मध्य प्रदेश के खजुराहो का मनमोह लेने वाला लक्ष्मण मंदिर

Lakshmana Temple

देश में कई देवी और देवताओ के मंदिर है। कुछ मंदिर भगवान शिव के होते है तो कुछ मंदिर भगवान विष्णु के लिए बनाये जाते है। जब देवियों के मंदिर की बात आती है तो उनके भी मंदिर कई तरह के होते है। देवियों के बहुत सारे रूप होने के कारण उनके मंदिरों में विविधता देखने को मिलती है। लेकिन सभी मंदिरों को देखने के बाद यह एक बात स्पष्ट हो जाती है की सभी मंदिर आम तौर पर जमीन पर ही बनाये जाते है और उनकी उचाई भी सामान्य रखी जाती है और यही बात हर जगह पर देखने को मिलती है।

लेकिन कुछ जगह ऐसी भी होती है जहापर मंदिर तो जमीन पर बनाये जाते है लेकिन उन्हें बनाने के लिए काफी उचाई पर बनाया जाता है। इसी बात की वजह से इस तरह के मंदिर अन्य मंदिर से बिलकुल अलग दीखते है और इसीके कारण सभी मंदिर और भी सुन्दर दिखाई देते है। एक इसी तरह का मंदिर जो बहुत ही उचाई पर बनाया गया है उसका नाम लक्ष्मण मंदिर – Lakshmana Temple  जो मध्य प्रदेश में स्थित है उसकी जानकारी हम आपको देनेवाले है। यह मंदिर मध्य प्रदेश के खजुराहो जैसे छोटेसे गाव में बसा है और इस मंदिर की पूरी जानकारी निचे विस्तार से दी गयी है।

Lakshmana Temple, Khajuraho
Lakshmana Temple, Khajuraho

मध्य प्रदेश के खजुराहो का  मनमोह लेने वाला लक्ष्मण मंदिर – Lakshmana Temple

खजुराहो में स्थित लक्ष्मण मंदिर काफी सुन्दर है। भगवान विष्णु का यह पत्थर से बना हुआ मंदिर बहुत ही विशाल और सुन्दर है। खजुराहो का यह मंदिर पश्चिमी शैली की मंदिरों में गिना जाता है। यह भारत का बहुत ही प्राचीन मंदिर पत्थर से बना हुआ है इसीलिए यहापर पर्यटक भी अधिक मात्रा में देखने को मिलते है। इस शहर का यह सबसे बड़ा मंदिर है और इसकी अच्छे से निगरानी की जाती है।

मध्य प्रदेश के खजुराहो में स्थित इस मंदिर का निर्माण 10 वी सदी के दौरान किया गया था। इस मंदिर का निर्माण यशोवर्मन राजा ने करवाया था और इस मंदिर में भगवान विष्णु की जिस मूर्ति को स्थापित किया गया था उसे देवपाल ने भेट के रूप दे दिया था। इस मंदिर में जो मूर्ति है उसे तिब्बत से लाया गया था।

इस मंदिर की बाहरी दीवार को बहुत ही अच्छे से बनाया गया है और इसपर सुन्दर नक्काशी बनाई गयी है। इस मंदिर के सामने वाले हिस्से में दो मंडप बनाये गये है। मंदिर की दक्षिण दिशा में वराह मंडप है और इस मंडप में वराह की मूर्ति है। इसे एक भगवान विष्णु का अवतार माना जाता है। इस मूर्ति पर चारो तरफ़ से कई सारे हिन्दू धर्म के देवी और देवता की तस्वीरे बनाई गयी है।

यह मंदिर जिस जगह पर बनाया गया है उस जगह पर चारो तरफ़ से हाती और घोड़ो की तस्वीरे दिखाई देती है। इस मंदिर की सारी सीढिया चढ़ने के बाद ऊपर के हिस्से में एक बड़ी जगह है जहापर सभी तरह की धार्मिक पूजा विधि की जाती है। यहाँ के लक्ष्मण मंदिर का मुख पूर्व की दिशा में है और इस मंदिर की सारी सीढिया अंदर की और ले जाने का काम करती है। उत्तर भारत के जितने भी मंदिरों में जो बाते होती है वह सब इस लक्ष्मण मंदिर में भी देखने को मिलती है।

इस मंदिर के शुरुवात में ही बडासा द्वारमंडप है, स्तंभ से बना हुआ भवन और दीवारों पर सुन्दर सुन्दर मुर्तिया दिखाई देती है। मंदिर के जिस हिस्से में प्रदक्षिणा की जाती है वहापर सभी हिस्सों में मुर्तिया ही दिखाई देती है। यहापर भगवान विष्णु की वैकुण्ठ विष्णु मूर्ति है जो तीन मुखो के अवतार में दर्शाई गयी है।

लक्ष्मण मंदिर की वास्तुकला – Lakshmana Temple Architecture

यह मंदिर पंचायतन शैली का संधारा मंदिर है। इस मंदिर को बहुत ही उची जगह पर बनाया गया है जिसे स्थानीय भाषा में ‘जगती’ कहा जाता है। जिस तरह से सभी हिन्दू धर्म के मंदिर बनाये जाते उसी वास्तुकला में इस मंदिर को बनाया गया है। इस मंदिर मे अर्ध मंडप, मंडप, अंतराल और गर्भगृह यह सब कुछ है।

इस मंदिर का जो गर्भगृह है उसे पंचरथ कहा जाता है और यह खजुराहो के बाकी के मंदिरों से बिलकुल अलग है। इस मंदिर का जो शिखर है उसपर छोटे छोटे उरुश्रृंग भी लगाये गए है।

मंदिर के दीवारों में जगह जगह पर खिडकिया बिठाई गयी है। यहापर दो पंक्तिया दिखाई देती है जहापर देवताओ की मुर्तिया, जोड़ो की मुर्तिया कुछ कामुक दृश्य दिखाई देते है। मंदिर के गर्भगृह का दरवाजा पुरे सात साखो से बना है और जो दरवाजा बिच में है उपसर भगवान विष्णु के दस अवतार को दर्शाया गया है। इस मंदिर का सरदल माता लक्ष्मी को दर्शाता है और उनके बाजु में ब्रह्मदेव और भगवान विष्णु दिखाई देते है। इस मंदिर में भगवान विष्णु की चार भुजावाली मूर्ति स्थापित की गयी है।

लक्ष्मण मंदिर का स्थान – Lakshmana Temple Location

खजुराहो का यह मंदिर पश्चिम मंदिर परिसर में स्थित है। खजुराहो एक बहुत ही छोटा गाव है जो मध्य प्रदेश के छत्तरपुर जिले में बसा है।

मध्य प्रदेश में बसे इस मंदिर का नाम सुनने के बाद कोई भी समझ लेता है की यह मंदिर प्रभु श्री राम के छोटे भाई लक्ष्मण का है। लेकिन असल में ऐसा कुछ भी नहीं। यह मंदिर भगवान विष्णु का है और इस मंदिर के भगवान विष्णु की मूर्ति बहुत ही सुन्दर है। इस मंदिर में भक्तों के लिए हर तरह की सुविधा उपलब्ध करायी गयी है।

इस मंदिर के परिसर में जगह जगह पर मंडप बनाये गए है जिसकी वजह से मंदिर और भी खुबसूरत दीखता है। इस मंदिर के भगवान विष्णु की जो मूर्ति है वह चार भुजावाली है। इस मंदिर के शिखर का हिस्सा भी बहुत ही आकर्षक है और यह दूर से दिखाई देता है। इसीलिए इस मंदिर में एक बार जरुर आना चाहिए भगवान विष्णु के इस मनोहारी अवतार के दर्शन लेने चाहिए।

Read More:

Loading...

Hope you find this post about ”Lakshmana Temple, KhajurahoIn Hindi useful. if you like this information please share on Facebook.

Note: We try hard for correctness and accuracy. please tell us If you see something that doesn’t look correct in this information about Lakshmana Temple History in Hindi.
And if you have more all information of India Lakshmana Temple then help for the improvements this article.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.