बेस्ट सफल मोबाइल ऐप्स जिन्हेँ भारतीयों ने बनाया हैं!

Most Successful Indian Apps

स्मार्ट फोन की इस मॉडर्न दुनिया में मोबाइल टेक्नोलॉजी ने अपने पांव घर-घर तक पसार लिए हैं। अब टेक्नोलॉजी के बिना जिंदगी अधूरी सी लगती है। क्योंकि जब एक क्लिक पर सारी चीजों की जानकारी और सारी सुविधाएं घर बैठे-बिठाए ही मिल जाए तो भला कौन इस टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल करने से पीछे हटेगा। फिलहाल स्मार्टफोन तो आजकल ज्यादातर लोगों के पास रहते हैं, जिनमें से सभी के फोन में यह सभी ऐप्स डाउनलोडेड रहती हैं जिनके बारे में आज हम आपसे अपने इस लेख में बात करेंगे।

Most Successful Indian Apps

 बेस्ट सफल मोबाइल ऐप्स जिन्हेँ भारतीयों ने बनाया हैं! – Most Successful Indian Apps

इन मोबाइल ऐप्स के जरिए न सिर्फ लोगों की कई समस्याओं का चुटकियों में समाधान निकला है बल्कि लोगों को भरपूर सुविधा भी मिली है। वहीं यह मोबाइल ऐप्स भारत की सबसे सफल ऐप्स हैं। जिन्हें मिलियन लोगों द्धारा डाउनलोड किया गया है, और आज यह ऐप्स अधिकतर लोगों के मोबाइल फोन में मिल जाएगी तो आइए जानते हैं भारत की सबसे सफल 25 मोबाइल ऐप्स के बारे में –

  • Paytm:

पेटीएम जिसके बारे में तो आपने सुना ही होगा, यह मोबाइल ऐप ज्यादातर स्मार्टफोन यूजर्स के मोबाइल फोन में आसानी से मिल जाएगी। आपको बता दें कि यह भारत की सबसे ज्यादा डाउनलोड होने वाली ई-कॉमर्स पेमेंट सिस्टम, डिजिटल प्लेटफॉर्म और ऑनलाइन शॉपिंग मोबाइल ऐप है। जिसका इस्तेमाल आज करोड़ों यूजर्स कर रहे हैं। वहीं इस ऐप का इस्तेमाल कर लोग न सिर्फ ऑनलाइन ट्रांन्जेक्शन कर सकते हैं बल्कि ऑनलाइन शॉपिंग का भी लुफ्त उठा सकते हैं।

आपको बता दें कि इस मोबाइल ऐप को साल 2010 में विजय शेखर शर्मा ने लॉन्च किया था, जो कि yahoo.com के भी फाउंडर रह चुके हैं और जिन्होंने कैशलेस ट्रांसेक्शन के एक आइडिया से ऑनलाइन डिजिटिल पेमेंट को पेटीएम के माध्यम से बेहद आसान बना दिया।

शुरुआत में Paytm का इस्तेमाल मोबाइल को रिचार्ज करने या फिर DTH रिचार्ज करने आदि में किया जाता था लेकिन धीरे धीरे इसमे और भी फीचर्स जोड़े गए जिसकी मदद से बिजली बिल, गैस बिल, ट्रैन का टिकट, बस का टिकट बुक करने और ऑनलाइन शॉपिंग करने की सुविधा उपलब्ध हो गई है। आज यह एक पसंदीदा मोबाइल ऐप है, इसका कुल कारोबार 15,000 करोड़ से भी ज्यादा पहुंच चुका है।

  • Oyo Room:

किसी भी अनजान शहर में जाने के लिए लोगों को ठहरने और खाने जैसी सुविधा के लिए कई बार सोचना पड़ता था या फिर अनजान शहर में इतने लंबे सफर के बाद होटल ढूंढना काफी मुसीबत भरा होता था और कई बार तो इतनी परेशानी के बाद भी सही होटल नहीं मिल पाता था जिससे लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है लेकिन अब लोगों की इन सभी समस्याओं को हल oyoroom मोबाइल ऐप ने चुटिकियों कर दिया है।

oyo rooms मोबाइल ऐप्लीकेशन सस्ते दामों पर होटल बुकिंग करवाने लिए बेहद मशहूर और पसंदीदा एप्लीकेशन है, जिसे साल 2013 में रितेश अग्रवाल ने लॉन्च किया था। महज 21 साल की उम्र में रितेश ने लगभग 400 करोड़ की कंपनी बनाकर बाकी दूसरे बिजनेसमैन को भी हैरान कर दिया था।

Oyo rooms, मोबाइल फोन ऐप्लीकेशन भारत में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी अपनी एक अलग पहचान बना चुकी है। Oyo rooms के 230 शहरो में करीब 8500 होटेल हैं। Oyorooms दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद, चेन्नई, बैंगलोर समेत मेट्रो सिटी में होटल बुकिंग करने की सुविधा प्रदान करता है।

Oyo rooms की खासियत यह है कि ये कम बजट में अच्छी सुविधा प्रदान करता है। साल 2017 के मुताबिक कंपनी का रेवन्यू करीब 400 मिलियन डॉलर था जो कि अब बढ़ चुका है। साथ ही कंपनी ने जनवरी, 2018 में इसके रूम की संख्या में भी बढ़ोतरी कर दी है।

  • Flipcart:

फिल्पकार्ट भारत की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स ऐप्लीकेशन है। आपको बता दें कि यह एक बैंगलोर बेस्ड कंपनी है। जिसकी शुरुआत साल 2007 में सचिन बंसल और बिनी बंसल ने की थी।

शुरुआत में ऑनलाइन शॉपिंग की इस ऐप्लीकेशन में लोगों को ऑनलाइन किताबें उपलब्ध करवाई जाती थी, लेकिन धीरे -धीरे जैसे ही फ्लिपकार्ट लोगों के बीच लोकप्रिय होने लगी तो फिर इसमें इलैक्ट्रॉनिक्स, गैजट्स, कपड़े, फैशन, लाइफस्टाइल से जुड़े प्रोडक्ट भी ऑनलाइन उपलब्ध करवाए जाने लगे।

और इस तरह से फ्लिपकार्ट दूसरी सबसे बड़ी और लोकप्रिय ई-कॉमर्स ऐप्लीकेशन बन गई।
वहीं अब यह मोबाइल ऐप्लीकेशन अमेजॉन और स्नेपडील जैसी स्मार्ट फोन ई-कॉमर्स मोबाइल ऐप्लीकेशन को टक्कर दे रही है। आपको बता दें कि फ्लिपकार्ट का ई-कॉमर्स इंडस्ट्री में साल 2017 तक करीब 39.5 प्रतिशत शेयर था जबकि मई, 2018 में वॉलमार्ट ने फ्लिपकार्ट के 77 प्रतिशत खरीद लिए, वॉलमार्ट ने फ्लिपकोर्ट से 1।07 लाख करोड़ रूपये में खरीद कर फ्लिपकार्ट का अधिग्रहण कर लिया है।

  • Makemytrip:

मेक माई ट्रिप भी एक अच्छी ट्रेवल मोबाइल ऐप्लीकेशन है, जिसकी मद्द से लोग आसानी से अपनी यात्री की योजना बना सकते हैं। यह मोबाइल ऐप्लीकेशन अपने स्मार्टफोन यूजर्स को एक क्लिक पर ऑनलाइन फ्लाइट टिकट बुक करने के साथ-साथ होटल बुक करने की सुविधा उपलब्ध करवाती है। इसके साथ ही यूजर्स इस ऐप के जरिए अपना हॉली-डे पैकेज भी आसानी से बना सकते हैं।

आपको बता दें कि भारत के 47 शहरो में मेक माई ट्रिप ट्रेवल कंपनी 51 रिटेल स्टोर को भी चला रहा है। वहीं Makemytrip एप्लीकेशन आज ज्यादातर स्मार्टफोन यूजर्स के फोन पर आसानी से देखने को मिल जाएगी।

साल 2000 में मेक माई ट्रिप को दीप कारला ने लॉन्च किया था। शुरूआती दौर में इस कंपनी को भारत में इतना अच्छा रिस्पॉन्स नहीं मिल रहा था लेकिन बाद में कंपनी की इनकम बढ़ती चली गई और 2016- 2017 में कंपनी का रेवन्यू बढ़कर करीब 62 बिलियन डॉलर तक पहुंच गया और आज यह कंपनी कई हजारों लोगों को रोजगार भी दे रही है।

  • Ola Cabs:

शायद ही किसी ने सोचा होगा कि अपने व्हीकल के बिना भी यात्रा कर सकते हैं, लेकिन ओला कैब ने यात्रा को इतना आसान बना दिया है कि अब एक एक क्लिक पर ही गाड़ी आपके घर के गेट के बाहर आ जाती है। ओला कैब भारत की सबसे बड़ी परिवहन नेटवर्क ऑनलाइन ऐप्लीकेशन हैं। इसके साथ ही यह सबसे अच्छी ऑनलाइन टैक्सी और कार ऐग्रीगेटर सर्विस भी है।

आपको बता दें कि यह ऐप्लीकेशन भारत में सबसे ज्यादा डाउनलोड की जाने वाले स्मार्टफोन एप्लीकेशन है, जो कि अधिकतर स्मार्टफोन यूजर के फोन में आसानी से देखने को मिल जाएगी। इस एप्लीकेशन की सबसे खास बात यह है कि इसमें यात्रियों के लिए दूरी और किराए को लेकर काफी पारदर्शिता रखी गई है, साथ ही यात्रियों की सुरक्षा के लिहाज से भी यह ऐप्लीकेशन काफी अच्छी मानी गई है क्योंकि इसमें यात्री बड़े ही आसानी से अपनी यात्रा को ट्रैक कर सकता है।

3 दिसम्बर, 2010 को IIT बॉम्बे में पढ़ने वाले छात्र भविष अग्रवाल और अंकित भाटी ने ओला कैब एप्लीकेशन की शुरुआत की थी। वहीं आज यह कैब अपनी सर्विस भारत के करीब 110 शहरों में दे रही है और इसके पास करीब 6,00000 वाहन हैं। वहीं ओला कैब ने ऑटो सर्विस देना भी शुरू कर दिया है जिससे कंपनी का रेवन्यू दिन पर दिन काफी बढ़ता जा रहा है।

  • Zomato:

जोमेटो, एक पसंदीदा और एक सफल मोबाइल ऐप है, जो कि ऑनलाइन होटल की लोकेशन ढूंढऩे में मद्द करती है। आपको बता दें कि जोमेटो एक ऐसी ऐप्लीकेशन है जिसके यूजर्स की संख्या तेजी से बढ़ रही है। गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध इस ऐप्लीकेशन की मद्द से लोग किसी भी रेस्टोरेंट के रेट और फूड क्वालिटी के बारे में जानकारी ले सकतें हैं।

जोमेटो – zomato सर्विस साल 2008 में दीपिन्दर गोयल और पंकज चड्डा ने लॉन्च की थी। जोमेटो के जरिए 23 देशों की रेस्टोरेंट सर्विसेज का पता लगाया जा सकता है जिसमें ऑस्ट्रेलिया और यूनाइटेड स्टेट भी शामिल हैं। आपको बता दें कि जोमेटो फूडीवे (foodiebay) के नाम से शुरू की गई थी बाद में इसका नाम बदलकर जोमेटो कर दिया गया।

जोमेटो में एक महीने में करीब 90 मिलियन डॉलर से ज्यादा यूजर्स विजिट करते हैं और इसकी संख्या दिन पर दिन बढ़ती जा रही है। जोमेटो की सालाना आय करोड़ो मिलियन डॉलर है।

  • Hotstar:

Hotstar एप्लीकेशन सबसे अच्छी मनोरंजक मोबाइल ऐप्लीकेशन में से एक है। जिसकी शुरुआत 6 फरवरी, 2015 को स्टार इंडिया ने की थी। ये एप्लीकेशन ऑनलाइन टीवी कार्यक्रम, मैच आदि देखने के लिए काफी लोकप्रिय प्लेटफॉर्म है। जिसे लोग आसानी से डाउनलोड कर ऑनलाइन टीवी क्रार्यक्रम औऱ फिल्मों का भरपूर आनंद ले सकते हैं।

डेवलपर्स के लिए शुरुआत में भारत में कम इंटरनेट स्पीड की वजह से इस लॉन्च करना काफी चुनौतीपूर्ण था, लेकिन इस ऐप्लीकेशन को लॉन्च करने का मुख्य मकसद यह था कि इस प्लेटफॉर्म के यूजर 50kbps से भी कम स्पीड में वीडियो को देख सकते हैं।

यह तो स्पष्ट है कि जब भी किसी वीडियो देखने की बात आती है तो सबसे पहले यूजर्स यू-ट्यूब पर जाते हैं लेकिन कई बार लेटेस्ट टेलीविजन शो और फिल्में यू-टयूब पर भी नहीं देखने को मिलती है। लेकिन हॉटस्टार में यूजर्स लेटेस्ट टेलीविजन शो और पिक्चर्स को आसानी से देख सकते हैं।

आपको बता दें कि इस ऐप्लीकेशन के लॉन्च होने के 40 दिनों में ही 10 मिलियन डाउनलोड किए जा चुके हैं। इस ऐप्लीकेशन ने बेहद कम समय में काफी सफलता हासिल की है और आज यह मोबाइल ऐप्लीकेशन अरबों रुपए कमा रही है। वहीं इस साइट में कई एडवरटाइजर्स भी हैं जिनसे भी यह कंपनी काफी मुनाफा कमा रही है।

  • Sharechat:

सर्वश्रेष्ठ सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म में से एक है sharechat। जो यूजर्स के बीच में काफी लोकप्रिय एप्लीकेशन है। यह लोकल भाषा में उपलब्ध सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म है, जिसमें जोक्स, व्हाट्सऐप स्टेटस समेत नए अपडेट्स 14 अलग-अलग भाषाओं में उपलब्ध है। इन भाषाओं में हिन्दी, तेलुगू, मराठी, गुजराती, पंजाबी, मलयालम, बंगाली, तमिल, कन्नड़, ओड़िया, भोजपुरी, असमिया, राजस्थानी और हरियाणावी आदि शामिल हैं। वहीं इस प्लेटफॉर्म को यूजर्स द्धारा खूब पसंद किया जाता है।

आपको बता दें कि sharechat आज ऐसी मोबाइल फोन एप्लीकेशन है, जो कि किसी भी स्मार्टफोन यूजर्स के फोन में आसानी से मिल जाएगी। इस एप्लीकेशन को IIT कानपुर से ग्रेजुएट हुए तीन छात्रों ने लॉन्च किया था।

जिनके नाम फरीद अहसान, भानु प्रताप और अंकुश सचदेव हैं। जो कि 14 से ज्यादा क्षेत्रों में फेल होने के बाद और कड़ी संघर्ष के बाद इस एप्लीकेशन को बना सके हैं। sharechat ने बेहद कम समय में काफी सफलता हासिल की है। वहीं जून 2018 तक यह करीब 24 मिलियन डॉलर कमा चुकी है। इसके साथ ही शुनवेई, एसएआईएफ पार्टनर्स और इंडिया कोटिएंट (fund Shunwei, SAIF Partners, and India Quotient ) भी इस कंपनी में निवेशक हैं।

  • Snapdeal:

स्नैपडील भी एक अच्छी ई-कॉमर्स मोबाइल ऐप्लीकेशन है, जिसकी शुरुआत फरवरी, साल 2010 में आईआईटी दिल्ली से पढ़ाई कर चुके छात्र रोहित बंसल और वार्टन ग्रेजुएट कुनाल बहल ने की थी। स्नैपडील – Snapdeal आज एक सफल ई-कॉमर्स एप्लीकेशन है जिसमें कई विदेशी इन्वेटर्स भी अपने करोड़ों रुपए इन्वेस्ट कर चुके हैं।

आपको बता दें कि आज इसके पास करीब 4 लाख सेलर्स हैं और 30 मिलियन से भी ज्यादा प्रोडक्ट हैं, जो देश के 6000 शहरों में सेवा देती है।

  • Swiggy:

swiggy ऑनलाइन फूड ऑर्डर करने की एक बेहतरीन मोबाइल ऐप्लीकेशन है। वहीं जो लोग घर बैठे-बैठे रेस्टोरेंट के खाने का मजा लेना चाहते हैं, उनके लिए यह मोबाइल ऐप्लीकेशन काफी मद्दगार साबित हो रही है। यह एप्लीकेशन तेजी से डाउनलोड की जाने वाली मोबाइल एप्लीकेशन है, जिसे मिलियन स्मार्ट फोन यूजर्स ने डाउनलोड किया है।

आपको बता दें कि Swiggy मोबाइल एप्लीकेशन को अगस्त साल 2014 में श्रीहर्षा मजेटी, नंदन रेड्डी और राहुल जामिनी के द्धारा लॉन्च किया गया था।

Swiggy मोबाइल एप्लीकेशन के जरिए आगरा, अहमदाबाद, इलाहाबाद, अमृतसर, औरंगाबाद, बैंगलोर, भोपाल, भुवनेश्वर, चंदीगढ़, चेन्नई, कोयम्बटूर, देहरादून, दिल्ली, फरीदाबाद, गोवा, गुड़गांव, गुहावटी, हैदरावाद, इंदौर और जयपुर समेत कई शहरों में ऑनलाइन फूड की बुकिंग करने वाले ग्राहकों को होम डिलीवरी उपलब्ध करवाई जाती है।

आपको बता दें कि Swiggy का करीब 35000 होटलों के साथ टायअप है। एक रिपोर्ट के मुताबिक जब से यह मोबाइल ऐप्लीकेशन की शुरुआत हुई है यह करीब 465 मिलियन डॉलर से भी ज्यादा कमा चुकी है। बेहद कम समय में Swiggy ने सफलता हासिल की है और लोगों के बीच अपनी पहचान बना ली है।

  • RedBus:

रेडबस  – RedBus एक ऑनलाइन टिकट बुकिंग की बेहतरीन मोबाइल एप्लीकेशन में से एक है। इस मोबाइल एप्लीकेशन ने लोगों के सफर को बेहद आसान बना दिया है। इस ऐप्लीकेशन के माध्यम से ग्राहक बड़ी आसानी से अपनी सुविधा के अनुसार टिकट बुक करा सकते हैं। इस मोबाइल ऐप्लीकेशन को साल 2005 में फणिंद्र समा ने लॉन्च किया था।

फणिंद्र समा ने अपने दोस्त चरन पद्दाराजु और सुधारक के साथ मिलकर इस ऐप्लीकेशन की शुरुआत की थी। महज 9 महीने में ही इन तीनों ने 50 लोगों की टीम बना ली और धीरे-धीरे इसके नेटवर्क को पूरे भारत में फैला लिया। रेडबस ने भारत में कुल 4500 से ज्यादा मार्गों पर टिकट बुकिंग दे रखी है, इसके साथ ही 700 भी ज्यादा बस ऑपरेटर और करीब 10 हजार बसें सर्विस दे रही हैं।

यह एप्लीकेशन टिकट बुक करने की सबसे फास्ट और पसंदीदा मोबाइल एप्लीकेशन में से एक है। इस कंपनी का सालाना टर्नओवर 600 करोड़ से भी ज्यादा है।

  • Housing.com:

Housing.com एक गुणगांव अधारित रियल एस्टेट मोबाइल एप्लीकेशन है, जो कि अपने ग्राहकों को उनकी लोकेशन और कमरों के मुताबिक घर ढूंढने में मद्द करते हैं। आपको बता दें कि इस कंपनी के पास करीब 6000 ब्रोकर्स हैं और यह चेन्नई, मुंबई, बैंगलोर और कोलकाता समेत 40 से ज्यादा शहरों में अपने ग्राहकों को सुविधा उपलब्ध करवाती है।

इस मोबाइल ऐप्लीकेशन को जून, 2012 में आईआईटी बॉम्बे के 12 बच्चों के ग्रुप ने मिलकर लॉन्च किया था। यह ऐप्लीकेशन काफी पसंदीदा मोबाइल ऐप्लीकेशन है, जो कि एन्ड्रॉयड और आईओएस दोनों प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध है। इस कंपनी ने इंडियन रियल एस्टेट में अपनी एक अलग पहचान बनाई है। वहीं इस कंपनी का सालाना टर्नओवर करोड़ों रुपए का है।

  • Quikr:

Quikr जो कि एक ऑनलाइन फ्री क्लासिफाइड साइट है। जो कि अपने ग्राहकों को घर में बैठे-बैठे फ्री में कोई पुराने सामान को बेचने या फिर नौकरी या सर्विस का क्लासिफाइड ऐड देने की सुविधा उपलब्ध करवाता है। इसकी शुरुआत आईआईटी दिल्ली से ग्रेजुएट छात्र प्रणय चुलेट जी ने की साल 2008 में की थी। इस वेबसाइट से रोजाना लाखों लोग जुड़ रहे हैं वहीं देश के 1 हजार से भी ज्यादा शहरों तक इसकी पहुंच है।

आपको बता दें यूजर्स इस स्मार्ट मोबाइल एप्लीकेशन के माध्यम से 13 कैटेगरी और 170 सबकैटेगरी में कोई भी सामान जैसे – मोबाइल, टीवी, स्कूटर, मकान आदि बेचने का ऐड दे सकते हैं।

  • Just Dial:

जस्ट डायल, भारत का एक लोकप्रिय स्थानीय सर्च इंजन है, जिसकी शुरुआत साल 1994 में वैंकटाचलम शांतनु सुब्रमणि ने महज 50 हजार रुपए के निवेश के साथ की । इन्हें VSS मणि के नाम से भी जाना जाता है।

आपको बता दें कि इस एप्लीकेशन के माध्यम से लोग बड़े ब्रांडों और नामों के अलावा स्थानीय व्यवसायों का भी पता आसानी से घर बैठे-बैठे लगा सकते हैं जैसे कि प्लंबर, मोबाइल की दुकानों, पेंटर आदि।

आपको बता दें कि Just Dial, भारत के 2,000 से भी अधिक छोटे और बड़े शहरों को अपनी सेवा प्रदान करती है और इसके पास 12 लाख से भी ज्यादा का डेटाबेस है। कंपनी को रोजाना 1. 9 मिलियन से भी ज्यादा कॉल आते हैं।

इसके अलावा, वेबसाइट पर ऑनलाइन खोजों की संख्या वित्त वर्ष 12-13 के लिए 1125.7 मिलियन दर्ज की गई थी और रोजाना 1.16 मिलियन अनूठे आगंतुक इस वेबसाइट को खोजते हैं। कंपनी ने अपनी सेवाएं कनाडा, संयुक्त अरब अमीरात, यूके और यूएसए में बढ़ा दी है। अब तक, 10,000,000 से भी ज्यादा लोग इस ऐप को डाउनलोड कर चुके है।

  • JABONG:

यह एक भारतीय फैशन, और इंडियन कडियाई-कॉमर्स वेबसाइट है, जिसकी शुरुआत प्रवीण सिंहा, लक्ष्मी पोट्लुरी, अरुण चंद्र मोहन और मनु कुमार जैन ने की। इस मोबाइल ऐप्लीकेशन की सहायता से घर बैठे-बेठे से कपड़े, जूते, ब्यूटी प्रोडक्ट समेत तमाम फैशन और लाइफस्टाइयल से जुड़ी वस्तुएं खरीद सकते हैं।

आपको बता दें कि वर्तमान में जबोंग – Jabong के पास 1 हजार से भी ज्यादा ब्रांड और 90 हजार से ज्यादा प्रोडक्स हैं। साल 2016 में जबोंग का 32 मिलियन यूरो रेवन्यू था। वहीं यह कंपनी लगातार अच्छा मुनाफा कमाने वाली ई-कॉमर्स कंपनी बनती जा रही है।

  • SHOPCLUES:

Shopclues एक ई-कॉमर्स मोबाइल ऐप्लीकेशन है। जिसका इस्तेमाल लोग ऑनलाइन शॉपिंग के लिए करते हैं। इसकी शुरुआत राधिका अग्रवाल ने 2011 में गुणगांव में की थी। 10 लोगों से शुरु हुई यह कंपनी आज भारत की सबसे सफल ई-कॉमर्स वेबसाइट में से एक है। जिसमें एक हजार से भी ज्यादा कर्मचारी काम करते हैं। वहीं हर महीने यह कंपनी करीब 80 करोड़ से भी ज्यादा का कारोबार करती है।

  • Myntra:

Myntra भी भारतीय फैशन और लाइफस्टाइल की एक बड़ी ई-कॉमर्स की वेबसाइट है। जिसकी शुरुआत साल 2007 में मुकेश बंसल, विनीत सक्सेना और आशुतोष लावानिया ने की थी। जबकि मई, 2014 में Myntra को दूसरी बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट ने 2,0000 करोड़ मिलियन डॉलर में खरीद लिया था।

आपको बता दें Myntra मोबाइल एप्लीकेशन अब एक लोकप्रिय एप्लीकेशन है, क्योंकि इसकी रिटर्न पॉलिसी और होम डिलीवरी की सर्विस काफी अच्छी है, जो कि लोगों द्धारा खूब पसंद की जाती है। वहीं ये कंपनी हर साल खूब मुनाफा कमा रही है।

  • Goibibo:

यह भारत के सबसे बड़े ऑनलाइन ट्रेवल पोर्टल है जिसकी शुरुआत 2009 में आशीष कश्यप ने की थी। आपको बता दें कि goibbo, भारत का सबसे बड़ी होटल बुकिंग और फ्लाइट टिकट बुक करने का प्लेटफॉर्म है। इसके साथ ही goibbo, मोबाइल ऐप्लीकेशन भारत की नंबर 1 ट्रेवल ऐप है जिसे लोगों द्धारा खूब पसंद किया जाता है। वहीं इसको साल 2015 में बेस्ट टेक ट्रेवल ब्रांड अवॉर्ड से भी नवाजा जा चुका है।

  • Yatra:

yatra.com भी एक इंडियन ऑनलाइन ट्रेवल कंपनी है, जो कि यूजर्स को उनकी यात्रा की योजना बनाने में मद्द करती है। ठहरने से लेकर, टिकट बुकिंग तक की सुविधा का लुफ्त लोग इस मोबाइल एप्लीकेशन की मद्द से उठा सकते हैं। इसकी शुरुआत ध्रुव श्रींगि, मनीष आमीन और सबीना चौपड़ा ने 2006 में की थी।

यात्रियों की सुविधा का विशेष ख्याल रखती है। yatra.com, भारत के 50 हजार से भी ज्यादा होटलों में और दुनिया भर में 5 लाख होटलों के रिजर्वेशन में सुविधा उपलब्ध करवाता है। जिसकी वजह से कंपनी के करोड़ो रुपए का सालाना टर्नओवर है।

  • Craftsvilla:

Craftsvilla – यह एक इंडियन ई-कॉमर्स ऑनलाइन पॉर्टल है जो कि भारतीय फैशन और लाइफस्टाइल की वस्तुएं लोगों को घर बैठे-बैठे उपलब्ध करवाता है। इस ई-कॉमर्स मोबाइल ऐप्लीकेशन की शुरुआत साल 2011 में मनोज गुप्ता और मोनिका गुप्ता ने की थी। वहीं इस कंपनी के पास 25000 से भी ज्यादा डिजायनर हैं जो कि 4 मिलियन से भी ज्यादा प्रोडक्ट को बेच चुके हैं।

  • Zivame:

यह देश का सबसे बड़ा प्रीमियर ऑनलाइन अंडरगारमेंट स्टोर है। यह एक ऐसी कोशिश है जिसने महिलाओं के लिए लिंगरी तक पहुंच आसान कर दी। इसकी शुरुआत साल 2011 में रिचा कार ने की है। आपको बता दें कि इस स्मार्टफोन एप्लीकेशन की मद्द से Zivame पर अंडर गारमेंट्स की 5000 से ज्यादा स्टाइल्स 100 से ज्यादा साइज में मौजूद हैं।

इस मोबाइल ऐप्लीकेशन की मद्द से घर बैठे-बैठए lingerie खरीदेने की सुविधा महिलाओं द्धारा खूब पसंद की जा रही है। आज यही वजह है कि महिलाएं खुलकर अपनी पसंद ज़ाहिर कर रही हैं। इस ऑनलाइन पॉर्टल ने बेहद कम समय में इतनी सफलता अर्जित की है। वहीं इसका सालाना टर्नओवर करोड़ों रुपए का है।

  • HIKE:

Hike यह एक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म है, जो कि एंड्रायड और आईओएस दोनों प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध है। इसके माध्यम से यूजर्स वॉयस कॉल, वीडियो कॉल कर सकते हैं और मैसेज भी भेज सकते हैं।

इसकी शुरुआत 12 दिसंबर 2012 में कविन भारती मित्तल ने की थी। वहीं इसके 2 साल बाद ही 2014 में 35 मिलियन यूजर्स ने इस एप्लीकेशन को अपने मोबाइल फोन में इंस्टॉल कर लिया था। जो कि इसके लिए काफी फायदेमंद साबित हुआ। रोजाना कई लाख यूजर्स इस ऐप से जुड़ते हैं। इसकी सालाना कमाई करोड़ों रुपए से भी ज्यादा है।

  • Freecharge:

Freecharge – यह एक मशहूर ऑनलाइन रिचार्ज एप्लीकेशन है जिसके माध्यम से यूजर्स आसानी से मोबाइल और DTH रिचार्ज कर सकते हैं। इसकी शुरुआत साल 2010 में कुनाल शाह ने अपने साथी संदीप टंडन के साथ मिलकर की थी।

Loading...

हालांकि 8 अप्रैल,2015 को स्नैपडील ने फ्रीचार्ज को 400 मिलियन डॉलर यानि 2600 करोड़ रुपये में खरीद लिया। आज फ्रीचार्ज करोडों रूपये का टर्नओवर कर रहा है।

  • GROFERS:

GROFERS एक ऑनलाइन रिटेल सुपरमार्केट और डिलीवरी सेवा है। जिसकी शुरुआत दिसंबर 2013 में सौरभ कुमार और अलबिंदर ढींढसा ने की थी। ग्रोफर्स ने वित्त वर्ष 2017-18 में 950 करोड़ की बिक्री की और 2018-19 में कंपनी का लक्ष्य मजबूती से विकास करने का है।

  • InMobi:

यह एक ग्लोबल मोबाइल एडवरटाइजिंग और टेक्नोलॉजी प्लेटफॉर्म है, जिसकी शुरुआत नवीन तिवारी ने साल 2007 में की थी। आपको बता दें कि InMobi एक विशाल मोबाइल विज्ञापन नेटवर्क में से एक है। वहीं इसकी सालाना कमाई करोड़ो रुपए से भी ज्यादा है।

इन सबके अलावा भी कई और मोबाइल ऐप्लीकेशन हैं जिन्होंने लोगों की जिंदगी बेहद आसान बना दी है साथ ही ऑनलाइन डिजिटल पेमेंट से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के डिजिटल इंडिया का सपना साकार होता नजर आ रहा है।

Read More:

Hope you find this post about ”Most Successful Indian Apps” useful and inspiring. if you like this articles please share on Facebook & Whatsapp. and for the latest update download : Gyani Pandit free android App

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.