शंकराचार्य मंदिर का इतिहास | Shankaracharya Temple History

श्रीनगर हिमालय के समृद्ध हरियाली के बीच अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए जाना जाने वाला एक स्थान है। जम्मू और कश्मीर कई है उनमे से राज्य का एक बड़ा मंदिर शंकराचार्य मंदिर – Shankaracharya Temple है जिसे “ज्येष्ठेश्वर मंदिर” और ‘पास-पहाड़’ भी कहा जाता है। यह मंदिर बेहद लोकप्रिय और प्रशंसित भगवान शिव को समर्पित है। एक ऐसा मंदिर जो शंकराचार्य पहाड़ी के ऊपर स्थित है, जो जबरवान पर्वत का हिस्सा है। और यह जमीन स्तर से ऊपर 1,000 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। मंदिर ऊंचाई से श्रीनगर के खूबसूरत शहर को देखता है।

Shankaracharya Temple

शंकराचार्य मंदिर का इतिहास – Shankaracharya Temple History

राजा गोपादत्‍य ने शंकराचार्य पहाड़ी की चोटी पर एक मंदिर का निर्माण 371 ईसा पूर्व के आसपास किया था। इसलिए जिसके बाद मंदिर का नाम राजा के नाम पर ही रखा गया था।

बाद में आदि शंकराचार्य, इस स्‍थान पर कश्‍मीर यात्रा के दौरान ठहरे थे इसलिए इस मंदिर का गोपादारी से नाम बदलकर शंकराचार्य कर दिया गया था।

कुछ समय पश्‍चात, श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए डोगरा शासक महाराजा गुलाब सिंह ने मंदिर में पत्थर की सीढ़ियों का निर्माण करवा दिया था। और साथ ही इस मंदिर की मरम्मत की। हिंदुओं का एक धार्मिक स्‍थल होने के अलावा यह मंदिर महान पुरातात्विक महत्‍व भी रखता है।

शंकराचार्य मंदिर को नियमित रूप से तीर्थयात्रियों द्वारा पूजा की जाती है जो लोकप्रिय अमरनाथ यात्रा के दौरान क्षेत्र में जाते हैं। 243 सीढ़िया जो कि इस मंदिर की ओर ले जाते हैं वह बहुत खड़ी नहीं हैं और आसानी से चढ़ सकते हैं।

मंदिर से सुंदर श्रीनगर शहर को देखता है और मंदिर करीब 1000 फुट की ऊंचाई पर स्थित है। यहां से भव्य बर्फ वाले पहाड़ों को भी देखा जा सकता है। यह तीर्थ क्षेत्र इस क्षेत्र में सबसे पुराना और कश्मीर घाटी में से एक है।

शंकराचार्य मंदिर का समय – Shankaracharya Temple Time

मंदिर सुबह 6 बजे खुलता है। यहाँ का प्रवेश द्वार सेना के कर्मियों द्वारा संरक्षित है। 5 बजे के बाद मंदिर के भीतर जाने की अनुमति नहीं है, लेकिन मंदिर 8 बजे तक खुला रहता है।

शंकराचार्य मंदिर में मनानेवाले त्यौहार – Festival of Shankaracharya Temple

यहां शिवरात्रि बहुत उत्साह के साथ मनाते हैं।

शंकराचार्य मंदिर तक कैसे पहुंचे – How to Reach Shankaracharya Temple

पर्यटकों को इस मंदिर की यात्रा के लिए सेना विभाग से विशेष अनुमति लेनी होगी। जम्मू और श्रीनगर भारत के प्रमुख शहरों हैं और दोनों देश के सभी हिस्सों से गाड़ियों, वायुमार्ग और सड़क द्वारा अच्छी तरह से जुड़े हुए हैं।

श्रीनगर का आदि शंकराचार्य मंदिर एक महत्वपूर्ण और ऐतिहासिक मंदिर रहा है और इस प्रकार स्थानीय लोगों और पर्यटकों के बीच विशेष महत्व है। भगवान शिव को समर्पित इस मंदिर का कई लोगों ने दौरा किया है और श्रीनगर शहर भी कई लोगों के लिए एक महत्वपूर्ण स्थल है और यहां कई पर्यटक आते हैं।

मंदिर और उसके आसपास विशाल प्राकृतिक सुंदरता का एक स्थान है और इसलिए इस जगह पर जीवन में एक बार यात्रा करनी ही चाहियें।

More on Jyotirlinga:

Note: We try hard for correctness and accuracy. please tell us If you see something that doesn’t look correct in this article About Shankaracharya Mandir in Hindi… And if you have more information History of Shankaracharya Temple then help for the improvements this article.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.