बच्चें की सीख | Hindi Motivational Story

hindi motivational story

बच्चें की सीख / Hindi Motivational Story

एक 9 साल का बच्चा आइस-क्रीम की दुकानं पर जाता है.
.
वेटर – तुम्हे क्या चाहिये?
.
छोटा बच्चा – मुझे आइस-क्रीम लेने के लिए कितने पैसे देने होंगे ?
.
वेटर – 15 रुपये/-
.
तभी उस छोटे बच्चे ने अपना पॉकेट चेक किया
और किसी छोटे कोण की कीमत पूछी?
.
तभी परेशान वेटर ने गुस्से में कहा – 12 रुपये/-
.
तभी लड़ने ने छोटा कोण देने को कहा, उसे लिया, बिल के पैसे दिए और वहा से चला गया.
.
और जब वेटर खाली प्लेट उठाने आया तब अचानक ही उसके आँखों से आसू आने लगे.
.
उस छोटे से बच्चे ने उस वेटर के लिए वहा 3 रुपये टिप के रूप में रखे थे.
.
“आपके पास जितना है उसमे से थोडा किसी और को देकर दूसरो को भी खुश करने की कोशिश कीजिये.”
यही जीवन है.

इस प्रेरणादायक कहानी से सीख / Moral From Hindi Motivation Story :-

ऐसा नहीं है की उस छोटे बच्चे के पास 15 रुपये नहीं थे, उसके पास पार्यप्त पैसे होने के बाद भी उसने अपने लिए छोटा कोण लिया और 3 रुपये टिप देकर उस वेटर को खुश किया. जब हम जीवन में हमारे साथ-साथ हमारे आस पास के लोगो की ख़ुशी के बारे में भी सोचते है तभी हमारा जीवन सही मायने में जीवन कहलाने योग्य है. अपनी ख़ुशी के लिए तो हर कोई काम करता है लेकिन महान वही कहलाता है जो दुसरो की ख़ुशी के बारे में सोचता है.

Read More Hindi Motivation Story :-

    1. Story For Kids In Hindi :  क्रोध और परिणाम
    2. Hindi Inspirational Stories :  एक खुबसूरत कहानी
    3. Hindi Story For Kids  :  माता-पिता का प्यार
    4. Inspiring Story In Hindi :   तोडना आसान जोड़ना मुश्किल
    5. Heart Touching Story In Hindi :  कहानी जो दिल को छु जाये

Note :- अगर आपको Hindi Motivational Story With Moral अच्छी लगे तो जरुर Share कीजिये.
Note :- E-MAIL Subscription करे और पायें Hindi Motivational Story and more article and Motivation Stories आपके ईमेल पर.

5 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.