मिशन इंद्रधनुष अभियान – Mission Indradhanush

Mission Indradhanush in Hindi

देश के हर तबके के लोगों को फायदा पहुंचाने और उनकी जरूरतों को पूरा करने के लिए भारत सरकार समय-समय पर तमाम योजनाएं लॉन्च करती रहती है। वहीं बच्चों के स्वास्थ्य का ख्याल रखते हुए भारत सरकार के द्धारा मिशन इन्द्रधनुष अभियान 25 दिसंबर साल 2014 में गुड गर्वर्नेंस डे के मौके पर शुरु किया गया है।

इस अभियान को केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्धारा शुरु किया गया है, जिसका मुख्य मकसद उन बच्चों का टीकाकरण करना है, जिन्हें किसी कारण की वजह से 7 मुख्य बीमारियां, रोकने वाले टीके नहीं लगे हैं, और जिसकी वजह से कई बच्चों की मौत भी हो चुकी हैं। मिशन इंद्रधनुष के तहत साल 2020 तक देश के सभी बच्चों का टीकाकरण किया जाएगा।

मिशन इंद्रधनुष अभियान – Mission Indradhanush

Mission Indradhanush

मिशन इन्द्रधनुष के तहत कौन से 7 रोंगों को रोकने के टीके लगाए जा रहे हैं – Mission Indradhanush Vaccines

  • डिफ्थीरिया
  • हेपेटाइटिस बी
  • धनुस्तंभ
  • काली खांसी
  • पोलियो
  • यक्ष्मा
  • खसरा

इसके अलावा मिशन इंद्रधनुष के तहत पेट्यूसिस, निमोनिया, संक्रमण, जापानी एन्सेफलाइटिस और हेमोफिलस इन्फ्लूएंजा टाइप बी (चयनित राज्यों में) आदि के टीके भी लगाए जा रहे हैं।

क्या है मिशन इंद्रधनुष अभियान का लक्ष्य ? – Mission Indradhanush Aim

भारत सरकार के केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा द्धारा शुरु किए गए इस लाभकारी मिशन के तहत साल 2020 तक देश के उन सभी बच्चों का टीकाकरण करना है, जिन्हें 7 गंभीर और जानलेवा बीमारियों के टीका नहीं लग पाए हैं।

मिशन इंद्रधनुष के तहत देश के करीब 26 मिलियन बच्चों को खतरनाक बीमारियों से बचाने के लिए निशुल्क टीका लगाने का लक्ष्य रखा गया है।

मिशन इंद्रधनुष के तहत देश का कोई भी बच्चा टीकाकरण से छूट नहीं पाए इसके लिए राज्य, जिले, और ब्लॉक स्तर पर टीकाकऱण अभियान चलाए जा रहे हैं।

मिशन इंद्रधनुष के तहत बच्चों को गंभीर बीमारियों से बचाने के लिए लगाए जाने वाले टीके सही तरीके से लगाए जा सकें, और इसमें किसी तरह की कोई गलती न हो, इसके लिए स्वास्थ्य अधिकारियों को ट्रेनिंग भी दी जा रही है।

मिशन इंद्रधनुष के तहत बच्चों को लगाए जाने वाले टीके:

उम्रटीका (Vaccine)
पैदा होने के समय BCGOPV – 0,
Hepatitis – B
1 महीने, 12 दिन में RVV – 1, OPV – 1,
Pentavalent – 1
flPV – 1
PCV – 1
2 महीने, 10 दिन मेंRVV – 2, OPV – 2,
Pentavalent – 2
14 सप्ताह मेंRVV – 3, OPV – 3
Pentavalent – 3,
flPV – 2,
PCV – 2
9 माह के होने पर MeaslesVitamin A First Dose
PCV – B
16 – 24 महीने मेंDPT – First Booster,
OPV – First Booster,
Measles Second dose,
Vitamin A Second dose
5 – 6 साल की उम्र मे DPT Second Booster
10 और 16 साल की उम्र मे TT

मिशन इंद्रधनुष के तहत गर्भधारण महिला को लगाए जाने वाले टीके:

समयटीका (Vaccine)
गर्भावस्था के तुरंत बाद TT-1
TT-1 के 28 दिन बाद TT-2
पिछली गर्भावस्था के 3 साल के अंदर अगर गर्भावस्था रहे तो TT Booster

मिशन इंद्रधनुष के तहत कौन से जिले को कवर किया गया है:

अप्रैल 2018 में आई एक रिपोर्ट के आंकड़ों के मुताबिक मिशन इंद्रधनुष के तहत देश के 500 से ज्यादा जिलों को कवर किया जा चुका है, इसके साथ ही लगभग दो लाख बच्चों की जान भी बचाई जा चुकी हैं।

भारत सरकार का मिशन इंद्रधनुष अभियान क्यों हुआ लोकप्रिय:

बच्चों को गंभीर बीमारियों से बचाने के लिए और उन्हें स्वस्थ रखने के लिए भारत सरकार की तरफ से शुरु किया गया मिशन इंद्रधनुष अभियान को काफी तारीफ मिली है, और इसे लोगों द्धारा बड़े स्तर पर पसंद किया गया है।

दरअसल, मिशन इंद्रधनुष ने इतना अच्छा काम किया है कि साल 2018 तक इसके तहत करीब साढ़े 3 करोड़ बच्चे और करीब 81 लाख गर्भवती महिलाओं को गंभीर बीमारी से बचाव के टीके लगाए जा चुके हैं।

यही नहीं यूएनआईजीएमई (यूएन इंटर एजेंसी ग्रुप फॉर चाइल्ड मोर्टैलिटी एसटिमेशन) की एक रिपोर्ट के अनुसार पिछले 5 सालों में नवजात बच्चों की मौत के सबसे कम मामले दर्ज हुए हैं।

इसके साथ ही आपको बता दें कि साल 2016 में यह संख्या 867,000 थी,जो कि सा 2017 में यह घटकर 802,000 रह गई थी।

मिशन इंद्रधनुष के तहत देश के कोने-कोने में बच्चों को समय पर सही तरीके से टीके लगाए गए और कई बच्चों की गंभीर बीमारियों से जान बचाई गई।

यही नहीं मिशन इंद्रधनुष ने साल 2017 निमोनिया और अतिसार के नियंत्रण और निवारण के लिए ग्लोबल एक्शन प्लान स्कोर में हासिल की गई प्रतिरक्षण कवरेज में वृद्धि को भी बढ़ावा देने में काफी मद्दगार साबित हुई है। इसलिए सरकार की यह योजना लोगों द्धारा खूब पसंद की गई।

मिशन इंद्रधनुष अभियान के तहत न सिर्फ कई बच्चों की जान बचाई गई, बल्कि कई बच्चों को उनके स्वस्थ भविष्य के लिए भी तैयार किया गया, जो कि वाकई सराहनीय है।

Read More:

Hope you find this post about ”Mission Indradhanush” useful. if you like this articles please share on Facebook & Whatsapp.

1 thought on “मिशन इंद्रधनुष अभियान – Mission Indradhanush”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *