Bajirao Mastani Story | बाजीराव मस्तानी की रोमांचक स्टोरी

Bajirao Mastani storyBajirao Mastani

Bajirao Mastani Story – बाजीराव मस्तानी की रोमांचक स्टोरी

पूरा नाम – बाजीराव बल्लाल (बालाजी ) भट्ट
जन्म     – 18 अगस्त 1700
जन्मस्थान – कोकणस्थ प्रान्त
पिता     –  बालाजी विश्वनाथ
माता     – राधाबाई बर्वे
पत्नीं      – काशीबाई और मस्तानी

बाजीराव का जन्म ब्राह्मण परिवार में बालाजी विश्वनाथ के पुत्र के रूप में कोकणस्थ प्रान्त में हुआ था, जो छत्रपति शाहू के प्रथम पेशवा थे। २० वर्ष की आयु में उनके पिता की मृत्यु के पश्यात शाहू ने दुसरे अनुभवी और पुराने दावेदारों को छोड़कर बाजीराव को पेशवा के रूप में नियुक्त किया।

इस नियुक्ति से ये स्पष्ट हो गया था की शाहू को बाजीराव के बालपन में ही उनकी बुद्धिमत्ता का आभास हो गया था। इसलिए उन्होंने पेशवा पद के लिए बाजीराव की नियुक्ति की। बाजीराव सभी सिपाहीयो के बिच लोकप्रिय थे और आज भी उनका नाम आदर और सम्मान के साथ लिया जाता है।

बाजीराव, वह थे जिन्होंने 41 या उस से भी ज्यादा लड़ाईयां लड़ी थी, और एक भी ना हारने की वजह से विख्यात थे। जनरल मोंटगोमेरी, ब्रिटिश जनरल और बाद में फील्ड मार्शल ने द्वितीय विश्व युद्ध के बाद लिखीत रूप में यह स्वीकार भी किया था।

अपने पिता के ही मार्ग पर चलकर, मुघल सम्राटो को समझकर उनकी कमजोरियों को खोजकर उन्हें तोड़ने वाले बाजीराव पहले व्यक्ति थे। सैयद बन्धुओ की शाही दरबार में घुसपैठी या दखल-अंदाजी बंद करवाना भी उनके आक्रमण का एक प्रभावी निर्णय था।

बाद में ग्वालियर के रानोजी शिंदे का साम्राज्य, इंदोर के होल्कर(मल्हारराव), बारोदा के गायकवाड (पिलाजी), और धार के पवार (उदाज्जी) इन सभी का निर्माण बाजीराव द्वारा मराठा साम्राज्य के खंड के रूप में किया गया, क्यूकी वे मुघल साम्राज्य से प्रतीशोध लेकर उनका विनाश कर के उनकी “जागीरदारी” बनाना चाहते थे।

उन्होंने अपना स्तंभ सासवड से और मराठा साम्राज्य की प्रशासनिक राजधानी/पूँजी को 1728 में सातारा से पुणे ले गये। इसी प्रक्रिया के दौरान, उन्होंने एक कसबे को शहर बनाने की भी नीव रखी। उनके प्रमुख, बापुजी श्रीपाट ने सातारा के कई धनवान परिवारों को पूना स्थापित होने के लिए मनाया, जो 18 पेठ में विभाजीत किया गया था।

1732 में महाराजा छत्रसाल की मृत्यु पश्यात, मराठा साम्राज्य मित्र साम्राज्य रूपी था, जबकि बाजीराव को छत्रसाल साम्राज्य का एक तिहाई भाग बुन्देलखण्ड में दिया गया।

एक उत्कृष्ट सेना का सेनापती होने की वजह से उनकी सेना और लोग उन्हें बहोत चाहते थे। वे कई बार हिंदु धर्म की रक्षा करने के लिए मुघलो से लड़े और उन्हें धुल भी चटाई, और हमेशा के लिए मुघलो को उत्तरी भारत पर ध्यान करने पूर्व ही मध्य और पश्चिमी भारत से दूर रखा। और इसी संकेत पर चलते हुए मराठाओ ने सिद्दी (मुघल नौसेनापति), मुघल, पुर्तगाल, निज़ाम, बंगाश इत्यादि को हराया।

देखा जाये तो शिवाजी महाराज के बाद बाजीराव ने ही मराठा साम्राज्य का सबसे बड़ा चित्र  निकाला था। ब्रिटिश पॉवर 19 वी सदी में स्थापित होने से पूर्व तक मराठा साम्राज्य प्रभावशाली रूप से 18 वी सदी तक चलता रहा।

काशीबाई:

बाजीराव की शादी काशीबाई से हुई, और उन्हें दो जुड़वाँ बच्चे भी हुए। बाद में नानासाहेब को शाहू ने 1740 में नए पेशवा के रूप में नियुक्त किया। उनके दुसरे बेटे का नाम रघुनाथराव था।

मस्तानी की कहानी – Mastani Story in Hindi

मस्तानी पेशवा बाजीराव की दुसरी पत्नी थी, बाजीराव चौथे मराठा छत्रपति शाहूजी राजे भोसले के साम्राज्य में मराठाओ के सेनापति और प्रधान थे। ऐसा कहा जाता है की मस्तानी बहोत बहादुर और सुंदर महिला थी।

इतिहास में बहोत से प्रसिध्द व्यक्ति मस्तानी से जुड़े है, और उनसे जुडी बहोत सी कथाये भी है। मस्तानी बुदेलखंड के राजपूत नेता महाराजा छत्रसाल (1649-1731) की पुत्री थी, जो बुदेलखंड प्रान्त के संस्थापक थे। मस्तानी को जन्म उनकी, फारसी-मुस्लिम पत्नी रूह्यानिबाई ने दिया जो हैदराबाद के निज़ाम के दरबार में नर्तकी थी।

जब 1727-28 के समीप अल्लाहाबाद के मुगल साम्राज्य प्रमुख मोहम्मद खान बंगाश ने छत्रसाल साम्राज्य पर आक्रमण किया तब छत्रसाल ने एक गुप्त सन्देश भेजा जिसमे उन्होंने बाजीराव प्रथम से सहायता मांगी थी। जिससे उनकी सैन्य शक्ति बढ़ सके।

बाजीराव तुरंत महाराजा छत्रसाल की सहायता के लिए आगे बढे, और धन्यवाद् के स्वरुप छत्रसाल ने बाजीराव को उपहार स्वरुप अपनी बेटी मस्तानी दी और उनके साम्राज्य का एक तिहाई भाग भी दिया जिसमे झाँसी, सागर और कालपी का भी समावेश था। महाराजा छत्रसाल ने बाजीराव और मस्तानी के विवाह उपलक्ष में हीरो की खदान भेट स्वरुप दी।

ऐसे कई सारे प्रसंग मस्तानी के जीवन से जुड़े है, छत्रसाल के दुसरे दृष्टिकोण से देखा जाये तो, वो हैदराबाद के निज़ाम की कन्या थी। छत्रसाल ने निज़ाम को 1698 में पराजित किया था, और निजाम की पत्नी ने बुन्देल और उनके बिच अच्छे सम्बन्ध स्थापित होने हेतु उनकी बेटी से विवाह करने की सलाह दी क्यूकी उस समय मध्य भारत में छत्रसाल साम्राज्य सबसे सशक्त और शक्तिशाली साम्राज्य था।

कहानी के तीसरे अध्याय के अनुसार, बाजीराव और छत्रसाल की मित्रता होने के पश्चात, मस्तानी ये छत्रसाल के दरबार की नर्तकी थी। बाजीराव, मस्तानी के प्रेम में पड़ने के बाद उनका मस्तानी से विवाह हुआ। जिसका बाजीराव उच्च दर्जे के ब्राह्मण होने की वजह से पुरे ब्राह्मण समुदाय एवं हिन्दुओ ने विरोध किया।

जहा बाजीराव ने स्वीकार किया था की मस्तानी यह छत्रसाल के फारसी-मुस्लिम पत्नी की बेटी थी। मस्तानी का वैध रूप से विवाह होने के बावजूद अक्सर उसे बाजीराव की रखैल या प्रेमिका कहा जाता था।

मस्तानी एक कुशल घुड़सवार थी, और साथ साथ भाला फेक और तलवारबाजी भी करती थी और एक बुद्धिमान नर्तकी एवम गायिका थी। मस्तानी ने हमेशा सैन्य अभियान में बाजीराव का साथ दिया। मस्तानी और बाजीराव की पहली पत्नी काशीबाई ने बाजिराव को एक-एक पुत्र दिया परन्तु काशीबाई का पुत्र जल्दी ही मारा गया और मस्तानी का पुत्र था जिसका नाम शमशेर बहादुर था।

बाजीराव ने शमशेर को बन्दा की जागीर प्रदान की। शमशेर (पेशवा) १७६१ के पानीपत के तीसरे युद्ध में अहमद शाह अब्दली के खिलाफ मराठाओ की तरफ से लड़ा था और ये कहा जाता है की युद्ध के दौरान उसे वीरगति प्राप्त हुई।

बाजीराव काशीबाई और उनकी माता राधाबाई के मस्तानी के प्रति क्रोध को नज़रंदाज़ कर के अपनी अर्ध-मुस्लिम पत्नी मस्तानी को प्रेम करता गया।

राधाबाई की और से रहते हुए बाजीराव का भाई हमेशा मस्तानी को वनवास भेजने की नाकाम कोशिश करता रहता था। बाजिराओ का पुत्र बालाजी भी मस्तानी को उनके पिता को छोड़ने के लिए मजबूर करता था लेकिन मस्तानी इस सब से असहमत थी।

परन्तु बाजीराव बार बार इसे नज़रंदाज़ करते गये और इसीका फायदा उठाते हुए बालाजी ने मस्तानी को जब बाजीराव अपने सैन्य अभियान में व्यस्त थे तब कुछ समय के लिए उसे घर में ही कैद कर के रखा।

बाद में कुछ समय पच्छात मस्तानी बाजीराव के साथ पुणे के शनिवार वाडा के पास राजमहल में रहने लगी। महल के उत्तर पूर्व किनारों पर महल को मस्तानी महलऔर बाहरी द्वार को “मस्तानी दरवाज़ा” का नाम दिया गया।

बाजीराव के परिवार के मस्तानी के साथ दुर्व्यहार के कारण बाद में बाजीराव ने मस्तानी के लिए 1734 में कोथरुड में एक अलग निवास स्थान बनाया, जो शनिवार वाडा से कुछ ही दुरी पर था। यह स्थान आज भी कर्वे रोड पर “मृत्युंजय मंदिर” के नाम से जाना जाता है। जहा कोथरुड के महल के टुकड़े टुकड़े कर दिए गये थे वो आज भी राजा केलकर संग्रहालय के विशेष विभाग में देखा जा सकता है। परन्तु इस सम्बन्ध में मस्तानी से जुड़े कोई सरकारी कागज़ बाजीराव के साम्राज्य में दिखाई नहीं देते।

इतिहासकारों का ऐसा मान ना है की राजा केलकर संग्रहालय और वाई संग्रहालय में जो बाजीराव और मस्तानी की पेंटिंग्स लगी है वो प्रमाणिक या असली नहीं है।

मृत्यु:

28 अप्रैल 1740 में जब बाजीराव अपने खरगांव की जमीन का निरिक्षण कर रहे थे तब आकस्मिक बुखार के वजह से उनकी मृत्यु 39 वर्ष की आयु में हुई। तब काशीबाई, चिमाजी अप्पा, बालाजी (नानासाहेब) और मस्तानी भी खरगांव आये थे।

जहा 28 अप्रैल 1740 को नर्मदा नदी के किनारे रावेर खेड में उनके शरीर को अग्नि दी गयी। और इसके कुछ समय बाद ही पुणे के समीप पबल गाव में मस्तानी की मृत्यु हो गयी।

उनके लिए दिल्ली में (100000) सैन्य का रास्ता भी बनाया गया जिसका शिवीर खरगोन जिले में इंदोर के पास बना हुआ है। उनकी याद में एक शिव मंदिर भी बनाया गया जो उसी के निकट स्थित है।

मस्तानी  मृत्यु का कारण:

पौराणिक कथाओ के अनुसार, बाजीराव के मृत्यु की खबर सुनते ही मस्तानी ने अपनी अंगूठी का ज़हर पीकर आत्महत्या कर ली थी। वही दुसरो का ऐसा मानना है की उसके पति के दाह संस्कार के वक़्त उसने बाजीराव की चिता पर छलांग लगाई थी। परन्तु इस प्रकार का कोई प्रमाण मौजूद नहीं है जो मस्तानी की मृत्यु का असली कारण बता सके।

परन्तु यह अक्सर कहा जाता है की बाजीराव की 1740 में मृत्यु के पच्छात मस्तानी ज्यादा दिन तक नहीं जीवित रही।

Book’s about Bajirao Mastani 

Read More:

Hope you find this post about ”Bajirao Mastani Story” useful and inspiring. if you like this Article please share on facebook & whatsapp. and for latest update download : Gyani Pandit free android App.

Loading...

166 COMMENTS

  1. आज ग्रेट बाजीराव च्या प्रेम प्रकरण बद्दल फक्त लोकांना आकर्षण वाटते.खरा तर तो त्याचा वयक्तिक विषय होता. बाजीराव सारखा धुरंदर अपराजित योद्धा , त्याचे युद्ध कौशल्य, सर्व माता भगिनी बद्दल असलेली त्याची नीतीमत्ता. मराठा राज्या बद्दल ची त्याची निष्ठा/त्याग हे कोणीच बघत नाही. शिवाजी महाराजां नंतर असा एकमेव योद्धा जो मराठी राज्य टिकवू आणि वाढवू शकला. दुसऱ्या देशात बाजीराव च्या युद्ध नीती चा अभ्यास शिकवलं जातो…. आणि आपल्या देशात फक्त त्याच्या प्रेम प्रकरणाची चर्चा होते हे आपल्या देशाचं दुर्दव आहे. आजही फक्त सिनेमा अँड टीवी वरील सेरिअल मूळे त्याच्या बद्दल थोडी माहिती मिळते.
    शिवाजी राजे. श्रीमान बाजीराव पेशवे नंतर आपल्या देशाची कीर्ती आता फक्त श्री नरेंद्र मोदी वाढवत आहेत.
    ही माहिती वेब साईट वर प्रकाशित केल्ये बद्दल ज्ञानी पंडित चे सुद्धा खूप आभार. बाजीराव सारख्या धुरंदर अपराजित योध्याला कोटी कोटी प्रणाम

    • शिरीष जोशी सर,

      आपण आपला मूल्यवान वेळ काढून दिलेल्या टिप्पणी बाबत मी आपला आभारी आहे. पण हि website हिंदी मध्ये असल्यामुळे आपली मराठीतील टिप्पणी हिंदीभाषी वाचकांना समजण्यास थोडी कठीण जाईल. प्रयत्न असू द्या हिंदी मध्ये टिप्पणी देण्याचा.. आणि हो आमच्या संपर्कात रहा. ज्ञानी पंडित ला तुमच्या सारख्या लोकांची गरज आहे.

  2. Many Peoples are only interested in the love story of Great Bajirao & Mastani. Nobody is looking the grand personality of Bajirao who had known as unbeatable warier & great inspired leader who had the best example of how the work done with team work. After the Great Shivaji raje he had expanded the MARATHA SAMRAJYA. He was very ETHICAL & OWNEST person. If we unable to understand his CHARACTER our next generations give thanks to us.
    On Today also his character inspired many of us. Great tribute to ADARSH BAJIRAO PESHWA. Raje Shivaji and BAJIRAO nantar asa neta mhanje only Great Narendra Modi

  3. Mujhe kuch nai sunna kuch nai dekna kuch nai bolna but unki sach kya hai sach kya tha aur kya hai o mujhe sun na hai bus are Kuch nai

    Plese please please koi such jantha o tha o tho please mujhe batao

    Apaka bahut bahut dhanya wad

    Please coment ……. I am bajirav mastani big big big big big and big fan please coment

    Soooooo thanks
    I love bajirav mastani

  4. “पेशवा बाजीराव बल्लाळ”
    एक ऐसा यौद्धा जिसने अपने जीवन काल में एक भी लढाई हारी नहीं। हर हाल में जीत का पैगाम दिया। ऐसे वीर यौद्धा के इतिहास को आज तक पर्देपीछे रखा गया। इसका कारन पेशवाने एक मुस्लमान प्रेमिका से बेइंतहा मोहोब्बत की। उस वक्त इतिहास लिखनेका अधिकार ब्रम्हणोंको था। दुनिया दिखाया और सिखाया मोहोब्बत ये चीज क्या होती है। आज भी दुनिया उन प्यार के परिंदों को “बाजीराव मस्तानी” के नाम से जानती है। प्यार का कोई मज़हब होता, प्यार का कोई धर्म नहीं होता। ऐसे वीर योद्धा को मेरे झुककर कोटि कोटि प्रणाम।

  5. Pyar hamesha amar rahta he eh ta umr yad rahta he, in yadon naya utsah & nai umnge pir hari ho jati he bajerav ko me slame.

  6. Hindustan ke Peru main gulami ki janjir nahi jit ka gulal hona chiye aur A shapat bajirao ballal ki har har mahadev

  7. Mastani hamesha bajirao ke sath rehti thi . Jb bhi bhajirao ladai par jate te tb mastani ubke sath jati thi ..

  8. बाजीराव की जीवनी ह्रदय को छूने वाली है महान योध्दा को सादर प्रणाम |

  9. dekho yr kashi bajirao ki wife thi sahi h… but bajirao ki galti h ki usne kyun jldi shadi ki ye age hi actrctn ka age hota h…
    Ab bajirao ki kya galti h Usk ghar walo ne shadi karai real me jab vo bada hua I mean at age of23 tab usse pyar hua mastani se…. Ab dono ko pyar hua to ladange na dono…..
    aur ha kasi bai k sath bura hua….. but I am fan of bajirao mastani but kashi bai ka roll bht bht awesome h love it

  10. Mastani ne ek hasta khelta parivar Jala ke Khak kar diya, Khuda, Mastani Ko kabhi Jannat nasib na Ho, pyaar jo karte hain o dusare ki zindagi Barbaad nahi karte!! Mastani ne kai zindagiya barbaad kar di!! Shadi Shuda jaankar pyaar kar baithana ye to sirf pagalpan tha Mastani ka, Bajirao aur unke subhchintakone ne har koshish ki ek ghar bachane ki Lekin Mastani ne to sochi thi kashi ki Barbbadiki!! I hate Mastani!!

  11. Pyar hamesa amar rahta hai bajirao mastani ki kahani ne hme bahut jyada prabhabit kiya pyar karna to in dono se sikhe jo lakh muskil hone ke bad bhi apna nam rosan kar gaye

  12. maratha samarjya me chatrapati shivaji maharaj aaur shambhu raje ke bad koi tha to vo sirf shreemant bajirao peshwa hi tha..

    Har Har mahadev…!

    Jay maratha…!

  13. खुपच लोकप्रिय प्रेम कथा आहे परंतु नालायक ब्राम्हणानि बाजीराव ला मस्तानी सोबत जीवन जगायला नाके_डोळे आणून टाकले होते

  14. Bahot bahot bahot accha lgta h ye sb sunkr aur Mann ko shanti multi h aisi love story aaj tk dekhi to nhi but suni jarur h aur suntey hi rongtey khade Ho hate h bahot bahot bahot accha lga

  15. Nice love story jane sach kya tha par hai to bahut interesting kyuki kahi bhi real story nahi milti hai bas thoda bahut milti hai baki log apne ap jod lete hai

  16. Bajiroa or mastaani Ki story badi hi real si h or mujhe pasand aayi Jin logo is kahaani per movie banaayi h unhone good work kiya h kyoki agar ye film na bani hoti to jitne logo ko film dekhne k baad bajirao Ki kahaani ka pata laga h Vo unhe kabhi pata nahi lagta kyoki Kisi k pass itna time hi nahi h.or unme se main or aap or , or kayi log h ye such h.

  17. great love story and what a performance ranveer and deepika. Gajab and great dialoges i have ever listen. Heads off to u bajirao mastani .har har mahadev

  18. I salute them…pehle mujhe ni pta tha ki ye real story h, PR jb mmy ne bataya tb Maine film dekhi or inke bare m padha bhi sach aise pyar ko main salam krti hu…aaj k time m shayad hi koi pyar k liye kisi k b ya apno k khilaf jata h sabi ko pyar ki zarurat h PR koi b iese badava no deta h PR main janti hu aaj b kahi na kayi aise dil mozud h jinke dil sachche h ubke halat unhe zakde rehte h aage badhne ni dete PR dil to pavitra hota h na…or verse b pyar h duniya m tabhi dharti aaj tiki hui h…jai shri krishna

  19. मला तर रात्रं दिवस कासी बाय़ची वोड लागली कस कराव काही कलत नाही

  20. बाजीराव की तरह ही मस्तानी नेभी अपने प्यार को पूरी सिद्दत से निभाया प्यार की भावनाओ को धर्म से नहीं जोड़ना चाहिए।

  21. All is fair in love and waar , I salute them bajirao mastani, they were a
    best geatful cupple of in this world . I realy like those

  22. lekin kaashi k pyaar ka kya huya, usne bhi pyaar kiya na agr shaadik baad ek baar pyaar huya to tisri baar bhi ho sakta ha kaashi ka pyaar v to scha tha usne to apne k pyaar ki khushi k liye apne pyaar ko samne samne kisi ko de diya. ma to is movie me kaashi ke dard ko dekh kr apne ansu rok nhi payi.

  23. बाजीराव मस्तानी की कहानी ….कभी भुलाई नहीं जा सकती….इन की कहानी से हमें बहुत प्रेणना मिलती हैं…..ऐसे महान हस्ती को मेरा सलाम….

  24. ye to sattta k liye sajis aur ladai thi…bajirav se apane bhai hi jalate te..bas mastani ko mohara banakar sattta ka khel khela….is ke baad kya huva na raha bajiraav na rahi mastani…next shanivaar vada m nana ka pad aya jo 16 saal ka tha ( kaaka mala vachava )..chacha muze bachavo karake mar gaya aaj bhi aawaj h shanivaar vada m..!

    full gadddi satta k liye last tak sadish aur yuddha.. Nana LA dhara ko mitakar Mara karake. . Nana ko Mara gaya…
    next…

    raghunath peshava bana…

  25. जिसको भी बाजीराओ और मस्तानी की love story अच्छी लगी,….
    एक बार काशी बनकर सोचो । क्या कोई पत्नी ऐसा चाहेगी ?

  26. Bajirao ek ache r suche insan the r ek jban ke mard the jo kaha use pure suche dil se nibhaya.pyar to hr koi krta h bt nibhana hr kisi ke bs me nhi r us jmane me ye to bahut mahtwpurwa bat thi r aj ke log to pyar ko game bna diye h.koi suchi mohabbat to krta hi nhi

  27. This story tuch my Heart
    m cong. krta hu Ranveer sing & dipika padukaud ko jinhone Bajirao mastani roll krke logo k aapsi prem ko jagaya shukur Guzar hu poori film city ka, aakh m aansu aa h jb y movie dekhi or story padi or in kuchh laino ko likhkar..
    M chahta hu mera y sms Ranveer & Dipika tk pahucha de……..love u dosto
    reply jaroor karna

  28. hert touching storey jo pehle kar gaye vo kar gaye ab kaha hai true love….

    i love bajirao masatni storey ye dono amar hai or amar rahege..

  29. Main khud ak brahmin hu
    But pyaar ki koi cast nahi hoti.
    Yeh baat bajirao mastani ne sabit. Kr di so. Bs yrr Hamesha pyaar diL dekh k karo kabhi cast dekh k nahi

  30. Bajirao ne Mastani ko ni uski himmat ko mohobat ki thi
    uske khilaf huye atyachar se Ldai ki thi
    Uska pyar krne ka ye mtlb ni tha k vo apne vhrvalo k khilaf tha
    or rhi aaj ki mohobat krne valo ki bat to bhai aaj to ek se hi krlo kafi h

    • Chatrapati shivaji ke baad koi hai to sirf aur sirf bajirao hai. Marathao ke paas dushman jitani daulat ho na ho par yudh me bahane ke liye khun kai jyada hai. Jay naharashtra

  31. Tum aandhi ho to hum tuphan hai
    tum tuphan ho to hum aag ka dariya
    ab gulami ki janjeer nahi shirf aajadi ka gulal hoga
    har har mhadew

  32. janha Tak Maine Pada Hai…,

    Ki Mastani K Sade hone Ke Baad Kyaaa Bajra मांस/मंदिरे K लत मे धुत ho gyee.

    iss Mai Kitni Sacchai Hai.

  33. Sach bolu toh yeh kahi ko padk ke aaj aur kahine sanjay leela bansali ji ki movie mein dekhi ..app sbse ek he baat khena cahuga cahe vo moive ho ya ye Jo story abhi padhi isse padke aur movie dekh dono waqt mere rongte khade hogye ..yeh movie meine abhi tak 5 baar dekhi hai hall aur pata nai kitni baar Aur dekhuga .pichle 5 din se jaha kahi se mujhe kuch bhi chiz padne ko mili in dono dewano ke baare mein padhi ..bs upar wale se yehi dua karuga aise log is duniye mein hone bhot zaruri hai aur jaha bhi ho jisrup mein ho yeh dono humesha saath rhe Amen.

  34. किसकी तलवार पर गर्दन रखूँ ये बता दो मुझे इश्क़ करना गुनाह है तो सजा दो मुजे ए मूहोब्बत के इतिहास लिखने वालों मे हरफ़े गलत हूँ तो फिर मिटा दो मुझे

    very nice diloge

  35. Tum aadhi ho toh ham tufan hai

    Tum tufan ho toh ham aag ka dariya

    Ab gulami ki janjjre nhi sirf aajadi ka gulala hoga

    Har har mahadev

    • Pyar to pyar he, per bajirao ne mastani ke pyar ko samman diya lekin kashibai ke sath kuch acha nahi kiya…………………. but wo pyar me tha ye bhi sahi he…isliya pyar or jung me sab jayaj he ……………. pyar sach me andha hota he use kuch nahi dikhta sahi / galat………… isliye pyar se door …………….

  36. Realy a touching love storie of Bajirao ,Mastani ..I am really admirer to Bajirao , Mastani, & kahi bai The film bajirao mastani film by leela bhansali actor Ranbir sng , deepa Pandodker Priya ka copra have given it by there true acting to this storie is a Tribute to these great souls ..

  37. Par yeh baat bhut mast lagi ek baat toh sahi hai aam ko falo ka raza toh kehte hai par sbse jyada pathar bi uske naseeb main hote hai suprb story

  38. bajiro peshava mahan yoddha the mastani unke mrutyu ki karan bani.bura yah hai ki sirf log bajirov ji ko mastani se naam se jane jate hai.

  39. Really Nice love story……me yh khena chahta hu ki mastani ke sath bajirav ki first wife kashibai KO bhi bhulna nhi chahia…vo bhi bajirav se true love krti thi ..

  40. Actual me jab bajirao ladaai k liye gye the, usi vakt bajirao ki maa ne Masum Mastaani ko kaid karwa diya, aur unka sath diya nanaji ne.
    ye khabar jaise hi bajirao ko mili wo akele hi ladaai krne chale gye, dushma ko maarne taki wo jaldi se Mastaani k pas jakar Mastaani ko riha karwa sake, aur usne ye ladaai jit bhi lii.
    lekin Mastaani ka khayal

    abhi bhi unke man me tha,

    aur isiliye wo bimaar huye.

    fir unki maa ko bulwaya gaya

    fir bhi unki maa ne Mastaani ko vha nhi bulwaya, jisse unki tabiyat aur kharaab ho gyi.

    Tab bajirao ki pahli patni kashi k bhut zidd k baad unki maa ne Mastaani ko bulaane ki izajat dii,
    ,

    lekin nanaji ne Mastaani ko vha laane se mana kr diya jo bajirao aur kashi ka beta tha.

    fir kashi ne khud aakar Mastaani

    ko vha se bajirao k pas le aayi

    lekin tbb tkj bhut der ho chuki thi,

    bajirao ki tbiyat kuch jyada hi kharaab ho chuki thi,

    lekin fir bhi unhone Mastaani se milne k baad hi damm toda aur isi vajah se bajirao ki death ho gyi…..:'(:'(

    Aur unke gujarne k thode time baad hi Mastaani ne bhi damm tod diya
    aur dono devlok me leen ho gye…..

    Dono k bich atoot aur saccha pyaar tha jise sirf bajirao ki pahli patni Kashi ne samjha.

    unke alaawa sabhi unke khilaaf the…..

    unke pyaar saccha tha isiliye unki ye sacchi kahaani aaj itihaas k psnno me Amar hh aur hamesa rhega……

    mera sakute hh bajirao aur Mastaani ki sacchi prem katha ko…

    I like this true love story………

    • I salute Bajirao N Mastani …
      AGR Mohhobbat ho to Bajirao Mastani jaisi ho
      vrna Na ho….
      Ya Doghanchya premala maza Shatda Manacha MuzrA…:-*

  41. True story bt aajke time mai aisa pyr kaya sach mai ho skta h..great love .
    Baajiraao mastaani
    sacha pyr krne vaala hi story smjhega

  42. काश इंसानो में बाजिराव और मस्तानी के जैसी
    मोहब्बत आज भी हो जाये
    में तो बस हमेसा येही सोचता हूँ के जात पात इस्लाम धर्म के सब दंगे खत्म हों और इंसान इंसान से बे इंतहा मोहब्बत करे और एक दुसरे के काम
    आये दुसरे का दुःख अपना दुःख समझे और कोई भूखा अगर दीखे तो अपने हिस्से का खाना भी उसी को दे दे खुदा हाफिज नमस्कार

  43. Nice story of bajirao masti .
    Prem mhanje Kay n te kase aste …he sarve bajirao kadun shikave …
    Really bajirao was big lover …bajirao n mastani…
    Both hats off u …

  44. That was unconditional love……bt sad….today’s love is totally opposite. …I dnt belive in love…after read dis story I personally think is it possible to love like this….like mastani….like bajirao….ur partner needs nt only love bt respect too….

  45. bajirao mastani एक अपने आप में सच्ची प्रेम कहानी है जो एक इतिहास है जिसे कोई ख़त्म नही कर सकता।जो सदियो से चली आ रही ह इसमे एक अजीब सी प्यार की कसक है जो इस कथा में दरसाई गयी है जो अपने आप में एक सत्य है
    ये महज एक कहानी नही एक प्यार का जीता जागता उदाहरण है
    और ये दुनिया के सामने ये दर्षाता है की कहि न कहि प्यार अभी तक जिंदा है ।it’s true story bajirao mastaani

  46. agar bajirao kuch samay aur zinda hote to, history kuch aur hoti………….lakin bajirao ki death kyu n kiske wajah s hue…………………….?

  47. really lovers .PYAR KARNE WALE PYAR KARTE HAI SHAN SE.JEETE HAI SHAN SE MARTE HAI SHAN SE.
    RAM & SITA
    RADHE & KRISHANA
    AKBAR & JODHABAI
    PRATVI RAJ CHAUHAN & SAYOGITA
    SHAHJHAN & MUMTAJ
    BAJIRAO & MATANI ALL OF REALLY LOVERS
    INHONE SE DUNIYAN KO PYAR KARNA SHIKHAYA

  48. खुपच लोकप्रिय प्रेम कथा आहे परंतु नालायक ब्राम्हणानि बाजीराव ला मस्तानी सोबत जीवन जगायला नाके_डोळे आणून टाकले होते

  49. I love them best love story in history mastani is great she is came hear for bajirao & die hear after he death such a great Mastani & Bajirao I pray to God please meet them Again

  50. Humne abhitak suna tha ki sachha pyar zindagi me ek bar hota hai… bajirao ne ye sabit kr dikhaya ki sachha pyar kisise b ho sakta hai aur kabhi b ho sakta hai…

  51. But As per Sanjay Leela Bhansali———Bajirao and Mastanai die same time

    Kya Bhasnsali us samay moujud the………have a possible???????? paise kamane k liye marwa diya bhansali ne……..what is real story????

  52. THE real warrior and legend of maratha smrajya bajirao peshva historical story is owsome.. and i like to say bajirao is true lover….. he was giving hole life to maraaaatha samrajya ….. but the bhramhin samaj behevior after marrege of bajirao mastanni is not good …… samaj has to be execpt the marrege….becoj bajirao ne mastani se mohobbat ki thi aiiyashii nahi…………

    [email protected]

  53. Kehte he ki tutte taare ko dekhlo to mannat puri ho jati he. He dono sitare bhi apne Dil ki Mannat ke liye hi tute the….
    Jis tarha Radha ka naam Krishna ke saath liya jata he usi tarha Mastani ka naam hamesha Peshwa Bajirav ke sath liya jayenga……… Bajirav Mastani….Bajirav Mastani….

  54. Hello all
    I am sunil mene bachpan me ek ladki se pyar kiya or mene os se sadikarne keliy bahut paresani aaye or aakhir me mene pooja se sadi karli or ham dono bahut pyar karte he ek dushre ko i love my pooja
    Bajirao mashtani kya pyar he bajirao jesa ( pyar ka koy dharm nhi hota pyra aapne aap me ek dharm he )

  55. Bajirav mastani
    Very very sweet story,,,
    i like
    Mastani and bajirav,,,,
    Prem kryache tr as
    Ani aaj chay kala made tr
    Timepass kartat.,,,

  56. i really like this people educated person nahi smjte ki inshan ki alg phechan hoti he apne cast se alg like bajirav and mastani love story no demand no any condition i love that people

  57. This story is very interesting & very nice. It was truly love between Bajirao & Mastani. Bajirao and Mastani you proved what is truly love. I salute both of you for your loving.

  58. First of all i would like to tell that i like this story ever i have seen before anyy….wat a direction …..sanjay lila bhansali..

  59. uski mohabaat ka silsila bhi kya ajeeb thaa……….apna hi banaya aur kissi aur ka hone bhi na diya……..har har mahadev.jay maratha.

  60. Mahan maraths peshwa bajirao aur khussurat mastAni begum ki prem kahani…This is called bajirao mastani……ye dono apne jamane ke heer ranjha the…thanks for gret information

  61. बाजीराव तूम्हा ला शतश् नमन आणि मस्तानी तूम्हाला पण वेडा झालोय तूमची कथा ऐंकूनचं

  62. Thats called a true love story ……kuch log aaj bhi bhut pyr krte hai lkn aaj ke vakt kuch logo ko pyr ka mtlb pta hi nhi hota ….or jo log pyr ke naam par tympaas krte hai vo kabhi apne aap se bhi pyr nhi kr sakte to dusro se to tab krengy …..kher nice story mastani

  63. i really like this story
    riyu agree with u aap seb log apne aap ko educated bolte ho to phir aap seb log cast ko leker kyo ladai kerte ho itihaas gawah h ki pyar hmesa ager rhta h aur aap logo se bhi request h ki plx aap log bhi ladai bhul ke logo ko jeene do aur bhaiyo pyar bhi dil se krna chahiye na ki kisi ka phaida udana chahiya aap logo se bhi reqst h ho skta hi ki aapki story bhi aaage hmesa yaad ki jaaye ….!!

    i really like these people who loves each other…!!

    • Bajirao peshwa ke bare me jankari thi ki sasakt maratha samrajya ki isthapna ki matr 39 vars ki alp ayu me .karan do vibhin jati ki atmaye niswarth vaw se akakar hone se.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.