हिंदी दिवस का महत्व और निबंध | Hindi Diwas essay in Hindi

Hindi Diwas essay

हमारे भारत देश में हर साल हिंदी दिवस – Hindi Diwas 14 सितम्बर को ही मनाया जाता है, हिंदी भाषा के इतिहासिक पलो को याद कर लोग इस दिवस को मनाते है। 14 सितम्बर 1949 को ही हिंदी को देवनागरी लिपि में भारत की कार्यकारी और राष्ट्रभाषा का दर्जा अधिकारिक रूप से दिया गया था और तभी से देश में 14 सितम्बर का दिन हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है। इसी दिनविशेष पर आपके लिए हिंदी भाषा पर निबंध / Hindi Diwas essay और जानकारी :

Hindi Diwas Essay
National Hindi day

हिंदी दिवस का महत्व और निबंध – Hindi Diwas essay in Hindi

हिंदी दिवस – Hindi Diwas भारत में स्कूल, कॉलेज, ऑफिस, संस्थाओ कार्यालयों के अधिकारी, प्राइवेट ऑफिस के अधिकारी और शैक्षणिक संस्थाए बड़ी धूम-धाम से मनाती है। जिसमे विविध कार्यक्रमों का आयोजन और हिंदी से संबंधित स्पर्धाओ का आयोजन किया जाता है, जैसे की हिंदी कविताये, कहानी लेखन, Hindi Diwas Essay / निबंध लेखन, हिंदी भाषा के महत्त्व, उपयोग और कुछ रोचक तथ्यों के बारे में लोगो को बताया जाता है।

भारत में ज्यादातर लोग बातचीत करते समय हिंदी भाषा को ही प्राधान्य देते है, बचपन से ही हमें अपने घरो में हिंदी भाषा का ज्ञान दिया जाता है। हिंदी दुनिया में सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा में से एक है। हिंदी भाषा कई दुसरे देशो में भी बोली जाती है जैसे की पकिस्तान, नेपाल, मॉरिशस, बंगलादेश, सूरीनाम, इत्यादि। हिंदी एक ऐसी भाषा है जिसका उपयोग करोड़ों लोग अपनी मातृभाषा के रूप में करते है।

हिंदी दिवस – Hindi Diwas पर भारत के राष्ट्रपति द्वारा विविध अवार्ड और पुरस्कार भी दिये जाते है, नयी दिल्ली के विज्ञान भवन में हिंदी के क्षेत्र में अमूल्य कामगिरी करने वाले लोगो को यह पुरस्कार दिये जाते है।

Loading...

इसके साथ ही कई डिपार्टमेंट, मिनिस्ट्री और राष्ट्रीयकृत बैंको को भी राजभाषा अवार्ड दिया जाता है। हिन्दी दिवस पर दिये जाने वाले दो अवार्ड का नाम गृह मंत्रालय द्वारा 25 मार्च 2015 को बदला गया था। जिसमे राजीव गांधी राष्ट्रिय ज्ञान-विज्ञान मौलिक पुस्तक लेखन पुरस्कार को बदलकर राजभाषा गौरव पुरस्कार और इंदिरा गांधी राजभाषा पुरस्कार को बदलकर राजभाषा कीर्ति पुरस्कार रखा गया था।

हिंदी हमारी – Hindi Diwas राष्ट्रभाषा है और हमें उसका सम्मान करना चाहिये। ऐसा लगता है की आज आर्थिक और तकनिकी विकास के साथ-साथ हिंदी भाषा अपने महत्त्व को खोती चली जा रही है। देखने में आता है की आज हर कोई सफलता पाने के लिये इंग्लिश भाषा को सीखना और बोलना चाहता है, क्योकि हम देखते है की आज हर जगह इंग्लिश भाषा की ही मांग शुरू है। ये सच है लेकिन हमें अपनी मातृभाषा और राष्ट्रभाषा को कभी नही भूलना चाहिये।

भले ही आज इंग्लिश भाषा का ज्ञान होना जरुरी है लेकिन सफलता पाने के लिये हमें अपनी राष्ट्रभाषा को कभी नही भूलना चाहिये। क्योकि हमारे देश की भाषा और हमारी संस्कृति हमारे लिये बहुत मायने रखती है।

किसी भी आर्थिक रूप से प्रगत देश की राष्ट्रभाषा वहाँ के लोगो के साथ-साथ हमेशा तेज़ी से बढती जाती है क्योकि वे लोग जानते है की किसी भी बाहरी देश में उनकी राष्ट्रभाषा और संस्कृति ही उनकी पहचान बनने वाली है। उसी तरह से हम भारतीयों को भी हमारी राष्ट्रभाषा को महत्त्व देना चाहिये। क्योकि हिंदी भाषा ही हमारे महान प्राचीन इतिहास को उजागर करती है और वही हमारी पहचान है।

देश में हर साल हिंदी दिवस मनाने की बहुत जरुरत है, यह जरुरी है की हम अपनी राष्ट्रभाषा को सम्मान दे और हमारी अगली पीढ़ी भी विदेशी भाषा की बजाये हमारी राष्ट्रभाषा को जाने। हिंदी दिवस केवल इसलिए नही मनाया जाता की वह हमारी राष्ट्रभाषा है बल्कि इसलिए भी मनाया जाता है क्योकि सदियों से हिंदी ही हमारी भाषा रही है और हमें हमारी राष्ट्रभाषा का सम्मान करना चाहिये और हमें अपनी राष्ट्रभाषा पर गर्व होना चाहिये।

दुसरे देशो में भी हिंदी भाषा बोलते समय हमें शर्मिंदगी महसूस नही होनी चाहिये बल्कि हिंदी बोलते समय हमें गर्व होना चाहिये। आज-कल हम देखते है की भारतीय लोग हिंदी की बजाये इंग्लिश को ज्यादा महत्त्व देने लगे है क्योकि अभी कार्यालयीन जगहों पर इंग्लिश भाषा का महत्त्व बढ़ चूका है। ऐसे समय में साल में एक दिन हिंदी दिवस मनाना लोगो में हिंदी भाषा के प्रति गर्व को जागृत करता है और लोगो को याद दिलाता है की हिंदी ही हमारी राष्ट्रभाषा है।

Hindi Diwas देश की धरोहर होती है, जिस तरह हम तिरंगे को सम्मान देते है उसी तरह हमें हमारी राष्ट्रभाषा को भी सम्मान देना चाहिये। हम खुद जबतक इस बात को स्वीकार नही करते तबतक हम दूसरो को इस बात पर भरोसा नही दिला सकते।

हिंदी हमारे भारत देश की मातृभाषा है। हमें गर्व होना चाहिये की हम हिंदी भाषी है। हमारे देश की राष्ट्रभाषा का सम्मान करना हम नागरिको का परम कर्तव्य है। हम सब की धार्मिक विभिन्नताओ के बीच एक हमारी राष्ट्रभाषा ही है जो एकता का आधार बनती है।

हिंदी दिवस एक ऐसा अवसर है जहाँ हम भारतीयों के दिलो में हिंदी भाषा के महत्त्व को पंहुचा सकते है और उन्हें हिंदी भाषा के महत्त्व को बता सकते है। इस समारोह से भारतीय युवाओ के दिलो-दिमाग में हिंदी भाषा का प्रभाव पड़ेंगा और वे भी बोलते समय हिंदी भाषा का उपयोग करने लगेंगे।

हमें बड़े गर्व ओर उत्साह के साथ हर साल हिन्दी दिवस मनाना चाहिये और स्कूल, कॉलेज, सोसाइटी और कार्यालयों में होने वाली विविध गतिविधियों में हिस्सा लेना चाहिये। ताकि हम लोगो में हिंदी भाषा के प्रति प्रेम को उजागर कर सके और हिंदी के महत्त्व को बता सके।

Note: आपके पास Hindi Diwas essay in Hindi मैं और information हैं। या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिखे हम इस अपडेट करते रहेंगे।
नोट: अगर आपको Hindi Diwas essay in Hindi language अच्छा लगे तो जरुर हमें facebook पर share कीजिये।
Email subscription करे और पायें more essay, Paragraph, Nibandh in Hindi. for any class students, also more new article. आपके ईमेल पर।

30 COMMENTS

  1. आपने हिंदी दिवस पर हिंदी के प्रयोग को लेकर जो चर्चा की वह सराहनीय है । Google के माध्यम से हिंदी के प्रयोग को एक और राह मिली है। हमारी हिंदी भाषा में जब सभी गुण मौजूद है तो हिंदी को महत्व क्यों नहीं नहीं दिया जाता। हिंदी सिर्फ सजा कर रखने की चीज नहीं है। जब तक इसको हम अपनी मान – मर्यादा के साथ नहीं जोड़ेगे, हिंदी के प्रति न्याय नहीं होगा। हम अंग्रजी को एकदम से ख़त्म करने की बात नही करते लेकिन हिंदी के प्रति हींन दृष्टिकोण समाप्त करना होगा ।

    नीरज श्रीवास्तव
    www,janjagrannews.com

  2. हिंदी दिवस के इस शुभ अवसर पर यह निबंध विद्यालय के छात्र/छात्राओं के लिए अत्यंत लाभकारी सिद्ध होगा, आपके द्वारा दी गई समस्त जानकारी सचमुच अदभुत है, जानकारियों में इतिहास के पहलुओं से उठाकर वर्तमान जीवन में प्रस्तुत करने का ढंग ही निराला हैं, और ये हम सभी भारतीयों को, चाहे देश में हों या विदेश में सभी जगह हिंदी भाषा के अस्तित्व को उजागर करना हमारा कर्तव्य होना चाहिए और ये हमें प्रण लेना होगा, जिससे हम अपनी मातृभाषा का संपूर्ण विश्व में लोहा मनवा सकें, और इतना ही नही हमें अपने देश में भी इसको चरणबद्ध तरीके से अपनाना होगा, शिक्षा के सभी क्षेत्र में अंग्रेजी की कायाकल्प को पलटने की भी अत्यंत आवश्यकता है, यह बहुत दुःखद विषय है कि गौर-सरकारी नौकरियों में हमारे देश के मेधावी छात्र/छात्राएं केवल इसलिए पीछे रह जातें है क्योंकि उन्हें साक्षत्कार के अंग्रेजी बोलने में हिचकिचाहट होती है, और उनकी जगह काम ज्ञान वाले छात्रों का चयन इसलिए हो जाता है क्योंकि उन्हें अंग्रेजी अच्छी आती है।
    मेरे विचारों से सहमत हो तो इस पर टिप्पणी अवश्य करें।
    धन्यवाद!

  3. Sach m Gyani pandit pr mili jankari se sabhi mushkil hal ho jati h aaj Hindi Nibandh padh kar mujhe bhot jankari mili dhanywad Gyanipandit Ji.

    • Apaka bhi bahut bahut dhyanywad Khushbu jain Ji. Aap hamse social media par jude rahe taki apako bhavishya me or adhik mahatvpurn jankari mil sake.

  4. आपका लिखा हुआ आर्टिकल आज मेरे किसी कस्टमर के काम आ गया| आपको इस आर्टिकल के लिए बहुत बहुत धन्यवाद|

  5. Hindi h ham Hindu h watan hamari, hamari sabhayata aur sanskriti Hindi ko Pradhan manti h jis bhasa me ham pale bhad e h
    Us ko Bhulana namumkin h
    So celebrate Hindi divas

  6. हिंदी हमारी मात्र भाषा ओर हमे हिंदी का अधिक से अधिक प्रयोग करना चाहिए । जय भारत जय छत्तीसगढ़,😇🙏https://www.instagram.com/p/BY3d6IWDy59/

    • Thanks, Tulsi b somanna Ji

      Please ise apane dosto ke sath bhi share kare. taki vo bhi isaka labh utha sake. or social media par hamse jude rahe.

  7. हमारा इतिहास गवाह है, कि हम हिन्दी भाषा में कितने समृद्ध थे । आजादी के पश्चात जो भाषा की अवहेलना हुई है, इसी का नतिजा आज हमारे सामने है । ईमानदारी से 1% भारत के लोग ही पूरा ककहरा (consonant’s) बता पायेंगे । मुझे यहाँ भी ग्लानी महसूस हो रही है,कि वे लोग ककहरा नही जानते, इसलिय मुझे इस शब्द को कोष्ठक में लिखना पड़ा । संक्रमण काल से हमारी हिन्दी भाषा गुजर रही है । आज के दौर में कोई सच्चा प्रहरी मुझे तो नजर नही आ रहा ।

  8. हिंदी हमारी राष्ट्र भाषा है | हम सब के मन में उसका सम्मान होना कहिये | आज हिंदी का प्रचार प्रसार इन्टरनेट के माध्यम से तेजी से हुआ है | यह ख़ुशी की बात है की हिंदी पढने , बोलने लिखने वालों का एक बड़ा वर्ग तैयार हो रहा है |और जैसा की आपने कहा हम सब को अपनी राष्ट्र भाषा हिंदी को सम्मान देने के लिए गर्व और उत्साह के साथ हिंदी दिवस मानना चाहिए | बेहतरीन पोस्ट

  9. वैसे तो अपना देश विविधता से परिपूर्ण हैं। जीतनी विविधता हमारे देश में देखने को मिलती हैं। उतनी कही नहीं सभी लोग यहाँ बड़े प्यार से रहते हैं। हिंदी भाषा हमारी राष्ट्र भाषा होने से हमारे देश में ज्यादातर हिंदी भाषा बोली जाती हैं। भारत के इतिहास में 14 सितम्बर 1949 को हिंदी को राष्ट्रभाषा का दर्जा दिया था। इसलिए हर साल 14 सितम्बर को अपने देश में हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता हैं उस दिन स्कूल और महाविद्यालय में अनेक कार्यक्रमों का आयोजन होता हैं। आपका यह हिंदी दिवस पर essay सभी विद्यार्थियों को काफ़ी फ़ायदेमंद साबित होंगा।

  10. Sir yah Hindi Diwas par essay hame bahut pasand aya hain. apake website par sachmuch Gyani ka bhandar hain. Apaka Hindi Diwas par Nibandh mujhe mere school ke project ke liye kafi helpful raha hain. Thanks

    • Advik Ji,

      Thanks for comment, Aap apake school ke project ke liye jo essay likh rahe ho usme yahapar ek alag lekh bhi hain jisme Hindi Diwas par slogans diye hain uska bhi use kar skate hain.

  11. बेहतरीन पोस्ट. कहने में अतिशयोक्ति नहीं होगी की हिंदी हमारी शान है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here