योग के महत्व पर निबंध – Essay on Importance of Yoga in Hindi

Essay on Importance of Yoga in Hindi

योग एक ऐसी क्रिया है, जो न सिर्फ मनुष्य को शरीरिक और मानसिक रुप से स्वस्थ रखने में उसकी मद्द करती है, बल्कि आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त करने में भी मद्द करती है।

योग कर कोई भी व्यक्ति पूर्ण रुप से निरोगी रह सकता है एवं सफल, स्वस्थ और शांतिपूर्ण तरीके से अपने जीवन का निर्वहन कर सकता है। नियमित योग करने के कई फायदे हैं।इसलिए अब विश्व भर में योग को खास महत्व दिया रहा है।

वहीं योग को प्राथमिकता देने और इसके प्रति लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से अब हर साल 21 जून को अंतराष्ट्रीय योग दिवस भी मनाया जाता है।
इसके अलावा योग के फायदों के बारे में बच्चों को समझाने के लिए और योग करने को लेकर प्रेरित करने एवं उनके लेखन कौशल में विकास करने के मकसद से स्कूलों में विद्यार्थियों को योग के महत्व के विषय पर कई बार निबंध लिखने के लिए कहा जाता है, इसलिए आज हम आपको अपने इस पोस्ट इस विषय पर निबंध उपलब्ध करवा रहे हैं, जो कि इस प्रकार है –

Essay on Importance of Yoga in Hindi

योग के महत्व पर निबंध – Essay on Importance of Yoga in Hindi

प्रस्तावना

योग का जीवन में महत्व – Importance of Yoga in Our Life

किसी भी व्यक्ति को सुखी एवं स्वस्थ रखने में योग अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। योग करने से व्यक्ति की शारीरिक और मानसिक रुप से फिट रहता है। युवा हो या फिर बुजुर्ग सभी के जीवन में योग सामान रुप से लाभकारी है।

इस भागदौड़ भरी जिंदगी में अगर दिन भर में 15 मिनट भी योग के लिए दिए जाएं तो इससे अनगिनत लाभ पहुंचते हैं।

इसके साथ ही यह जीवन की कठिन परिस्थियों में मनुष्य के तनाव और चिंता को कम कर उन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करता है और मनुष्य के अंदर आत्मविश्वास की भावना पैदा करता है। योग मनुष्य के शरीर, मस्तिष्क, मन, आत्मा एवं प्रकृति के बीच एक अच्छा संतुलन स्थापित करता है।

योग के प्रमुख कारण – Causes of Yoga

  • मनुष्य को निरोगी रखना
  • व्यक्ति का शारीरिक एवं मानसिक रुप से विकास करना।
  • सकारात्मकता की भावना विकसित करना।
  • आत्म चिंतन में मद्द करना।

योग के अलग-अलग प्रकार – Types of Yoga

  • योग अलग-अलग तरह के होते हैं, जिनमें से कुछ योग के बारे में हम आपको नीचे बता रहे हैं –
  • राज योग – इसके तहत पदमासन, सूर्य नमस्कार जैसे आसन शामिल हैं, जिन्हें करने से शऱीर में फुर्ती रहती है।
  • भक्ति योग – भक्ति योग मुख्य रुप से व्यक्ति के तनाव को कम करने और डिप्रेशन को भगाने में सहायक होता है।
  • कर्म योग – कर्म योग करने से मुख्यत: मोटापे जैसी बीमारी नहीं होती है, इसमें मनुष्य की मांसपेशियां और दिमाग दोनों काम करते हैं।
  • हठ योग – आमतौर पर पूरे दुनिया में हठ योग सबसे ज्यादा किया जाता है, इसमें कई तरह के प्रसिद्ध आसन जैसे – भजुंगासन, ताड़ासन, त्रिकोणासन, कपालभांति, अनुलोग, विलोग, सूर्य नमस्कार जैसे कई व्यायाम शामिल होते हैं।
  • ज्ञान योग – मुख्य रुप से मन की शांति के लिए किए जाने वाले योग इसमें शामिल हैं।

योग के आसन – Yoga ke Aasan

योग में कई तरह के आसन शामिल होते हैं, जिनमें सबका अपना अलग-अलग महत्व होता है। व्यक्ति के शरीर के प्रत्येक अंग को स्वस्थ रखने के लिए और सही आकार देने के लिए इन आसनों को किया जाता है।

वहीं योग गुरु बाबा रामदेव के मुताबिक कुल 84 आसन होते हैं, जिनमें से मयूरासन¸ पद्मासन¸ धनुरासन¸ पर्वतासन¸ भुजंगासन¸ शलभासन¸ कोणासन¸ सर्वांगासन¸ गोमुखासन¸ सिंहासन¸ बज्रासन¸ गरूड़ासन, मत्स्यासन¸ पश्चिमोत्तानासन¸ हलासन¸ चतुष्कोणासन¸ स्वस्तिकासन¸ त्रिकोणामन¸ श्वासन¸ शीर्षासन¸ ताड़ासन¸ आदि सबसे ज्यादा किए जाने वाले आसन हैं।

नियमित रुप से योग करने से मिलने वाले लाभ – Benefits of Yoga

योग करने से मनुष्य को शारीरिक, मानसिक, एवं आध्यात्मिक रुप से कई तरह से लाभ पहुंचता है, जिनमें से कुछ लाभों के बारे में हम आपको नीचे बता रहे हैं –

  • योग, मनुष्य को स्वस्थ रहने में मद्द करता है।
  • मनुष्य के मानिसक विकास करने में सहायक होता है।
  • योग से बुद्धि और तेज बढता है।
  • योग से चिंता, तनाव आदि दूर होता है।
  • योग करने से जीवन के प्रति सकरात्मकता आती है, और मनुष्य के अंदर की सारी नकारात्मक ऊर्जा खत्म हो जाती है।
  • योग से मनुष्य के अंदर चुस्ती-स्फूर्ति आती है।
  • योग मनुष्य के शरीर को लचीला बनाता है, साथ ही मांसपेशियों को मजबूती प्रदान करता है।
  • योग करने से मनुष्य कई रोगों से दूर रहता है।
  • योग से मनुष्य के मन को शांति मिलती है।
  • योग मनुष्य का ध्यान केन्द्रित करने में सहायता करता है।
  • योग मोटापा दूर करने में मद्द करता है।
  • योग करने से सौंदर्य बढ़ता है।
  • योग से मनुष्य के अंदर आत्मविश्वास की भावना बढ़ती है और कुछ कर दिखाने का जज्बा पैदा होता है।
  • योग से रक्त के प्रवाह को ठीक करता है।
  • योग से मांसपेशियों का खिंचाव होता है, जिससे मांसपेशियों के लचीलेपन में सुधार आता है।
  • योग पाचन तंत्र को सुधारने में मद्द करता है।
  • शरीर, मन, मस्तिष्क और आत्मा को संतुलित करने में मद्द करता है।
  • योग कई रोगों का इलाज करता है।
  • योग मनुष्य के आलस को दूर भगाने में सहायता करता है।
  • योग करने से ऊर्जा में वृद्धि होती है।
  • योग से सहनशक्ति में बढ़ोतरी होती है।
  • योग से आंतरिक शांति मिलती है।

अंतराष्ट्रीय योग दिवस – International Day of Yoga

योग का हर किसी के जीवन में बेहद महत्व हैं, वहीं इसके अनगिनत लाभों के चलते इसकी लोकप्रियता आज विश्व स्तर पर है। लाखों लोगों को योग के माध्यम से अपने रोगों को दूर करने में सहायता मिली है। वहीं एक सर्वे के मुताबिक दुनिया में 2 अरब से भी ज्यादा लोग रोजाना योगाभ्यास करते हैं।

इसलिए योग के महत्व के प्रति जागरूक करने और नियमित रुप से लोगों को योग के प्रति प्रोत्सिाहित करने के लिए भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के द्दारा साल 2015 में 21 जून को अंतराष्ट्रीय योग दिवस के रुप में मनाने की घोषणा की गई थी।

विश्व योग दिवस के मौके पर जगह-जगह योग कैंप का आयोजन करवाया जाता है और योग के सही तरीकों एवं इसके महत्व के बारे में लोगों को अवगत करवाया जाता है।

योग करने का सही तरीका एवं नियम – Rules Of Yoga

योग करने के कुछ नियम होते हैं, जिन पर जरूर ध्यान देना चाहिए, अन्यथा आप इसका फायदा नहीं उठा सकेंगे –

  • योग को सुबह सुर्योदय के बाद करना एवं सूर्यस्त से पहले करना चाहिए।
  • कभी खाना खाने के बाद योग नहीं करना चाहिए,खाली पेट योग करना चाहिए। योग करने से करीब 2-3 घंटे पहले से कुछ नहीं खाना चाहिए।
  • योग करने के करीब आधा घंटे बाद ही कुछ खाना चाहिए।
  • योग को हमेशा विशेषज्ञ की सलाह लेकर करना चाहिए।
  • योग करने से पहले इसे सीखना बेहद आवश्यक है, अर्थात योग, गुरु की निगरानी में ही किया जाना चाहिए।
  • योग करते समय सही तरह से श्वास छोड़ना अथवा लेना आना चाहिए।
  • अगर योग करने की शुरुआत कर रहे हैं, तो कठिन आसनों एवं व्यायाम से शुरुआत न करें, इसके साथ ही धीमे-धीमे योग करने की क्षमता बढ़ाएं, शुरुआती दिनों में अपने शरीर के अंगों के साथ जबरदस्ती नहीं करनी चाहिए।
  • कॉटन व आरामदायक कपड़े पहनकर योग करना चाहिए।
  • योग अभ्यास, किसी दरी अथवा चटाई पर बैठकर किए जाने चाहिए।
  • योग का लाभ मिलना धीरे-धीरे शुरु होता है, इसलिए धैर्य के साथ योगाभ्यास को किया जाना चाहिए, जल्दी परिणाम की इच्छा नहीं करना चाहिए।

उपसंहार

मनुष्य को हर तरह से सुखी रखने में योग अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। योग करने के अनगिनत फायदे हैं। योग, मनुष्य के शरीर को स्वस्थ रखता है एवं मन को पवित्र रखता है।

योग, एक अद्भुत क्रिया है, जिसके द्धारा मनुष्य अपने मन और मस्तिष्क को नियंत्रण में रख सकता है। वहीं आज जिस तरह का मनुष्य की जीवनशैली हो गई, उसमें योग के माध्यम से ही संतुलन बनाया जा सकता है।

Read More:

I hope these ”Essay on Importance of Yoga in Hindi” will like you. If you like these “Yog aur Swasthya par Nibandh” then please like our Facebook page & share on Whatsapp.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *