झांसी के महाराजा गंगाधर राव | Maharaja Gangadhar Rao History

Gangadhar Rao

ऐतिहासिक शहर झांसी मध्य प्रदेश की सीमा के पास स्थित है, जिसे अक्सर 1857 की स्वतंत्रता संग्राम में एक प्रमुख खिलाड़ी रानी लक्ष्मीबाई के नाम से जाना जाता है। झांसी महान बुंदेलखंड क्षेत्र का प्रवेश द्वार है जो वीरता और साहस के लिए जाना जाता है।

Gangadhar Rao

झांसी के महाराजा गंगाधर राव – Gangadhar Rao

गंगाधर राव नेवालकर झांसी के महाराजा थे। कला और संस्कृति के एक प्रेमी, वह ज्ञान और कूटनीति जैसे गुणों से उन्होंने ब्रिटिश को प्रभावित भी किया। महाराजा गंगाधर राव ने मणिकर्णिका नाम की एक लड़की से शादी की, शादी के बाद उसका नाम बदलकर लक्ष्मीबाई रखा गया।

राजा का शासन अच्छी तरह से चल रहा था और झांसी की रानी लक्ष्मीबाई ने एक सुन्दर बच्चे को जन्म दिया जिसका नाम दामोदर राव रखा गया लेकिन जन्म के चार महीने बाद बच्चें की तबियत अस्वस्थ हुईं और कुछ दिनों बाद उसकी मृत्यु हो गयी।

महाराजा गंगाधर राव अस्वस्थ थे क्योंकि इस नुकसान को सहन नहीं किया जा सका और चिंतित थे क्योंकि उनकी मृत्यु के बाद उनके सिंहासन का कोई वारिस नहीं होगा। राजा गंगाधर राव ने अपने चचेरे भाई के बेटे आनंद राव को गोद लिया, उनके मरने के एक दिन पहले उसका नाम बदलकर दामोदर राव रखा गया था।

फिर भी अपने बेटे की मृत्यु के शोक में महाराजा गंगाधर राव का दिल टूट गया था, और उनका स्वास्थ्य तेजी से बिगड़ता गया राव ने 22 नवंबर, 1853 को अपनी आखिरी साँस ली।

महाराजा गंगाधर राव की चत्री, झांसी के महालक्ष्मी मंदिर के पास स्थित है, जो उनकी पत्नी ने बनवायी थी। कब्र लक्ष्मी झील के रूप में जानी जाती हैं जो झील के पास लक्ष्मी गेट के बाहर स्थित है। कब्र के आसपास शस्त्र हैं और सुंदर फूलों के उद्यान है।

नवंबर 1853 में महाराजा गंगाधर राव की मृत्यु के बाद दामोदर राव को उनका वारिस बनाया गया था, लेकिन गर्वनर-जनरल लॉर्ड डलहौसी के अधीन ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी ने द लिपमेंट का सिद्धांत लागू किया था, दामोदर राव के सिंहासन के दावे को खारिज करते हुए और झाँसी के किले को अपने प्रदेशों से जोड़ दिया।

इसका विरोध करते हुए 1857 के दौरान झांसी की रानी लक्ष्मीबाई ने अंग्रेजों के खिलाफ विद्रोह किया। और 17 जुन 1858 को ग्वालियर के पास कोटा की सराय में ब्रिटिश सेना से लड़ते-लड़ते रानी लक्ष्मीबाई ने वीरगति प्राप्त हुईं।

Read More:

Hope you find this post about ”Maharaja Gangadhar Rao History” useful. if you like this information please share on Facebook.

Note: We try hard for correctness and accuracy. please tell us If you see something that doesn’t look correct in this article about the life history of Gangadhar Rao… And if you have more information History of Gangadhar Rao then help for the improvements this article.

2 thoughts on “झांसी के महाराजा गंगाधर राव | Maharaja Gangadhar Rao History”

  1. हमारे देश का इतिहास बहुत ही रोचक हैं हमारे देश बहुत से शूरवीर राजा महाराजा हो चुकें हैं महाराजा गंगाधर राव उनमेसें एक हैं लेकिन उनके जीवन के बारेमें हर किसी को ज्यादा जानकारी नहीं हैं आपने अपनी इस पोस्ट के जरिये महाराजा गंगाधर राव के बारेमें जानकारी विस्तारपूर्वक देने के लिए धन्यवाद्

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *