भारतीय क्रिकेटर अनिल कुंबले | Anil Kumble

Anil Kumble – अनिल कुंबले एक भारतीय क्रिकेटर और दाए हाथ के लेग स्पिन गेंदबाज है। 1999 में पाकिस्तान के खिलाफ खेली गयी अपनी पारी के लिए वे प्रसिद्ध है। उन्होंने एक टेस्ट मैच की एक पारी में पुरे 10 विकेट लिए थे। कुछ समय तक वे भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान भी रह चुके है।

Anil Kumble
भारतीय क्रिकेटर अनिल कुंबले – Anil Kumble

अनिल कुंबले का जन्म 17 अक्टूबर 1970 को भारत के बैंगलोर में हुआ। उनके पिता का नाम के.एन. कृष्णा स्वामी और माता का नाम सरोज है। कुंबले ने चेतना रामतीर्थ से शादी की है। उनके बेटे का नाम मायस और दो बेटियों का नाम स्वस्ति और अरुणी है।

बैंगलोर के बसवानगुदी की सेंट इंग्लिश स्कूल एंड नेशनल हाई स्कूल से उन्होंने प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त की। इसके बाद राष्ट्रिय विद्यालय कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग (RVCE) से उन्होंने मैकेनिकल इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन पूरा किया।

अनिल कुंबले का करियर – Anil Kumble Career:

कुंबले को भारतीय टीम का महानतम खिलाडी कहा जाता था। बचपन से ही कुंबले को क्रिकेट में रूचि थी और बचपन में 13 साल की उम्र में ही वे यंग क्रिकेट क्लब में शामिल हो चुके थे। 1989 में 19 साल की उम्र में हैदराबाद के खिलाफ उन्होंने अपना पहला घरेलु मैच खेला। उस समय वे कर्नाटक टीम की तरफ से खेलते थे।

अनिल कुंबले ने तेज गेंदबाज के रूप में अपने करियर की शुरुवात की थी। 1990 में डेब्यू करने के बाद 1992 के वर्ल्ड कप स्क्वाड में उन्होंने सफलतापूर्वक जगह बना ली थी। 1992 के घरेलु मैचों में बेहतरीन प्रदर्शन के बाद उन्होंने लगातार अंतरराष्ट्रीय भारतीय टीम के लिए खेलना शुरू किया और तबसे लेकर रिटायरमेंट तक वे टीम से जुड़े रहे।

Loading...

गेंदबाजी में अपनी विविधताओ से वे लगातार विरोधी बल्लेबाजो को परेशान करते-रहते। गूगली और फ्लिपर उनकी गेंदबाजी के सबसे बड़े हथियार थे, बल्कि निचले क्रम के बल्लेबाजो को वे अपनी स्पिन और योर्कर से ही आउट कर देते थे। जैसे-जैसे समय बीतता गया वैसे-वैसे उनकी गेंदबाजी और प्रभावशाली होने लगी और उनका नाम दुनिया के सर्वश्रेष्ट स्पिन गेंदबाजों में किया जाने लगा।

कुंबले के करियर का सबसे शानदार पल यक़ीनन 1999 में दिल्ली में पाकिस्तान के खिलाफ किया गया टेस्ट मैच था। इस मैच में कुंबले ने पूरी पाकिस्तान टीम को आउट कर दिया था और उस मैच की एक पारी में उन्होंने 74 रन देकर 10 विकेट चटकाए। जिम लेकर के बाद यह टेस्ट मैच में दूसरा सर्वश्रेष्ट गेंदबाजी प्रदर्शन था।

अपने करियर की चरम सीमा पर सन 2008 में उन्होंने भारतीय टेस्ट टीम की कप्तानी भी की है। रिटायरमेंट के बाब सन 2010 तक वे आईपीएल में खेल रहे थे।

रिटायरमेंट के बाद भी भारतीय क्रिकेट का यह महानतम खिलाडी क्रिकेट से जुड़ा रहा और तीन सालो तक वे KSCA (कर्नाटक स्टेट क्रिकेट एसोसिएशन) के अध्यक्ष बने रहे और सन 2016 में उन्हें भारतीय क्रिकेट टीम का कोच बनाया गया। उनके नेतृत्व में भारतीय टीम दुनिया की नंबर 1 टेस्ट टीम भी बनी और 2017 में चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में भी पहुची। चैंपियंस ट्रॉफी के तुरंत बाद कुंबले ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया।

अनिल कुंबले को मिले हुए अवार्ड – Anil Kumble Award:

  • 1995 – अर्जुन अवार्ड, भारत सरकार।
  • 1996 – विस्डन क्रिकेटर ऑफ़ दी इयर।
  • 2002 – विस्डन क्रिकेटर ऑफ़ दी 20th सेंचुरी में चुने गये 16 क्रिकेटरो में से एक।
  • 2005 – पद्म श्री, भारत सरकार।
  • एम्.जी. रोड, बेंगलोर के प्रमुख चौराहे का नाम अनिल कुंबले के नाम पर रखा गया।
  • 2015 – ICC क्रिकेट हॉल ऑफ़ फेम, ICC द्वारा दिया जाने वाला अवार्ड।

Read More – 

I hope these “Anil Kumble Biography in Hindi” will like you. If you like these “Anil Kumble Biography” then please like our facebook page & share on whatsapp. and for latest update download : Gyani Pandit free android App

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here