स्वामी विवेकानंद के संदेश | Swami Vivekananda Teachings In Hindi

Swami Vivekananda TeachingsSwami Vivekananda Teachings By Thoughts And Quotes In Hindi

स्वामी विवेकानंद के जीवन के 11 प्रेरणादायक संदेश उनके अनमोल सुविचारों के द्वारा.

Swami Vivekananda Teachings By Thoughts And Quotes In Hindi

भारतीय युवाओं को प्राचीन भारत से लेकर अभी वर्तमान भारत तक सबसे ज्यादा किसी महापुरुष ने प्रभावित ओर प्रेरित किया होंगा, तो वो है स्वामी विवेकानंद, स्वामी विवेकानंद जी का व्यक्तिमत्त्व ही कुछ ऐसा है की आज वे हर भारतीय युवा के लिये आदर्श है, स्वामी विवेकानंद जी के अनमोल विचार और नियम कोई जो भी युवा अपनाता है, तो वो सफलतापूर्वक हार काम कर सकता है, और जीवन में उसे जो चाहे वो पा सकता है.

हम आज स्वामी विवेकानंद जी के जयंती पर उनके 11 प्रेरणादायक संदेशों (Swami Vivekananda Teachings) को जानते है जो प्रेरणा बन कर आपका जीवन बदल सकते हैं।

हम सभी जानते है की स्वामी विवेकानंद एक शक्तिशाली वक्ता थे, उनके भाषणों में श्रोताओ को मंत्रमुग्ध करने की ताकत थी. क्या उनकी सफलता का कोई राज़ था ? हाँ, उनके जीवन के इन सुन्दर 11 प्रेरणादायक संदेशों को अपनाकर आप भी सफल हो सकते है.

1. प्रेम ही जीवन का एकमात्र नियम है.

वह जो प्रेम करता है, जीवित रहता है और वह जो स्वार्थी है, मर रहा है. इसलिए प्रेम के लिए ही प्यार कीजिये, क्योंकि यह जीवन का नियम है. ठीक उसी तरह, जैसे आप जिन्दा रहने के लिए सांस लेते हैं.

2. जीवन सुंदर है: पहले, इस दुनिया में विश्वास करें.

विश्वास करें कि यहाँ जो कुछ भी है उसके पीछे कोई अर्थ छुपा हुआ है. दुनिया में सब कुछ अच्छा है, पवित्र है और सुंदर भी है. यदि आप, कुछ बुरा देखते हो तब इसका मतलब है आप इसे पूर्ण रूप से समझ नहीं पाएं हैं. आप अपने ऊपर का सारा बोझ उतार फेंके.

3. आप कैसा महसूस करतें हैं.

आप मसीह की तरह महसूस करें तो आप मसीह जैसा बनेंगें, आप बुद्ध की तरह महसूस करें तो आप बुद्ध जैसा बनेंगें. विचार ही जीवन है, यह शक्ति है और इसके बिना कोई बौद्धिक गतिविधि भगवान तक नहीं पहुँच सकती है.

4. अपने आप को मुक्त करें.

जिस क्षण मैं यह अहसास करता हूँ कि भगवान् हर मानव शरीर के अन्दर है, उस पल में जिस किसी भी मनुष्य के सामने खड़ा होता हूँ तो मैं उसमें भगवान् पाता हूँ, उस पल में मैं बंधन से मुक्त हो जाता हूँ और सारे बंधन अद्रश्य हो जातें हैं और मैं मुक्त हो जाता हूँ.

5. निंदा दोष का खेल मत खेलिए.

किसी पर भी आरोप प्रति आरोप न करें. आप किसी की मदद के लिए हाथ बड़ा सकतें हैं तो ऐसा अवश्य करें. और उन्हें अपने-अपने रास्ते पर चलने दें.

6. दूसरे की मदद करें.

यदि धन दूसरों के लिए अच्छा करने के लिए एक आदमी को मदद करता है, यह कुछ मूल्य का है, लेकिन अगर नहीं, तो यह केवल बुराई की जड़ है, और जितनी जल्दी इससे छुटकारा मिल जाए, उतना अच्छा है.

7. अपनी आत्मा को सुनो.

तुम अंदर से बाहर की ओर बढो. यह कोई तुम्हें सिखा नहीं सकता है, न ही कोई तुम्हें आध्यात्मिक बना सकता है. वहाँ कोई अन्य शिक्षक नहीं है, जो कुछ भी है आपकी खुद की आत्मा है.

8. कुछ भी असंभव नहीं है.

ये कभी भी मत सोचो कि आत्मा के लिए कुछ भी असंभव है. ऐसा सोचना सबसे बड़ा पाखण्ड है. यदि कोई पाप है, तो केवल यही पाप है- कि तुम कहते हो, तुम कमजोर हो या दूसरें कमजोर हैं.

9. तुम में शक्ति है.

ब्रह्मांड में सभी शक्तियां पहले से ही हमारी हैं. यह हम हैं जो अपनी आंखों को हाथों से ढँक लेतें हैं और बोलतें हैं कि यहाँ अँधेरा है.

10. सच्चे रहो.

सब कुछ सच के लिए बलिदान किया जा सकता है, लेकिन सत्य, सब कुछ के लिए बलिदान नहीं किया जा सकता है.

11. अलग सोचो.

दुनिया में सारे मतभेद उनको विभिन्न नज़रिए से देखने की वज़ह से हैं, कहने का अर्थ हमें अपनी अनुभूतियों के कारण सब कुछ अलग-अलग दिखता है परन्तु सच में सारा कुछ एक में ही समाया हुआ है.

स्वामी विवेकानंद के प्रेरणादायक संदेशों (Swami Vivekananda Teachings) को अपने जीवन में अपनाकर हम निश्चित ही सफलता हासिल कर सकते है. अगर हम उनके इस 11 प्रेरणादायक संदेशों में से किसी 1 को भी पूरी इमानदारी के साथ जीवन में उतरते हे, तो आपको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता. You Will Be Unstoppable.

जरुर पढ़े:

Swami Vivekanand

Motivational Quotes:

Note: अगर आपको हमारे Swami Vivekananda Teachings in Hindi अच्छे लगे तो जरुर हमें Facebook और Whatsapp पर Share कीजिये. और फ्री E-MAIL Subscription करना मत भूले.
These Swami Vivekananda Teachings By Thoughts And Quotes In Hindi used on: Thoughts by Swami Vivekananda In Hindi, Swami Vivekananda sayings for youth, स्वामी विवेकानंद के अनमोल सुविचार, Swami Vivekananda Teachings.

Loading...

7 COMMENTS

  1. आज इस भौतिक जीवन मै हम अपने संस्कारों को खोते जा रहे है । और वासनाओ के अंधेरों में उलझते रहते है फिर वही से हमारे दुःख की शरुवात होती है । हमारा मस्तिष्क तमाम विचारों में खो जाता है हम एक कार्य सिद्ध नही कर पाते हैं जिसके कारण हमारे अंदर अलग अलग भावों का समाहित होना हमें परमात्मा से दूर करता है हम अपने मैं ही जीने की सोचते है वासनाओं को ही प्राथमिकता देते है जिस कारण हमारे अंदर यश अपयश का भाव जन्म लेता है । कई रोगों चिंताओं से हम घिर जाते है यौवन भले ही हमें कोई कुछ महसूस न कराये लेकिन यौवन मैं किये गए भले बुरे कर्मों का फल हम अंत मैं भोगते है । इसलिए हमें इस कर्म करना चाहिए जिससे हम परमात्मा से भी जुड़े रहे और अंत मे मुक्ति का मार्ग भी मिल जाये । श्री गुरुवे नमः

  2. सर आप ने जो हमे स्वामी विवेकानंद जी की अनमोल वचन हमे अच्छा लगा

  3. स्वामी विवेकानंद का जीवन और उनके कथन बहुत प्रेरणादायी है . यदि इन बातो को अपने जीवन में उतर लिया जाए तो कुछ भी हासिल किया जा सकता है.

  4. सर आपकी ये पोस्ट हमें काफी पसंद आयी, स्वामी विवेकानंद जी के अनमोल विचारों और प्रेरणादायक संदेशों से सभी बहोत प्रेरित होते हैं उनमे खास कर युवाओं ज्यादा समावेश हैं, उनके विचारों को पढ़कर जीवन में उस पर जो अमल करता हैं वो जीवन में हर वो सफलता पा लेता हैं जिसे पाने की वो चाह रखता हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here