शक्तिशाली, साहसी और शौर्य शासक छत्रपति शिवाजी महाराज की महागौरवगाथा

Shivaji Maharaj Image
Shivaji Maharaj Image

एक नजर मै शिवाजी महाराज का इतिहास – Shivaji Maharaj History in Hindi

1) उनका जन्म पुणे के किले में 7 अप्रैल 1627 को हुआ था। (उनकी जन्मतिथि को लेकर आज भी मतभेद चल रहे है)

2) शिवाजी महाराज ने अपना पहला आक्रमण तोरणा किले पर किया, 16-17 वर्ष की आयु में ही लोगों (मावळावो) को संगठित करके अपने आस-पास के किलों पर हमले प्रारंभ किए और इस प्रकार एक-एक करके अनेक किले जीत लिये, जिनमें सिंहगढ़, जावली कोकण, राजगढ़, औरंगाबाद और सुरत के किले प्रसिध्द है।

3) शिवाजी राजे की बढती ताकत को देखते हुए मुग़ल साम्राज्य के शासक औरंगजेब ने जय सिंह को शिवाजी महाराज को रोकने के लिये भेजा। और उन्होंने शिवाजी को समझौते पर हस्ताक्षर करने के लिए कहा। समझौते के अनुसार उन्हें मुघल शासक को 24 किले देने थे।

इसी इरादे से औरंगजेब ने शिवाजी राजे को आमंत्रित भी किया। और बाद में शिवाजी राजे को औरंगजेब ने अपनी हिरासत में ले लिया था, कैद से आज़ाद होने के बाद, छत्रपति ने जो किले पुरंदर समझौते में खोये थे उन्हें पुनः हासिल कर लिया। और उसी समय उन्हें “छत्रपति” का शीर्षक भी दिया गया।

4) उन्होंने मराठाओ की एक विशाल सेना तैयार की थी। उन्होंने सशक्त नौसेना भी तैयार कर रखी थी। भारतीय नौसेना का उन्हें जनक कहा जाता है।

5) जून, 1674 में उन्हें मराठा राज्य का संस्थापक घोषीत करके सिंहासन पर बैठाया गया।

6) शिवाजी महाराज के राज्याभिषेक के 12 दिन बाद उनकी माता का देहांत हो गया।

7) उनको ‘छत्रपती’ की उपाधि दी गयी। उन्होंने अपना शासन हिन्दू-पध्दती के अनुसार चलाया। शिवाजी महाराज के साहसी चरित्र और नैतिक बल के लिये उस समय के महान संत तुकाराम, समर्थ रामदास स्वामी तथा उनकी माता जिजाबाई का अत्याधिक प्रभाव था।

8) एक स्वतंत्र शासक की तरह उन्होंने अपने नाम का सिक्का चलवाया।

9) मृत्यु – अप्रैल, 1680 में शिवाजी महाराज का देहांत हुवा।

शिवाजी महाराज के बारेमें अधिकतर बार पुछे गये सवाल – Quiz on Shivaji Maharaj

1. शिवाजी महाराज की जयंती कब होती है? (Birth Anniversary of Shivaji Maharaj)

जवाब: १९ फरवरी को शिवाजी महाराज की जयंती होती है।

2. कुल कितने किलो को शिवाजी महाराज ने हासिल किया था?(How Many Forts Captured by Shivaji Maharaj)

जवाब: मृत्यू के समय तक शिवाजी महाराज के पास खुदके शासन के अंतर्गत २८० किले थे।

3. दुनियाभर मे शिवाजी महाराज के कुल कितने स्मारक (पुतले) मौजूद है?(Shivaji Maharaj Statue in Whole World)

जवाब: इस की कोई खास और विश्वासदायक संख्या उपलब्ध नही है।

4. शिवाजी महाराज की कुल कितनी पत्निया थी?(Total Number of Wives of Shivaji Maharaj)

जवाब: आठ (८)।

5. शिवाजी महाराज के प्रथम पत्नी का नाम क्या था?(Name of Shivaji Maharaj First Wife)

जवाब: सईबाई।

6. स्वराज के संस्थापक के रूप मे किसे जाना जाता है?(Founder of Swaraj)

जवाब: छत्रपती शिवाजी राजे भोसले।

7. शिवाजी महाराज के पुत्रो के नाम क्या थे?(Shivaji Maharaj Son’s Name)

जवाब: धर्मवीर छत्रपती संभाजी राजे और छत्रपती राजाराम।

8. स्वराज्य संस्थापक शिवाजी महाराज का राज्यभिषेक किसने किया था?(By whom Shivaji Maharaj coronation had been done)

जवाब: वाराणसी के पुरोहित ब्राह्मण गागा भट्ट ने शिवाजी महाराज का राज्यभिषेक किया था।

9. शिवाजी महाराज से संबंधित जानकारी के लिये विभिन्न भाषाओ मे कौनसी मशहूर किताबे उपलब्ध है? (Shivaji Maharaj Information Related Books)

जवाब: श्रीमान योगी (मराठी), सभासद बखर (मराठी), शिवाजी द ग्रेट मराठा (अंग्रेजी), द लाईफ ऑफ शिवाजी महाराज (अंग्रेजी), चाईलेन्जिंग डेस्टिनी:अ बायोग्राफी ऑफ छत्रपती शिवाजी (अंग्रेजी), अ हिस्ट्री ऑफ मराठा (अंग्रेजी) इत्यादि………

10. राजा छत्रपती शिवाजी का निधन कब हुआ था?(Shivaji Maharaj Death Year)

जवाब:३ अप्रैल १६८०।

1 thought on “शक्तिशाली, साहसी और शौर्य शासक छत्रपति शिवाजी महाराज की महागौरवगाथा”

  1. सर्वप्रथम बेहतरीन , उच्च गुणवत्ता एवं सम्पूर्ण जानकारी से पूर्ण लेख के लिए आप निश्चित रूप से बधाई के पत्र हैं .. यह इतनी महान हस्ती का जादू ही है की चाहे कश्मीर हो या कन्या कुमारी छत्रपति .. बस यह शब्द काफी है और वीरों के वीर छत्रपति शिवाजी महाराज का चित्र दिमाग में कौंध जाता है ..ऐसा विराट व्यक्तित्व जिसने अपनी बुद्धि , वीरता और युद्ध कौशल से दुश्मनो के दन्त खट्टे किये हो वह वास्तव में पूजनीय है .. और आप जैसे लेखक / ब्लॉगर निश्चित रूप से सराहना के पात्र है जो ऐसी जीवनियों को नए पाठकों के सम्मुख इतने शानदार और सरल शब्दों में रखते हैं की जिनको हिंदी भाषा का अल्प ज्ञान हैं वह भी आसानी से उन्हें समझ कर उनके अंश अपने जीवन में उतार सकें .. उज्जवल भविष्य के लिए ढेर सारी शुभकामनाएं लेखक महोदय .. लिखते रहिये और युवाओं को प्रोत्साहित करते रहिये ।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top