तू ना जाने आस-पास है खुदा | Short Story For Kids In Hindi

Short Story For Kids In Hindi

तू ना जाने आस-पास है खुदा / Best Short Story For Kids In Hindi

एक छोटा बच्चा था जो अक्सर अपने दादा को देखने उनके खेत जाया करता था. उसे खेलने के लिए एक गुलेल दिया गया था.
वह लकड़ी पर अपना अभ्यास करता था लेकिन कभी भी वह अपने लक्ष्य को नही मार पाया था. एक दिन वो खेत में जाने लगा तभी उसने अपने दादा और दादी के दुलारे बिल्ली को देखा.

उसे देखकर वह खुश हो गया, उसने अपने गुलेल को हवा में उड़ाया और बिल्ली के सर पर निशाना साधा और बिल्ली को लगते ही वह मारा गयी. उसे मरा हुआ पाते ही वह अचंभित और बहोत दुःखी हो गया था. और घबराहट से, उसने बिल्ली को लकड़ी के ढेर के अंदर छुपा दिया, लेकिन उसकी बहन गीता ने उसे ऐसा करते हुए देख लिया था. लेकिन उसने किसी से कुछ नही कहा. खाना खाने के बाद अगले दिन दादी ने कहा, “गीता, चलो बर्तन धोते है” लेकिन गीता ने कहा, “दादी, गणेश मुझे बता रहा था की वह किचन में आपकी सहायता करना चाहता है.”

और तभी गीता ने गणेश के कानो में फुसफुसाते हुए कहा की, “बिल्ली को याद करो?” ये सुनते ही गणेश को बर्तन साफ़ करने पड़े. 2 दिन बाद में दादा ने कहा की बच्चो क्या तुम मछली पकड़ने जाना चाहते हो, तो दादी ने कहा, “मै माफ़ी चाहती हु लेकिन रात का खाना बनाने के लिए मुझे गीता की जरुरत है.” ये सुनकर गीता मुस्कुराई और उसने कहा, ‘दादी, गणेश मुझसे कह रहा है की, वो आपकी सहायता करना चाहता है.”

वह पुनः गणेश के कानो में फुसफुसाई, “बिल्ली को याद करो?” इस तरह गीता मछली पकड़ने गयी और गणेश को घर पर ही दादी की सहायता करने के लिए रुकना पड़ा. और बहोत दिनों तक इस तरह के उबाऊ काम करने के बाद, वह अब और ये काम नही करना चाहता था. तभी वह दादी के पास आया और उसने कबुल किया की उसीने बिल्ली को मारा.

दादी ने निचे की और झुकते हुए उसे गले लगाया और कहा, “प्रिय गणेश, मै यह जानती हु. तुमने शायद देखा नहीं, की मै खिड़की के पास ही खड़ी थी और मैंने सभी बातो को देखा था लेकिन मै तुमसे बहोत प्यार करती हु, इसी वजह से मैंने तुम्हे माफ़ कर दिया था. मै तो बस यही जानना चाहती थी की इस बात का फायदा उठाते हुए कितने समय तक गीता तुम्हे अपना गुलाम बनाये रखती है.”

इस कहानी से सिख – Moral From This Short Story For Kids In Hindi :

इसी तरह दोस्तों, आप अपने भुतकाल में जो भी होंगे, आपने जो कुछ भी किया होंगा….? वह बाते शैतान बनकर भविष्य में हमेशा ही आपके कानों में फुसफुसायेगी “अपने भुतकाल को याद करो?” और आपको कुछ भी ढंग से नहीं करने देगी. (झूट, धोकेबाजी, कर्ज, डर, बुरी आदते, घृणा, गुस्सा, द्वेषभाव इत्यादि……) इनमे से जो कुछ भी हो उसे जाने…. और तुरंत उसे सुधारने की कोशिश करे.

याद रखे, भगवान आपके आस-पास ही है होता है और वह होने वाली सभी बातो को देखता है. वह आपकी पूरी जिंदगी को देखता है… वह चाहता है की आप ये जाने की वह आपसे प्यार करता है और आपकी हार गलती को माफ़ करता है..

वह बस यही जानना चाहता है की कब तक शैतान (बुरी बाते) आपको अपना गुलाम बनाये रखती है…. और सबसे बड़ी बात तो तब होती है जब आप भगवान से अपने किये के लिए माफ़ी मांगते हो.

वह सिर्फ आपको माफ़ ही नही करता बल्कि भूल भी जाता है. वह सिर्फ भगवान की मेहरबानी और दया ही है जो हमें बचाये रखती है. आगे बढ़ते जाए और आज ही अपने जीवन में कुछ अलग करने की कोशिश करे.

और हमेशा याद रखे की भगवान हमेशा आपके आस-पास ही है!!

Read More Best Short Story For Kids In Hindi With Moral Values :-

True Best Love Story In Hindi :  माता – पिता का प्यार 

Note:-  अगर आपको Short Story For Kids In Hindi अच्छी लगे तो जरुर Share कीजिये.
Note:- E-MAIL Subscription करे और पायें Short Story For Kids In Hindi and more article and moral Values story in Hindi आपके ईमेल पर.
Search Term :- Short Story For Kids In Hindi , Best Heart Touching Story In Hindi With Moral Values for kids

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.