शेयर बाजार क्या है और कैसे काम करता हैं?

What is Stock Market

हर सिक्के के दो पहलू होते हैं, वैसे ही शेयर मार्केट में भी ऐसा ही है। एक तरफ शेयर मार्केट में जहां लोग अच्छा मुनाफा कमा कर करोड़पति बन रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ शेयर मार्केट में काफी नुकसान भी झेल रहे हैं, लेकिन अगर आप भी शेयर मार्केट में पैसा लगा रहे हैं तो आप भी इसके नुकसान से बच सकते हैं लेकिन इसके लिए आपको इसकी पूरी जानकारी होना बेहद आवश्यक हैं।

क्योंकि बिना जानकारी के अगर आप शेयर मार्केट से पैसा कमाने चाहते हैं तो हो सकता है आप किस्मत वाले ही होंगे कि आपको मुनाफा मिलेगा अन्यथा ये काफी नुकसानदायक साबित होता है।

वहीं अगर आप ये सोच रहें कि शेयर बाजार में मोटा मुनाफा कमाने के लिए किसी योग्यता की जरूरत होगी तो ऐसा बिल्कुल भी नहीं है, इसके लिए जरूरी है तो बस अच्छी जानकारी और समझदारी की। तभी आप इस क्षेत्र में पैसा लगाकर सफल हो सकेंगे।

आजकल शेयर मार्केट भी लोगों की कमाई का एक अच्छा जरिया बनता जा रहा है। काफी बड़ी संख्या में लोग शेयर मार्केट में पैसा लगा रहे हैं और सफल हो रहे हैं। यहां तक कि दुनिया के सबसे अमीर व्यक्तियों की लिस्ट में शामिल वॉरेन बुफे ( Warren Buffet ) भी एक अच्छे शेयर इन्वेस्टर हैं जिन्होनें शेयर मार्केट से कई करोड़ रुपए तक कमाएं हैं क्योंकि उन्हें शेयर मार्केट के अच्छी जानकारी के साथ अच्छा अनुभव भी है।

चलिए आज हम आपको अपने इस आर्टिकल में बताएंगे कि शेयर मार्केट क्या है और कंपनिया कैसे शेयर जारी करती हैं।

Stock Market
Stock Market

शेयर बाजार क्या है और कैसे काम करता हैं? – What is Stock Market

शेयर मार्केट या स्टॉक मार्केट (Stock Market) वह जगह होती है, जहां पर शेयर, डिबेन्चर्स, म्यूचुअल फंड्स, डेरिवेटिव्स और अन्य सेक्योरिटी  (Shares, Debentures, Mutual Funds, Derivatives और अन्य Securities) को ख़रीदा और बेचा जाता हैं। आपको बता दें कि, शेयर्स को मुख्य रुप से स्टॉक एक्सचेंज के माध्यम से ख़रीदा और बेचा जाता हैं।

वहीं अगर दूसरे शब्दों में कहें तो शेयर बाजार वास्तव में कम्प्यूटरों का नेटवर्क है, जहां पर शेयर खरीदे या बेचे जाते हैं। ब्रोकरों के द्धारा शेयर खरीदे और बेचे जाते हैं। इसके साथ ही उच्च श्रेणी के सॉफ्टवेयर द्वारा तेज गति से मिलान भी किया जाता है। भारत के प्रमुख शेयर बाजार हैं  –

BSE बॉम्वे स्टॉक एक्सचेंज (Bombay Stock Exchange) और NSE नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (National Stock Exchange)।

शेयर मार्केट के प्रकार – Types of Stock Market

शेयर मार्केट दो तरह के होते हैं

  • प्राइमरी शेयर मार्केट (Primary share market)
  • सेकेंडरी शेयर मार्केट (Secondary share market)

प्राइमरी शेयर मार्केट (Primary Share Market)

प्राइमरी शेयर मार्केट में भी शेयर खरीदे और बेचे जाते हैं। वहीं इसके तहत कोई भी कंपनी बाजार में धन जुटाने के लिए प्राइमरी शेयर मार्केट में प्रवेश करती है। इसके तहत कंपनी जनता को शेयर जारी करने और पैसे जुटाने के लिए रजिस्टर्ड हो जाती हैं।

कंपनियां आम तौर पर प्राथमिक बाजार मार्ग के माध्यम से स्टॉक एक्सचेंज पर सूचीबद्ध होती हैं। वहीं अगर कोई कंपनी पहली बार शेयर बेच रही है, तो इसे प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश  (Initial Public Offering) या आईपीओ कहा जाता है, जिसके बाद कंपनी सार्वजनिक हो जाती है।

आईपीओ के लिए जाने के दौरान, कंपनी को अपने बारे में ब्योरा देना होगा, कंपनी को अपने वित्तीय, प्रमोटर, कारोबार, जो शेयर कंपनी द्धारा जारी किए जा रहे हैं समेत मूल्य बैंड की भी जानकारी देनी होगी।

सेकेंडरी शेयर मार्केट (Secondary Share Market)

सेकेंडरी शेयर मार्केट में, निवेशक पहले से ही सूचीबद्ध शेयर को खरीदने और बेचकर ट्रेडिंग करते हैं। सेकेंडरी शेयर मार्केट के तहत ऐसे लेनदेन होते हैं, जहां एक निवेशक मौजूदा मूल्य पर दूसरे से शेयर खरीदता है।

आम तौर पर, ये लेनदेन ब्रोकर के माध्यम से आयोजित किए जाते हैं। आपको बता दें कि सेकेंडरी शेयर मार्केट निवेशकों को अपने सभी शेयरों को बेचने और वित्तीय बाजार से बाहर निकलने का मौका भी देता है।

इसके साथ ही आपको ये भी बता दें कि जिस मार्केट में हम आमतौर पर पैसा लगाने की बात करते हैं तो हम सेकेंडरी शेयर मार्केट की ही बात कर रहे होते हैं।

वहीं सेकेंडरी शेयर मार्केट में ही एक स्टॉक या शेयर की कीमत लगाई जाती है, और उसे फायदे या नुकसान के साथ खरीदा और बेचा जाता है।

उदाहरण –

उदाहरण के तौर पर मान लीजिए कि टाटा स्टील के शेयर बाजार (Share Bazar) में 230 रुपये प्रति शेयर पर कारोबार कर रहे हैं। एक निवेशक इन शेयरों को मौजूदा बाजार मूल्य पर खरीद सकता है और कंपनी का हिस्सा-स्वामित्व प्राप्त करेगा और शेयरधारक बन जाएगा।

शेयर मार्केट, कंपनियों के लिए धन जुटाने और निवेशकों के लिए बढ़ते व्यवसायों में अंश-स्वामित्व खरीदने और अपनी आय-संपत्ति बढ़ाने का एक स्रोत है। शेयरधारक बनने पर, एक निवेशक लाभांश के माध्यम से कंपनी द्वारा अर्जित लाभ का एक हिस्सा कमाता है। इसके साथ ही, निवेशक हारने का जोखिम भी उठाता है।

इसके साथ ही आपको ये भी बता दें कि- बाजार प्रतिभागियों को शेयर बाजार में व्यापार करने में सक्षम होने के लिए स्टॉक एक्सचेंज और बाजार नियामक सेबी ( Market Regulator Sebi ) के साथ रजिस्टर करने की जरूरत है।

आइए अब समझिए आखिर शेयर क्या होता है ? – What is Share

शेयर मार्केट में जो शेयर आप खरीदते या फिर बेचते हैं उन Share का अर्थ होता हैं -“हिस्सा” वहीं  स्टॉक मार्केट की भाषा में “शेयर” का मतलब हैं – “कंपनियों में हिस्सा” । वहीं जब आप किसी कंपनी के शेयर खरीदते हैं तो कंपनी के हिस्सेदार बन जाते हैं। वहीं अगर आपके पास किसी कंपनी के शेयर हैं तो आप उस कंपनी के उतने हिस्से के मालिक बन जाते हैं।

आपको ये भी बता दें कि शेयर को हिंदी में अंश कहते हैं और शेयर होल्डर को अंशधारक कहते हैं। शेयर बाजार से शेयर खरीद कर आप भी वहां लिस्टेड किसी भी कंपनी के मालिक बन सकते हैं।

सभी शेयर कंपनी द्वारा घोषित किये गए सभी डिविडेंड (Dividend) अथवा बोनस शेयर के अधिकारी भी होते हैं। किसी कंपनी के शेयर खरीद लेने से आपको भी वो सब अधिकार मिल जाते हैं जो शेयर होल्डर के आधिकार होते हैं।

उदाहरण के  तौर पर अगर समझे तों, अगर किसी कंपनी ने कुल 1 लाख शेयर issue किए हैं और आपने उसमें से 10 हजार Shares खरीद लिए हैं तो आप उस कंपनी के 10% हिस्सेदार बन जाते हैं और आप जब चाहें तब इन शेयर्स को स्टॉक मार्केट में बेच सकते हैं।

आइए जानते हैं कि शेयर मार्केट में कंपनियां शेयर्स कैसे जारी (Issue) करती हैं ? – How companies issue shares

शेयर मार्केट में सबसे पहले कोई भी कंपनी अपने शेयर्स की स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टिंग करवाकर आईपीओ (प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश) लाती है। इसके बाद कंपनी खुद के शेयर अपने द्धारा तय किये हुए मूल्य पर  लोगों को जारी करती है।

वहीं एक बार जब आईपीओ (प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश) पूरी हो जाती है उसके बाद कंपनी के शेयर मार्केट में आ जाते हैं और फिर स्टॉक एक्सचेंज (Stock Exchange) और ब्रोकर्स के माध्यम से निवेशकों द्वारा आपस में ख़रीदे और बेचे जाते हैं। इस तरह से फिर निवेशक कंपनी के शेयर खरीदकर और बेचकर कमाई करते हैं।

Read More:

Note: Hope you find this post about ”What are Mutual Funds” useful. if you like this articles please share on Facebook & Whatsapp. and for the latest update download: Gyani Pandit free Android App.

Loading...

1 COMMENT

  1. कृप्या आप शेयर बाजार में use होने वाली शब्दावली के बारे में Detail में बताइए..
    जैसे शब्द – Stop Loss कहां और कैसे लगता है, क्या उसके लिए Charges भी लगते है, Intraday और Delivery दोनों में लगा सकते है, Stop Loss लगाने के बाद Stock अगर हमारे Loss Marker से नीचे गिरा तो 100% वो Stop Loss Marker में बिक जाएगा?
    क्या Stop Profit भी लगा सकते हैं? क्या ये भी Stop Loss की तरह काम करेगा?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.