मेरे पिता पर निबंध – Essay on My Father in Hindi

Essay on My Father in Hindi

हर बच्चे का अपने पिता से एक अलग रिश्ता और खास जुड़ाव होता है। क्योंकि एक पिता ही अपने बच्चे पर ढेर सारा प्रेम लुटाकर उसका सच्चे मन से ख्याल रखता है और उसका सही मार्गदर्शन करता है।

वहीं एक श्रेष्ठ पिता हमेशा अपने बच्चे के उज्जवल भविष्य की कामना करता है और उसकी सभी जरूरतों को पूरा करने के लिए हमेशा तत्पर रहता है, हर परिस्थति में एक अच्छा पिता अपने बच्चे का ख्याल रखता है। इसलिए एक पिता एक बच्चे का आदर्श और सच्चा नायक होता है। इसलिए फादर्स डे (Father’s Day) मनाया जाता हैं, ताकि हम अपने पिता के प्रति प्यार को प्रकट कर सके।

वहीं स्कूल/कॉलेजों में आयोजित प्रतियोगी परीक्षा में या फिर निबंध लेखन प्रतियोगिता में “मेरे पिता” के विषय पर निबंध लिखने के लिए कहा जाता है, इसलिए आज हम अपने इस आर्टिकल में अलग-अलग शब्द सीमाओं के अंदर कुछ निबंध उपलब्ध करवा रहे है, जिनका इस्तेमाल बच्चे अपनी जरूरत के मुताबिक कर सकते हैं।

Essay on My Father in Hindi

मेरे पिता पर निबंध – Essay on My Father in Hindi

प्रस्तावना

मेरे पिता जी मेरे आदर्श, मेरी प्रेरणा ही नहीं बल्कि मेरी हिम्मत भी हैं। मै अपने जिंदगी में उनकी तरह सफल, धैर्यवान, अनुशासित, गंभीर और सबके प्रति प्रेम की भावना रखने वाला परोपकारी एवं दयालु बनना चाहता हूं/चाहती हूं।

दुनिया के सबसे अच्छे पिता में जो भी क्वालिटी होनी चाहिए, वो सभी गुण मेरे पिता जी में हैं। वे न सिर्फ एक पिता की तरह मेरी सभी इच्छाओं और जरूरतों को पूरा करते हैं, बल्कि एक दोस्त की तरह मेरे साथ व्यवहार करते हैं।

मुझे आज अनुशासित और सदाचारी बनाने में उन्हीं का सबसे बड़ा रोल है। कठिन समय में भी मैने अपने पिता जी को हिम्मत से काम करते देखा है और मेरी जरूरतों को पूरा करने के लिए उन्हें संघर्षों और मुश्किलों का सामना करते हुए देखा है।

वहीं मेरी हर छोटी-बड़ी चीजों का ख्याल रखते हैं और मेरे अंदर आगे बढ़ने का जज्बा कायम करते हैं।

मेरे पिता मेरे नायक और मेरी प्रेरणा – My Father is My Hero

मेरे पिता एक बेहद बुद्दिमान, अनुशासित, परोपकारी, निष्ठावान और आदर्शों पर चलने वाले व्यक्ति हैं। उन्होंने अपने जीवन में तमाम मुश्किलों और संघर्षों को पार कर खुद को इस मुकाम पर खड़ा किया है और मेरे अच्छे भविष्य और सुखी जीवन के लिए बेहद अच्छा प्लेटफॉर्म उपलब्ध करवाया है।

मेरे पिता जी कर्म पर यकीन करने वाले एक कर्तव्य निष्ठ पुरुष ही नहीं, बल्कि मेरी प्रेरणा भी है, वे अपने जीवन के कठिन समय और संघर्षों के बारे में जो भी बताते हैं, मुझे उनसे सीखने को मिलता है।

वे मुझे मेरी गलतियों पर कभी मारते या डांटते नहीं, बल्कि मुझे मेरी गलतियों को सुधारने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। वहीं जब भी मै उदास होता हूं, या फिर बुरी संगति में पड़कर गलत रास्तें पर चलने लगता हूं, तो वो एक दोस्त की तरह मुझे अच्छे-बुरे की पहचान करवाते हैं, और मेरी हिम्मत बनकर, मुझे परेशानियों से लड़ने का हौसला कायम करते हैं।

मैं आज जो भी हूं उनकी बदौलत ही हूं, उन्होंने ही मेरे अंदर अनुशासन, शिष्टाचारी, मानवता और नैतिकता के गुण का विकास किया है।

मेरे पिता, मेरे एक सच्चे मार्गदर्शक और सपोर्टर:

मेरे पिता जी ने मुझे कर्म करने में विश्वास रखने और सच्चाई के मार्ग पर चलने की शिक्षा देते हैं। वे मेरी बुराईयों को दूर करने में मेरी मद्द करते हैं और ईमानादारी से कर्म करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। वे हमेशा मुझे सही और गलत का फर्क समझाते हैं।

उपसंहार

मेरे पिता जी ने मेरे अंदर सम्मान, अनुशासन, परोपकार आदि गुण विकसित किए हैं ताकि समाज में मै एक सभ्य पुरुष बन सकूं। वे एक सच्चे और आदर्श पिता हैं, जिनके बताए गए मार्ग पर मै हमेशा चलूंगा और हमेशा उनकी तरह बनने का प्रयत्न करूंगा।

Few Lines on My Father in Hindi

पिता जी पर निबंध – Few Lines on My Father in Hindi

प्रस्तावना-

मेरे पिता जी आज एक सफल सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं, जिनके चाहने वाले सिर्फ परिवार में ही नहीं बल्कि उनके ऑफिस में भी हैं। उनके नरम व्यवहार, दयालु स्वभाव की वजह से पड़ोसी भी उनकी काफी इज्जत करते हैं। उन्होंने जिस तरह से अपनी मेहनत की बदौलत अपनी प्रतिष्ठा कायम की है, और सफल हुए हैं, उनसे मुझे प्रेरणा मिलती है।

मेरे पिता जी के कुछ खास गुण:

मेरे पिता जी में बहुत सारी ऐसी विशेषताएं हैं, जिसकी वजह से वो मुझे बेहद पसंद हैं और उनकी यही क्वालिटी उन्हें दुनिया का बेस्ट फादर बनाती हैं, उनमें से कुछ खास क्वालिटी इस प्रकार है –

मेरे पिता जी धैर्यवान और संयम रखने वाले व्यक्ति है, वे कठिन से कठिन परिस्थिति में घबड़ाते नहीं है, और न ही कभी अपना आपा खोते हैं, बल्कि समझदारी एवं होश्यारी के साथ काम लेते हैं।

मेरे पिता जी बेहद अनुशासित और समयनिष्ठ हैं। वे हर काम को अनुशासित तरीके से पूरा करते हैं। वहीं उनकी इस आदत की वजह से ही मेरा पूरा परिवार भी अनुशासन में रहता है।

वे अपने ऑफिस के काम से लेकर घर की जिम्मेदारी बखूबी तरीके से निभाते हैं। यही नहीं मेरा होमवर्क करवाने और मेरे साथ खेलने का भी वक्त निकालते हैं, जिससे मुझे अनुशासन में रहने की प्रेरणा मिलती है।

मेरे पिता जी नैतिकवादी, सिद्धान्तवादी, आदर्शवादी होने के साथ-साथ सभी से प्रेम करने वाले व्यक्ति हैं। वे परिवार के हर शख्स की जरूरतों को पूरा कर सभी को बहुत प्यार करते हैं।

मेरे पिता जी न सिर्फ मेरी पढ़ाई-लिखाई और मेरी इच्छाओं की पूर्ति के लिए गंभीर रहते हैं, बल्कि वे मेरे परिवार के हर एक सदस्य का भी उतनी ही गंभीरता से ख्याल रखते हैं और उनके स्वास्थ्य के प्रति भी काफी गंभीर रहते हैं।

मेरे पिता जी, मेरे सबसे अच्छे दोस्त के रुप में – My Father is My Best Friend

मेरे पिता जी न सिर्फ एक अभिभावक की तरह मुझसे व्यवहार करते, बल्कि एक सच्चे दोस्त की तरह मेरे साथ पेश आते हैं। जिससे मै उनसे अपने जीवन से जुड़ी सारी बाते बेफिक्री के साथ शेयर करता हूं, क्योंकि वो न सिर्फ मेरी बात सुनते हैं, बल्कि मुझे सही रास्ते पर चलने की भी सलाह देते हैं।

उपसंहार

मै खुद को बेहद खुशकिस्मत समझता हूं, कि मुझे ऐसे पिता जी मिले। वे मेरे दुनिया के सर्वश्रेष्ठ पिता हैं और मेरे आदर्श हैं, जिनकी उम्मीदों पर खरा उतरने के लिए मै मेहनत करूंगा और उनके बताए गए मार्ग पर हमेशा चलूंगा।

More Poem:

I hope this “Essay on My Father in Hindi” will like you. If you like these “Few Lines on My Father in Hindi” then please like our Facebook page & share on Whatsapp.

1 thought on “मेरे पिता पर निबंध – Essay on My Father in Hindi”

  1. NR Secret Diary

    एहसासो के इस दौर में आज एक एहसास उतर आया
    बिन पिता बचपन किसको भाया है
    वो बच्चों की खुशियों का सांता क्लॉज़ है
    वो उनकी दुनिया का सबसे प्यारा राजकुमार है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *