भारत की आजादी का सफ़र | Indian Independence Movement

Indian Independence Movement

भारत में अंग्रेज आने से पहले यहाँ के हालात बेहतर थे। सभी लोग ख़ुशी से रहते थे। सभी धर्म और जाती के लोग साथ मिलकर रहते थे और आपस में भाईचारा बनाये रखते थे। लेकिन बाद में इस देश में अंग्रेज आये और पुरे देश पर धीरे धीरे कब्ज़ा कर लिया। उनके आने के बाद देश की हालत काफी ख़राब हो गयी उन्होंने देश के लोगो के गुलाम बना डाला, उनपर जुल्म करना शुरू किया।

Indian Independence Movement
Indian Independence Movement

भारत की आजादी का सफ़र – Indian Independence Movement

लेकिन हमारे देश के लोग भी बहादुर थे उन्होंने अंग्रेजो के इस जुल्म के खिलाफ आवाज उठाना शुरू किया और तभीसे देश को आजाद करने की लड़ाई शुरू हुई। देश की आजादी का सफर काफी लम्बे समय तक चला।

इस सफ़र में देश में क्रांतिकारियों को अंग्रेजो का डटकर सामना करना पड़ा। उसके लिए उन्हें कड़ा संघर्ष करना पड़ा। इस संघर्ष में कितने क्रांतिकारियों को अपने देश के आजादी के लिए जान देनी पड़ी। लाखों की संख्या में लोग शहीद हो गये।

इस स्वतंत्रता आन्दोलन की शुरुवात असल में सन 1857 से हुई। लेकिन यह आजादी का पहला आन्दोलन क्यों हुआ, कैसे हुआ, और किसने किया इन सारे सवालों के जवाब हम आपको देने वाले है। ऐसी क्या बात थी जिसमे सैनिको को ही इसमें सबसे पहले आगे कदम रखना पड़ा और इस लड़ाई के बाद अंग्रेज क्यों डर गए, इसकी सारी जानकारी हम आप तक पहुचाने वाले है।

इस युद्ध के बाद कौन कौन से संगठन बने जिनके चलते हमें सन 1947 में आजादी मिल सकी और किन किन क्रांतिकारियों ने देश की आजादी में क्या क्या योगदान दिया इसकी सारी जानकारी आपको मिलेगी। तो ज्यादा समय बर्बाद ना करते हुए हम आपको देश की आजादी का चुनौतीभरा सफ़र कैसा था इसकी जानकारी देने जा रहे।

इतिहास में कई बार लोगो ने भारत पर आक्रमण किये। भारत पर आक्रमण करने वाले अधिकतर लोगो के इरादे पहले से साफ़ थे, अंग्रेजो ने भी शुरुवात में व्यापार करने के माध्यम से भारत में पाव रखा और धीरे धीरे हमारे देश पर कब्ज़ा किया।

अंग्रेजो ने व्यापार करने के लिए शुरुवात में यहापर ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी की स्थापना की लेकिन धीरे धीरे उन्होंने अपनी इस कंपनी का विस्तार पुरे देश में किया ताकी उनकी ताकत और बढ़ सके और आखिर में वही हुआ जो अंग्रेज चाहते थे उन्होंने पुरे देश पर कब्ज़ा कर लिया।

17 वी सदी की शुरुवात में ही अंग्रेजो ने व्यापार करने के लिए भारत में ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी की स्थापना की लेकिन कुछ समय गुजरने के बाद मतलब 1750 के करीब देश के निजी बातो में दखल देना शुरू कर दिया था।

Plasi War – प्लासी की लड़ाई (1757) जितने के बाद तो अंग्रेजो ने व्यापारी कम्पनी की ताकत को और बढाकर उसे हुकूमत करनेवाली संस्था में ही बदल दिया। इसके बाद अंग्रेजो ने देश के खजाने को लुटने की शुरुवात की और यहा के लोगो पर जुल्म करना शुरू कर दिया था। अंग्रेज इस देश पर केवल हुकूमत करना चाहते थे और इसलिए उन्होंने अपनी ताकत को बेहद बढ़ा दिया था।

अंग्रेजो ने इस देश को सामाजिक, आर्थिक, सांस्कृतिक और राजनितिक इन सभी क्षेत्रो में देश को बढ़ी क्षति पहुचाई और इस खतरनाक क्षति के कारण ही देश की आम जनता और स्थानीय शासको ने अंग्रेजो के खिलाफ जंग शुरू कर दी थी। किसान, जनजाति के लोग और राजनितिक लोगो ने भी अंग्रेजो के खिलाफ आवाज उठाई। लेकिन 1857 में अंग्रेजो के खिलाफ जो लड़ाई लड़ी गयी वहा से ही भारत के स्वतंत्रता आन्दोलन की नीव रखी गयी।

धीरे धीरे देश के लोगो में जागरूकता फैलने लगी, दुनिया के दुसरो देशो के साथ में बातचीत होने लगी, और सबसे महत्वपूर्ण बात यह की देश के लोगो की अपनी मातृभूमि को आजाद करने की जिद दिन ब दिन बढ़ने लगी और इसका परिणाम यह हुआ की देश के सभी क्रांतिकारी एक साथ मिलकर अंग्रेजो के खिलाफ आन्दोलन करने लगे।

19 वी सदी के आखिरी में यह आन्दोलन और भी उग्र हो गया था जिसकी वजह से जीन अंग्रेजो ने देशपर 200 साल तक राज किया उन्हें आखिरकार सन 1947 में देश को छोड़ना पड़ा और भारत आजाद हो गया।

शुरुवाती दिनों में अंग्रेजो के खिलाफ लड़ी गयी कुछ लडाईया – List of Battles in Indian History

अपने छोटेसे फायदे के लिए देश के ही कुछ शासको ने अंग्रेजो के उपनिवेशवाद के लिए सहायता की लेकिन कुछ स्थानीय शासको ने इसके खिलाफ आवाज भी उठाई। मगर इसका कुछ उल्टा ही परिणाम हुआ और यहाँ के शासक आपस में ही लड़ने लगे लेकिन इसका भी अंग्रेजो ने पूरा फायदा उठाया।

पुली थेवर, हैदर अली, टीपू सुलतान, पझासी राजा, राणी वेलु नाचियार, वीर्पंदिया कोत्ताबोम्मान, धीरन, चिन्नामलाई, मरूथू पंदियर जैसे कुछ दक्षिण भारत के शासको ने अंग्रेजो का कड़ा विरोध किया और उसके लिए उन्होंने अंग्रेजो के खिलाफ कई सारे युद्ध भी किये।

हैदर अली और धीरन चिन्नामलाई जैसे शासको ने अंग्रेजो के खिलाफ युद्ध करने के लिए मराठा शासको से मदत ली थी और उन्होंने साथ में अंग्रेजो का सामना किया।

सामाजिक, सांस्कृतिक और आर्थिक रूप से अंग्रेजो ने देश को इतनी हानि पहुचाई की जिसकी वजह से कुछ लोगो को बहुत गुस्सा आया और उन्होंने अकेले ही अंग्रेजो के खिलाफ लड़ाई लड़ी। इस तरहसे अकेले में युद्ध करनेवाले क्रांतिकारको में सिधु मुर्मू, कान्हू मुर्मू और तिलका मांझी ने बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान दिया।

अंग्रेजो ने टीपू सुलतान जैसे बड़े शासक को यहाँ के स्थानीय शासको की मदत से ही हरा दिया। जब उन्होंने इतने बड़े शत्रु को बड़ी आसानी से हरा दिया तो उन्हें किसान और जनजाति के लोगो को हराना बहुत छोटा काम था और उसमे वो बड़ी आसानी से सफल भी हुए।

यहाँ के लोगो को हराने के लिए अंग्रेजो ने अच्छे हथियार इस्तेमाल तो किये ही लेकिन साथ में उन्होंने अपने दिमाग का इस्तेमाल करते हुए यहाँ के लोगो को एक दुसरो के खिलाफ भड़काकर अलग अलग कर दिया जिसकी वजह से यहाँ के स्थानीय लोग और भी कमजोर हो गए और अंग्रेज बड़ी आसानी से ताकत और प्रभाव को बढ़ाते गए।

अंग्रेजो ने यहाँ के लोगो की लड़ाईयो को जगहपर ही ख़तम करने की कोशिश की लेकिन लोगो के आन्दोलन बंद नहीं हुए बल्की जैसे जैसे दिन गुजरते गए वैसे वैसे क्रांतिकारियों के आन्दोलन बढ़ते गए। इसके पीछे की सबसे बड़ी वजह थी की अंग्रेज देश को आर्थिक रूप से पूरी तरह से लुट रहे थे।

1857 का स्वतंत्रता संग्राम – Indian Rebellion of 1857

1857 के स्वतंत्रता आन्दोलन को ‘देश की आजदी के लिए लड़ा गया पहला स्वतंत्रता संग्राम’ कहा जाता है। इस लड़ाई होने के पीछे कई सारी वजह थी लेकिन इसके पीछे का सबसे अहम कारण था की उस समय बम और हथियारों पर गाय और सूअर का मास लगाया गया था। साथ ही ईस्ट इंडिया कंपनी भारतीय सैनिको के साथ बुरा बर्ताव करती थी और भारतीय और यूरोपियन सैनिको के बिच में भेदभाव करती थी।

भारतीय सैनिको को पता चल गया था की अंग्रेज धर्म और जाती के नाम पर भारतीय सेना में दुरी बढ़ाने की कोशिश कर रहे है और उस समय भारतीय सेना को इस बात का भी पता चल गया था की जो इनफील्ड पी 53 रायफल सेना को दी गयी थी उसमे गाय और सूअर के मास का इस्तेमाल किया जा रहा था जिसके कारण सेना और भी क्रोधित हो गयी और सेना ने अंग्रेजो के खिलाफ जंग शुरू कर दी।

क्यों की जीन कारतुसो को दातो से तोड़कर रायफल में डालना था उनपर गाय और सूअर के मास को लगाया गया था और सभी को पता है की हिन्दू लोग गाय को पवित्र मानते है और मुस्लीम लोग सूअर को अपवित्र मानते है और उसे दातो से तोडना दोनों ही धर्म के खिलाफ था, लेकिन अंग्रेजो के ऐसा करने से हिंदु और मुस्लीम लोगो की धार्मिक भावनाओ के साथ खेला गया जिसकी वजह से सेना में आक्रोश और भी बढ़ गया। इससे सेना को एक बात साफ़ समझ में आयी की अंग्रेज लोग भारतीय सेना को ख्रिश्चन बनाना चाहते थे।

कारतूसो के अलावा भी कई सारी बाते थी जिसकी वजह से 1857 का स्वतंत्रता आन्दोलन हुआ था। इस लड़ाई में देश के हर कोने से कई सारे शासको ने अंग्रेजो के खिलाफ लड़ाई लड़ी। लेकिन इस लड़ाई में कम से कम 8 लाख लोग शहीद हो गये जिसमे आम जनता भी शामिल थी। इस लड़ाई का परिणाम कुछ अलग ही हुआ देश का प्रशासन जो इस्ट इंडिया कम्पनी चलाती थी उसे अंग्रेज सरकार ने अपने कब्जे में कर लिया और खुद ही देश को नियंत्रित करना शुरू कर दिया था।

संगठित आन्दोलन

1857 की एक ऐसी लड़ाई थी जो देश में पहली बार अंग्रेजो के खिलाफ लड़ी गयी सबसे बड़ी लड़ाई थी और इसी लड़ाई के कारण ही लोगो को भविष्य में अंग्रेजो के खिलाफ लड़ने की उम्मीद और प्रेरणा मिली। आगे चलकर इस लड़ाई के परिणाम भी अच्छे मिलने लगे थे और कुछ संस्थाए और संगठन भी बनाये गये जिन्होंने आगे चलकर स्वराज और अपने अधिकारों को मांगने की शुरुवात भी की।

सन 1867 में दादाभाई नौरोजी ने ईस्ट इंडिया एसोसिएशन की स्थापना की तो दूसरी और सुरेन्द्रनाथ बनर्जी ने सन 1876 में इंडियन नेशनल एसोसिएशन नाम की नयी संघटना बनायीं।

जैसे जैसे समय बीतता गया वैसे वैसे अधिकतर लोग अपने अधिकारों के प्रति सजग होने लगे जिसका परिणाम हुआ की ज्यादातर लोग एक साथ मिलकर बाते करने लगे और अपने अधिकार और स्वराज की मांग करने लगे। इन सब बातो का अच्छा परिणाम सामने निकालकर आया और सन 1885 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की स्थापना की गयी।

कांग्रेस ने जो बाते अंग्रेजो के सामने रखी थी वो भी अंग्रेजो ने देने से इंकार कर दिया लेकिन कांग्रेस ने जो छोटी छोटी और आम मांगे रखी थी और उसे अंग्रेजो द्वारा ठुकराया जा रहा देख कई लोगो ने कांग्रेस के नेताओ के सामने कई सारे सवाल खड़े किये और उन लोगो ने एक नया रास्ता अपनाने की शुरुवात की। उनकी नयी सोच काफी आक्रामक विचारोवाली थी जिसके कारण आगे चलकर उन लोगो ने कई सारे क्रांतिकारी संगठन स्थापन किये जो केवल हिंसा और जोर जबरदस्ती पर पूरा विश्वास रखते थे।

भारतीय लोगो में जागरूकता फ़ैलाने का काम ब्राह्मो समाज और आर्य समाज जैसे सामाजिक धार्मिक संगठन ने बहुत ही अच्छे तरीके से निभाया। भारतीय लोगो के दिल में राष्ट्रवाद को जगाने का काम स्वामी विवेकानंद, रबिन्द्रनाथ टैगोर, वी। ओ। चिदंबरम पिल्लई और सुब्रमन्य भारती जैसे समाज सुधारको ने बहुत ही प्रभावशाली तरीके से किया।

राष्ट्रवाद की शुरुवात – The Beginning of Nationalism

बाल गंगाधर तिलक जैसे कट्टरपंथी नेताओ ने हमेशा भारतीयों के लिए स्वराज की मांग की। बाल गंगाधर तिलक अंग्रेजो की शिक्षा व्यवस्था को लेकर भी नाखुश थे क्यों की अंग्रेजी की शिक्षा प्रणाली भारतीय इतिहास और संस्कृति को सकारात्मक तरीके से दिखाती नहीं थी। तिलक हमेशा पूर्ण रूप से आजादी यानि स्वराज की मांग करते थे।

तिलक हमेशा कहते थे की,

“स्वराज मेरा जन्म सिद्ध अधिकार है और मै उसे लेकर ही रहूँगा”

उनके इस विचार से देश के सभी लोग और क्रांतिकारी प्रेरित होते थे। बिपिन चन्द्र पाल और लाला लजपत राय जैसे नेताओ की सोच भी बाल गंगाधर तिलक की सोच से पूरी मिलती थी इसीलिए वो दोनों भी तिलक के साथ में मिलकर काम करते थे।

लोग इन तीनो को “लाल-बाल-पाल” नाम से बुलाते थे लेकिन कुछ समय गुजरने के बाद इन तीनो को कांग्रेस में से निकाल दिया गया था क्यों तीनो क्रांतिकारी हिंसा के जरिये ही देश को आजाद करना चाहते थे। लेकिन इन तीनो क्रांतिकारियों ने देश के लोगो के दिमाग को पूरी तरह से राष्ट्रवाद से भर दिया था।

बंगाल का विभाजन – Bengal Division

आजादी मिलने से पहले जो बंगाल था वह फ्रांस देश के इतना बढ़ा था इसिलए सन 1905 में तत्कालीन वाइसराय और गवर्नर जनरल लार्ड कर्जन ने बंगाल का विभाजन करने का आदेश दिया था। विभाजन को सही ठहराने के लिए उसने कहा की ऐसा करने से बंगाल का प्रशासन चलाने में आसानी होगी और हिन्दू मुस्लीम लोगो में तनाव भी कम हो जाएगा।

लेकिन भारतीय क्रांतिकारियों को पूरा विश्वास था की राष्ट्रीय आन्दोलन की तीव्रता को कम करने के लिए और उनकी ताकत को कमजोर करने के लिए ही बंगाल का विभाजन किया गया। क्रांतिकारियों को इस बात का भी पता था की अंग्रेज हिन्दू और मुस्लीम लोगो के बिच दरार पैदा करना चाहता थे जिससे की हिंदु और मुसलमान हमेशा के लिए अलग हो जाए।

अंग्रेजो के इस फैसले का कड़ा विरोध करते हुए लोगो ने अंग्रेजो के कई सारे उत्पाद और अखबारों का बहिष्कार किया। लोगो ने अंग्रेजो के इस फैलसा का इतना कड़ा विरोध किया की उन्हें इस फैसले को रद्द करना पड़ा और सन 1911 में बंगाल को फिर से एक बार एक कर दिया गया।

लेकिन कुछ समय गुजरने के बाद ही बंगाल को भाषा के आधार पर विभाजित किया गया। बंगाल की आम जनता और राजनितिक दृष्टि से बंगाल का विभाजन वहा के लोगो के लिए एक तरह से अमिट हो गया था जिसे कभी भी भुलाया नहीं जा सकता।

मुस्लीम लीग की स्थापना – Establishment of Muslim League

सन 1886 में इस्लामी सुधारवादी और दार्शनिक सय्यद अहमद खान ने अखिल भारतीय मुस्लीम शैक्षणिक सम्मलेन की स्थापना की थी। भारतीय मुस्लिमो को अच्छी शिक्षा मिल सके इस उद्देश्य से संस्था की स्थापना की गयी थी। शिक्षा को और बेहतर बनाने के लिए यह संस्था साल में कुछ सम्मलेन भी आयोजित करती थी ताकी उनपर बातचीत हो सके।

सन 1906 में जब इस संस्था ने एक सम्मेलन आयोजित किया तो उसमे एक आल इंडिया मुस्लीम लीग नाम की राजनितिक पार्टी बनाने का फैसला लिया गया। मुस्लीम लीग पार्टी बनने के बाद में इस पार्टी ने देश के सभी मुस्लीम लोगो के अधिकारों की मांग करना शुरू कर दिया।

आगे चलकर धीरे धीरे मुस्लीम लीग भी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (इंडियन नेशनल कांग्रेस) के उद्देश को पूरा करने के लिए काम करने लगी। लेकिन उन्हें बाद में समझ आया की कांग्रेस केवल हिन्दू लोगो के लिए ही काम कर रही है मुस्लीम लोगो के लिए काम करने में नाकाम हो रही है।

धीरे धीरे बहुत सारे मुस्लीम लोग मुस्लीम लीग की बातो पर विश्वास करने लगे मुस्लिमो के लिए एक और नयी पार्टी बनाने पर सोचने लगे जिस पार्टी में मुस्लीम लोगो की संख्या अधिक हो।

राष्ट्रीय आन्दोलन और पहला विश्व युद्धउन्नीसवी सदी के आखिर तक राष्ट्रीय आन्दोलन काफी तीव्र हो चूका था और बीसवी सदी में इस आन्दोलन में लोग बड़ी संख्या में जुड़ने लगे थे। स्वराज हासिल करने के लिए लोग अधिक संख्या में राष्ट्रीय नेता और कांग्रेस में शामिल होने लगे थे। अंग्रेज सरकार के खिलाफ आवाज उठान के लिए इन राष्ट्रीय आन्दोलन का नेतृत्व लाला लजपत राय, बाल गंगाधर तिलक, बिपिन चन्द्र पाल और वी ओ चिदंबरम पिल्लई जैसे महान नेताओ ने किया।

लेकिन लोगो का आन्दोलन इतना तीव्र होने के बाद भी उस समय इंडियन नेशनल कांग्रेस अंग्रेज सरकार को ही महत्व दे रहा था, लेकिन लोगो की आन्दोलन में बढती संख्या को देखकर दुसरे लोग भी प्रभावित होने लगे थे।

पहला विश्व युद्ध शुरू होने से पहले ही अंग्रेज सरकार ने कहा था की अगर भारत के लोग पहले विश्व युद्ध में अंग्रेज सरकार की मदत करेंगे तो वो भारत के लोगो के फायदे के लिए बहुत कुछ करेंगे। इस युद्ध में भारत के 1.3 मिलियन सैनिको ने हिस्सा लिया था और उन्हें अंग्रेजो की तरफ़ से लड़ने के लिए मिडिल ईस्ट, यूरोप और अफ्रीका में भेजा गया था।

इस युद्ध में अंग्रेजो की मदत करने के लिए देश के कुछ रियासत के शासको ने युद्ध में सेना के लिए पैसा, खाने के लिए भोजन और गोलाबारूद देकर मदत की थी।

महात्मा गांधी का आगमन

महात्मा गांधी जब दक्षिण अफ्रीका में रहते थे तो वे अहिंसा के रास्ते पर ही चलते थे इसी अहिंसा के बलबूते पर उन्होंने दक्षिण अफ्रीका में कई सारे आन्दोलन भी किये थे और साथ ही वो वहापर बैरिस्टर का काम भी करते थे।

महात्मा गांधी अहिंसा के रास्ते से आन्दोलन और निषेध करते थे जिसकी वजह से जनरल जन स्मट्स को सन 1914 में मजबूर होकर कई सारे राजनितिक नेताओ को कैद से छोड़ना पड़ा। गांधीजी के इस आन्दोलन करने के अनोखे तरीके से भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेता गोपाल कृष्ण गोखले काफी प्रभावित हुए थे और उन्होंने गांधीजी को भारत में वापस आने के लिए विनती की थी, क्यों की वे चाहते थे की भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन में गांधीजी शामिल हो जाए और अंग्रेज सरकार के खिलाफ आवाज उठाये।

जब महात्मा गांधी भारत वापस आये तो वे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हो गये और उन्होंने गोपाल कृष्ण गोखले को अपना गुरु मान लिया। भारत में आने के बाद गांधीजी ने सत्याग्रह आश्रम की स्थापना की और सन 1917 में पहली बार सत्याग्रह आन्दोलन किया। गांधीजी ने अगले तीन सालों तक अहिंसा के जरिये कई सारे सत्याग्रह किये।

कुछ आन्दोलन में महात्मा गांधी अनशन भी करते थे। उन्होंने गरीब किसानो को न्याय दिलाने के लिए खेडा और चंपारण का सत्याग्रह किया था।

असहकार आन्दोलन – Non-cooperation movement

सन 1919 में बैसाखी का त्यौहार मनाने के लिए और डॉ सैफुद्दीन किचलू और सत्य पाल की कैद का निषेध के करने के लिए सभी लोग जालियनवाला बाग में बहुत शांतिपूर्ण रुप से इकट्ठा हुए थे लेकिन उसी दौरान ब्रिगेडियर जनरल रेगीनाल्ड डायर ने बाग में इकट्ठा हुए सभी लोगो पर गोलिया चलाने का हुकुम दिया था।

डायर के इस अमानवी हमले के कारण पुरे देश की जनता में असंतोष फ़ैल गया था और पुरे देश में इस बात की कड़ी आलोचना की गयी। गांधीजी ने भी अंग्रेजो के इस कायरता का कड़ा विरोध किया।

देश में राष्ट्रीय आन्दोलन एक बहुत बड़ा रूप ले रहा था लेकिन इसका अहसास किसीको नहीं हुआ क्यों इसकी प्रक्रिया काफी धीमी थी साथ ही असहकार आन्दोलन को जन्म देने में जालियनवाला बाग दुर्घटना का महत्व बहुत बड़ा था।

गांधीजी के नेतृत्व में हुआ असहकार आन्दोलन देश का सबसे बड़ा आन्दोलन साबित हुआ। इस आन्दोलन के दौरान महात्मा गांधी ने सभी राजनितिक और धार्मिक नेताओ को इस आन्दोलन को सफल बनाने के लिए विनती की और सभी देशवासियों को अंग्रेजो के सभी उत्पाद पर बहिष्कार करने को कहा।

गांधीजी हमेशा खादी के कपडे पहनने पर जोर देते थे और अंग्रेजो द्वारा बनाये गए कपड़ो का बहिष्कार करते थे। वे हमेशा सरकारी कर्मचारियों को उनकी नौकरी छोड़ने को कहते थे और अंग्रेजो द्वारा दिए गए सभी पुरस्कार वापस लौटाने को कहते थे।

बहुत सारे भारतीय लोगो ने टैक्स देने से मना कर दिया था, कई सारे शिक्षको और वकीलों ने अपनी नौकरी छोड़ दी थी। बहुत ही कम समय में इस आन्दोलन को बड़ी सफ़लता मिली लेकिन चौरी चौरा में एक दुर्घटना हुई जिसमे 3 लोग मारे गये और 22 पुलिस मारे गए जिसकी वजह से गांधीजी ने इस आन्दोलन को रोकने की घोषणा कर दी।

असहकार आन्दोलन एक बहुत ही बड़ा आन्दोलन साबित हुआ और इस आन्दोलन में सभी धर्म और जाती के लोगो ने हिस्सा लिया था। इस आन्दोलन के दौरान देश पूरी तरह से बदल चूका था और इस आन्दोलन ने बहुत बड़ी सफ़लता भी हासिल की लेकिन चौरी चौरा की एक घटना के कारण गांधीजी को इस आन्दोलन को बिच में ही रोकना पड़ा।

इस आन्दोलन को रोकने के बाद गांधीजी ने कहा था की इस वक्त देश के लोग इस तरह के आन्दोलन करने के लिए पूरी तरह से तयार नहीं है।

इस आन्दोलन को बिच में रोकने पर कई सारे लोग गांधीजी से नाराज हो गये थे और कुछ नेताओ ने तो गांधीजी की कड़ी आलोचना भी की।

क्रांतिकारी आन्दोलन और स्वतंत्रता आन्दोलन में उनकी भूमिका

गोपाल कृष्ण गोखले और महात्मा गांधी जैसे इंडियन नेशनल कांग्रेस के नेता अहिंसा और सविनय अवज्ञा के मार्ग से ही आजादी हासिल करना चाहते थे लेकिन कुछ नेता ऐसे थे जो हथियार और गोलाबारूद के दम पर अंग्रेजो को हराना चाहते थे।

इस तरह की क्रांतिकारी आन्दोलन की शुरुवात 1750 के दौरान ही शुरू हो गयी थी लेकिन बंगाल के विभाजन के बाद इस तरह एक क्रांतिकारी आन्दोलन की जरुरत बढ़ने लगी थी और इस सोच के क्रांतिकारी पुरे देश में फ़ैल चुके थे। बारिन घोष के नेतृत्व में कई सारे क्रांतिकारीयो ने हथियार और विस्फोटक इकट्ठा करना शुरू कर दिया था।

उनमेसे कुछ क्रांतिकारी खुद ही बम बनाना सिख गए थे और कुछ क्रांतिकारी बम बनाने के लिए और मिलिटरी की ट्रेनिंग लेने के लिए परदेस भी गए थे।

हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन सन 1924 के दौरान बनायीं गयी थी और उस समय चंद्रशेखर आजाद, भगत सिंह, अशफाकुल्लाह खान, रामप्रसाद बिस्मिल, शिवरामन राजगुरु, सूर्य सेन, जैसे क्रांतिकारी आन्दोलन में शामिल होने लगे थे। अलीपुर बोम्ब केस, चिट्टागोंग के शस्त्रागार पर हमला, काकोरी में रेल में चोरी, दिल्ली लाहोर केस यह सभी घटनाए क्रांतिकारियों के कारण ही हुए थे।

आजाद हिन्द फौज – indian national army

सुभाष चन्द्र बोस ने इंडियन नेशनल कांग्रेस को हमेशा के लिए छोड़ दिया था और देश को आजाद करने के लिए उन्होंने कई देशो में जाकर भेट दी क्यों की वे उन विलायती देशो की मदत से भारत को स्वतन्त्र करना चाहते थे।

बोस चाहते थे की एक भारतीय सेना तयार करनी चाहिए जो अंग्रेजो के खिलाफ लड़ सके, उन्हें पूरी तरह से हरा सके। हिटलर से सलाह मशवरा लेने के बाद सुभाष चन्द्र बोस जापान चले गए और उन्होंने वहापर इंडियन नेशनल आर्मी (आजाद हिन्द सरकार) की स्थापना की।

जब दूसरा विश्व युद्ध चल रहा था तो उस वक्त इंडियन नेशनल आर्मी ने जापानी सेना की मदत से अंदमान और निकोबार द्वीप को जीत लिया था। लेकिन दुसरे विश्व युद्ध में जापान की सेना नाकामयाब होने की वजह इसका इंडियन नेशनल आर्मी के इरादों पर बहुत बुरा असर पड़ा और इंडियन नेशनल आर्मी के कई सारे अफसर और सैनिक पकडे गए।

भारत छोड़ो आन्दोलन – Quit India Movement

जैसे जैसे दूसरा विश्व युद्ध बढ़ता जा रहा था वैसे वैसे इधर भारत में महात्मा गांधी भारत की पूरी आज़ादी के लिए मांग कर रहे थे और उनका यह आन्दोलन काफी उग्र हो रहा था। उन्होंने उस समय एक मसौदा तयार किया था जिसमे अंग्रेजो को ‘भारत छोड़ो’ कहा गया था।

इंडियन नेशनल कांग्रेस ने जो छोड़ो भारत आन्दोलन शुरू किया था वह बहुत ही आक्रामक आन्दोलन था। 9 अगस्त 1942 को गांधीजी को कैद किया गया और उन्हें पुणे के आगा खान पैलेस में दो सालों तक बंदी बनाकर रखा गया।

जब अंग्रेजो ने यह घोषित किया की भारत को पूरी आजादी दी जाएगी तब जाकर सन 1943 के आखिरी में भारत छोड़ो आन्दोलन शांत हो गया। इस बात की घोषणा होने के बाद ही गांधीजी ने भारत छोड़ो आन्दोलन को रोक दिया जिसके बदले में 1 लाख राजनितिक कैदियों को छोड़ा गया था।

विभाजन और आजाद भारत – Division and independent India

महात्मा गांधी और जवाहरलाल नेहरु जैसे नेता धर्म के आधार पर देश के विभाजन के खिलाफ थे, लेकिन उस वक्त जाती और धर्म के नाम पर लोग आपस में लड़ रहे थे जिसकी वजह से पाकिस्तान बनाना जरुरी हो गया था।

सन 1946 में कैबिनेट मिशन ने आजादी और विभाजन का प्रस्ताव भारतीयों के सामने रखा था उसे कांग्रेस ने स्वीकार कर लिया। लेकिन इस बात को लेकर गांधीजी नाखुश हुए थे लेकिन बाद में सरदार वल्लभभाई पटेल ने उन्हें बताया की ऐसा करने से ही लोग आपस में लड़ना बंद कर देंगे।

उसके बाद में ब्रिटिश संसद ने भारतीय स्वतंत्रता कानून 1947 को मंजूरी दी और 14 अगस्त के दिन पाकिस्तान नाम का एक नया देश निर्माण किया गया और उसके कुछ मिनट बाद ही रात में 12 बजकर 2 मिनट पर भारत को आजादी मिल गयी और पुरे देश में ख़ुशी की लहर छा गयी।

आजादी मिलने के बाद में गांधीजी देश में शांति बनाये रखने के लिए और हिन्दू और मुस्लिमो में एकता बनाये रखने पर ध्यान केन्द्रित करने लगे थे। सांप्रदायिक हिंसा को रोकने के लिए और विभाजन परिषद समझौते के मुताबिक पाकिस्तान को 55 करोड़ रुपये देने के लिए गांधीजी दिल्ली में अनशन करने लगे थे। गांधीजी ने फैसला किया था की जब तक उनकी दो मांगे पूरी नहीं हो जाती तब तक वह अनशन ही करते रहंगे फिर उसके लिए गांधीजी मरने के लिए भी तयार थे। लेकिन आखिरी में सभी नेताओ ने उनकी बातो को मान लिया।

भारत का नया संविधान बनाने की जिम्मेदारी संविधान सभा को सौपी गयी थी। इस भारतीय संविधान को बनाने में डॉ बी आर आंबेडकर का सबसे महत्वपूर्ण योगदान रहा है। 26 नवम्बर 1949 को भारतीय संविधान को स्वीकार किया गया और और 26 जनवरी 1950 से इस संविधान को अमल में लाया गया।

भारतीय स्वतंत्रता आन्दोलन को अच्छे से समझने के बाद हमें पता चलता है की देश को आजाद करना इतना आसान काम नहीं था। देश को आजाद करने के लिए कितने लोगो को अपने जान देनी पड़ी। कितने लोगो को जेल में जाना पड़ा।

कुछ क्रांतिकारियों ने देश को आजाद करने के लिए हिंसा का सहारा लिया तो कुछ लोगो ने अहिंसा के जरिये देश को स्वतन्त्र करने पर जोर दिया। कुछ क्रांतिकारियों को देश के बाहर के लोगो की मदत लेनी पड़ी तो किसीने देश में रहकर ही शांतिपूर्ण तरीके से देश को आजाद करने का सपना पूरा किया।

कोई बन्दुक, तोप और गोलाबारूद पर भरोसा करता तो कोई कानून और अहिंसा के जरिये अंग्रेजो के खिलाफ लड़ता था। चाहे सभी के रास्ते अलग क्यों ना हो, मगर उन सबकी मंजिल एक ही थी, और वो थी की देश को आजाद करना है, उसे अंग्रेजो की गुलामी से मुक्त करना है।

More Articles For Students On Independence Day:

Note: For more articles like “Indian Independence Movement In Hindi” & more Nibandh, essay, paragraph, Bhashan, for any class students, Also More New Article please Download: Gyanipandit free Android app.

4 COMMENTS

  1. क्यों की जीन कारतुसो को दातो से तोड़कर रायफल में डालना था उनपर गाय और सूअर के मास को लगाया गया था और सभी को पता है की हिन्दू लोग गाय को पवित्र मानते है और और मुस्लीम लोग सूअर को पवित्र मानते है this line is wrong

    मुस्लीम लोग सूअर को अपवित्र मानते है this line is Right

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.