‘आई.सी.एस.ई’ और ‘आई.बी’ बोर्ड मे क्या फर्क है?

ICSE vs IB

शिक्षा क्षेत्र मे आये दिन ढेर सारे मुलभूत बदलाव होते देखने को मिल रहे है, बात करे शिक्षा प्रणाली की तो हर प्रकार की शिक्षा व्यवस्था को नियंत्रित करने और उसे सुचारू तरीके से चलाने के लिये शिक्षा मंडल की जरुरत होती है। इस तरह के आम तौर पर देखे तो बहूत सारे शिक्षा मंडल उपलब्ध है, जो के खुद्की एक अनुठी पहचान के साथ शिक्षा को नियंत्रित कर शिक्षा प्रसार कर रही है।

माध्यमिक शिक्षा और उच्च माध्यमिक शिक्षा ये शिक्षा के दो अत्यंत महत्वपूर्ण स्तर होते है, और इन्ही स्तरो के माध्यम से बेहतरीन तरह की शिक्षा व्यवस्था मुहैय्या करानेवाले दुनियाभर मे बहूत सारे मंडल आज के तारीख पर उपलब्ध है, जिनके अथक प्रयास और कौशल्यपूर्ण कार्यप्रणाली के बदौलत आज शिक्षा का दायरा काफी बडा होकर दूर तक फैल गया है।

हर छात्र खुदको एक अच्छे और प्रतिष्ठित शिक्षा प्रणाली का हिस्सा बनाने को उत्सुक दिखाई पडता है, जिससे भविष्य मे अच्छे रोजगार के विकल्प उपलब्ध हो सके तथा ग्यान के स्तर मे व्यापक तौर पर बढोतरी हासिल कर सके। ईसी के लिये जागतिक दर्जे के शिक्षा मंडल के अंतर्गत दाखिला लेने के लिये छात्रो के बिच मानो होड सी लगी हुई रहती है।

ईसी परिपेक्ष के अंतर्गत आने वाले दो शिक्षा मंडल जैसे के आई.सी.एस.ई (माध्यमिक शिक्षा के लिए भारतीय प्रमाणपत्र) और आई.बी (अंतर्राष्ट्रीय बेकलौरीएट) के बिच बुनियादी तथ्यो के उपर तथ्यात्मक भेद को हम यहा इस लेखमे वर्णित करने वाले है, जिससे आपको बहूत सारी बुनियादी जानकारी के साथ इनमे से आपके लिये क्या उचित शिक्षा मंडल हो सकता है जैसे सवालो को भी जवाब हासिल हो पायेंगे।

‘आई.सी.एस.ई’ और ‘आई.बी’ बोर्ड मे क्या फर्क है? – Difference Between ICSE and IB Board

Difference Between ICSE and IB
Difference Between ICSE and IB

आई.सी.एस.ई और आई.बी क्या है ? – What is ‘ICSE’ And ‘IB’ Board

‘आई.सी.एस.ई’ यानी के “माध्यमिक शिक्षा के लिए भारतीय प्रमाणपत्र” जागतिक दर्जे का शिक्षा मंडल है जो के माध्यमिक स्तर के शिक्षा व्यवस्था को नियांत्रित करता है, जो के भारत के अन्य सारे शिक्षा मंडलो से अलग और विशिष्ट है।

हालाकी भारत और अन्य कई सारे देशो के पाठशाला तथा विश्वविद्यालय इस मंडल के अंतर्गत शिक्षा व्यवस्था को प्रदान कर रहे है। आई.बी (अंतरराष्ट्रीय  बेकलौरीएट) ये भी अंतरराष्ट्रीय स्तर का शिक्षा मंडल है जो दुनिया के सैकडो देश द्वारा पाठशाला और विश्वविद्यालय द्वारा स्वीकार किया गया है।

महत्वपूर्ण सूचना: इन दोनो शिक्षा मंडल के बुनियादी मापदन्डो के आधार पर पक्ष और विपक्ष है, एक समझदार माता पिता होने के नाते ये आपकी प्राथमिकता होनी चाहिये की इन दोनो शिक्षा मंडलो के बारे मे और अधिक जानकारी स्वयं स्फूर्ती से जमा कर अपने बच्चो के लिये उचित शिक्षा मंडल का चयन करे। सभी मापदंड मे से किसी एक को भी नजर अंदाज करना आपके लिये अपेक्षा का भंग का कारण बन सकता है, तो थोडा समझदारी पूर्ण निर्णय लेना हर हाल मे उचित रहेगा।

आईये अब कुछ भुलभूत तथ्यो के आधार पर इन दोनो शिक्षा मंडल के बिच का अंतर विस्तार से समझते है।

१. मंडल अंतर्गत शिक्षा प्रणाली का मुलभूत ढाचा – Basic Structure Of Education System

  • आई.सी.एस.ई – ICSE

‘माध्यमिक शिक्षा के लिए भारतीय प्रमाणपत्र’ नामक परिषद कक्षा दसवी के छात्रो के लिये परीक्षा का आयोजन एवं पुरे परीक्षा का नियमन करते है, वही इसी मंडल के अंतर्गत आनेवाली ‘भारतीय विद्यालय प्रमाणपत्र’ नामक परिषद कक्षा बारवी के छात्रो के लिये परीक्षा का आयोजन और नियमन करते है।

  • आई.बी – IB

अंतरराष्ट्रीय  बेकलौरीएट मंडल निचे दिये हुये शिक्षा धारा के माध्यम से शिक्षा विस्तार कर रही है, जैसे के:

  1. प्राथमिक शिक्षा जैसे के शिशु विहार (किंडेरगार्टन) से लेकर कक्षा पाचवी तक
  2. माध्यमिक शिक्षा जैसे के कक्षा छटवी से लेकर कक्षा दसवी तक शिक्षा
  3. महाविद्यालयीन शिक्षा जिसे इनके मंडल अंतर्गत डिप्लोमा शिक्षा कहते है, जिसमे कक्षा ११ वी और १२ वी का शामिल होते है।

२. मंडल अंतर्गत आनेवाले पाठशाला और मंडल का दुनियाभर मे विस्तार – On The Basis of Expansion

  • आई.सी.एस.ई – ICSE

आई.सी.एस.ई मंडल के अंतर्गत दुनियाभरके हिसाब से मुल्यांकन करे तो ज्यादा पाठशालाए नही है, जैसे के पुरे दुनिया मे इस मंडल के अंतर्गत मात्र ३००० पाठशालाए आती है।

  • आई.बी – IB

‘अंतरराष्ट्रीय बेकलौरीएट मंडल’ के अंतर्गत आई.सी.एस.ई की तुलना मे बहूत अधिक पाठशालाए शामिल है, जैसे के लगभग १४० देशो की पाठशालाओ मे इस मंडल के अंतर्गत शिक्षा का विस्तार आज की तारीख तक फैल चुका है और ये जारी है, ईस मंडल के अंतर्गत सबसे ज्यादा पाठशालाए संयुक्त राज्य अमेरिका मे है।

३. पाठ्यक्रम के अनुसार मुलभूत तथ्यो के आधार पर भेद – On The Basis Of  Syllabus

मुलभूत तौर पर दोनो शिक्षा मंडल व्यावहारिक तथा उपयोगी शिक्षा पर अपना ध्यान केंद्रित करते है,फिर भी कुछ खास पह्लू पर इनमे एक दुसरे से अलग विशेषता दिखाई पडती है जैसे के ;

  • आई.सी.एस.ई – ICSE

आई.सी.एस.ई मंडल के अंतर्गत आनेवाली शिक्षा प्रणाली मे इंग्लिश साहित्य तथा भाषाओ को मजबुती देने पर और अधिक बल दिया जाता है, इनमे अंग्रेजी के अलावा स्थानिक तथा अन्य भाषाओ का समावेश होता है,इसके अलावा आई.सी.एस.ई मंडल का पाठ्यक्रम अन्य और मंडल से काफी कठीण होता है।

  • आई.बी – IB

अंतरराष्ट्रीय  बेकलौरीएट मंडल का पाठ्यक्रम आई.सी.एस.ई की तुलना मे उतना कठीण नही होता, शिक्षा धारा अनुसार शिक्षा का स्तर होता है। यहा विशेषता से ध्यान देने योग्य बात है के, ये मंडल पुरा ध्यान बच्चो के सर्वांगीण विकास पर देती है।

४. किफायती पहेलू और कमिया – On The Basis of Pros and Cons

जैसे के अबतक आपने दोनो मंडलो के बिच बुनियादी तथ्यो के आधार पर भेद से जुडी जानकारी पढी, उसी तरह इन दोनो मंडलो के किफायती पहेलू और कमिया  भी है, जिसके आधार पर हम इनसे जुडे सकारात्मक तथा कुछ जटील मुद्दो के आधार पर भेद देखेंगे और आगे वर्णन करेंगे।

  • आई.सी.एस.ई – 

आई.सी.एस.ई मंडल का पाठ्यक्रम अन्य मंडलो की तुलना मे काफी व्यापक है, पर इसका परिणाम ये होता है के छात्रो को व्यावहारिक शिक्षा मे थोडा अधिक संघर्ष से होकर गुजरना पडता है,  ये सभी चीजो के बावजुद आज तक इन्होने दुनिया भर मे ३००० तक पाठशालाओ तक विस्तार किया है।

  • किफायती पहेलू (Pros)
  1. इस मंडल के अंतर्गत शिक्षा प्रणाली मे अंग्रेजी भाषा पर अन्य मंडलो के तुलना मे अधिक ध्यान दिया जाता है, इसका बुनियादी फायदा इन मंडल के अंतर्गत पढने वाले बच्चो को ये होता है के, अन्य मंडलो के बच्चो की तुलना मे ये भाषा से जुडे परीक्षाओ मे अच्छी तरह से सक्षम होते है,उदाहरण के तौर पर जैसे के TOEFL (एक विदेशी भाषा के रूप में अंग्रेजी का टेस्ट) इत्यादी।
  2. आई.सी.एस.ई मंडल के शिक्षा प्रमाणपत्र को दुनियाभर के बहूत सारे विश्वविद्यालयो तथा विद्यालयो द्वारा स्वीकृती प्रदान की गई है।
  3. व्यापक तौर पर विषयो का शिक्षा मे समावेश होने के कारण छात्रो के संपूर्ण विकास होने की संभावनाये बढ जाती है।
  4. शिक्षा मे विषयो के चयन हेतू मंडल द्वारा काफी सारे आसान प्रावधान होने के कारण, छात्र उनके दिलचस्पी अनुसार विषय का चयन कर सकते है।
  • कमिया (Cons)
  1. इस मंडल के अंतर्गत शिक्षा प्रणाली मे शिक्षा शुल्क अन्य मंडलो के तुलना मे अधिक होता है।
  2. बहूत कम पाठशालाए इस मंडल के अंतर्गत आते है।
  3. अभी तक बहूत सारे विश्वविद्यालयो ने ‘आई.सी.एस.ई मंडल’ शिक्षा प्रणाली का स्वीकार नही किया है।

अंतरराष्ट्रीय  बेकलौरीएट मंडल- किफायती पहेलू और कमिया ( (Pros and Cons)

जागतिक स्तर पर इस शिक्षा प्रणाली को खासा स्वीकार किया गया है, ये भलेही एक पुराना पर उमदा शिक्षा मंडल अब तक साबित हो चुका है, जिनका १४० से ज्यादा देशो मे विद्यालयो और महाविद्यालयो ने स्वीकार किया है।

कुछ बुनियादी तथ्य इस शिक्षा मंडल को किफायती तथा कुछ कमिया से पूर्ण दिखाता है, इन्ही मुद्दो पर निचे विश्लेषण करने का प्रयास किया गया है।

  • किफायती पहेलू  (Pros)
  1. ये जागतिक स्तर पर स्वीकृत किया गया शिक्षा मंडल है, जिसे १४० से ज्यादा देशो ने स्वीकृत किया है, जिस मे शामिल देश जैसे के भारत, ऑस्ट्रेलिया, संयुक्त राज्य अमेरिका इत्यादी है।
  2. इस शिक्षा मंडल द्वारा दिया जाने वाला शिक्षा प्रमाणपत्र दुनिया के बहूत सारे देशो के विश्वविद्यालयो द्वारा स्वीकृत किया जाता है।
  3. शिक्षा सत्र व्यावहारिक और उपयोगी स्तर की शिक्षा देने पर केंद्रित होता है।
  • कमिया (Cons)
  1. इस मंडल के अंतर्गत आनेवाली शिक्षा का शुल्क ज्यादा होता है।
  2. मंडल के अंतर्गत आनेवाली शिक्षा मुहैय्या करानेवाले विद्यालय अधिकतर बडे शहरो तक सीमित है।

निष्कर्ष- 

आई.सी.एस.ई और आई.बी ये दोनो ही जागतिक स्तर पर स्वीकार किये गये मंडल है तथा इनके द्वारा दिये जानेवाले प्रमाणपत्र दुनिया के अधिकतर विश्वविद्यालय स्वीकार करते है, कुछ एक विश्वविद्यालय हाल फिलहाल आई.सी.एस.ई के प्रमाणपत्र को अमान्य करते है, फिर भी आप आपके सुगमता ,आपके शहर मे उपलब्धता तथा शिक्षा के गुणवत्ता के आधार पर सही मंडल का चयन कर सकते है।

इसके अलावा दाखिला लेने के लिये अन्य कुछ मापदंड भी लागू होते है, इन सबका पूर्ण विचार कर सही निर्णय लेना आपकी वैयक्तिक जिम्मेदारी है। किसी भी परिस्थती मे इन मंडलो के पक्ष मे बढावा देना हमारा उद्देश्य नही है, शुरुवात से लेकर अबतक की जानकारी आपतक पहुचाना, केवल इस विषय से आपको अवगत कराने के हेतू से था।

  • इस विषय पर बार बार पुछे जानेवाले सवाल (FAQ)

१. क्या ‘आई.बी मंडल’,  ‘आई.सी.एस.ई मंडल’ से बेहतर है?

Answer: हा, जब कुछ राष्ट्रीय मंडल से तुलना करे तो आई.बी मंडल काफी बेहतर और फायदेमंद साबित होता है, ‘आई.सी.एस.ई’ की  तुलना मे आई.बी दुनिया के काफी सारे देशो और विश्वविद्यालयो द्वारा स्वीकृत किया गया मंडल है।

२. क्या ‘आई.सी.एस.ई’ जागतिक स्तर का मंडल है?

Answer: ‘आई.सी.एस.ई’ भारत मे राष्ट्रीय तौर पर परीक्षाओ का आयोजन और नियमन करता है, वही इसके अलावा जिन देशो ने इस मंडल का स्वीकार किया है वहा ‘सी.आई.सी.एस.ई’ के तहत ये मंडल कार्यरत है।

३. ‘अंतरराष्ट्रीय बेकलौरीएट मंडल’ का प्रमुख कार्यालय कहा पर स्थित है?

Answer: ईस  मंडल  का संस्थापकीय तथा प्रमुख कार्यालय जिनेव्हा शहर, स्विट्जरलैंड मे स्थित है।

४. ‘आई.सी.एस.ई’ क्या है?

Answer: ‘काउंसिल फॉर द इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन’ (CICSE) के तहत कक्षा दसवी के छात्रो की परीक्षा आयोजन करना और नियमन करने वाला मंडल ‘आई.सी.एस.ई’ होता है।

५.  हम ‘सी.आई.सी.एस.ई’ को किस तरह से संपर्क कर सकते है?

Answer: सी.आई.सी.एस.ई’ कार्यालय का पता – काउंसिल फॉर द इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन, प्रगति हाउस, तीसरी मंजिल ४७ -४८ नेहरू पैलेस, नई दिल्ली -११००१९ , टेलीफोन नंबर – (०११) २६४१३८२० , २६४११७०६

६. आई.बी शिक्षा मंडल के अंतर्गत दुनियाभर मे कितनी पाठशालाए आती है?

Answer: आज तक दुनियाभर मे ५००० विद्यालय, १५० देशो मे आई.बी शिक्षा मंडल के अंतर्गत कार्यरत है, जिसमे  ७००० से ज्यादा शिक्षा संबंधी विषयो पर शिक्षा का प्रावधान उपलब्ध है,  सबसे ज्यादा इस शिक्षा मंडल का विस्तार अमेरिका मे हुआ है।

Gyanipandit.com Editorial Team create a big Article database with rich content, status for superiority and worth of contribution. Gyanipandit.com Editorial Team constantly adding new and unique content which make users visit back over and over again.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.