“राष्ट्रसंत” तुकडोजी महाराज की जीवनी | Tukdoji Maharaj Information

Tukdoji Maharaj – तुकडोजी महाराज (1909 – 1968) महाराष्ट्र, भारत से एक आध्यात्मिक सन्त थे। वह पूर्णरूप से आध्यात्मिक जीवन में लीन थे। जिन्हें राष्ट्रसंत का सम्मान मिला। उनका पूरा जीवन जाति, वर्ग, पंथ या धर्म से परे समाज की सेवा के लिए समर्पित था।

Tukdoji Maharaj

“राष्ट्रसंत” तुकडोजी महाराज की जीवनी – Tukdoji Maharaj Information

पूरा नाम (Name):माणिक बान्डोजी इंगळे (Tukadoji Maharaj)
जन्मतिथि (Birthday):30 अप्रैल 1909, अमरावती
मृत्यु (Death):11 अक्टूबर 1968
राष्ट्रीयता (Nationality):भारतीय
पुरस्कार – उपाधि (Awards):राष्ट्रसंत
कार्य (work):ग्रामगेता, गीता प्रसाद

तुकडोजी महाराज का मूल नाम माणिक बान्डोजी इंगळे था उनका जन्म 1909 में महाराष्ट्र के अमरावती जिले में यावली गांव में एक गरीब परिवार में हुआ था। उन्होंने अपने प्रारंभिक जीवन का अधिकांश समय रामटेक, सालबर्डी, रामदिघी और गोंदोडाके बीहड़ जंगलों में बिताया था। वह आडकोजी महाराज के शिष्य थे।

तुकडोजी महाराज, महाराष्ट्र के ग्रामीण क्षेत्रों में सड़कों के निर्माण सहित सामाजिक सुधारों में शामिल थे। उन्होंने “ग्रामगीता” लिखी है जो गांव के विकास के लिए साधनों का वर्णन करती है। उनके द्वारा शुरू किए गए कई विकास कार्यक्रम आज भी कुशलता से काम करना जारी हैं।

भारत के डाक विभाग ने उनके नाम पर एक स्मारक टिकट जारी करके तुकडोजी महाराज को सम्मानित किया था।

पूर्व नागपुर विश्वविद्यालय को उनके सम्मान में “राष्ट्रसंत तुकडोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय” का नाम दिया गया है।

संत तुकाडोजी महाराज का कार्य – Work of Saint Tukdoji Maharaj

1941 में उन्होंने व्यक्तिगत सत्याग्रह किया और उन्होंने ‘छोड़ो भारत’ आंदोलन के बड़े पैमाने पर उदय में भाग लिया। उन्होंने ब्रिटिश शासकों द्वारा उस समय अपनाने वाले अमानवीय दमनकारी उपायों का जोरदार विरोध किया। इसी वजह से 1942 में गिरफ्तार किया गया था और उन्हें नागपुर और रायपुर केंद्रीय जेलों में कैद किया गया था।

उन्होंने नागपुरसे 120 किमी दूर मोझरी नामक गाँव में गुरूकुंज आश्रम की स्थापना की, जहाँ उनके अनुयायियोंकी सक्रिय सहभागितासे संरचनात्मक कार्यक्रमोंको चलाया जाता था। आश्रमके प्रवेश द्वारपर ही उनके सिद्धांत इस प्रकार अंकित हैं – “इस मन्दिरका द्वार सबके लिए खुला है”, “हर धर्म और पंथके व्यक्तिका यहाँ स्वागत है”, “देश और विदेशके हर व्यक्तिका यहाँ स्वागत है”।

स्वतंत्रता की शुरुआत के बाद, संत तुकाडोजी ने ग्रामीण पुनर्निर्माण पर ध्यान केंद्रित किया। उन्होंने ‘अखिल भारत श्री गुरुदेव सेवा मंडल’ की स्थापना की और एकीकृत ग्रामीण विकास के लिए कई कार्यक्रम विकसित किए। उनकी गतिविधियों इतनी प्रभावशाली थी कि, उस समय भारत के राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने उन्हें ‘राष्ट्रसंत’ का सम्मानित किया।

तुकडोजी महाराज विश्व हिन्दू परिषद के संस्थापक उपाध्यक्ष थे। उन्होंने राष्ट्रीय कारणों के लिए कई मोर्चों पर काम किया जैसे बंगाल अकाल (1945), चीन युद्ध (1962) के समय, और पाकिस्तान (1965) के आक्रमकता, कोयना भूकंप का तबाही (1962) राष्ट्र संत तुकडोजी महाराज प्रभावित और व्यवस्थित रचनात्मक राहत कार्यों की सहायता के लिए इस मिशन पर गए।

उन्होंने आचार्य विनोबा भावे के भूदान आंदोलन में भी भाग लिया। और साथ ही में 1955 में जापान में धर्म और विश्व शांति के विश्व सम्मेलन में भाग लिया । इस यात्रा पर उन्होंने एक मेरियन जापान यात्रा पुस्तक लिखी।

तुकाडोजी महाराज एक पारंपरिक प्रार्थना संगठन को रचनात्मक, सामाजिक रचनाओं में सशक्त युवा पुरुषों और महिलाओं के अनुशासित, व्यापक आधार समूहों में बदल दिया।

अंतिम दिनों में तुकडोजी महाराज को घटक बीमारी कन्सर ने जकड लिया था हर संभव प्रयास कर के भी उस बीमारी से छुटकारा नहीं पाया गया और तुकडोजी महाराज ने अपने नश्वर शरीर को 11 अक्टूबर 1968 को छोड़ दिया। राष्ट्र संत तुकडोजी महाराज की जयंती हर साल 30 अप्रैल को मनाते है।

हम सब दिल से मिट्टी के इस बेटे को श्रद्धांजलि देते हैं जो समाज में परिवर्तन लाने के लिए भक्ति और क्रिया को जोड़ती है।

तुकाडोजी महाराज द्वारा लिखे गए ग्रंथ

• Gramgeeta – ग्रामगीता
• Sartha Anandamrut – सार्था आनंदमृत
• Sartha Atmaprabhav – सार्थ आत्मप्रभव
• Geeta Prasad – गीता प्रसाद
• Bodhamrut – बोधामृत
• Laharki Barkha Part 1, 2 & 3 – लाहर्की बरखा भाग 1, 2 और 3
• Anubhav Prakash Part 1 & 2 – अनुभव प्रकाश भाग 1 और 2

More Biography Collection – Biography in Hindi 

I hope these “Tukdoji Maharaj Information” will like you. If you like these “Tukdoji Maharaj Information” then please like our facebook page & share on whatsapp. and for latest update download : Gyani Pandit free android App

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here