भारत छोड़ो आंदोलन – Quit India Movement In Hindi

Quit India Movement In Hindi

हमारा भारत देश कई सालों तक अंग्रेजों की गुलामी और उनके असहनीय अत्याचारों का दंश झेलता रहा। क्रूर ब्रिटिश शासकों ने तमाम भारतीयों से उनका जीने तक का अधिकार छीन लिया था।

वे सिर्फ भारतीयों को अपनी कठपुतली समझने लगे थे, जिसे देखकर भारत माता के कई वीर और क्रांतिकारी सपूतों ने देश को गुलामी की परतंत्रता से मुक्ति दिलवाने के लिए अंग्रेजों के खिलाफ कई आंदोलन चलाए और इन आंदोलनों के दौरान कई स्वतंत्रता सेनानियों को अपनी प्राण की बाजी तक लगानी पड़ी, लेकिन आज देश के क्रांतिकारियों द्धारा अंग्रेजों के खिलाफ किए गए इसी तरह के आंदोलनों की वजह से ही हम सभी भारतीय आजाद भारत में चैन की सांस ले पा रहे हैं।

देश को गुलामी की बेड़ियों से आजाद करवाने के लिए ऐसा ही एक बड़ा आंदोलन आजादी के महानायक माने जाने वाले महात्मा गांधी जी ने भी अंग्रेजों के खिलाफ साल 1942 में एक ऐसा ही आंदोलन चलाया और इस आंदोलन को “भारत छोड़ो आंदोलन” या ‘अंग्रेजों भारत छोड़ो’ नाम दिया। आइए जानते हैं भारत छोड़ो आंदोलन के बारे में –

भारत छोड़ो आंदोलन – Quit India Movement In Hindi

Quit India Movement In Hindi

एक नजर में ‘भारत छोड़ो आंदोलन’ के बारे में – Bharat Chhodo Andolan In Hindi

कब हुआ आंदोलन

(When Quit India Movement Started)

8 अगस्त 1942 (अगस्त क्रांति)

कहां हुआ आंदोलन

(Where Was Quit India Movement Started)

गोवालिया टैंक मैदान, बॉम्बे, भारत

किसने किया आंदोलन का नेतृत्व

(Who Started Quit India Movement)

मोहनदास करमचंद गांधी (Mahatma Gandhi)

आंदोलन का मुख्य नारा

(Quit India Movement Slogan)

‘करो या मरो’ (Do or Die)

आंदोलन करने का मुख्य उद्देश्य

(Objectives Of Quit India Movement)

गुलाम भारत को अंग्रेजों से आजादी दिलवाने के लिए

अंग्रेजों के खिलाफ चलाया गया यह एक बड़ा आंदोलन था।

आंदोलन का परिणाम

(Conclusion Of Quit India Movement)

इस आंदोलन से देश परतंत्रता की बेड़ियों से मुक्त नहीं हो सका,

लेकिन इस आंदोलन के बाद सभी भारतीयों के अंदर अंग्रेजों से आजादी पाने की अलख जाग गई।

इस आंदोलन को भारत को आजाद करवाने में काफी महत्वपूर्ण माना गया है

एवं इसे भारत की स्वतंत्रता के लिए किया जाने वाले आखिरी महानतम प्रयास भी बताया गया है।

 देश को ब्रिटिश हुकूमत के शासन से मुक्त करवाने के लिए अंग्रजों के खिलाफ चलाए गए आंदोलनों में भारत छोड़ो आंदोलन ने भी अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

1857 के स्वतंत्रता संग्राम के बाद साल 1942 में चलाया गया ‘भारत छोड़ो आंदोलन’ एक ऐसा आंदोलन था, जिसने अंग्रेजों को भारतीयों की अदम्य शक्ति का एहसास दिलवा दिया था एवं उन्हें भारत छोड़ने के लिए विवश कर दिया था।

भारत छोड़ो आंदोलन के बाद कई ऐसे बदलाव हुए जिससे आजादी तो नहीं मिली, लेकिन आजादी पाने का रास्ता साफ होता चला गया एवं इसके बाद ही हर भारतीय के मन में आजादी पाने की अलख जाग गई थी, अंग्रेजों के खिलाफ और अधिक नफरत पैदा हो गई थी। गांधी जी ने ‘करो या मरो’ के नारे के साथ बिट्रिश हुकूमत के खिलाफ इस आंदोलन का आह्मवान किया था।

कब और कैसे हुई भारत छोड़ो आंदोलन की शुरुआत – Bharat Chhodo Andolan Kab Hua

महात्मा गांधी के नेतृत्व में साल 1942 में अंग्रेजों के खिलाफ भारत छोड़ो आंदोलन चलाया गया था, जिसे अगस्त क्रांति (August Kranti) के नाम से भी जाना जाता है। दूसरे विश्व युद्ध के दौरान जब ब्रिटिश सैनिकों को कई जगह से परास्त मिल चुकी थी एवं ब्रिटिश सेना कमजोर पड़ने लगी थी, उस दौरान भारत पर जापानी सेना का आक्रमण करना तय लगने लगा था।

वहीं जब जापान ने प्रशांत महासागर को पार करते हुए मलाया और बर्मा पर कब्जा कर लिया एवं भारत की तरफ आगे बढ़ने लगा गया,उस दौरान ब्रिटेन पर अमेरका,चीन, रुस आदि भारत से समर्थन हासिल करने का दबाव डाल रहे थे, जिसके बाद ब्रिटेन ने भारत पर इस लड़ाई में ब्रिटिशों का साथ देने की पहल की थी।

इसके लिए ब्रिटेन ने स्टेफोर्ड क्रिप्स को भारत मार्च 1942 में भारत भेजा था। दरअसल, ब्रिटेन भारतीयों का समर्थन तो प्राप्त करना चाहती थी लेकिन भारत को पूर्ण रुप से आजादी नहीं देना चाहती थी, वह भारत की सुरक्षा को अपने ही हाथों में रखना चाहती थी, इसके साथ ही गर्वनर-जनरल वीटों के भी सभी अधिकारों को पहले की तरह ही रखना चाहती थी।

अंग्रेजों के इस प्रस्ताव से भारतीय प्रतिनिधि काफी असंतुष्ट थे और उन्होंने क्रिप्स मिशन के इन सभी प्रस्तावों को मानने से इंकार कर दिया था। भारत में क्रिप्स मिशन की विफलता का महात्मा गांधी जी ने फायदा उठाया और अंग्रेजों से भारत से चले जाने एवं भारतीयों के हाथ में सत्ता देने की मांग की।

लेकिन अंग्रेज इसके लिए तैयार नहीं हुए। इसके बाद भारतीयों ने ब्रिटिश सरकार का बहिष्कार कर दिया। इसके तहत, पहले वर्धा में कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक हुई जहां गांधी जी के इस प्रस्ताव से कांग्रेसी नेता दो गुटों में बंट गए। बैठक में इस पर चर्चा हुई कि अगर अंग्रेज भारत छोड़ देते हैं, तो अस्थाई सरकार बनेगी और ब्रिटिश शासन के खिलाफ ”नागरिक अवज्ञा आंदोलन” चलाया जाएगा, जिसका नेतृत्व गांधीजी द्धारा किया जाएगा।

वहीं अहिंसात्मक विचारों से प्रभावित होने की वजह से महात्मा गांधी ने इस फैसले का समर्थन नहीं किया, दरअसल महात्मा गांधी किसी भी तरह से युद्ध में शामिल नहीं होना चाहते थे, वे अहिंसात्मक तरीके से आंदोलन कर ब्रिटिश हुकूमत से आजादी पाना चाहते थे।

इसके बाद 8 अगस्त, 1942 में बॉम्बे के ”ग्वालिया टैंक” में ‘अखिल भारतीय कांग्रेस’ की बैठक आयोजित हुई। इस बैठक में यह फैसला लिया गया कि अंग्रेजों को किसी भी हाल में भारत छोड़ना ही पड़ेगा एवं भारत खुद की सुरक्षा करने में सक्षम है और फांसीवाद एवं सम्राज्यवाद के खिलाफ भारत संघर्ष करेगा, बशर्ते भारत को आजादी मिलनी चाहिए।

हालांकि, बाद में महात्मा गांधी जी के विचारों का समर्थन करते हुए कांग्रेस कार्यसमिति ने गांधी जी के ”भारत छोड़ो प्रस्ताव” को स्वीकार कर लिया। हालांकि, महात्मा गांधी जी के इस प्रस्ताव को मुस्लिम लीग, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, हिन्दू महासभा, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ समेत कई राजनैतिक दलों ने समर्थन नहीं दिया था और बाद में इस आंदोलन की काफी आलोचना भी की थी।

तो कई राजनेताओं ने आंदोलन का सही समय नहीं बताया। वहीं इस समय भारतीय राजनैतिक दलों के नेताओं के बीच काफी मतभेद भी हुए थे।

‘करो या मरो’ का नारा बना इस आंदोलन का मूल मंत्र – Bharat Chhodo Andolan Slogan

‘भारत छोड़ो’ प्रस्ताव के तहत देश को गुलामी की परतंत्रता की बेड़ियों से आजाद करवाने के लिए अहिंसा पर आधारित आंदोलन की शुरुआत हुई। हालांकि, इस जन आंदोलन की शुरुआत से पहले ही गांधी जी ने देशवासियों को ‘करो या मरो’ का नारा दिया था, जिसका मतलब था कि, इस प्रयास में हर भारतवासी अपने देश को आजाद करवाने के लिए या तो इस ढंग से प्रयास करे कि गुलाम भारत को आजादी मिल जाए या फिर अपनी जान दे दे।

भारत छोड़ों आंदोलन के दौरान महात्मा गांधी जी के इस नारे ने देश के नागरिकों पर काफी गहरा प्रभाव डाला था। भारत छोड़ो और करो या मरो’ के नारे ने भारतीय जनता के अंदर देश की आजादी पाने की अलख जगा दी थी एवं देश के लोगों ने इस आंदोलन में बढ़चढ़ कर अपनी भूमिका निभाई थी।

भारत छोड़ो आंदोलन के तहत गिरफ्तारी ‘भारत छोड़ो’ प्रस्ताव में बडे स्तर पर सामूहिक संघर्ष और विरोध करने की बात कही गई थी। इसलिए ब्रिटिश सरकार ने जन-संघर्ष के शुरु होने से पहले ही 9 अगस्त, 1942 की सुबह ही भारत छोड़ो आंदोलन के नेतृत्वकर्ता महात्मा गांधी, कांग्रेस के कई बड़े नेताओं समेत श्रीमती सरोजिनी नायडू, मीराबेन, कस्तूरबा गांधी को गिरफ्तार कर अलग-अलग जेल की सलाखों के पीछे डाल दिया।

इसके साथ ही इस दौरान अखिल भारतीय कांग्रेस पर भी बैन लगा दिया गया। नेताओं की गिरफ्तारी के बाद देशवासियों ने ‘करो या मरो’ का मंत्र अपनाकर जगह-जगह प्रदर्शन किए। इस दौरान पूरे देश में कई हिंसक घटनाएं हुईं। आंदोलनकारियों ने सरकारी ऑफिसों, इमारतों को जला दिया, रेलवे पटरियों को क्षति पहुंचाई गई, जगह-जगह ब्रिटिश पुलिस और देश की जनता के बीच कई हिंसात्मक प्रदर्शन हुए।

इस दौरान पूरे देश में लाठीचार्ज, गोलीबारी और बड़े पैमाने पर गिरफ्तारियां की गईं। इस आंदोलन में काफी हिंसा हुई। ”भारत छोड़ो आंदोलन” के दौरान करीब 60 हजार लोगों को जेल में डाल दिया, तो कई हजार लोगों की जान चली गईं। इस दौरान कस्तूरबा जी की भी मौत हो गई।

वहीं गांधी जी भी बुरी तरह बीमार पड़ गए, इसके थोड़े समय बाद गांधी जी और उनके साथियों को रिहा कर दिया गया। भारत छोड़ो आंदोलन के असफल होने की मुख्य वजह महात्मा गांधी जी के नेतृत्व में चला गया यह व्यापक आंदोलन एक साथ पूरे भारत में शुरु नहीं किया गया।

अलग-अलग तारीखों में इस आंदोलन की शुरुआत होने पर इसका प्रभाव कम होता चला गया, हालांकि इस आंदोलन में बड़े स्तर पर देश के नागरिकों ने अपनी भागीदारी निभाई थी एवं उनके मन में अंग्रेजों से आजादी पाने की अलख जाग गई थी। ‘भारत छोड़ों आंदोलन’ ने बाद में बेहद हिंसक रुप ले लिया था एवं कई भारतीय यह सोचने लगे थे कि इस आंदोलन के तुरंत बाद ही वे ब्रिटिश हुकूमत की गुलामी से आजाद हो जाएंगे।

इस आंदोलन के सफल नहीं होने की यह भी एक मुख्य वजह मानी जाती है। फिलहाल, महात्मा गांधी जी का ‘भारत छोड़ो आंदोलन’ सफल जरूर नहीं हुआ था, लेकिन इस आंदोलन ने ब्रिटिश हुकूमत को भारतीयों की शक्ति का एहसास दिलवा दिया था।

इसके साथ ही यह सोचने पर मजबूर कर दिया था कि अगर सभी भारतीय एकजुट हो गए तो वे भारत में ज्यादा दिन तक अपना शासन नहीं कर सकेंगे और उन्हें भारत छोड़कर जाना पड़ेगा। इसलिए इस आंदोलन को स्वतंत्रता संग्राम के अंतिम महानतम प्रयासों में से एक बताया गया है।

इस तरह महात्मा गांधी के नेतृत्व में चलाए गए ”भारत छोड़ो आंदोलन’ ने गुलाम भारत को ब्रिटिश हुकूमत से आजाद करवाने में अपनी महत्पूर्ण भूमिका निभाई है और हर भारतीय पर एक अलग छाप छोड़ी है।

Read More:

Note: For more articles like “Quit India Movement In Hindi” & Also More New Article please Download: Gyanipandit free Android app.

1 COMMENT

  1. This Quit India movement was by far the most important event while India was fighting for it’s Independence. Gandhiji made us learn and believe that with proper commitment towards work and dedication we can achieve what we seek. A very well written article indeed.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.