Short Stories of Famous Peoples | चमत्कार कोई भी कर सकता हैं

Short Stories of Famous Peoples

विश्व के महान काम सिर्फ बड़ी उम्र के लोगों ने ही नहीं किए। बल्कि छोटी उम्र के लोगों ने भी किए हैं। जब आप इतिहास उठाकर पढ़ेंगे। तो जानेंगे की युवकों द्वारा किए गए कारनामों से ढेरों किताबों के पन्ने भरे पड़े हैं।

Short Stories of Famous Peoples in Hindi

चमत्कार कोई भी कर सकता हैं / Short Stories of Famous Peoples in Hindi

अल्बर्ट आइंस्टीन / Albert Einstein

अल्बर्ट आइंस्टीन – आधुनिक भौतिकी के पितामह कहे जाने वाले अल्बर्ट आइंस्टीन का नाम विज्ञानं के क्षेत्र में बड़े आदर से लिया जाता है। उन्होंने 26 साल की उम्र में ही ‘सापेक्षता का सिद्धांत’ ईजाद कर दिया था।

महात्मा गांधी / Mahatma Gandhi

बापू का नाम सारा विश्व श्रद्धा और सम्मान से लेता है। उनका पूरा नाम मोहनदास करमचंद गांधी था। जब वे 24 साल के थे। तब उन्होंने दक्षिण अफ्रीका में रंगभेद की नीति का विरोध करने के लिए सत्याग्रह किया था। जो बाद में भारत को आज़ाद कराने में भी सहायक बना। अब महात्मा गांधी को मानवता का सबसे बड़ा पुजारी माना जाता है।

वॉल्ट डिज्नी / Walt Disney

वाल्ट डिज्नी – जिनके नाम पर इतना बड़ा डिज्नीलैंड बना। उन्हें एक समाचारपत्र की कंपनी ने यह कह कर निकाल दिया था की तुम्हें कुछ नहीं आता और तुम कल्पना भी नहीं कर सकते ? लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी। कोशिश करते रहे। फिर पूरे आत्मविश्वाश के साथ आगे बड़े और दुनिया पर छा गए।

पढ़े :- एक अनोखा बिजनेस Real Life Inspirational Story

सिकंदर / Sikandar

सिकंदर ने सिर्फ 20 साल की उम्र में ही राजगद्दी प्राप्त कर ली थी और 27 साल की उम्र में उसने लगभग आधी दुनिया जीत ली। इसलिए आज सारी दुनिया इस सम्राट को सिकंदर महान / The Great Alexander के नाम से जानती है।

ब्लेस पास्कल / Blaise Pascal

पास्कल को अब विश्व का सबसे बड़ा गणितज्ञ माना जाता है। क्योंकि उन्होंने 16 साल की उम्र में ज्योमेट्री पर पुस्तक लिखी। जो बहुत प्रसिध्द हुई। जब वे 19 साल के हुए। तो उन्होंने संकलन यंत्र (adding-machine) का आविष्कार किया था। अब उसका उपयोग संगीत को सँवारने में किया जाता है।

जेम्स वॉट / James Watt

जेम्स वाट का नाम हर कोई जनता है। रेल की पटरियों पर भाप का इंजन उन्हीं के सिध्दांत पर दौड़ता है। रात दिन नए प्रयोग में जुटे रहने वाले जेम्स वाट ने जब यह कारनामा किया उस समय उनकी उम्र केवल 25 साल थी।

एलेक्ज़ेंडर ग्राहम बेल / Alexander Graham Bell

एलेग्जेंडर ग्रैहम बेल्ल – टेलीफोन का अविष्कार एक क्रांतिकारी अविष्कार माना
जाता है। लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं की एलेग्जेंडर ग्रैहम बेल्ल ने 20 साल की उम्र में बेतार टेलीफोन बनाने की कल्पना कर ली थी और 27 साल की उम्र में टेलीफोन बना लिया था और पेटेंट भी करा लिया था।

थॉमस अल्वा एडीसन / Thomas alva edison

थॉमस अल्वा एडिसन विद्युत के अविष्कार में थॉमस अल्वा एडिसन का योगदान महवपूर्ण है। उनके द्वारा बनाया बल्ब का उपयोग पूरी दुनिया में होता है। यह अविष्कार उन्होंने 21 साल की उम्र में किया था। बाद में उन्होंने और कई अविष्कार किए। जो किसी चमत्कार से काम नहीं हैं।

पढ़े :- फेसबुक के मार्क जुकेरबर्ग की कहानी

सिगमंड फ्रायड / Sigmund Freud

सिगमंड फ्रायड – मानव के प्रतिदिन के व्यवहारों का मनोवैज्ञानिक सिद्धांत
फ्रायड सिद्धांत‘ के नाम से जाना जाता है। इस सिद्धांत को सिगमंड फ्रायड ने
29 साल की उम्र में ईजाद किया था।

राइट ब्रदर्स / Wright brothers

हवाई जहाज अब एक स्थान से दुसरे स्थान तक पहुँचने का बेहद उपयोगी साधन बन चूका है। यातायात के क्षेत्र में हवाई जहाज ने सचमुच चमत्कार कर दिया है। इसका श्रेय राइट बंधुओं विल्बर राइट और ऑइल राइट को जाता है। इन दोनों भाइयों ने ही 20 और 30 साल की उम्र के बीच वायुयान पर परिक्षण और खोज शुरू कर दी थी।

फिर जब पहली हवाई उड़ान भरी, तब विल्बर राइट की उम्र 36 साल थी और छोटा भाई आरवील राइट की 32 साल का था।

रवीन्द्रनाथ टैगोर / Ravindra Nath Tagore

रविन्द्र नाथ टैगोर – ‘गीतांजलि’ जैसी अद्भुत पुस्तक लिखने वाले रविंद्रनाथ
टैगोर का नाम कौन नहीं जनता ? उन्होंने 18 साल की उम्र में इसकी रचना की।
जिससे सारे भारत में एक महान कवि का उदय हुआ। बाद में रवीन्द्रनाथ टैगोर को उनकी इस रचना पर नोबल पुरुस्कार मिला।

बादशाह अकबर / Badshah Akbar

अकबर का नाम इतिहास में अमर है। उन्होंने 13 साल की उम्र में ही राजगद्दी
संभाल ली थी और 17 साल की उम्र में राजकाज में निपुणता हासिल कर ली थी। बाद में अकबर ने अपने अंदर ऐसे गुण विकसित किए की लोगों ने उन्हें ‘अकबर महान‘ की उपाधि दे दी।

लोगों की सफलता से पता चलता है की चमत्कार करने की कोई उम्र निश्चित नहीं है। कोई भी किसी भी उम्र में चमत्कार कर सकता है ?

जब तक लगाम न कसी जाए, तब तक घोडा नहीं दौड़ता।
जब तक भाप न बनें, तब तक इंजन नहीं चलता।
जब तक सुरंग में से न गुजरा जाए, तब तक प्रकाश का पता नहीं चलता।
ठीक वैसे ही कोई भी मनुष्य तब तक महान नहीं बन सकता, जब तक की एकाग्रता, समर्पण और जूनून उसके अंदर न हो।

More Short Stories of Famous Peoples  :

यह बेहतरीन लेख Parul Agrawal द्वारा उपलब्ध कराया गया है।

Name: Parul Agrawal
Interest – Writing Articles
Blog:- A Blogging on – http://hindimind.in Blog

Note: अगर आपको Short Stories of Famous Peoples in Hindi अच्छी लगे तो जरुर Share कीजिये।
Note: E-MAIL Subscription करे और पायें More Article Like Short Stories of Famous Peoples in Hindi And Moral Values story in Hindi आपके ईमेल पर।

4 COMMENTS

  1. बहुत शानदार जानकारी. बहुत ही प्रेरणास्पद विचार:- कोई भी मनुष्य तब तक महान नहीं बन सकता, जब तक की एकाग्रता,
    समर्पण और जूनून उसके अंदर न हो.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.