सबसे सफल 4 उद्योगपतियों की प्रेरणादायक कहानिया

Success Stories Of Great People In Hindi

4 सफल उद्योगपतियों की कहानिया / Success Stories Of Great People In Hindi

1. ली का-शिंग : एशिया का सबसे अमीर आदमी जिसने 15 की आयु में ही स्कूल छोड़ दिया.

यह आदमी हॉन्ग कॉन्ग व्यापार का प्रभावशाली व्यक्ति, निवेशक और मानव प्रेमी है जो एशिया का सबसे अमीर इंसान है, जिसकी कुल संपत्ति 16 अप्रैल 2014 तक ब्लूमबर्ग करोड़पति इंडेक्स के अनुसार 31.9 बिलियन डॉलर बताई जाती है.

उनका जन्म चीन के गुआंग्डोंग में हुआ. अपने पिता की मृत्यु के बाद, अपने परीवार को सहायता करने के उद्देश् से 15 साल से भी कम की उम्र में उन्हें स्कूल छोड़नी पड़ी थी. बाद में उन्होंने प्लास्टिक ट्रेडिंग कंपनी में रोज़ 16 घंटे काम करना शुरू किया. सालो तक वे वही काम करते रहे, और फिर बाद में उन्होंने खुद की कंपनी शुरू की, जिसका नाम चेउंग कॉन्ग इंडस्ट्रीज था.
हार्वर्ड बिज़नस स्कूल के लेख के अनुसार :

” चीन में एक शिक्षक के बेटे की तरह, एक शरणार्थी जैसी छोटी शुरूवात बात में एक सेल्समेन का काम उन्होंने किया. उनके कठिन परीश्रम और आंतरिक इच्छा की बदौलत उन्होंने अपना व्यापार साम्राज्य स्थापित किया. जिसमे बैंक, रियल इस्टेट, प्लास्टिक, सेलुलर फ़ोन, टेलीविज़न, सीमेंट, रिटेल उत्पादन, होटल्स, ट्रेन, एअरपोर्ट, पोर्ट और जहाज शामिल है.”
आज ली के व्यवसाय जगत ने दुनिया के हर क्षेत्र में अपनी छाप जमा रखी है. उनके व्यवसाय में इलेक्ट्रिसिटी से टेलेकम्युनिकेशन, रियल इस्टेट से रिटेल, शिपिंग से इंटरनेट सब शामिल है. चेउंग कॉन्ग का समूह आज 50 से भी ज्यादा देशो के 250000+ कर्मचारियों को रोजगार प्रदान कर रहा है.

2. जान कौम : एक गरीब अप्रवासी सिलिकॉन वैली का बादशाह बना.

फेब्रुअरी 2014 में जब फेसबुक ने यह घोषित किया की वह मोबाइल मेसेजिंग एप्प व्हाट्स एप्प को 19 बिलियन डॉलर में खरीदने वाला है, तो जान कौम जिसने व्हाट्स एप्प को बनाया था वह सारी दुनिया के उद्योगपतियों के बिच चर्चा का विषय बन चूका था. मीडिया ने बताया की मार्क ज़ुकेरबर्ग को व्हाट्स एप्प काफी पसंद है इसलिये वे और जान मिलकर साथ में खोज करना चाहते है.
इस तरह चंद मिनटोमें करोड़पति बनने वाले कौम का जन्म कीव के छोटे से गाव में हुआ था. उनके परिवार में वह अकेला लड़का था जो मजदूरी का काम किया करता था. फ़ोर्ब्स ने अपने समाचार में बताया की उनके घर में पानी भी नही आता और उनके माता-पिता ने फ़ोन तो कभी देखा भी नही था. जब वे अपनी माता के साथ कैलिफ़ोर्निया गए थे तब उनकी उम्र सिर्फ 16 साल की ही थी. खाने के इंतज़ाम में वे दुकानों की फर्श साफ़ किया करते थे और खाना जमा करते थे. 18 साल की आयु से ही वे एक बेहतरीन कंप्यूटर हैकर बन गए थे. 1997 में, कौम को यहूने इंफ्रास्ट्रक्चर इंजीनियर के पद पर रख लिया था. कुछ ही समय बाद उनकी मुलाकात ब्रायन ऐक्टन से हुई. जनवरी 2009 में, कौम ने एक आइफोन ख़रीदा और देखा की उसमे हज़ारो नए एप्प का समावेश है. उनके जन्मदिन पर, 24 फेब्रुअरी 2009 को कैलिफ़ोर्निया में उन्होंने व्हाट्स एप्प की स्थापना की.

3. धीरूभाई अम्बानी : पोलिस्टर के राजा जो गाव की गलियो में भजिया बेचते थे.

भारत में भी हमें बहोत से महान और सफल उद्योगपतियों की कतार दिखाई पड़ती है. जिसमे से धीरूभाई अम्बानी सबसे प्रसिद्ध है. धीरूभाई, स्कूल शिक्षक हीराचंदभाई और जमनाबेन के तीन बेटो में से एक और रिलायंस इंडस्ट्रीज के संस्थापक है. उनकी दो बहने भी है. बचपन में वे तेल का यातायात करके थोड़े बहोत पैसे कमा लेते थे.

इसके साथ ही छुट्टियों में जब उनकी स्कूल नही होती थी, तो वे गाव के चौराहे पर भजिया बेचते थे.

R-ADAG के अनुसार, जब वे 17 साल के थे, तब वे यमन गए ताकि आगे बढ़ने के अवसर ढूंढ सके, और क्लर्क का काम करने लगे. इसके दो साल बाद वे शैल प्रोडक्ट के विक्रेता बने और धीरूभाई को कंपनी का तेल स्टेशन सँभालने को दिया गया, जो यमन के पोर्ट पर स्थित था. ऐसा कहा जाता है की यमन में रहते हुए ही उन्होंने खुद की कंपनी स्थापित करने के बारेमे सोच लिया था. तभी भारत वापिस आने के बाद अहमदनगर में उन्होंने उनकी पहली टेक्सटाइल मिल शुरू की. उन्हें उनके व्यवसाय में सफलता मिली, तो उन्होंने स्टॉक मार्केटमें भी अपनी कंपनी को शीर्ष पर पहोचाने की ठानी. लेकिन तभी उनका स्टॉक मार्केट से कुछ विवाद भी हुआ. उनपर अन आधिकारिक रूप से व्यवहार करने का आरोप लगा. लेकिन RBI को उनके विरुद्ध कोई गवाह न मिलने से उन्हें निर्दोष घोषित किया गया. 2007 से, अम्बानी परिवार ने साथ में व्यवसाय करने की ठानी और तक़रीबन 60 बिलियन डॉलर का मार्केट अपने कब्जे में किया और उनकी इसी आय ने उन्हें दुनिया का दूसरा सबसे अमीर परिवार बनाया.

ऊपर दिए गए 4 उद्योगपतियों के कारनामो से पूरी दुनिया चीर-परिचित है. बताइये की इनमे से किसकी कहानी ने आपको सबसे ज्यादा प्रेरित किया?

जरुर पढ़े :- धीरुभाई अम्बानी के अनमोल विचार

4. लेर्री एलिसन : आकाशवाणी के सीईओ जिनका लालन-पोषण एक सिंगल माँ ने किया.

लेर्री एलिसन का लालन-पोषण एक सिंगल माँ ने न्यू यॉर्क सिटी में किया. उनके पिता इटालियन अमेरिकन यूनाइटेड स्टेट एयर फ़ोर्स के पायलट थे. विकिपीडिया के अनुसार, जब वह 9 माह की थी तब उसे निमोनिया हो गया था और उनकी माता ने उनके उनके अंकल को दत्तक दे दिया था. जिन्होंने उसे दत्तक लिया था वह माता बहोत प्यारी और लेर्री का ध्यान रखने वाली थी. लेर्री पढाई में बहोत होशियार और बुद्धिमान थी. शिकागो यूनिवर्सिटी जाना शुरू किया, 1966 में, 22 साल की आयु में लैरी उत्तरी कैलिफ़ोर्निया गयी. 1977 में उन्होंने अपने दो सहयोगियों के साथ 2000 डॉलर के निवेश से सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट लैबोरेट्रीज (SDL) की स्थापना की. 1982 में कंपनी ने आकाशवाणी प्रणाली की स्थापना की.

फ़िलहाल, एलीसन ने salesforce.com, NetSuite, Quark Biotechnology Inc. or Astex Pharmaceuticals को खरीद लिया है. सितम्बर 2011 में, एलीसन को फ़ोर्ब्स पत्रिका ने दुनिया का पांचवा सबसे अमीर इंसान बताया. एलीसन अभी भी अमेरिका के तीसरे सबसे अमीर इंसान है, जिनकी कुल संपत्ति तक़रीबन 36.5 बिलियन डॉलर बताई गयी.

जरुर पढ़े और  : 3 सफल उद्योगपतियों की कहानिया / Success Stories Of Great People In Hindi

जरुर पढ़े :- Short Story For Kids – तू ना जाने आस-पास है खुदा

Note:-  अगर आपको Success Stories Of Great People In Hindi अच्छी लगे तो जरुर Share कीजिये.
Note:- E-MAIL Subscription करे और पायें More Article Like Short Success Stories Of Great People In Hindi And Moral Values story In Hindi आपके ईमेल पर.

5 COMMENTS

  1. aap Jo story post krte hain WO kafi motivated hoti h jb v depressed hota huin to in post ko padh kr mujhe kafi achha feel hota h baki aise hin story post krte rhiye…….
    ***********Wish You Best Of Luck***********

    • Sheetal Ji,

      Apaki website dekhi… Kafi achha likhate hain aap.. bahot badhiya.. lage raho…

      Good Luck…….

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.