श्रीमद् भागवत गीता पर अनमोल विचार

Bhagavad Gita Quotes in Hindi

भगवान श्री कृष्ण ने महाभारत के युद्द के समय अपने शिष्य अर्जुन को उपदेश दिए थे, इन उपदेशों को गीता सार के नाम से भी जाना जाता है। इसके साथ ही यह माना जाता है कि भागवत गीता के ऐसे विचारों को जो भी अपने जीवन में अमल कर लेता है, उसे अपने जीवन-मृत्यु के चक्र से मुक्ति मिल जाती है। गीता के यह उपदेश इंसान के मन को शांति पहुंचाते हैं, साथ ही जीवन में सफलता दिलावाने में मद्द करते हैं। तो आइए जानते हैं, श्रीमद भागवत गीता के सर्वश्रेष्ठ विचारों (Bhagavad Gita Quotes) के बारे में-

श्रीमद् भागवत गीता पर अनमोल विचार – Bhagavad Gita Quotes in Hindi

Bhagavad Gita Quotes in Hindi
Bhagavad Gita Quotes in Hindi

“फल की अभिलाषा छोड़ कर कर्म करने वाला पुरुष ही अपने जीवन को सफल बनाता है।”

“कर्म न करने से, कर्म करना श्रेष्ठ हैं।”

Quotes on Bhagavad Gita in Hindi

गीता के उपदेशों को सुनकर इंसान को परम सुख और ज्ञान की प्राप्ति होती है, साथ ही यह उपदेश जीवन जीने की कला तो सिखाते  हैं और अपने जीवन में आगे बढ़ने के लिए भी प्रेरित करते हैं। वहीं जो लोग गीता के उपदेशों का पालन करते है, वे अपनी जिंदगी में बड़ी से बड़ी समस्याओं को आसानी से हल कर पाते हैं।

हर व्यक्ति को गीता के उपदेशों कों गहराई को समझने की जरूरत है, तभी वो अपनी जिंदगी में सफलता हासिल कर सकते हैं। गीता के एक श्लोक में श्री कृष्ण ने मानव शरीर को अस्थायी बताया है, और आत्मा को स्थायी, जिससे तात्पर्य है कि हमें किसी भी शख्स की पहचान उसरे रुप और शरीर से नहीं बल्कि उसके भीतरी मन से करनी चाहिए। गीता के इस तरह के उपदेशों को और अनमोल विचारों को आप अपनी सोशल मीडिया साइट्स पर भी शेयर कर सकते हैं।

Bhagavad Gita Quotes in Hindi Meaning
Bhagavad Gita Quotes in Hindi Meaning

“क्रोध से मुर्खता उत्पन्न होती हैं, मूढ़ता से भ्रान्ति, भ्रान्ति से बुध्दि का नाश, और बुध्दि के नाश से प्राणी का नाश होता हैं।”

“आसक्ति से कामना का जन्म होता हैं।”

Bhagavad Gita Thoughts in Hindi

गीता के उपदेशों में श्री कृष्ण ने प्रेरणादायक विचार बताते हुये जीवन की कटु सच्चाई का बेहद सुंदरता से बखान किया है, इसमें उन्होंने मृत्यु को जीवन का एक मात्र सत्य बताया है, इसलिए हम सभी को मृत्यु के भय को अपने अंदर से निकाल देना चाहिए और निडर होकर अपना जीवन जीना चाहिए।

इसके साथ ही अपनी जिंदगी में अच्छे और नेक काम करना चाहिए, ताकि मृत्यु के बाद भी लोग हमारे द्धारा किए गए काम को याद कर सकें। वही जो भी जीवन की अटल सच्चाई से भयभीत रहते हैं, वे अपने वर्तमान को भी खराब कर लेते हैं।

Bhagavad Gita Thoughts in Hindi
Bhagavad Gita Thoughts in Hindi

“मन बड़ा चंचल है, मनुष्य को मथ डालता है, अतः बहुत बलवान है।”

“नैराश्यं परमं सुखम् (निराश परम सुख है।)”

Images of Gita Updesh

कुछ लोग ऐसे होते हैं जो कर्म करने से पहले ही फल की चिंता करने लगते हैं। ऐसे लोगों के लिए श्री कृष्ण ने कहा है कि इंसान को फल की अभिलाषा छोड़ कर अपना कर्म करना चाहिए, तभी वो अपनी जिंदगी में सफलता हासिल कर सकते हैं। इसके साथ ही गीता के उपदेशों में यह भी कहा गया है कि कर्म न करने से अच्छा कर्म करना है।

Images of Gita Updesh
Images of Gita Updesh

“सर्वत्र समभाव रखने वाला योगी अपने को सब भूतों में, और सब भूतों को अपने में देखता है।”

Lord Krishna Quotes Bhagavad Gita in Hindi

गीता के उपदेशों में यह भी कहा गया है कि मनुष्य का मन बड़ा चंचल है, ईधर-उधर भटकता रहता है, इसलिए मनुष्य को अपने मन को काबू में रखना चाहिए, वहीं जो लोग अपने मन को काबू नहीं करते, उन लोगों का दिमाग भी सही तरीके से काम नहीं करता, एवं ऐसे लोगों को अपने जिंदगी में काफी मुसीबतों का सामना करना पड़ता है। वे लोग अपनी जिंदगी में सफलता हासिल नहीं कर पाते हैं।

Lord Krishna Quotes Bhagavad Gita in Hindi
Lord Krishna Quotes Bhagavad Gita in Hindi

“जो अपने हिस्से का काम किये बिना ही भोजन पाते है, वे चोर है।”

Quotes from Bhagavad Gita in Hindi

Quotes from Bhagavad Gita in Hindi
Quotes from Bhagavad Gita in Hindi

“अपकीर्ति मृत्यु से भी बुरी है।”

“कार्य में कुशलता का योग कहते है।”

Srimad Bhagavad Gita Quotes in Hindi

Srimad Bhagavad Gita Quotes in Hindi
Srimad Bhagavad Gita Quotes in Hindi

“परमात्मा को प्राप्ति के इच्छुक ब्रम्हचर्य का पालन करते है।”

अगले पेज पर और भी

7 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.