टीवी यानी टेलीविजन का अविष्कार किसने किया? | Who Invented Television

Who Invented Television

आज के समय में वैसे तो मंनोरजन और जानकारी इकट्ठे करने के अनेक साधन है। लेकिन इनमें सबसे पुराना सबसे लोकप्रिय टेलीविजन आज भी लोगों के बीच है। जिसमें समय समय पर थोड़े- थोड़े बदलाव होते रहते है। वैसे आज का युग आधुनिक युग है इंटरनेट का युग है लेकिन आज भी लोग टीवी पर सास बहु सीरियल के शौकीन है लोगों को ऑफिस से आने के बाद टीवी पर ही न्यूज देखना ज्यादा पंसद है हालांकि ये सब अब मोबाइल में भी देखने को मिल जाता है।

टीवी की बात ही अलग है। समय के साथ टीवी पर आने वाले चैनलों की संख्या नहीं नहीं बढ़ी बल्कि उसकी क्वालिटी, क्लॅरिटी में भी काफी फर्क आया। साथ ही इन टीवी चैनलों के कारण लाखों लोगों को रोजगार भी मिला। आज ज्यादातर लोगों के घर में लेडी कलर टीवी लगा हुआ वो भी एचडी क्वालिटी के साथ। लेकिन क्या आप जानते है टीवी यानी टेलीविजन का अविष्कार कब और किसने किया? और इतने समय में टेलीविजन में क्या क्या बदलाव आए।

Who Invented Television
Who Invented Television

टीवी यानी टेलीविजन का अविष्कार किसने किया? – Who Invented Television

टीवी यानी टेलीविजन के अविष्कारक जॉन लोगी बेयर्ड – John Logie Baird माने जाते है जिन्होने साल 1924 में पहली बार टेलीविजन का निर्माण किया था। हालांकि इसके बाद अलग – अलग तरह के टेलीविजन का अविष्कार अलग – अलग अविष्कारों दारा किया गया। लेकिन अब आप सोच रहे होंगे कि जॉन लोगी ने एकदम टेलीविजन का अविष्कार कर दिया इसमें तो अलग -अलग तरह की कई टेक्नॉलोजी शामिल है।

दरअसल एक सही टेलीविजन का निर्माण भले गी जॉन लोगी वेयर्ड ने किया था। लेकिन इसकी प्रक्रिया पहले ही शुरु हो गई थी। क्योंकि सन 1800 में कैमरे के अविष्कार के बाद फैक्स के जरिए तस्वीरें भेजी जाने लगी थी। साल 1897 में बिना तार के सिगनल भेजा गया। ये कारनामा मैकरोनी ने किया। इसके बाद इलेक्ट्रिक मूविंग टीवी इमेज टेलीफोस्कॉप के जरिए भेजी जाने लगी।

वहीं इसे पहले साल 1884 में पॉल गॉटलीब निपको नाम के एक वैज्ञानिक छात्र ने इलेक्ट्रोमैगनेटिक डिस्क टेक्नॉलोजी तैयार की और उसे अपने नाम पर रजिस्टर करवाया। इस टेक्नॉलोजी का इस्तेमाल फोटों देखने के लिए होता था। फिर धीरे -धीरे इन्ही अविष्कारों में ओर सुधार होने लगे। और फिर आया।

सीआरटी यानी कैथोड रे टयूब जिसका इस्तेमाल बेहतर तरीके से फोटों देखने और उनको मूव करने के लिए किया जाता था। इन्ही सब अविष्कारों को मिलाकर और प्रेरित होकर जॉन वेयर्ड ने एक ऐसी टेक्नॉलोजी तैयार की जिसकी मदद से तस्वीरों को ट्रांसमिट करके बेहतर ढ़ंग से देखा जा सकता था।

इसके बाद साल 1924 में जॉन अपने अविष्कार में ओर सुधार करके टीवी का निर्माण किया। जिसमें वीडियों देखे जा सकते थे। इसके बाद जॉन साल 1940 तक आते आते फुल इलेक्ट्रोनिक टीवी का अविष्कार किया जिसका नाम टेलीक्रोम रखा गया। लेकिन ये सब टीवी ब्लैक एंड हाइट हुआ करते थे। लेकिन इसके कुछ सालों बाद ही कलर टीवी भी बाजारों में आ गया जिसमें वीडियों रंगीन दिखाई देते है।

उस दौरान किए तैयार किए टीवी सीआरटी टीवी कहलाते थे क्योंकि वो उसी में बदलाव करके तैयार किए गए थे। हालांकि आज के समय में सीआरटी टीवी की जगह एलईडी टीवी ने ले ली है।

भारत में टीवी का इतिहास – Television History

भारत में 90 के दशक तक ब्लैक एंड व्हाइट टीवी का ही दौर था हालांकि कलर टीवी भारत में साल 1982 में आ गया था। लेकिन 90 के दशक के बाद ही भारत में कलर टीवी की बिक्री तेजी से शुरु हुई। आज भारतीयों घरों में एचडी लेडी टीवी देखने को मिलते है। और टीवी की लोकप्रियता को देखते हुए भारत में प्रसारित होने चैनलों की संख्या भी अनगिनत है जिसमें लोकल, नेशनल और इंटरनेशनल चैनल शामिल है।

लेकिन रिपोर्टस के अनुसार भारत का पहला हिंदी निजी मनोंरजन चैनल जीटीवी है। जो 1 अक्टूबर 1992 में स्थापित हुआ था आज जी मीडिया के अनगिनत नेशनल, इंटरनेशनल और लोकल चैनल है जिनके अपने अपने दर्शक है। वहीं अगर बात करें भारत के निजी न्यूज चैनलों की तो आजतक को भारत का सबसे निजी न्यूज चैनल माना जाता है। वहीं भारत का सबसे पुराना सरकारी चैनल डीडी न्यूज है।

टेलीविजन के फायदे – Advantages of Television

टेलीविजन आपको घर बैठे देश दुनिया की जानकारी देता है साथ ही आपका मनोंरजन कर आपकी थकान भी मिटाता है। टेलीविजन के जरिए बच्चे किसी भी विषय जल्दी सीखते है और समझते हैं। टेलीविजन के आने के बाद समाज में समाजिक मुद्दों पर जागरुकता आई है साथ ही टेलीविजन ने लोगों की सोच बदलने में अहम योगदान दिया है।

टेलीविजन के नुकसान – Disadvantages of Television

टेलीविजन के जरिए जहां लोगों के बीच जागरुकता आई है वहीं टेलीविजन के कारण क्राइम में भी बढ़ावा हुआ है क्योंकि आज के समय में टेलीविजन पर दिखाई जाने वाले कंटेट में कोई भी लिमिट नहीं रह गई है जिसका बुरा असर बच्चों पर पड़ता है क्योंकि टीवी पर दिखाई आधी अधूरी जानकारी क्राइम को जन्म देती है साथ ही अधिक समय तक टीवी देखने से सेहत पर भी बुरा असर पड़ता है।

टीवी यानी टेलीविजन एक ऐसा डिवाइज है जो आपको मनोरंजन के साथ ज्ञान की बातें भी सिखाता है साथ जागरुक भी करता है। लेकिन ये आप पर निर्भर करता है कि आप टेलीविजन में क्या देखना पंसद करते हैं।

Read More:

Note: Hope you find this post about ”Who Invented Television” useful and inspiring. if you like this articles please share on Facebook & Whatsapp. and for the latest update download: Gyani Pandit free android App.

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here