सोमनाथ मंदिर का इतिहास | Somnath Temple History In Hindi

सोमनाथ मंदिर / Somnath Temple भारत के पश्चिमी तट पर सौराष्ट्र के वेरावल के पास प्रभास पाटन में स्थित है| भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंग में से सोमनाथ पहला ज्योतिर्लिंग है| यह एक महत्वपूर्ण तीर्थस्थान और दर्शनीय स्थल है| बहोत सी प्राचीन कथाओ के आधार पर इस स्थान को बहोत पवित्र माना जाता है| सोमनाथ का अर्थ “सोम के भगवान” से है|

सोमनाथ मंदिर का इतिहास / Somnath Temple History in Hindi
Somnath Temple

सोमनाथ मंदिर शाश्वत तीर्थस्थान के नाम से जाना जाता है| पिछली बार नवंबर 1947 में इसकी मरम्मत करवाई गयी थी, उस समय वल्लभभाई पटेल जूनागढ़ दौरे पर आये थे तभी इसकी मरम्मत का निर्णय लिया गया था| पटेल की मृत्यु के बाद कनैयालाल मानकलाल मुंशी के हाथो इसकी मरम्मत का कार्य पूरा किया गया था, जो उस समय भारत सरकार के ही मंत्री थे|

यह मंदिर रोज़ सुबह 6 बजे से रात 9 बजे तक खुला रहता है| यहाँ रोज़ तीन आरतियाँ होती है, सुबह 7 बजे, दोपहर 12 बजे और श्याम 7 बजे| कहा जाता है की इसी मंदिर के पास भालका नाम की जगह है जहा भगवान क्रिष्ण ने धरती पर अपनी लीला समाप्त की थी|

ज्योतिर्लिंग / Jyotirlinga –

सोमनाथ में पाये जाने वाले शिवलिंग को भारत के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक माना जाता है, यह शिवजी का मुख्य स्थान भी है| इस शिवलिंग के यहाँ स्थापित होने की बहोत सी पौराणिक कथाएँ है| इस पवित्र ज्योतिर्लिंग की स्थापना वही की गयी है जहाँ भगवान शिव ने अपने दर्शन दिए थे| वास्तव में 64 ज्योतिर्लिंग को माना जाता है लेकिन इनमे से 12 ज्योतिर्लिंग को ही सबसे महत्वपूर्ण और पवित्र माना जाता है|

शिवजी के सभी 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक सोमनाथ में है और बाकि वाराणसी, रामेश्वरम, द्वारका इत्यादि जगहों पर है|

इतिहास / History

प्राचीन समय से ही सोमनाथ पवित्र तीर्थस्थान रहा है, त्रिवेणी संगम के समय से ही इसकी महानता को लोग मानते आये है|
कहा जाता है की चंद्र भगवान सोम ने यहाँ अभिशाप की वजह से अपनी रौनक खो दी थी और यही सरस्वती नदी में उन्होंने स्नान किया था| परिणामस्वरूप चन्द्रमा का वर्धन होता गया और वो घटता गया| इसके शहर प्रभास का अर्थ रौनक से है और साथ ही प्राचीन परम्पराओ के अनुसार इसे सोमेश्वर और सोमनाथ नाम से भी जाना जाता है|

सोमनाथ मंदिर का इतिहास / Somnath Temple History

जे.गॉर्डोन मेल्टन के पारंपरिक दस्तावेजो के अनुसार सोमनाथ में बने पहले शिव मंदिर को बहोत ही पुराने समय में बनाया गया था| और दूसरे मंदिर को वल्लभी के राजा ने 649 CE में बनाया था| कहा जाता है की सिंध के अरब गवर्नर अल-जुनैद ने 725 CE में इसका विनाश किया था| इसके बाद 815 CE में गुर्जर-प्रतिहार राजा नागभट्ट द्वितीय ने तीसरे मंदिर का निर्माण करवाया था, इसे लाल पत्थरो से बनवाया गया था|

लेकिन अल-जुनैद द्वारा सोमनाथ पर किये गए आक्रमण का कोई इतिहासिक गवाह नही है| जबकि नागभट्ट द्वितीय जरूर इस तीर्थस्थान के दर्शन करने सौराष्ट्र आये थे| कहा जाता है की सोलंकी राजा मूलराज ने 997 CE में पहले मंदिर का निर्माण करवाया होंगा| जबकि कुछ इतिहासकारो का कहना है की सोलंकी राज मूलराज ने कुछ पुराने मंदिरो का पुनर्निर्माण करवाया था|

कहा जाता है की कई बार शासको ने इसे क्षति भी पहोचाई थी लेकिन फिर कुछ राजाओ ने मिलकर इस इतिहासिक पवित्र स्थान की मरम्मत भी करवाई थी|

सन 1297 में जब दिल्ली सल्तनत ने गुजरात पर क़ब्ज़ा किया तो इसे पाँचवीं बार गिराया गया| मुगल बादशाह औरंगजेब ने इसे पुनः 1706 में गिरा दिया| इस समय जो मंदिर खड़ा है उसे भारत के गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल ने बनवाया और 1 दिसंबर 1995 को भारत के राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्माने इसे राष्ट्र को समर्पित किया| 1948 में प्रभासतीर्थ प्रभास पाटण के नाम से जाना जाता था| इसी नाम से इसकी तहसील और नगर पालिका थी|

यह जूनागढ रियासत का मुख्य नगर था| लेकिन 1948 के बाद इसकी तहसील, नगर पालिका और तहसील कचहरी का वेरावल में विलय हो गया| मंदिर का बार-बार खंडन और जीर्णोद्धार होता रहा पर शिवलिंग यथावत रहा| मंदिर के दक्षिण में समुद्र के किनारे एक स्तंभ है| उसके ऊपर एक तीर रखकर संकेत किया गया है कि सोमनाथ मंदिर और दक्षिण ध्रुव के बीच में पृथ्वी का कोई भूभाग नहीं है| मंदिर के पृष्ठ भाग में स्थित प्राचीन मंदिर के विषय में मान्यता है कि यह पार्वती जी का मंदिर है| सोमनाथजी के मंदिर की व्यवस्था और संचालन का कार्य सोमनाथ ट्रस्ट के अधीन है|

सरकार ने ट्रस्ट को जमीन, बाग-बगीचे देकर आय का प्रबंध किया है| यह तीर्थ पितृगणों के श्राद्ध, नारायण बलि आदि कर्मो के लिए भी प्रसिद्ध है| चैत्र, भाद्र, कार्तिक माह में यहां श्राद्ध करने का विशेष महत्व बताया गया है| इन तीन महीनों में यहां श्रद्धालुओं की बडी भीड़ लगती है| इसके अलावा यहां तीन नदियों हिरण, कपिला और सरस्वती का महासंगम होता है| इस त्रिवेणी स्नान का विशेष महत्व है|

सोमनाथ मंदिर की रोचक बाते – Interesting Facts about Somnath Temple

1. 1665 में मुग़ल शासक औरंगजेब ने इस मंदिर को तोड़ने का आदेश दे दिया था| लेकिन बाद में इस मंदिर का पुनर्निर्माण किया गया था| बाद में पुणे के पेशवा, नागपुर के राजा भोसले, कोल्हापुर के छत्रपति भोंसले, रानी अहिल्याबाई होलकर और ग्वालियर के श्रीमंत पाटिलबूआ शिंदे के सामूहिक सहयोग से 1783 में इस मंदिर की मरम्मत की गयी थी|

2. 1296 में अलाउद्दीन ख़िलजी की सेना ने मंदिर को क्षतिग्रस्त कर गिरा दिया था| लेकिन अंत में गुजरात के राजा करण ने इसका बचाव किया था|

3. 1024 में मंदिर को अफगान शासक ने क्षति पहोचकर गिरा दिया था| लेकिन फिर परमार राजा भोज और सोलंकी राजा भीमदेव प्रथम ने 1026 से 1042 के बिच इसका पुनर्निर्माण किया था| कहा जाता है को लकडियो की सहायता से उनकी मंदिर का पुनर्निर्माण किया था लेकिन बाद में कुमारपाल ने इसे बदलकर पत्थरो का बनवाया था|

4. मंदिर की चोटी पर 37 फ़ीट लंबा एक खम्बा है जो दिन में तीन बार बदलता है| वर्तमान सोमनाथ मंदिर का निर्माण 1950 में शुरू हुआ था| मंदिर में ज्योतिर्लिंग की प्रतिष्ठान का कार्य भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ.राजेंद्र प्रसाद ने किया था|

5. सोमनाथ मंदिर आज देश में चर्चा का विषय बन चूका है| अब जो हिन्दू धर्म के लोग नही है उन्हें मंदिर में जाने के लिये विशेष परमिशन लेनी होगी| अब तक मिली कंकरी के अनुसार जो हिन्दू नही है उन्हें मंदिर में जाने के लिए ट्रस्ट को मान्य कारण बताना होगा|

Read More:

  1. Amarnath temple history Hindi
  2. 12 Jyotirling

Hope you find this post about ”Somnath Temple in Hindi” useful. if you like this article please share on Facebook & Whatsapp. and for latest update Download: Gyani Pandit free Android app.

Note: We try hard for correctness and accuracy. please tell us If you see something that doesn’t look correct in this article about Somnath Temple and if you have more information History of Somnath Temple then help for the improvements this article.

5 COMMENTS

  1. Bhai great is info ko dalne ke liye ,mai b SANATANI HINDU GURJAR hu HARYANA se ,ar merko garv hota hai ke mere poorvaj GURJAR PRATIHARO ne dharm ke liye kitne balidan diye,achchha hota ke ap 1027CE ke islami attack me kis tarah GURJARO ne loha liya tha arabi islamiyo se iske bare me b likh dete. Hum GURJAR beshak aj chahe desh ki 13 states me haun,par humari dharti to GUJARAT hi thi aur rahegi ,jise kabhi humne apna naam diya tha GURJAR RATRA,GURJAR BHOOMI ,GURJAR DESA. Aj beshak hum HARYANA,PUNJAB,RAJASTHAN,JK,HP,MP,MH,UK states me hain,par emotional judav apni dharti GURJAR RATRA,GURJARDESA,GURJAR BHOOMI GUJARAT se hamesha rahega,aur jald hi GUJARAT ghoomne aunga jaroor

    • Karan jethwa ji,

      vaise to ab mera nick name gyani pandit hi ho gaya hain, fir bhi naam to naam hota hain…
      aap ‘about us’ page me jankari dekh le. gyanipandit use karenge to bhi chalega.. apko jo achha lage…

      Thanks

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here