Taj-ul-Masajid

ताज-उल-मसजिद का इतिहास | Taj-ul-Masjid history in hindi

Taj-ul-Masjid - ताज-उल-मस्जिद भारत के भोपाल में स्थित एक मस्जिद है। जबकि इसका सही नाम ताज-उल-मसजिद है, ना की ताज-उल-मस्जिद। “मसजिद” का अर्थ “मस्जिद” से है और ताज-उल-मस्जिद का साधारणतः अर्थ “मस्जिदों के बीच...
Srirangam Temple

श्रीरंगम मंदिर का इतिहास | Srirangam Temple History

Srirangam Temple - श्रीरंगम मंदिर इसे रामनाथस्वामी मंदिर के नाम से भी जाना जाता हैं। यह भगवान शिव का एक हिन्दू मंदिर है जो भारत में तमिलनाडु राज्य के रामेश्वरम् द्वीप पर स्थापित है।...
Mehrangarh Fort

मेहरानगढ़ किले का इतिहास | Mehrangarh Fort History

Mehrangarh Fort - मेहरानगढ़ किला भारत के प्राचीनतम किलों में से एक है और भारत के समृद्धशाली अतीत का प्रतीक है। यह किला जोधपुर किलों में सबसे बड़े किलों में से एक है। आज...
Bangla Sahib Gurudwara Delhi

गुरुद्वारा बंगला साहिब का इतिहास | History of Bangla Sahib Gurudwara Delhi

Bangla Sahib Gurudwara - गुरुद्वारा बंगला साहिब प्रसिद्ध सिक्ख गुरुद्वारों में से है, जिसका निर्माण भारत के नयी दिल्ली में किया गया है। यह गुरुद्वारा नयी दिल्ली में कनौट प्लेस पर बाबा खरनाक सिंह...
History of India

जानिए भारत का हजारो साल पुराना इतिहास | History of India

दोस्तों, भारत देश एक ऐतिहासिक प्राचीन देश में गिना जाता हैं। भारत का इतिहास - History of India हजारो साल पुराना है। इसे बहुत से भागो में विभाजित किया गया है। तो चलिये जानते...
Tukaram

संत तुकाराम महाराज की जीवनी – Tukaram Maharaj In Hindi

Tukaram - तुकाराम महाराज महाराष्ट्र के भक्ति अभियान के 17 वी शताब्दी के कवी-संत थे। वे समनाधिकरवादी, व्यक्तिगत वारकरी धार्मिक समुदाय के सदस्य भी थे। तुकाराम अपने अभंग और भक्ति कविताओ के लिए जाने जाते...
Sai Baba

शिर्डी के साईं बाबा का इतिहास | Sai Baba History in Hindi

शिर्डी के साईं बाबा / Sai Baba एक भारतीय धार्मिक गुरु थे, जिन्हें उनके भक्त संत, फ़क़ीर और सतगुरु भी कहते थे। उनके हिन्दू और मुस्लिम दोनों भक्त उन्हें पूजते थे, और उनकी मृत्यु...
Historical places in India

भारत के ऐतिहासिक स्थल | Historical places in India information

Historical places in India - दोस्तों भारत एक प्राचीनतम और महान सभ्यता का देश हैं। यहा महान राजा और योद्धाओं ने अपनी छाप अपनी वास्तु से छोड़ी हैं। उनके महान निर्माणकार्य आज भी उसी...

सोशल मिडिया पर ज्ञानीपण्डित से जुड़ें

65,406FansLike
112,430FollowersFollow
667FollowersFollow
7,274SubscribersSubscribe