्वधर्म सूर्यें पाहो ।
जो जे वांच्छिल तो तें लाहो । प्राणिजात ॥

वर्षत सकळ मंगळी । ईश्वरनिष्ठांची मांदियाळी ।
अनवरत भूमंडळी । भेटतु भूतां ॥

चलां कल्पतरूंचे आरव । चेतना चिंतामणींचें गाव ।
बोलते जे अर्णव । पीयूषाचे ॥

चंद्रमे जे अलांछन । मार्तंड जे तापहीन ।
ते सर्वांही सदा सज्जन । सोयरे होतु ॥

किंबहुना सर्व सुखी । पूर्ण होऊनि तिन्हीं लोकी ।
भजिजो आदिपुरुखी । अखंडित ॥

आणि ग्रंथोपजीविये । विशेषीं लोकीं इयें ।
दृष्टादृष्ट विजयें । होआवे जी ।

येथ ह्मणे श्री विश्वेशराओ । हा होईल दान पसावो ।
येणें वरें ज्ञानदेवो । सुखिया जाला ॥

Dnyaneshwar abhang – ज्ञानेश्वर के और भी कुछ महत्वपूर्ण मराठी “अभंग”

• अधिक देखणें तरी
• अरे अरे ज्ञाना झालासी
• अवघाचि संसार सुखाचा
• अवचिता परिमळू
• आजि सोनियाचा दिनु
• एक तत्त्व नाम दृढ धरीं
• काट्याच्या अणीवर वसले
• कान्होबा तुझी घोंगडी
• घनु वाजे घुणघुणा
• जाणीव नेणीव भगवंती
• जंववरी रे तंववरी
• तुज सगुण ह्मणों कीं
• तुझिये निडळीं
• दिन तैसी रजनी झाली गे
• मी माझें मोहित राहिलें
• पांडुरंगकांती दिव्य तेज
• पंढरपुरीचा निळा
• पैल तो गे काऊ
• पडिलें दूरदेशीं
• देवाचिये द्वारीं उभा
• मोगरा फुलला
• योगियां दुर्लभ तो म्यां
• रुणुझुणु रुणुझुणु रे
• रूप पाहतां लोचनीं

Read More :-

I hope these “Sant Dnyaneshwar Information in Hindi” will like you. If you like these “Sant Dnyaneshwar Information in Hindi” then please like our facebook page & share on whatsapp. and for latest update download : Gyani Pandit free android App

View Comments (3)