कंपनी सेक्रेटरी (CS Course) कोर्स के बारेमें विस्तारपूर्वक जानकारी

CS Course Details in Hindi

जैसा के हम सभी जानते है के आजके आधुनिक युग मे लगभग दुनिया के सभी देशो मे औद्योगीकरण का काफी ज्यादा फैलाव हुआ है।इसके मद्दे नजर सभी क्षेत्र मे नवीनीकरण के वजह से ढेर सारे बदलाव भी हुये है, सार्वजनिक कंपनीयो की तुलना मे निजी कंपनीयो का बाजार मे अच्छा खासा प्रभाव अक्सर हमे देखने को मिलता है।

ऐसे औद्योगिकी से जुडे क्षेत्र मे कार्यो को सुचारू ढंग से कार्यान्वित रखने हेतू प्रशिक्षित एवं उच्च शिक्षित मानव संसाधन का खासा महत्व होता है। बात करे मानव संसाधन कि तो हर तरह के कंपनीयो मे दिनभर मे विभिन्न प्रकार के कार्यो को पुरा करने के लिये पात्र एवं कौशलपूर्ण कर्मचारियो कि जरुरत होती है।

इसी कडी मे कंपनीयो के उच्चतर अधिकारी या चेअरमैन स्तर के लोगो को निजी सहकारी या कंपनी सेक्रेटरी जैसे लोगो की भी जरुरत होती है।अगर आप भी इस तरह के सेक्रेटरी पद पर काम करने की सोचते है तो ये लेख आपके लिये काफी खास होनेवाला है।

यहा हम आपको कंपनी सेक्रेटरी से जुडे शिक्षा क्रम कि संपूर्ण जानकारी देनेवाले है, जिसमे आप जान पायेंगे के किस तरह से इन सभी लोगो को प्रशिक्षित किया जाता है। जिससे वो आगे चलकर किसी भी बडे औद्योगिक क्षेत्र का हिस्सा बनकर, उच्चतर अधिकारी के निजी सहकारी के रूप मे काम करने हेतू सक्षम बन जाते है।

कंपनी सेक्रेटरी (CS Course) कोर्स के बारेमें विस्तारपूर्वक जानकारी – CS Course Details in Hindi

cs course details hindi
CS Course Details Hindi

सी.एस का फुल फॉर्म या अर्थ क्या होता है?- CS Full Form or What is CS Course

शिक्षाक्रम सी.एस का फुल फॉर्म कंपनी सेक्रेटरी होता है, जो के विभिन्न चरणो द्वारा पुरा करने का प्रावधान दिया हुआ रहता है।

मुख्यतः इस शिक्षाक्रम को पुरा करनेवाले व्यक्तियो को किसी भी कंपनी मे उच्चतर अधिकारियो के निजी सहकारी के रूप मे काम करने का मौका मिल जाता है।

सी.एस शिक्षाक्रम का प्रारूप – C.S Course Structure

यहा आपको सबसे महत्वपूर्ण जाननेयोग्य चिज ये है के इस शिक्षाक्रम का बुनियादी प्रारूप क्या होता है।इसी विषय पर निचे हमने इस शिक्षाक्रम कि संरचना से जुडी अत्यंत आवश्यक जानकारी दी हुई है। जैसा के;

  1.  इस शिक्षाक्रम को चरणबध्द तरिके से तैयार किया गया होता है, जिसमे क्रमशः प्रथम चरण को फाउंडेशन प्रोग्राम कहा जाता है। दुसरे चरण को एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम कहा जाता है, इसके अलावा होता है प्रोफेशनल प्रोग्राम जो के इस कोर्स का अंतिम चरण होता है।
  2.  इस कोर्स से संबंधित बहुत सारी संस्था या महाविद्यालयो मे उपरोक्त तीन चरणो के बाद मैनेजमेंट ट्रेनिंग का प्रावधान भी दिया होता है, जिसे छात्रो को पुरा करना होता है।
  3. उपरोक्त दिये गये शिक्षाक्रम के विभिन्न चरणो मे प्रवेश हेतू शिक्षा से जुडी पात्रताए अलग अलग प्रकार की होती है।जिसे आपको विस्तार से हम शिक्षाक्रम के पात्रता के दौरान समझायेंगे।
  4.  भारतीय कंपनी सचिव संस्थान (ICSI) के अंतर्गत ये शिक्षाक्रम शामिल होता है, जो के कॉर्पोरेट क्षेत्र से जुडे संयुक्त भारत के मंत्रालय विभाग से संलग्नित होता है।

सी.एस शिक्षाक्रम मे प्रवेश हेतू पात्रता – CS Course Eligibility

यहा हम आपको विस्तार से समझायेंगे के सी.एस कोर्स मे प्रवेश हेतू किस तरह के पात्रता संबंधी मापदंड को पुरा करना होता है, निम्नलिखित तौर पर इन सभी बातो का विवरण हमने दिया हुआ है। जैसा के;

  1.  इस शिक्षाक्रम को आप कक्षा १२ वी उत्तीर्ण करने के बाद या फिर ग्रेज्युएशन की शिक्षा के उपरांत प्रवेश ले सकते है।अगर आपको कक्षा १२ वी के बाद प्रवेश लेना हो तो इसमे शिक्षा धारा का कोई भी बंधन नही होता।मतलब आर्ट्स,कॉमर्स या फिर सायन्स इनमे से किसी भी शिक्षा धारा से १२ वी कक्षा उत्तीर्ण छात्र सी.एस के लिये प्रवेश पा सकता है।
  2. कक्षा १२ वी उत्तीर्ण छात्रो को सी.एस कोर्स हेतू प्रथम चरण जो के फाउंडेशन प्रोग्राम मे दाखिला दिया जाता है, इसके बाद इन छात्रो को क्रमशः आगे के चरण जैसे के एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम और प्रोफेशनल प्रोग्राम को पुरा करना होता है।
  3. ग्रेज्युएशन के बाद भी छात्र इस कोर्स हेतू प्रवेश ले सकते है, जिसमे लगभग सभी शिक्षा धारा से ग्रेज्युएशन उत्तीर्ण छात्रो को प्रवेश दिया जाता है।सिर्फ फाईन आर्ट्स से ग्रेज्युएशन की शिक्षा उत्तीर्ण छात्रो को यहा प्रवेश नही दिया जाता है।
  4.  ग्रेज्युएशन के बाद सी.एस कोर्स हेतू प्रवेश प्राप्त छात्रो को फाउंडेशन प्रोग्राम को प्रवेश लेने की जरुरत नही होती है, सिधे तौर पर इन छात्रो को एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम के लिये प्रवेश दिया जाता है।जिसमे एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम और प्रोफेशनल प्रोग्राम केवल इन दोनो चरणो को छात्रो को पुरा करना होता है।
  5.  जिन छात्रो ने कक्षा १२ के बाद सी.एस कोर्स के लिये प्रवेश लिया है, पर फाउंडेशन प्रोग्राम और एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम को उत्तीर्ण नही किया है। उन्हे इन दोनो चरणो को सफलता पूर्वक उत्तीर्ण किये बगैर अंतिम परीक्षा जो के प्रोफेशनल प्रोग्राम होती है, उसके लिये पात्र नही माना जाता। इसका मतलब आपको कक्षा १२ वी के बाद क्रमबध्द चरणो से सभी परीक्षा को उत्तीर्ण कर इस कोर्स को पुरा करना होता है।
  6.  जिन सभी छात्रो को ग्रेज्यूएशन के बाद इस कोर्स मे प्रवेश लेना होता है, उन्हे एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम को सफलता पूर्वक पुरा करने के पश्चात ही प्रोफेशनल प्रोग्राम हेतू प्रवेश मिल पाता है।

सी.एस कोर्स मे प्रवेश हेतू प्रक्रिया – CS Course Admission Process

इस कोर्स की प्रवेश प्रक्रिया को समझने मे शायद आपको थोडी उलझन हुई होगी, या फिर कुछ हद तक आप इसे अब तक सही तरीके से समझ नही पाये होगे तो, निचे दिये गये जानकारी के माध्यम से आपको इसे सही तरिके से समझ पायेंगे।यहा आपको चरणबध्द तरीके से इस प्रवेश प्रक्रिया को समझना होगा, जैसे के;

फाउंडेशन प्रोग्राम:

  1. अगर आपको फाउंडेशन प्रोग्राम हेतू प्रवेश लेना है तो, इसकी परीक्षा दिसंबर महा मे ली जाती है तो अगर आप दिसंबर के परीक्षा हेतू प्रवेश लेते है तो उसी साल आपको मार्च के माह मे प्रवेश सुनिश्चित करना होता है।
  2.  इसके अलावा अगर आपको जून माह मे होनेवाले फाउंडेशन प्रोग्राम परीक्षा को देना है, तो उसके पिछले साल सितम्बर मे प्रवेश निश्चित करना होगा।

यहा पर एक बात स्पष्ट होती है के साल मे दो बार फाउंडेशन प्रोग्राम परीक्षा का आयोजन किया जाता है, सिर्फ इन परीक्षा मे बैठ्ने हेतू प्रवेश का समय अलग अलग दिया गया होता है।

इस प्रकार से इन महत्वपूर्ण प्रवेश संबंधी तय समय को आप को ठीक तरह से समझकर ही अपना प्रवेश सुनिश्चित करना होता है।

एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम:

यहा इस शिक्षाक्रम मे एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम दुसरा चरण होता है, जिसके पाठ्यक्रम कि रचना मोड्यूल के तौर पर की हुई होती है जिसमे कुल दो मोड्यूल होते है।

इसी के आधार पर छात्रो को एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम प्रवेश लेना होता है, निम्नलिखित तौर पर हम इससे जुडे प्रवेश प्रक्रिया की जानकारी देंगे।जैसा के;

  1. जो छात्र मई माह तक सी.एस के एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम हेतू प्रवेश को सुनिश्चित करते है,वो सभी दिसंबर माह मे होनेवाले परीक्षा मे दो मे से किसी भी एक मोड्यूल की परीक्षा को बैठ सकते है।
  2.  इसके अलावा जो छात्र नोव्हेंबर माह तक एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम हेतू प्रवेश को सुनिश्चित करते है,वो सभी अगले साल जून मे होनेवाले एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम के परीक्षा मे किसी भी एक मोड्यूल की परीक्षा मे बैठ सकते है।
  3.  जिन छात्रो को दोनो भी मोड्यूल की परीक्षा हेतू सम्मिलित होना होता है जिसकी परीक्षा दिसंबर माह मे ली जाती है, इस स्थिती मे उसी साल फरवरी माह तक ऐसे छात्रो को अपने प्रवेश को एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम हेतू सुनिश्चित करना होता है।
  4. इसके अलावा दोनो भी मोड्यूल की परीक्षा जून माह मे भी ली जाती है, इस स्थिती मे अगर आपको अगले साल जून माह मे दोनो भी मोड्यूल की परीक्षा मे सम्मिलित होना है तो, शुरू वर्ष मे अगस्त माह तक आपको अपना प्रवेश एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम हेतू सुनिश्चित करना होता है।

इस तरह आपको प्रवेश हेतू तय समय को ठिक तरीके से समझना होता है,जिसमे दोनो भी मोड्यूल कि परीक्षाए साल भर मे विभिन्न तौर पर आयोजित की जाती है।

प्रोफेशनल प्रोग्राम:

प्रोफेशनल प्रोग्राम जो के सी.एस कोर्स की अंतिम परीक्षा और चरण होता है, जिसमे कुल तीन मोड्यूल शामिल होते है।इसमे प्रवेश कि प्रक्रिया को निम्नलिखित तौर पर दिया गया है।जैसा के;

  1. अगर आपको प्रोफेशनल प्रोग्राम के सभी मोड्यूल के परीक्षा मे शामिल होना होता है तो, उसी साल के फरवरी माह तक आपको अपना प्रवेश निश्चित करना होता है।
  2.  इसके सिवा अगर आपको अगले साल होने वाले सभी मोड्यूल कि परीक्षा मे बैठना हो तो,शुरू साल मे अगस्त महिने तक प्रोफेशनल प्रोग्राम हेतू अपने प्रवेश को निश्चित करना होता है।
  3. किसी भी एक मोड्यूल कि परीक्षा मे अगर आप बैठना चाहते है, तो दिसंबर माह में होनेवाली परीक्षा हेतू आपको उसी साल मई के माह तक अपने प्रवेश को सुनिश्चित करना होता है।
  4. अगर आप नवंबर के माह तक प्रवेश हेतू पात्र हुये है और किसी भी एक मोड्यूल कि परीक्षा देना चाहते है तो आपको नवंबर माह तक अपने प्रवेश को प्रोफेशनल प्रोग्राम हेतू सुनिश्चित करना होता है।जिसकी परीक्षा आप अगले साल जून माह मे दे सकते है।

इस प्रकार से चरणबध्द तरीके से आपको इस शिक्षाक्रम को पुरा करना होता है,जिसमे समय समय पर होनेवाले परीक्षाओ मे शामिल होने हेतू भी आपको जागरूक रहना होता है।

सी.एस शिक्षाक्रम का पाठ्यक्रम – CS Course Syllabus

आपको यहा हम क्रमशः चरणबध्द तरीके से फाउंडेशन प्रोग्राम, एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम,प्रोफेशनल प्रोग्राम इन सभी के पाठ्यक्रम की जानकारी विस्तार देंगे, जिसको पढने के बाद आपको इस कोर्स मे मौजूद विषयो का परिचय होने मे मदद मिलेगी। निम्नलिखित तौर पर इसे आप पढ पायेंगे, जैसा के;

१. फाउंडेशन प्रोग्राम:

फाउंडेशन प्रोग्राम मे कुल आपको कुल चार पेपर पर आधारित परीक्षा को देना होता है, जैसे के;

  1. बिजनेस एनवायरनमेंट एंड लॉ
  2. बिजनेस मैनेजमेंट,इथिक्स एंड इंटरप्रेन्यूअरशीप
  3. बिजनेस इकोनॉमिक्स
  4. फंडामेंटल्स ऑफ एकाउंटिंग एंड ऑडीटिंग

२. एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम:

यहा पाठ्यक्रम दो मोड्यूल मे बटा हुआ होता है,जिसमे कुल आठ पेपर पर आधारित परीक्षा को आपको पास करना होता है,जैसा के;

मोड्यूल- १ (४ पेपर)

  1.  जुरीसप्रुडेन्स, इंटरप्रीटेशन एंड जनरल लॉ
  2. कंपनी लॉ
  3. सेटिंग अप ऑफ बिजनेस एन्टीटीज एंड क्लोजुअर
  4.  टैक्स लॉ

मोड्यूल- २ ( ४ पेपर)

  1. कॉर्पोरेट एंड मैनेजमेंट एकाउंटिंग
  2.  सिक्युरिटीज लॉ एंड कैपीटल मार्केट्स
  3.  इकोनॉमि, बिजनेस एंड कमर्शियल लॉ
  4. फाइनेंशियल एंड स्ट्रैटेजिक मैनेजमेंट

प्रोफेशनल प्रोग्राम:

प्रोफेशनल प्रोग्राम मे कुल ३ मोड्यूल होते है,जिसमे ९ पेपर पर आधारित परीक्षा देना होता है,जैसे के ;

मोड्यूल – १

  1. गवर्नेंस, रिस्क मैनेजमेंट, कॉम्पलायन्सेस एंड इथिक्स
  2. एडवांस्ड टैक्स लॉ
  3.  ड्राफ्टिंग, प्लीजिंग एंड एपिअरंसेस

मोड्यूल- २

  1.  सेक्रेटरीअल ऑडीट
  2. कॉर्पोरेट रिस्ट्रक्चरिंग
  3.  रिजोल्युशन ऑफ कॉर्पोरेट डिस्पुट

मोड्यूल- ३

  1. कॉर्पोरेट फंडिंग एंड लिस्टिंग इन स्टॉक एक्सचेंज
  2. मल्टीडिसीप्लीनरी केस स्टडीज

निचे दिये हुये सभी विकल्पो मे से कोई भी एक विषय को चूनना होता है:

  • इन्शुरन्स लॉ एंड प्रैक्टिस
  • फोरेन्सिक ऑडीट
  • बँकिंग लॉ एंड प्रैक्टिस
  • डायरेक्ट टैक्स लॉ एंड प्रैक्टिस
  • इंटेलेक्चूअल प्रोपर्टी राईटस – लॉ एंड प्रैक्टिस
  • वैल्यूएशन एंड बिजनेस मोडेलिंग
  • लेबर लॉ एंड प्रैक्टिस
  • इनसोल्वन्सी लॉ एंड प्रैक्टिस

सी.एस शिक्षाक्रम का शुल्क – CS Course Fees

  • फाउंडेशन प्रोग्राम का शुल्क:
  1. एडमिशन फी – १२०० रुपये
  2.  ट्युशन फी – २४०० रुपये
  3.  परीक्षा फी – ८७५ रुपये

इस प्रकार से लगभग ४५०० रुपये तक फाउंडेशन प्रोग्राम का कुल शुल्क होता है।

  • एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम का शुल्क:
  1. कॉमर्स ग्रेज्युएट छात्रो के लिये शुल्क – ९,००० रुपये
  2.  गैर-कॉमर्स ग्रेज्युएट छात्रो के लिये शुल्क – १०,००० रुपये
  3.  सी.एस फाउंडेशन प्रोग्राम उत्तीर्ण छात्रो के लिये शुल्क- ८,५०० रुपये
  • प्रोफेशनल प्रोग्राम का शुल्क:
  1. रजिस्ट्रेशन फी – १,५०० रुपये
  2. फाउंडेशन प्रोग्राम से छुट मिलने के ऐवज मे लगाया गया शुल्क – ५०० रुपये
  3. एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम से छुट मिलने के ऐवज मे लगाया गया शुल्क – ५०० रुपये
  4. ट्युशन फी – ९,५०० रुपये

इस तरह से प्रोफेशन प्रोग्राम का कुल शुल्क १२०० रुपये होता है।

सी.एस कोर्स का अवधी – CS Course Duration

निचे हमने इस कोर्स का अवधी दिया है, जिसमे तीनो चरणो के अवधी कि जानकारी मौजूद है।

  1.  फाउंडेशन प्रोग्राम – न्यूनतम अवधी एक साल
  2.  एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम – १ साल
  3. प्रोफेशनल प्रोग्राम – १ साल

इस प्रकार से आप लगभग ३ साल मे इस कोर्स को पुरा कर सकते है, जिसमे आपके अधिकतर बार असफल होने पर कोर्स के अवधी मे बढोतरी हो सकती है।

सी.एस शिक्षाक्रम हेतू महाविद्यालय/युनिव्हर्सिटी- Colleges/University For C.S Course

देशभर मे मौजूद कुछ महविद्यालय/युनिवर्सिटी की जानकारी हमने निचे दी है,जहा पर आप सी.एस शिक्षाक्रम हेतू प्रवेश प्राप्त कर सकते है। जैसे के;

  1. नवकार इन्स्टिट्यूट – अहमदाबाद
  2.  आई.सी.एस.आई – दिल्ली
  3.  सिद्धार्थ अकादमी – ठाणे
  4.  फिनोवेटिव सोल्युशन – बोरिवली, मुंबई
  5.  ईलाईट आई.आई.टी – बंगलौर
  6.  ए.एस.डी अकादमी – पुणे
  7. गुड शेफर्ड प्रोफेशनल अकादमी – पुणे
  8.  मास्टर माइंड अकादमी – दिल्ली
  9.  पायल कॉमर्स अकादमी – पुणे
  10.  राजमाता विजयाराजे सिंधिया कृषी विश्वविद्यालय – ग्वालियर
  11.  वात्सल्य इन्स्टिट्यूट ऑफ सायन्स एंड टेक्नोलॉजी – नालगोंडा
  12.  सिक्युरिटी सेक्टर स्किल डेवलपमेंट कौन्सिल- गुडगाव
  13.  गुरुशिखर प्रोफेशनल स्टडीज प्रा.लि – जयपूर
  14.  क्रेस्ट एज्युस्कोर- नई दिल्ली

इत्यादी..

सी.एस कोर्स के बाद रोजगार के अवसर तथा सैलरी – Job Opportunities And Salary After C.S

कुछ पदो का विवरण हमने निचे दिया हुआ है जिन पर आप सी.एस कोर्स को पुरा करने के बाद आसानी से रोजगार प्राप्त कर सकते है।

  1.  लिगल एडवायजर
  2.  कॉर्पोरेट प्लैनर
  3.  एडमिनिस्ट्रेटिव असिस्टंट
  4.  एडमिनिस्ट्रेटिव सेक्रेटरी
  5.  कंपनी रजिस्ट्रार
  6.  कॉर्पोरेट पॉलिसीमेकर
  7.  कंपनी सेक्रेटरी
  8.  असिस्टंट टू द बोर्ड ऑफ डायरेक्टर

इत्यादि..

उपरोक्त दिये गये पदो के लिये विभिन्न प्रकार कि सैलरी दी जाती ही जिसमे फ्रेशर छात्रो को शुरुवात मे लगभग १५ हजार प्रती माह से लेकर ४० हजार प्रती माह तक की सैलरी दी जाती है।

जिसमे कुछ समय बाद बढोतरी भी होती है, आपको मिलने वाली सैलरी आपके रोजगार के शहर तथा कंपनी के उपर भी कुछ हद तक निर्भर होती है।

इस तरह से आपने सी.एस कोर्स के विषय मे लगभग सभी महत्वपूर्ण मुद्दो के बारे मे पढा, आशा करते है ये जानकारी आपको अच्छी लगी होगी साथ साथ आपके लिये ये काफी फायदेमंद भी साबित होगी। हमसे जुडे रहने के लिये बहुत बहुत धन्यवाद।….

CS कोर्स के बारेमें अधिकतर बार पुछे गये सवाल – CS Questions and Answers

१. कंपनी सेक्रेटरी कोर्स के लिये प्रवेश हेतू शिक्षा कि न्यूनतम पात्रता क्या होती है?

जवाब: सी.एस यानि कंपनी सेक्रेटरी कोर्स के लिये शिक्षा संबंधित पात्रता न्यूनतम १२ वी कक्षा किसी भी शिक्षा धारा से उत्तीर्ण करना अनिवार्य होता होता है।

२. मुझे कंपनी सेक्रेटरी कोर्स को पुरा करने के लिये कितना अवधी देना होगा?

जवाब: अगर आप कक्षा १२ वी उत्तीर्ण कर इस कोर्स हेतू प्रवेश लेते है तो आपको न्यूनतम ३ साल का अवधी इस कोर्स हेतू देना होता है,वही अगर आप ग्रेज्युएशन के बाद इस कोर्स के लिये प्रवेश लेते है तो न्यूनतम २ साल के शिक्षा सत्र मे आप इस कोर्स को पुरा कर सकते है।

३. सी.एस का फुल फॉर्म क्या होता है?

जवाब: कंपनी सेक्रेटरी।

४. सी.एस कोर्स मे शामिल फौन्डेशन प्रोग्राम का अवधी कितने सालो का होता है?

जवाब: १ साल का।

५. कंपनी सेक्रेटरी कोर्स मे शामिल तिनो चरण किस प्रकार के होते है?

जवाब: प्रथम चरण फौंडेशन प्रोग्राम होता है, द्वितीय चरण होता है एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम तो आखरी चरण होता है प्रोफेशनल प्रोग्राम।इस तरह कुल मिलाके तीन चरण का ये कोर्स होता है।

६. क्या मै ग्रेज्यूएशन के बाद सी.एस कोर्स के लिये प्रवेश ले सकता हु?

जवाब: हा।

७. ग्रेज्युएशन के बाद सी.एस कोर्स मे कौनसे चरण के लिये प्रवेश तय होता है?ग्रेज्युएशन के बाद सी.एस कोर्स कितने सालो का होता है?

जवाब: आपको ग्रेज्युएशन के बाद सी.एस कोर्स के द्वितीय चरण जो कि एग्जीक्यूटिव प्रोग्राम होता है उसके लिये प्रवेश दिया जाता है, इस प्रकार से ग्रेज्युएशन के बाद आपको सी.एस कोर्स को पुरा करने हेतू न्यूनतम दो साल का समय देना होता है।

८. क्या सी.एस कोर्स मे प्रवेश के लिये आयु की कोई सीमा निर्धारित होती है?

जवाब: नही।

९. मुझे कंपनी सेक्रेटरी कोर्स के लिये प्रवेश लेना है, क्या इसके लिये किसी पात्रता परीक्षा को देना अनिवार्य होता है?

जवाब: नही।

१०. कंपनी सेक्रेटरी कोर्स को पुरा करने वाले फ्रेशर छात्राओ कितना सैलरी दिया जाता है?

जवाब: वैसे तो आपको इस कोर्स को पुरा करने के बाद आपको दी जाने वाली सैलरी आपके रोजगार के शहर, कंपनी और पद पर निर्भर होता है।क्योंकी इस कोर्स के पश्चात विभिन्न पदो पर रोजगार से जुडे अवसर उपलब्ध होते है, सामान्यतः सी.एस फ्रेशर छात्र को प्रती माह १५ हजार से लेकर ४० हजार के बिच मे सैलरी दी जाती है।

११. मुझे कंपनी सेक्रेटरी कोर्स के फायदे बताइए?

जवाब: इस कोर्स को पुरा करने के पश्चात आप बडे शहर या महानगर मे स्थित उच्च मानक एवं स्तर की निजी कंपनीयो मे निजी सहकारी, कॉर्पोरेट प्लैनर,कंपनी सेक्रेटरी, लिगल एडवायजर आदि पदो पर काम करने का मौका मिल जाता है।इन सभी पदो के लिये काफी अच्छी सैलरी दी जाती है,इसके अलावा इस कोर्स मे कंपनी तथा औद्योगिक क्षेत्र से जुडे सभी कानुनो संबंधी जानकारी प्राप्त हो जाती है।जिससे आपको लिगल एडवायजर के तौर पर खुदका स्वतंत्र व्यवसाय करने का विकल्प निकल कर सामने आता है,हालाकि यहा आप सिर्फ कंपनी और औद्योगिक क्षेत्र के ही कानुनो संबंधी मार्गदर्शन कर सकते है।

१२. मेरा फाईन आर्ट से ग्रेज्युएशन पुरा हुआ है,तो क्या मै सी.एस कोर्स के लिये प्रवेश पा सकता हु?

जवाब: नही।

Gyanipandit.com Editorial Team create a big Article database with rich content, status for superiority and worth of contribution. Gyanipandit.com Editorial Team constantly adding new and unique content which make users visit back over and over again.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.