यमुना नदी की जानकारी | Yamuna River Information

Yamuna River – यमुना नदी वेदों के काल से गंगा नदी के साथ साथ बहती है और इसे हिन्दू संस्कृति में पवित्र नदी माना गया है। यह उत्तर भारत में बहने वाली सबसे लम्बी नदियों में से है। इस नदी की लगभग लम्बाई 1376 किमी है। इसे गंगा की सबसे बड़ी सहायक नदी के रूप में माना जाता है।

Yamuna River यमुना नदी की जानकारी – Yamuna River Information

यमुना नदी अपने प्रदेश की अन्य नदियों की तरह पूर्व की और बहती है। यह नदी दिल्ली और उत्तर प्रदेश के सम्पन्न औद्योगिक क्षेत्र के लिए पानी एक महत्त्वपूर्ण स्रोत है। यमुना पर पानी के लिए अधिक निर्भरता और हमारे व्यवहार से इसका पानी अब पर्यावरण के लिए खतरा बन चूका है।

कुछ महत्त्वपूर्ण संस्कृतिया जो नदी के किनारे विकसित हुई उन्होंने विभिन्न लोककथा और इतिहास में यमुना का वर्णन किया है। दिल्ली के मध्ययुगीन साम्राज्य जैसे की मुग़ल साम्राज्य का यमुना के जल से विकास हुआ।

आगरा, अलाहाबाद, फतेहपुर और दिल्ली जैसे शहरों का अस्तित्व इस नदी की वजह से ही है। विश्व के सात अजूबों में शामिल विश्वप्रसिद्ध ताजमहल ( Tajmahal ) इसी नदी के किनारे बसा हैं।

यमुना नदी का वर्णन ऋग्वेद में कई जगह पर दिखाई देता है। ऐसा कहा जाता है की यमुना नदी को भगवान शिव के कारण रंग प्राप्त हुआ। सती देवी के मृत्यु के पश्चात भगवान शिव इसका दुःख सहन नहीं कर पाए थे और वो इधर उधर भटकते रहे। जब आखिरी में यमुना नदी पर गए तो नदी ने उनका सारा दुःख ले लिया जिसकी वजह से नदी का रंग काला हो गया।

धार्मिक महत्त्व

हिन्दू के लिए यमुना एक पवित्र नदी है। यमुना नदी मृत्यु के देवता यम की बहन है। कृष्ण जनम के रात्री के समय, उसने यमुना नदी पार की थी। यमुनोत्री मंदिर यह पवित्र स्थल देवी यमुना को समर्पित है, जो हिन्दू संस्कृति में महत्त्वपूर्ण स्थल है।

जो छोटा चार धाम यात्रा को दर्शाता है।

इतना समृद्ध इतिहास होने बावजूद भी यमुना भारत की सबसे प्रदूषित नदी है। केंद्रीय प्रदुषण नियंत्रण बोर्ड ऑफ़ इंडिया के दावे के अनुसार यमुना का लगभग 600 किमी क्षेत्र प्रदूषित है। इतना ही नहीं दिल्ली में ही यमुना नदी में अधिकांश कचरा प्रवेश करता है साथ ही यमुना नदी में हानिकारक कीचड़ और सेवज डाला जाता है।

दिल्ली के निचे के हिस्से में, चोकिंग की वजह से यमुना की स्थिती और भी गंभीर हो जाती है। सरकार के विविध स्थर पर नदी के स्वास्थ्य को लेकर मुद्दे उठा यह जाते है लेकिन समस्या अनसुलझी रह जाती है और यह हर दिन बढती जा रही है।

Read More:

  1. कामाख्या मंदिर का रोचक इतिहास
  2. खजुराहो मंदिर का रोचक इतिहास
  3. चूहों के अनोखे मंदिर का रोचक इतिहास
  4. Amarnath temple history
  5. Kashi Vishwanath Temple

I hope these “Yamuna River History” will like you. If you like these “Yamuna River History” then please like our Facebook page & share on Whatsapp. and for latest update download: Gyani Pandit free android app.

4 COMMENTS

  1. yh jankari bhut hi achcha lgaa aap isi trh se jankari dete rhia aapne hmare desh ke pavitr ndi ymuna ji ke bare me bhut achcha jankari dia

  2. आज हमारी गवर्नमेंट ने जिस प्रकार से गंगा जमुना को ठगा है उसकी सफाई के नाम पर हजारों करोड़ो रुपए बर्बाद किए हैं यह हमारे हिंदू भाइयों के लिए एक काला धब्बा है कि उनकी आस्था के प्रतीक पर कोई ध्यान नहीं सिर्फ उनका वोट लेकर छोड़ दिया जाता है

    • धन्यवाद गौतम कुमार जी, हमें अच्छा लगा कि आपको यमुना नदी पर लिखा गया यह लेख पसंद आया। वैसे तो यमुना नदी का धार्मिक महत्व बहुत अधिक है लेकिन इसकी वास्तविकता पर पर्दा नहीं डाला जा सकता है कि इस पवित्र नदी का पानी दिन पर दिन जहर बनता जा रहा है जिसके लिए सरकार की तरफ से ठोस कगम उठाने चाहिए नहीं तो खतरा और भी ज्यादा बढ़ सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.