जननी सुरक्षा योजना | Janani Suraksha Yojana

Janani Suraksha Yojana

सरकार के द्वारा समय समय पर ऐसी योजनाएं चलाई जाती हैं जो राष्ट्रहित से जुड़ी होती है। जिससे देश की जनता का कल्याण सम्भव हो पता हैं। सरकार द्वारा चलाई गई इन्ही योजनाओं में से एक है Janani Suraksha Yojana – जननी सुरक्षा योजना जिसकी शुरुआत गर्भावती महिलाओं एवं नवजात शिशुओं की सुरक्षा को ध्यान में रख कर की गई।

Janani Suraksha Yojana
Janani Suraksha Yojana

जननी सुरक्षा योजना – Janani Suraksha Yojana

जननी सुरक्षा योजना की शुरुआत 12 अप्रैल 2005 को कस्तूरबा गांधी के जन्मदिवस के अवसर पर की गई। इस योजना को प्रधानमंत्री एवं भारत के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा शुरु किया गया था।

इस योजना का मुख्य उद्देश्य उन गर्भवती महिलाओं को सहायता प्रदान करना है। जो आर्थिक रूप से कमजोर हैं एवं स्वास्थ्य संबंधी देखभाल करने में असमर्थ हैं। मुख्यतः इस योजना की शुरुआत शिशु मृत्यु दर को घटाने के उद्देश्य से की गई है।

इस योजना के तहत गरीब महिलाओं को पंजीकृत स्वास्थ्य संस्थाओं में बच्चे को जन्म देने हेतु प्रोत्साहित किया जाता है। साथ ही इसके लिए महिलाओं को 1000 Ru की धनराशि की आर्थिक सहायता भी प्रदान की जाती है।

जननी सुरक्षा योजना का मुख्य उद्देश्य – Purpose of Janani Suraksha Yojana

इस योजना का मुख्य उद्देश्य गरीब गर्भवती महिलाओं के मध्य संस्थागत प्रसव को बढ़ावा देकर मातृ एवं नवजात मृत्यु दर को कम करना है।

आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों के मध्य संस्थागत प्रसव को प्रोत्साहित करना।

योजना का एक प्रमुख उद्देश्य स्वस्थ्य भारत की नींव रखना है।

यह योजना कैसे कार्य करती है – How does this plan work

सरकारी अस्पतालों, मान्यताप्राप्त निजी अस्पतालों में अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति एवं ग्रामीण क्षेत्रों की गरीबी रेखा के नीचे वाली महिलाओं को 1000 की धनराशि प्रदान की जाती है।

यह धनराशि लाभकारी महिला के आधारकार्ड के आधार पर महिला के खाते में सीधा भेज दिया जाता है।

जननी सुरक्षा की रणनीति को जानते हैं – Know the protection of Janani Suraksha Yojana

जेएसवाई एक 100% केन्द्र प्रायोजित योजना है और प्रसव और प्रसव उपरांत देखभाल के हेतु नकद सहायता प्रदान करता है। इस योजना की सफलता के गरीब परिवारों के बीच संस्थागत प्रसव में वृद्धि दर के द्वारा निर्धारित किया जाता है।

इस योजना का उद्देश्य उन गरीब गर्भवती महिलाओं की मदद करना है जो आर्थिक रूप से कमजोर होने के कारण प्रसव के लिये भुगतान देने में असमर्थ होती हैं। इस योजना को शुरू किए हुए 13 साल हो चुके हैं और इसे कम प्रदर्शन करने वाले राज्यों के साथ साथ सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में लागू किया जा रहा है।

योजना की विशेषताएं – Features of the plan

इस योजना के अंतर्गत जिस राज्य की प्रसव की दर उच्च है(एचपीइस) उन्हें कम नकद राशि दी जाती है और जिन राज्यों की प्रसव की दर कम है (एलपीएस) उन्हें ज्यादा नकद राशि दी जाती है।

शहरी क्षेत्रों में योजना में मिलने वाली नकद राशि

शहरी क्षेत्रों में जो जगहें एलपीएस के अंदर आती हैं उन्हीं को जननी सुरक्षा योजना का लाभ मिलता है। जिसमें गर्भवती महिलाओं को 1000 रुपये की नकद राशि दी जाती है। और आशा को 400 रुपये की नकद राशि दी जाती है।

ग्रामीण क्षेत्रों में योजना में मिलने वाली नकद राशि

ग्रामीण क्षेत्रों में जो क्षेत्र एलपीएस के अंदर आते हैं उनमें गर्भवती महिलाओं को 1400 रुपये की धनराशि दी जाती है और आशा को 600रु की धनराशि दी जाती है।

और वहीं जो क्षेत्र एचपीएस के अंदर आते हैं उनमें रह रही गर्भवती महिलाओं को 700रु की धनराशि दी जाती है और आशा को 600रु प्रदान किए जाते हैं।

जानते हैं आशा की भूमिका – Know the role of Aasha

आशा.मान्यता प्राप्त सामाजिक कार्यकर्ताए जननी सुरक्षा योजना के अंतर्गत लाभों का उपयोग करने के लिए गरीब गर्भवती महिलाओं की मदद के लिए जिम्मेदार है।

आशा की भूमिका – Role of Aasha

  • गर्भवती महिलाओं को प्रसव के लाभों के बारे में पूर्ण जानकारी देना।
  • गर्भवती महिलाओं का उनके पंजीकरण कराने में मदद करना। और कम से कम 3 प्रसव पूर्व जांच प्राप्त करनाए जिसमें टिटनेस के इंजेक्शन और आयरन फोलिक एसिड गोलियां शामिल हैं।
  • स्तनपान सहायता प्रदान करना।
  • टीबी के खिलाफ बीसीजी टीकाकरण सहित। नवजात शिशुओं के लिए टीकाकरण की व्यवस्था करना।
  • गर्भवती महिलाओं के लिए अलग.अलग सूक्ष्म जन्म योजना तैयार करना। जिसमें उन निकटवर्ती स्वास्थ्य संस्थाओं की पहचान करना शामिल है जहां उनको प्रसव के लिए भेजा जा सकता है।
  • प्रसवोत्तर यात्रा के लिए जन्म के 7 दिनों के भीतर महिलाओं से मिलना।
  • परिवार नियोजन को बढ़ावा देना।

जननी सुरक्षा योजना से जुड़ीं नई जानकारियां – New information related to Janani Suraksha Yojana

जननी सुरक्षा योजना में आवेदन करने के लिए अब आधार कार्ड का होना आवश्यक है। ये फैसला दिल्ली हाई कोर्ट द्वारा लिया गया है। और अब इस योजना के तहत वर्तमान में प्रोत्साहन राशि भी बढ़ा दी गई है। अब इस योजना के तहत हर महिला को 5000 रु की राशि दी जाएगी। कुल मिलाकर 6000रु की धनराशि प्रदान की जाएगी।

Read More:

Hope you find this post about ”Janani Suraksha Yojana” useful. if you like this articles please share on Facebook & Whatsapp. and for the latest update download : Gyani Pandit free Android App

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *