महान व्यंग लेखक हरिशंकर पारसाई | Harishankar Parsai Biography

Harishankar Parsai – हरिशंकर पारसाई हिंदी भाषा के महान व्यंग लेखको में से एक थे। इन्होने कई सारी अच्छी किताबे लिखी, जिनमे निथाली की डायरी, अपनी अपनी बीमारी, प्रेमचंद के फटे जूते और विकलांग श्रद्धा का दौर शामिल है। इनके किताबों के जितने ने भी नाम लिए जाये वो कम ही है।

Harishankar Parsai महान व्यंग लेखक हरिशंकर पारसाई – Harishankar Parsai Biography

हरिशंकर पारसाई का जनम 22 अगस्त 1924 को मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले में हुआ था।

हरिशंकर पारसाई का करियर – Harishankar Parsai Career

इन्होने राष्ट्रसंत तुकडोजी महाराज नागपुर यूनिवर्सिटी से एम ए की डिग्री हासिल की। उसके बाद इन्होने शिक्षक की नोकरी की। उसके बाद इन्होने लेखक बनने के लिए शिक्षक की अच्छिसी जो नोकरी थी उसे भी छोड़ किया।

नोकरी छोड़ने के बाद इन्होने “वसुधा” नाम की एक साहित्यिक मागज़ीन प्रकाशित की और इसीके साथ ही इनका लेखक का करियर शुरू हुआ। इस किताब को लोगों ने बहुत सराहा लेकिन इसके बावजूद भी कुछ पैसे की कमी के कारण इसका प्रकाशन बंद करना पड़ा।

वो अपने लिखने की व्यंग की कला के लिए बहुत माने जाते है। इनके लिखने का ढंग कुछ खास तरीक़े का है जिसमे एक तरफ़ पढ़ते वक्त तो हम हसी को रोक नहीं सकते तो दूसरी तरफ़ हमें इसमें पढ़ते समय काफ़ी गंभीर होना पड़ता है।

जिंदगी का ऐसा कोई पैलू नहीं की जो हमें इनके साहित्य में देखने को ना मिले। हिंदी साहित्य में इनका तो बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान रहा है।

इनकी प्रसिद्ध किताब “विकलांग श्रद्धा का दौर” के लिए साहित्य का सबसे बड़ा पुरस्कार ‘साहित्य अकादमी पुरस्कार’ भी मिल चूका है।

इस महान व्यंग लेखक ने 10 अगस्त 1995 को अपनी जिंदगी की आखरी सास ली।

हरिशंकर पारसाई की कुछ चुनिन्दा किताबे – Harishankar Parsai Books

  • प्रेमचंद के फटे जुटे
  • हँसते है रोते है
  • ठिठुरता हुआ गणतंत्र
  • वैष्णव की फिसलन
  • तिरछी रेखाए
  • निंदा रस
  • जैसे उनके दिन फिरे
  • तब की बात
  • सदाचार का ताबीज

निबंध लेखन:

  • भूतो के पाव पीछे

उपन्यास:

  • रानी नागफनी की कहानी

छोटी उपन्यास:

  • तट की खोज
  • ज्वाला और जल
  • विकलांग श्रद्धा का दौर

More Biography Collection: Biography in Hindi

Note: आपके पास About Harishankar Parsai Biography In Hindi मैं और Information हैं, या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिखे हम इस अपडेट करते रहेंगे. धन्यवाद…
अगर आपको महान व्यंग लेखक हरिशंकर पारसाई – Harishankar Parsai Biography In Hindi language अच्छी लगे तो जरुर हमें facebook और whatsApp status पर share कीजिये.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *