डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी प्रेरणा से भरे 21+ अनमोल कथन

Sarvepalli Radhakrishnan ke Vichar

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन पहले उप-राष्ट्रपति और देश के दुसरे राष्ट्रपति थे, जिन्हें आज पूरा देश शिक्षक दिवस के दिन याद करता है। डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी एक अच्छे राजनेता होने से पहले एक प्रख्यात शिक्षक, महान दार्शनिक एवं हिन्दू विचारक थे।

जिन्होंने अपने जीवन का अधिकांश समय समाज में शिक्षको के महत्व को बताने एवं शिक्षण कार्य की महानता को बताने में व्यतीत कर दिया था, एवं देश के विकास एवं उत्थान में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका अदा की थी।

शिक्षकों को सम्मान देने और भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिवस को याद करने के लिये हर साल इसे मनाया जाता है।

उनका मानना था कि, मनुष्य के दिमाग का सही तरीके से इस्तेमाल सिर्फ और सिर्फ शिक्षा द्वारा ही किया जा सकता है। उनके कहे कथन आज भी सब को प्रेरणा देते हैं। आज हम उनके कहे कुछ प्रेरणा से भरे कथन लाये हैं जो आगे पढ़ते –

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी प्रेरणा से भरे 21+ अनमोल कथन – Sarvepalli Radhakrishnan Quotes in Hindi

dr sarvepalli radhakrishnan
It is not God that is worshiped but the group or authority that claims to speak in His name. Sin becomes disobedience to authority not a violation of integrity.

“भगवान् की पूजा नहीं होती बल्कि उन लोगों की पूजा होती है जो उनके के नाम पर बोलने का दावा करते हैं। पाप पवित्रता का उल्लंघन नहीं ऐसे लोगों की आज्ञा का उल्लंघन बन जाता है।

मेरा जन्मदिन मनाने की बजाये यदि 5 सितम्बर को शिक्षक दिवस मनाया जाये तो मुझे गर्व होगा।

Books are the means by which we build bridges between cultures.
Books are the means by which we build bridges between cultures.

“पुस्तकें वो साधन हैं जिनके माध्यम से हम विभिन्न संस्कृतियों के बीच पुल का निर्माण कर सकते हैं।

हिदुत्व केवल भरोसा नही है। यह वजहों का संघ और अंतः प्रेरणा है जिसे हम उसका अनुभव लिये बगैर नही बता सकते। बुराई और भूल कभी अंतिम नही होती।

Reading a book gives us the habit of solitary reflection and true enjoyment.
Reading a book gives us the habit of solitary reflection and true enjoyment.

“किताब पढना हमें एकांत में विचार करने की आदत और सच्ची ख़ुशी देता है।

सबसे बुरा गुनाहगार भविष्य है, क्योकि महान से महान संत का भी भूतकाल होता है। क्योकि भी अपनी कल्पना के अनुरूप बुरा या अच्छा नही हो सकता।

It is said that a man without religion is like a horse without bridle.
It is said that a man without religion is like a horse without a bridle.

“कहते हैं कि धर्म के बिना इंसान लगाम के बिना घोड़े की तरह है।

जब हम सोचते है तब है सीखना बंद कर देते है।

Religion is the conquest of fear ; the antidote to failure and death.
Religion is the conquest of fear; the antidote to failure and death.

“धर्म भय पर विजय है; असफलता और मौत का मारक है।

सच्चे शिक्षक वही होते है जो हमें अपनेआप के बारे में सोचने का सिखाते है।

Spiritual life is the genius of India.
Spiritual life is the genius of India.

“आध्यात्मक जीवन भारत की प्रतिभा है।

आत्मा शब्द का अर्थ “जिंदगी की साँस” से है। आत्मा इंसान की जिंदगी का सिद्धांत है। जब जिंदगी में हमारा कुछ नही होता तब सिर्फ हमारी आत्मा ही हमारी होती है।

Wealth, power and efficiency are the appurtenances of life and not life itself.
Wealth, power and efficiency are the appurtenances of life and not life itself.

“धन, शक्ति और दक्षता केवल जीवन के साधन हैं खुद जीवन नहीं।

भगवान की पूजा नही की जाती बल्कि हम कुछ समूहों द्वारा दिये गये नामो की पूजा करते है।

Knowledge gives us power, love gives us fullness
Knowledge gives us power, love gives us fullness.

“ज्ञान हमें शक्ति देता है, प्रेम हमें परिपूर्णता देता है।

The end-product of education should be a free creative man, who can battle against historical circumstances and adversities of nature.
The end-product of education should be a free creative man, who can battle against historical circumstances and adversities of nature.

“शिक्षा का परिणाम एक मुक्त रचनात्मक व्यक्ति होना चाहिए जो ऐतिहासिक परिस्थितियों और प्राकृतिक आपदाओं के विरुद्ध लड़ सके।

Only the man of serene mind can realize the spiritual meaning of life. Honesty with oneself is the condition of spiritual integrity.
Only the man of a serene mind can realize the spiritual meaning of life. Honesty with oneself is the condition of spiritual integrity.

“केवल निर्मल मन वाला व्यक्ति ही जीवन के आध्यात्मिक अर्थ को समझ सकता है। स्वयं के साथ ईमानदारी आध्यात्मिक अखंडता की अनिवार्यता है।

I hope these “Quotes By Sarvepalli Radhakrishnan in Hindi” will like you. If you like these “Sarvepalli Radhakrishnan Quotes in Hindi” then please like our Facebook page & share it on Whatsapp.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.