Skip to content

रानी कर्णावती का इतिहास | Rani Karnavati History

Rani Karnavati

रानी कर्णावती चित्तौड़गढ़ की एक महान रानी और शासक थी। रानी कर्णावती राणा संग्राम सिंह से शादी हुई थी। जिन्हें मेवार की राजधानी चित्तौड़गढ़ के सिसोदिया वंश के राणा सांगा के नाम से जाना जाता था। रानी कर्णावती दो महान राजा राणा विक्रमादित्य और राणा उदय सिंह की माता और महाराणा प्रताप की दादी थी।

Rani Karnavati

रानी कर्णावती का इतिहास – Rani Karnavati History

पहले मुगल बादशाह बाबर ने 1526 में दिल्ली के सिंहासन पर कब्ज़ा कर लिया था। मेवाड़ के राणा सांगा ने उनके खिलाफ राजपूत शासकों का एक दल का नेतृत्व किया। लेकिन अगले वर्ष खानुआ की लड़ाई में वे पराजित हुये। उस युद्ध में राणा सांगा को गहरे घाव हो गये जिसकें वजह से शीघ्र ही उनकी मृत्यु हो गई।

उनके पीछे उनकी विधवा रानी कर्णावती और उनके बेटे राजा राणा विक्रमादित्य और राणा उदय सिंह थे। रानी कर्नावती ने अपने बड़े पुत्र विक्रमजीत हाथो मे राज्य का पदभार संभालने को दिया।

लेकिन् इतना बड़ा राज्य संभल ने के लिये अभी विक्रमजीत की उम्र कम थी। इस बीच, गुजरात के बहादुर शाह द्वारा दूसरी बार मेवाड पर हमला किया गया था। जिनके हाथ विक्रमजीत को पहले हार मिली थी। रानी के लिए यह बहुत चिंता का मामला था।

रानी कर्णावती ने चित्तौड़गढ़ के सम्मान की रक्षा में मदद करने के लिए अन्य राजपूत शासकों से अपील की। शासकों ने सहमति व्यक्त की लेकिन उनकी एकमात्र शर्त यह थी कि विक्रमजीत और उदय सिंह को अपनी व्यक्तिगत सुरक्षा के लिए युद्ध के दौरान बुंदी जाना चाहिए।

कर्णावती ने मुगल सम्राट हुमायूं को एक राखी भेजी, और उन्हें एक भाई का दर्जा देते हुए सहायता के लिए अपील की।

रानी कर्णावती अपने बेटों को बुंदी को भेजने के लिए राजी हो गयी और उन्होंने अपनी भरोसेमंद दासी पन्ना से कहा कि उनके साथ रहना और उन्हें अच्छी तरह से देखभाल करना। और पन्ना ने यह जवाबदेही स्विकार कर ली।

हुमायूं, जो बंगाल के आक्रमण की तैयारी पर था। दया से प्रतिक्रिया व्यक्त की और राणी कर्णावती को सहायता देने का आश्वासन दिया इस प्रकार उसे हर रक्षा बंधन को याद किया जाता है।

यह सच है कि हुमायूं ने राखी को स्वीकार कर लिया और चित्तौड़ की तरफ चले। लेकिन वह समय पर वहां पहुंचने में नाकाम रहे। अपने आगमन से पहले बहादुर शाह चित्तौड़गढ़ में प्रवेश किया।

रानी कर्णावती यह हार समझने लगी। तब उन्होंने और अन्य महान महिलाओं ने खुद को आत्मघाती आग (जोहर) में आत्महत्या कर ली। जबकि सभी पुरुषों ने भगवा कपड़े लगाए और मौत से लड़ने के लिए निकल गए। हुमायूं ने बहादुर शाह को पराजित किया और कर्नावती के पुत्र विक्रमादित्य सिंह को मेवाड़ के शासक के रूप में बहाल कर दिया।

Read More:

Hope you find this post about ”Rani Karnavati History in Hindi” useful. if you like this Article please share on Facebook & Whatsapp. and for latest update download: Gyani Pandit free Android app.

5 thoughts on “रानी कर्णावती का इतिहास | Rani Karnavati History”

  1. हुमायूंको रानी करनावती द्वारा राखी भेजने वाले क्या प्रसन्ग है उन्होने ईसका कितना सम्मान भी किया लेकिन ईस अच्छी बात को आज………।

  2. रानी कर्णावती के बारे में बहुत ही अच्छी अच्छी जानकारी आपने हम जैसे पाठको के साथ शेयर की, हमारे जैसे बहुत से लोग है जो कि रानी कर्णावती के इतिहास से अनभिज्ञ है, आपका यह पोस्ट उन सभी के लिए बहुत उपयोगी सिद्ध होगा।
    आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published.