नीमराना किला | Neemrana Fort Palace, Rajasthan

नीमराना किला – Neemrana Fort

15 वी शताब्दी में बनाया हुआ राजस्थान का नीमराना किला काफी पुराना और प्रसिद्ध किला है। नीमराना किला दुनिया के सबसे पुराने अरावली पर्वत में स्थित है। नीमराना किले पर बहुत पुराने समय में पृथ्वीराज चौहान के वंश के राजा महाराजा शासन करते थे।

उन्होंने बहुत सालों तक इसी किले पर निवास किया था। लेकिन अब यह किला केवल होटल के रूप में इस्तेमाल किया जाता है।

Neemrana Fort

नीमराना किला –Neemrana Fort Palace, Rajsathan

यह किला दिखने में काफी भव्य प्रतीत होता है। नीमराना किला जब बनवाया गया उस वक्त इसमें कुल 11 मंजिले बनवाई गयी थी। इन उची मंजिलो की वजह से भी यह किला काफी उचा दिखता है।

इस किले के नाम के पीछे भी एक बड़ी कहानी छुपी है। बहुत साल पहले ‘निमोला में’ नाम का मुखिया हुआ करता था। उसकी इच्छा थी की इस किले को उसका नाम दिया जाए।

इसीलिए उस इन्सान के नाम के ऊपर से ही इस किले को’ नीमराना किला’ नाम दिया गया।

नीमराना किले का इतिहास – Neemrana Fort History

निमोला मे वहा का मुखिया था उसके नाम पर से इस किले को नीमराना नाम दिया गया। लेकिन पृथ्वीराज चौहान ने उस मुखिया को हरा कर शहर को अपने कब्जे में लिया था। हारने के बाद उस मुखिया ने एक बात बताई थी की उसका नाम इस किले को दिया जाए।

तब पृथ्वीराज चौहान ने उसकी बात मान ली और शहर को उसका नाम दे दिया।

सन 1464 में निर्माण किये गए किले को पृथ्वीराज चौहान 3 के उत्तराधिकारी राजधानी के रूप में इस्तेमाल करते थे।

सन 1192 में पृथ्वीराज चौहान को मोहम्मद ग़ोरी ने हराया था। लेकिन जब भारत में अंग्रेज का शासन था तो चौहान के उत्तराधिकारी की ताकत कम पड़ गयी थी लेकिन उन्होंने कभी भी अंग्रेजो के सामने हार नहीं मानी थी।

सन 1947 में राजा राजिंदर सिंह ने नीमराना किले को छोड़ दिया और विजयबाग को एक मोहरे के रूप में इस्तेमाल करने का सोचा था। राजा राजिंदर सिंह ने करीब चालीस सालों तक इस किले को बेचने के लिए खरीदार की राह देखी थी।

आखिरकार 1986 में इस किले की मरम्मत की गयी। सन 1991 में इस किले को लोगो को देखने के लिए खुला किया गया और उसमेसे 15 कमरों में लोगो को रहने के लिए इजाजत भी दी गयी।

उस समय इस किले को ‘इन्ताच सत्ते’ पुरस्कार दिया गया और साथ ही आगा खान पुरस्कार के लिए नामित भी किया गया।

2008 तक यह किला एक महल का रूप ले चूका था और इसमें 72 कमरे भी बनवाये गए थे, कई सारे हैंगिंग गार्डन्स, रेस्टोरेंट और काफी बड़े बड़े तालाब भी इसमें बनवाये थे। एक समय में यह किला पूरी तरह से खंडहर बन चूका था लेकिन अब यह किला एक भव्य और सुन्दर महल का रूप ले चूका है।

नीमराना में पर्यटन – Tourism in Neemrana

यह किला राजस्थान की पुराणी और नयी वास्तुशैली का मिश्रण है। यह किला पर्यटकों के लिए खुला किया जा चूका है इसीलिए बहुत सारे लोग किले को देखने के लिए आते रहते है।

यह किला दिल्ली, आगरा और जयपुर जैसे तीन शहरों के बिलकुल बिच में आता है जो केसरोली के बाजु में है साथ ही यह केसरोली उन तीनो शहरों से बिलकुल समान दुरी पर स्थित है।

यहाँ पर आने के बाद कोई भी सरिस्का बाघ अभयारण्य, कंकवाडी किला, नीलकंठ मंदिर, पंदुपोल, तिजारा के स्मारक सिलीसेढ़ झील, जैसमंद झील, भानगढ़-अजबगढ़, तालवृक्ष के झरने, राजगढ़, मचारी, विराटनगर, डीग, भरतपुर का अभयारण्य, बाबा खेतानाथ आश्रम, गोविन्दगढ़ का जाट मिटटी किला, मथुरा और वहाका प्रसिद्ध संग्रहालय देखने के लिए जा सकता है।

नीमराना किले के कमरे – Neemarana Fortress Rooms

इस किले के होटल में बहुत सारे कमरे बनवाये गए है जो पुराने शाही शैली में बनवाये गए लेकिन इस कमरे में जो सुविधा मुहैया करवाई गयी है वो पूरी तरह से नए ज़माने की है।

यह महल पुराने अवशेषों का प्रतिक है और आज इस किले में सभी लोग अपने काम से थोड़े समय के लिए छुटकारा पाने के लिए आते है।

यहाँ के सभी 72 कमरों में रहने के सारी आधुनिक सुविधाए उपलब्ध है। यहाँ के हर कमरे को बालकनी बनवाई गयी है। यहाँ के कमरों में जो फर्नीचर, पेंटिंग्स, पुराने ज़माने की वस्तु में भारत और इंग्लैंड की शैली का मिश्रण देखने को मिलता है।

इस किले के महल में कुल आठ भाग बनाये गए है। हर कमरे को अलग नाम दिया गया है और उसी नाम के मुताबिक कमरों को सजाया गया है। उन कमरों में सभी तरह के सुविधाए उपलब्ध है और उन कमरों में रहते वक्त ऐसा लगता है की किसी राजा की तरह रहने का अहसास होता है।

कमरों में लोगो के इस्तेमाल के लिए फ्रिज, अलमारी, टीवी, टेलेफोन, लिखने का टेबल, चाय और कॉफ़ी बनाने की मशीन, टॉयलेट और लांड्री की सुविधा उपलब्ध करायी गयी है।

नीमराना रेस्टोरेंट की सुविधाए – Neemrana restaurant facilities

नीमराना रेस्टोरेंट में हर तरह की खाने की चीजे मिलती है। यहाँ का रेस्टोरेंट बाकी के रेस्टोरेंट से बिलकुल ही अलग है इसीलिए यहापर खाने के वक्त बहुत अलग मजा आता है। लोग यहाँ के किसी भी होटल में खाना खा सकते है।

यहाँपर ऐसा किसी भी तरह का किसी पर बंधन नहीं की आप जिस होटल में रहते हो, उसी होटल में खाना खाना जरुरी है।

आप झील के बाजु में बैठकर सुबह का नाश्ता कर सकते हो और और रात के समय में आप छत पर बैठकर भी खाने का मजा ले सकते हो। यहाँ का होटल खास तौर पर राजस्थानी और फ्रेंच की खाने की चीजो के लिए काफी प्रसिद्ध है लेकिन यहापर थाई, चायनीज, और इटालियन के व्यंजन भी मिलते है।

मगर हमें जिस तरह के पदार्थ चाहिए उस तरह के व्यंजन भी यहाँ के रसोईये बना के देते है। अगर होटेल के मेनू में आपके पसंद की कोई चीज नहीं तो आपके कह्ने पर वो भी जल्द बनाई जाती है।

जब लोग यहापर बड़ी संख्या में आते है तो उन्हें यहाँ के तोडा महल में भारत के किसी भी कोने की खाने की चीज मिल जाती है।

इस नीमराना किले के महल से रात का नजारा काफी सुन्दर दीखता है। इस महल के बाजु में दो सुंदर तालाब, हैंगिंग गार्डन्स और रहने के लिए बहुत ही सुन्दर कमरे है। इन सब चीजो को एक साथ देखना एक यादगार पल बन जाता है।

11 मंजिली इस किले के महल में पर्यटकों के लिए देखने के लिए बहुत सारी चीजे है। काम से फुरसत मिलने पर कुछ लोग यहापर अपना समय बिताने के लिए आते है। केवल इतना ही नहीं इस किले पर शादी और कुछ सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जाता है।

नीमराना किला अब केवल नाम के लिए ही किला माना जाता है, क्यों अब इस किले को पूरी तरह से बदल दिया गया है। अब यह किला एक सुन्दर और आलीशान महल का रूप ले चूका है। इस किले में कई सारे होटल और रेस्टोरेंट बनाये गए है।

यह किला अब पर्यटन की जगह बन चूका है। साथ ही यह किला दिल्ली, आगरा जैसे शहरों से काफी नजदीक होने की वजह से बहुत सारे लोगो की यहाँ भीड़ लगी रहती है। रात के समय में यह किला काफी सुन्दर दिखता है। यहापर हर तरह की सुविधा उपलब्ध करायी गयी है ताकि पर्यटक को कोई तकलीफ ना हो सके।

Read More:

I hope these “Neemrana Fort in Hindi” will like you. If you like these “Neemrana Fort History in Hindi” then please like our Facebook page & share on Whatsapp. and for latest update download: Gyani Pandit free Android app.

4 COMMENTS

    • You read the article written on Neemrana Fort. If you want to read more such article of Rajasthan fort, you may search on our gyanipandit।com website. After reading the other fort information of Rajasthan you will realize that you gain a lot of valuable information about famous forts Rajasthan. Rajasthan has been a place of many great kings from ancient times so these kings were closely associated with forts. Besides Rajasthan is called the place of kings। Hence Rajasthan always remains great.

  1. इस किले के बारे मे सुना तो था लेकिन आज आपने विस्तार से इस्के बारे मे बताकर और उत्सुकता बडा दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.