महाराष्ट्र का सबसे बड़ा किला प्रतापगढ़ किला | Pratapgad Fort

Pratapgad Fort – प्रतापगढ़ किला महाराष्ट्र का सबसे बड़ा किला है। यह किला महाराष्ट्र के सातारा जिले में महाबलेश्वर से लगभग 25 किमी दूर और समुद्र तल से 1,080 मीटर दूर स्थित है। यह किला प्रतापगढ़ की लड़ाई का स्थल था, अब जो एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है।
Pratapgad Fort

महाराष्ट्र का सबसे बड़ा किला प्रतापगढ़ किला – Pratapgad Fort

नीरा और कोयना नदियों के किनारे की रक्षा के लिए प्रतापगढ़ किले का निर्माण करने के लिए, मराठा साम्राज्य के राजा छत्रपति शिवाजी महाराज ने अपने प्रधान मंत्री मोरोपंत त्रिंबक पिंगले को नियुक्त किया। 1596 में प्रतापगढ़ किले का निर्माण पूरा हुआ। प्रतापगढ़ की लड़ाई महाराजा शिवाजी और अफजल खान के बीच 1659 में लड़ी गई। यह शिवाजी महाराज की पहली जीत थी।

प्रतापगढ़ किले की संरचना – Pratapgad Fort Architecture

प्रतापगढ़ का किला 2 भागों में विभाजित है। इनमें से एक को ऊपरी किला कहा जाता है जबकि दूसरे को कम किले कहा जाता है। ऊपरी किला का निर्माण एक पहाड़ी के शिखर पर किया गया था और लगभग 180 मीटर लंबा है, जिसमें कई स्थायी इमारतें हैं।

किले के उत्तर-पश्चिम हिस्से की ओर स्थित भगवान महादेव का मंदिर है, जो कि 250 मीटर ऊंची ऊंचाई पर चट्टानों से घिरा हुआ है। दूसरी तरफ, किले के दक्षिण-पूर्व छोर पर निचले किले को ऊंचे टॉवर और गढ़ों से बचाया जाता है, जो 10-12 मीटर ऊंची है।

1661 में, शिवाजी महाराज तुलजापुर में देवी भवानी के मंदिर में जाने में असमर्थ थे। उन्होंने इस किले में देवी का एक मंदिर बनाने का निर्णय लिया। यह मंदिर निचले किले के पूर्वी भाग पर स्थित है। यह मंदिर पत्थर से बना है, और इसमें देवी की काली पत्थर की मूर्ति है।

प्रतापगढ़ किला का प्रमुख आकर्षण – Pratapgad Fort Famous Places

अफजलखान का मकबरा: अफजल खान की मकबरे प्रमुख आकर्षण हैं जो किला से दक्षिण-पूर्व तक थोड़ी दूर स्थित हैं।

प्रवेश द्वार: प्रवेश द्वार बहुत सुंदर है और अभी भी अच्छी स्थिति में है।

देवी भवानी मंदिर: यह मंदिर मूल रूप से शिवाजी महाराज द्वारा बनाया गया था और उन्होंने मंदिर में भवानी देवी की सुंदर मूर्ति की स्थापना की थी। मंदिर में हंबिरराव मोहित की तलवार भी देख सकते हैं।

किले के ऊपर शिवाजी महाराज के स्मारक का निर्माण किया हैं।

प्रतापगढ़ किले तक कैसे पहुंचे –  How to Reach Pratapgad Fort

सड़क यात्रा: प्रतापगढ़ किला महाबलेश्वर से लगभग 25किलोमीटर दूर है। आप पनवेल से पोलादपुर तक एक एसटी बस ले सकते हैं। वाडा गांव से आप 4-व्हीलर से प्रतापगढ़ किले पर जा सकते हैं।

रेलवे यात्रा: प्रतापगढ़ किले के पास स्थित सातारा रेलवे स्टेशन है।

हवाई यात्रा: कराड हवाई अड्डा सातारा जिले में स्थित निकटतम हवाई अड्डा है। यह प्रतापगढ़ से 125 किलोमीटर के आसपास स्थित है।

यात्रा करने के लिए सबसे अच्छा समय – Best Time to Visit Pratapgad Fort

प्रतापगढ़ किले और महाबलेश्वर का दौरा करने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से जून तक है। प्रतापगढ़ किले की यात्रा वर्ष की किसी भी समय की योजना बना सकती है लेकिन मानसून के दौरान, इस क्षेत्र की सुंदरता को और अधिक बढ़ाया जाता है।

आमतौर पर पर्यटक महाबलेश्वर से प्रतापगढ़ की यात्रा की योजना बनाते है। हमें आशा है कि प्रतापगढ़ किले के बारे में सारी जानकारी यहां उपलब्ध है जो आपके लिए उपयोगी है।

Read More:

Hope you find this post about ”Pratapgad Fort History in Hindi” useful and inspiring. if you like this Article please share on Facebook & Whatsapp. and for latest update download : Gyani Pandit free Android app.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.