Home Essay काले धन पर निबंध – Essay on Black Money in Hindi

काले धन पर निबंध – Essay on Black Money in Hindi

Essay on Black Money in Hindi

आज हमारे देश में काला धन की समस्या एक विकराल रुप धारण कर चुकी है। कुछ भ्रष्ट लोग ज्यादा पैसे कमाने और झूठी शान-शौकत दिखाने की वजह से काला धन इकट्ठा कर रहे हैं। जिससे देश की अर्थव्यवस्था पर बुरा असर पड़ रहा है।

इसके साथ ही सामाजिक असमानता को बढ़ावा मिल रहा है और बेरोजगारी, गरीबी जैसी तमाम समस्याएं उत्पन्न हो रही हैं।

इसलिए काला धन को नष्ट करने के लिए साल 2016 में की गई नोटबंदी की तरह ऐसे बड़े कदम उठाए जाने की जरूरत है और लोगों को इसके प्रति जागरूक करने की जरूरत है।

काले धन पर निबंध – Essay on Black Money in Hindi

Essay on Black Money in Hindi

काला धन का अर्थ – Meaning of Black Money

काला धन वह धन होता है, जिस पर टैक्स नहीं दिया जाता है और गुप्त रुप से जमा किया जाता है।

काला धन इकट्ठा होने के मुख्य कारण – Causes of Black Money

किसी भी राष्ट्र में काला धन इकट्टा होने से उस राष्ट्र का आर्थिक विकास अवरूद्ध होता है और गरीबी, बेरोजगारी आदि की समस्या बढ़ जाती है। काला धन इकट्ठा होने के कुछ मुख्य कारण इस प्रकार है –

  • टैक्स ज्यादा होने और महंगाई बढ़ने की वजह से, ज्यादातर लोग टैक्स भरने से बचते हैं, जिसके लिए वे अपनी आय छिपाते हैं जिससे काला धन इकट्ठा होता है।
  • कुछ ऐसे व्यवसाय हैं, जो अपने माल को निर्यात करते हैं और गुप्त रुप से मुनाफा कमाते हैं जिससे काला धन जमा होता है।
  • कई तरह की एक्साइज ड्यूटी दरें भी काला धन को बढ़ावा देती है।
  • काला धन के इकट्ठा होने का मुख्य कारण ब्लैक मार्केट भी है।
  • शेयर बाजार से मिलने वाला बेहिसाब मुनाफा काला धन को बढ़ावा देता है।
  • सरकारी अथवा गैरसरकारी संस्थानों में लिया जाने वाला कमीशन और रिश्वत, काला धन इकट्ठा करने के मुख्य कारण हैं।
  • ज्यादा प्रोफिट कमाने के लिए बडे़ स्तर पर होने वाला घोटाला भी काला धन एकत्र होने का एक प्रमुख कारण है।
  • रियल स्टेट में लेनदेन अथवा लोग प्रोपर्टी के लेनदेन में ज्यादा कैश का इस्तेमाल करते हैं, अथवा सस्ती दरों पर प्रॉपर्टी खरीदकर, महंगों दामों में बेचते हैं जिससे काला धन एकत्र होता है।
  • बढ़ती महंगाई भी काले धन का जमा करने का मुख्य कारण है।
  • सरकार की मूल्य नियंत्रण नीती से भी काला धन की समस्या बढ़ रही है।
  • कोटा प्रणाली से बड़ी मात्रा में काला धन इकट्ठा हो रहा है।
  • सामाजिक भेदभाव की वजह से भी काला धन जमा हो रहा है।
  • ज्यादा मुनाफा कमाने की इच्छा भी काला धन को बढ़ावा मिल रहा है।
  • काला धन के खिलाफ सख्त कानून नहीं बनने से भी काला धन इकट्ठा हो रहा है।
  • बड़े-बड़े राजनेता, अभिनेता और उद्योगपतियों का विदेशों में बैंक अकाउंट में जमा हुआ पैसा भी काले धन को बढ़ावा दे रहा है।

काला धन जमा होने वाले प्रमुख नुकसान – Effects of Black Money

  • देश की आर्थिक स्थिति खराब हो रही है और विकास रुक रहा है।
  • काला धन इकट्ठा होने से GDP का सही आकड़ा लगाना मुश्किल हो जाता है।
  • रिश्वतखोरी, कमीशन, लूट, डकैती , चोरी जैसे जघन्य अपराधों को बढ़ावा मिल रहा है और भ्रष्टाचार बढ़ रहा है। वहीं इन सब में खासतौर पर आम आदमी पिस रहा है।
  • बड़ी मात्रा में टैक्स चोरी हो रही है, जिसका बेहद बुरा प्रभावा राजकोषीय प्रणाली पर पड़ रहा है।
  • काला धन इकट्टा होने से बैंकों को काफी नुकसान होता है।

काला धन को खत्म करने के लिए सरकार के कदम – Solution of Black Money

भारत में साल 2016 में हुई नोटबंदी काला धन को नष्ट करने के लिए भारत सरकार द्धारा उठाया गया एक महत्वपूर्ण कदम रहा।

भारत सरकार द्धारा डिजीटलीकरण को बढ़ावा दिया जा रहा है, जिससे सिस्टम में पारदर्शिता आ रही है, बड़े स्तर पर होने वाले लेनदेन का हिसाब में आसानी से नजर रखी जा रही है जिससे रिश्वतखोरी, भ्रष्टाचार आदि में कमी आई है।

सरकार द्धारा लोगों को अपने काला धन घोषित करना का मौका दिया जाना भी काले धन की समस्या को जड़ से खत्म करने का सराहनीय प्रयत्न है।

कैसे रोका जा सकता है काला धन – How to Control Black Money

  • काला धन को नष्ट करने के लिए सरकार द्धारा कठोर कानून बनाए जाने चाहिए अथवा कड़ी सजा का प्रावधान करना चाहिए।
  • करदाताओं के अनुरुप ही टैक्स दर निर्धारित करनी चाहिए, ताकि लोग टैक्स चोरी नहीं कर सकें,और काला धन इकट्ठा न हो सके।
  • महंगाई को कम कर भी काला धन की समस्या को जड़ से खत्म किया जा सकता है।
  • काला धन को खत्म करने के लिए देश के हर नागरिक को अपने काली आय अथवा काला धन की घोषणा करना अपना कर्तव्य समझना चाहिए, जिससे काला धन खत्म किया जा सके और देश के विकास को गति मिल सके।
  • रिश्वतखोर और भ्रष्टअधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करनी चाहिए।
  • डिजिटलीकरण को बढ़ावा देकर भी काला धन की समस्या से निजात मिल सकती है।
  • देश से काला धन खत्म करने के लिए प्रत्येक नागिरक को सहयोग करना चाहिए।
  • एक्साइज डयूटी अथवा उत्पाद शुल्क को कम कर भी काला धन की विकट समस्या से निजात पाया जा सकता है।
  • कोटा प्रणाली को सरल बनाकार, काला धन को रोका जा सकता है।
  • सरकारी योजनाओं पर नजर रखकर भी काले धन की समस्या से निजात पाई जा सकती है।
  • देश के बड़े उद्योगपति, नेता, अभिनेता अथवा वीवीआईपी लोगों को अपनी काली आय की घोषणा करने में भागीदारी निभानी चाहिए और देश के आर्थिक विकास में सहयोग करना चाहिए।
  • चुनाव के समय में होने वाले खर्च का हिसाब-किताब सही ढंग से रखकर भी काले धन पर रोक लगाई जा सकती है।
  • इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को समय-समय पर लोगों को आगाह करना चाहिए साथ ही काला धन रखने वालों के खिलाफ सख्ती से कार्रवाई करनी चाहिए।
  • विदेश में पैसा जमा करने वालों को रोका जाना चाहिए।
  • काला धन रोकने के लिए हर 10 साल में नोटबंदी की जानी चाहिए।
  • रियल स्टेट कानून मजबूत होना चाहिए ताकि प्रोपर्टी के लेनदेन में काला धन इकट्टा न हो सके।

निष्कर्ष

काला धन को खत्म करने के लिए हम सभी को मिलकर कदम उठाने की जरूरत है इसके लिए हमें सरकार की नोटबंदी जैसी तमाम नीतियों का सहयोग करना होगा।

इसके अलावा डिजीटलीकरण को बढ़ावा देने में मद्द करनी होगी, और टैक्स का भुगतान करना अपना दायित्व समझना होगा, तभी देश की नींव को कमजोर कर रहा इस काले धन को पूरी तरह नष्ट किया जाकेगा और हमारा देश आर्थिक रुप से मजबूत एवं सबसे शक्शिाली देश बन सकेगा।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.