इंजीनियरिंग पढ़ने वाले छात्रों के लिये महत्वपूर्ण सुझाव

अभियांत्रिकी पढनेवाले छात्रो के लिये महत्वपूर्ण सुझाव

आजकल के तकनिकी युग मे जहा तंत्रग्यान और प्रौद्योगिकी क्षेत्र मे भारी मात्रा मे विकास और संशोधन हो चुका है, तथा निरंतर नवीनीकरण पर कार्य शुरू है। ऐसे मे विभिन्न शिक्षा धाराओ मे कौशल पर आधारित शिक्षाप्रसार आम सी बात हो गई है ,प्राथमिक,माध्यमिक तथा उच्च शिक्षा के चरण जैसे ही छात्र पुरे करते है,यहा से उज्वल भविष्य के लिये निर्णय लेने का तथा उनसे जुडे शिक्षा प्रवाह का महाविद्यालय के हिसाब से चयन करना सबसे अधिक जिम्मेदारी भरा कार्य हो जाता है।

तकनिकी शिक्षा मे जिन छात्रो का झुकाव होता है,तथा जिन्हे तकनीक से जुडे क्षेत्र मे भविष्य मे काम करना है ऐसे छात्र अधिकतर बार अभियांत्रिकी शिक्षा क्रम का चयन करते है, इसिलिये आप सभी को पता होना जरुरी है के अभियांत्रिकी मे शिक्षा पुरी करना हो तो आपको इससे जुडी बुनियादी जानकारी होना अत्यावश्यक होता है, जैसे की उच्च स्तर की शिक्षा देने वाले महाविद्यालय, विश्वविद्यालय इत्यादी।

इस महत्वपूर्ण लेख द्वारा हम अभियांत्रिकी शिक्षाक्रम मे पढने वाले छात्रो को कुछ महत्वपूर्ण सुझाव देने वाले है ,जिसका उन्हे ना केवल पढाई पुरी करते वक़्त लाभ होगा बल्की उनके व्यक्तित्व विकास के पहेलू से भी ये काफी फायदेमंद साबित होगे।शायद ये सुझाव आपके लिये अनमोल मार्गदर्शक के तौर पर काम कर सकते है, जिससे आप भविष्य मे एक अच्छे तकनिकी विशेषग्य या फिर उत्कृष्ट अभियंता के तौर पर सफल व्यक्तित्व बन सकते है।

tips for engineering students

कुछ महत्वपूर्ण सुझाव (Some Important Tips)

१. ज्यादातर ध्यान सिखने पर लगाने की आदत डालिये (Focus On Learning)

अभियांत्रिकी वह तकनीकी से जुडा शिक्षा क्षेत्र होता है,जहा आपको बहूत अधिक मात्रा मे विभिन्न प्रकार का तकनिकी ग्यान अर्जित करने का तथा संकल्पनाओ को समझनेका मौका मिल जाता है, ऐसे स्थिती मे जितना हो सके आपको अधिक सिखने पर ध्यान केंद्रित करने की जरुरत होती है।

जैसे के अगर आप कम्प्युटर अभियांत्रिकी के छात्र है तो आप कम्प्युटर से जुडी अन्य भाषाओ के बारे मे सिख सकते है ,इसके अलावा सॉफ्टवेअर के बारे मे जानकारी हासिल कर उनको सिखने का भी प्रयास कर सकते है, तथा कम्प्युटर से जुडी परियोजना से भी आप कुछ नया और उपयोगी ग्यान प्राप्त कर सकते है।

यहा महत्वपूर्ण ये है के सिखने का तथा जानकारी खोजते रहने का अच्छा गुण बस आपमे विकसित होना चाहिये।

२. अपने दृष्टीकोन को हमेशा स्पष्ट रखिये – Clear Your Point Of View Always

बहूत सारे छात्र ऐसे होते है जो अभियांत्रिकी के लिये दाखिला तो हासिल कर लेते है,पर ये शिक्षाक्रम करने के पीछे का उनका उद्देश्य स्पष्ट नही होता ,या तो फिर उनके जहन मे ढेर सारी उलझन से भरे विचार रहते है, इस स्थिती मे ना तो वो शिक्षा पर सही ध्यान दे पाते और ना ही आगे बढ पाने की हिम्मत जुटा पाते है।

ऐसे छात्रो को निचे कुछ सवाल दिये है जो उनके उलझन को शायद सुलझा पायेंगे जैसे के;

आप क्यो अभियांत्रिकी करना चाहते हो? – Why Do You Want To Become An Engineer?

  1. इस शिक्षाक्रम के बाद अच्छे नौकरी मिलने के अवसर मिलते है?
  2. आप एक अच्छी डिग्री हासिल कर समाज मे प्रतिष्ठित व्यक्ती के तौर पर अपनी छवी बनाना चाहते हो?
  3. आप सर्वोच्च शिक्षाक्रम करके आगे बढकर खुदका और समाज का विकास करना चाहते हो?
  4. कोई उच्च स्तर की परीक्षा के लिये आप अभियांत्रिकी की परीक्षा उत्तीर्ण कर आगे बढने की सोचते हो?
  5. सिर्फ अच्छी तनख्वाह के रोजगार खोजने के मक्सद से आपने इस शिक्षा क्रम को चुना है?
  6. या सचमे आपको तकनिकी क्षेत्र मे दिलचस्पी है और आप एक बडा मुकाम हासिल कर कुछ अच्छा करने की सोचते हो?

आपको उपर दिये गये सवाल तथा उनके जवाबो से अपने लिये उचित जवाब तय करते आना चाहिये, और उस चीज पर आपका पुरा ध्यान होना चाहिये। तभी आप पुरी तरह इस शिक्षाक्रम को पूर्ण लगाव के साथ करने मे सक्षम हो पा सकते है।

क्योंकी अभियांत्रिकी करना आपका पसंद का शिक्षाक्रम नही है तो आप उसमे मन लगाने के कितने भी प्रयास करो शुरुवात मे आपको कई सारे कठीनाईयो से गुजरना पड सकता है, तो कोशिश करे जो भी चीजे आपको परेशान कर रही है उनको जितना जल्दी हो सके सुलझाने की कोशिश करे,कुछ वरिष्ठ लोगो से या फिर आपके मार्गदर्शक लोगो से इस विषय मे अवश्य मार्गदर्शन लेने की कोशिश करे।

3. सामाजिक जीवन और पढाई मे संतुलन रखिये – Keep Balanced Social Life & Education

बहूत बार कुछ छात्र  तो अत्याधिक पढाई मे ही व्यस्त रहते है, खुदको एक तरह से जकड लेना और सामाजिक परिवेष से एकदम अलग अकेला रहना भी मानसिक संतुलन के हिसाब से सही चीज नही होती।

इसके विपरीत कई छात्र आत्याधिक सामाजिक चीजे, सोशल मिडिया इत्यादी मे व्यस्त रहते है,फल स्वरूप पढाई पे ध्यान देना कम हो जाता है। यहा आपके लिये ये दोनो भी चीजे नुकसानदायी साबित हो सकती है, आपको इन दोनो चीजो मे तालमेल लाते आना चाहिये।क्योंकी पढाई के बाद कुछ वक्त दोस्त, परिवार जैसे चीजो को देना मन तथा मस्तिष्क को थोडी स्फूर्ती तथा उर्जा देता है और आप नये जोश से फिरसे पढाई पे ध्यान केंद्रित कर सकते है।

कोई भी चीज एक हद तक सही होती है ,इनमे संतुलन लाने की तकनीक आपको खुदमे उतारनी होगी, तभी आप पढाई और दोस्त,घर परिवार इन सभी चीजो को अच्छे से संभालकर जीवन मे उन्नती कर पायेंगे।दोस्तो के साथ जब भी वक़्त गुजारना है तो इस वक़्त को अपने पढाई, तथा आपमे मौजूद कौशल पर आधारित क्रियाशीलता पर कुछ अच्छा करने के लिये इस्तेमाल करने का प्रयास भी आपको वास्तविक जीवन मे काफी लाभदायी हो सकता है।

४. जीवन मे अच्छे मार्गदर्शक रखिये और सवालो को सुलझाने की कोशिश करे – Keep Mentor In Your Life And Solved Your Queries

करियर संबंधी उलझने सुलझाने के लिये तथा जीवन मे आपके ध्येय को पुरा करने के हिसाब से , आपको जीवन मे हर वक्त किसी विशेषग्य तथा मार्गदर्शक की जरुरत होती है।ईस परिस्थती मे आपके जीवन मे उचित मार्गदर्शन देने वाले मार्गदर्शक अवश्य होने चाहिये वो फिर आपके अध्यापक, माता पिता ,कोई रिश्तेदार या आपके भाई बहन इत्यादी भी हो सकते है, जितना हो सके खुद्के मन मस्तिष्क मे जो भी चीजो के प्रती आपको डर लगता है  उसे दूर करने की तथा  पढाई से संबंधित कोई मदद की जरुरत हो तो अवश्य लेने की कोशिश किजीये।

इन चीजो से आपमे आत्मविश्वास बढता है तथा चीजे सही समय पर सुलझ जाती है, पढाई संबंधी सवाल जवाब करते रहना आपको आगे बढने की प्रेरणा देते है, तथा आपका मनोबल भी सही दिशा मे अग्रेसर होने के लिये आपको मदद करता है।

५. महाविद्यालयके के चयन के बाद नकारात्मक विचार मन मे लाये – Don’t Be Negative About Your College

बहूत छात्र महाविद्यालय के चयन के बाद जब दोस्तो के साथ चर्चा करते है तो एक दुसरे के महाविद्यालय की कमिया तथा किफायती पहेलू पर घंटे बेवजाह की चर्चा करते है, कुछ छात्र अपनी मनोभूमिका को उस हिसाब से नकारात्मक बना लेते है ,की उनके दोस्त उनसे अच्छे महाविद्यालय मे पढ रहे है तो उनका भविष्य उनसे काफी अच्छा है और वो खुद्के महाविद्यालय को बुरा समझ पढाई से मन निकालने की कोशिश करते है।

एक बात ध्यान रखिये ग्यान सबसे महत्वपूर्ण होता है और वो तभी मिलता है जब आपमे उसे अर्जित करने की चाह और लगन होती है। आप दुनिया के कितने भी अच्छे महाविद्यालय मे पढ रहे है और फिर भी आपमे चाह ना हो तो ग्यान मिल पाना मुश्कील है, इसलिये बजाय महाविद्यालय के बारे मे नकारात्मक होने के आपका पुरा ध्यान अधिक से अधिक ग्यान अर्जित करने पे हो तो जीवन मे आप जरूर कुछ अच्छा कर गुजरते है, ये विश्वास रखिये।

६. हमेशा अच्छे दोस्त और सामाजिक परिवेष का चयन हो  – Try To Make Good Friends And Healthy Social Background

जीवन मे ना ही आपको किसी और  को नकारात्मक विचार देने है ना ही किसी और की नकारात्मक बातो से खुदका संतुलन खराब करना है, इसके लिये हमेशा अच्छे दोस्तो के साथ रहने की कोशिश किजीये जो सकारात्मक चीजो पर अधिक जोर देते है तथा जो उज्वल भविष्य के लिये गंभीर है।

यही वो जीवन का प्रमुख पाडाव होता है जो आपके जीवन के निर्माण हेतू सबसे अहम होता है,अपने परिवार के सद्स्यो के साथ हमेशा प्यार और सौहार्दपूर्ण व्यवहार रखिये,तथा माता पिता से आदरपूर्ण बर्ताव हमेशा रखना चाहिये ये  आपको अच्छा सफल इंसान बनाने के लिये काफी मददगार चीजे होती है।

७. केवल अच्छे अंक आपके व्यक्तित्व को तय नही करते  – Good Marks Are Not Enough To Judge Your Personality

बहूत छात्र महविद्यालयीन परीक्षा के अंको की वजह से नकारात्मकता तथा मानसिक तणाव के शिकार हो जाते है, यहा एक चीज हमेशा याद रखिये आपके महाविद्यालय के अंक आपके मानसिक तणाव की वजह कभी नही बनना चाहिये।

हमेशा अगली बार और मेहनत करने पर ध्यान देने की कोशिश किजीये, क्योंकी आपके परीक्षा के अंक से ज्यादा कितना आपमे ग्यान है ये चीजे बादमे जीवन मे काम मे आती है।

८. हमेशा कौशल विकास पर ध्यान देनेके तथा सकारात्मकता बढानेके प्रयास करे – Focus On Skills And Positivity Development

पढाई के साथ आपमे मौजूद कौशल तथा अन्य गुणो पर भी ध्यान केंद्रित करने की कोशिश किजीये, इनसे जुडे अच्छे तथा उपयोगी कार्यो मे मन लगाकर काम करने की आदत डालिये।

हमेशा आपके पढाई से जुडे क्षेत्र के प्रसिध्द तथा महान व्यक्तित्व के बारे मे पढने की कोशिश होनी चाहिये तथा उनके व्यक्तित्व से प्रेरणा लेने के प्रयास आपके व्यक्तित्व को निखारणे का कार्य कर सकता है, सोच हमेशा सकारात्मकता से तथा आगे बढने की होनी चाहिये।

९. इंटरनेट का सही इस्तेमाल करने की आदत अपनाये  – Use Internet By Right Way As Per Need

छात्राअवस्था मे इंटरनेट का इस्तेमाल आपको जितना आवश्यक है उतना ही करना आपके लिये फायदेमंद साबित होता है,ध्यान रहे अधिक इंटरनेट का इस्तेमाल आपके पढाई का समय बर्बाद होने की वजह ना बने।

निष्कर्ष (Conclusion)

उपर दी गई सभी चीजे आपके अभियांत्रिकी क्षेत्र मे उज्वल भविष्य के लिये मार्गदर्शन तथा आपके लिये शुभकामना देने हेतू दी गई है,महत्वपूर्ण है के आप इन चीजो पे कितना गौर करते है ,उसी के मुताबित आप सफल जीवन का निर्माण करने की ओर अग्रेसर हो पायेंगे।

इस विषय के बारे मे बार बार पुछे जाने वाले सवाल (FAQ)

१. अभियांत्रिकी शिक्षाक्रम पुरा करने के बाद मै क्या कर सकता हु?

जवाब :- या तो आप अपने अभियांत्रिकी से जुडे क्षेत्र मे रोजगार कर सकते है,या फिर गेट (GATE), GRE,TOEFL जैसे पूर्व परीक्षाओ के लिये तैयारी कर सकते है जिससे सुनहरे भविष्य का निर्माण हो सकता है। इसके अलावा युपीएससी या फिर अपने राज्य की प्रतियोगिता परीक्षा के लिये तैयारी कर सकते है ,जिससे सरकारी क्षेत्र मे आप सरकारी अभियंता के तौर पर काम कर सकते है।

२. अभियांत्रिकी के लिये किन धारा का या विषयो का चयन करना चाहिये?

जवाब:- ये सभी चीजे आपके किस क्षेत्र मे पसंद या झुकाव है उसपे निर्धारित होती है ,उसी के मुताबित आपको अभियांत्रिकी से जुडे शिक्षा धारा का चुनाव करना उचित होता है।

३. क्या अभियांत्रिकी की शिक्षा चिकित्सा(मेडिकल की पढाई) की शिक्षा से मुश्कील होती है?

जवाब:- वैसे तो ये दोनो महत्वपूर्ण शिक्षा होती है ,जो के अधिकतर व्यवहारिक(Practical) तथा वास्तविकता पे सबसे ज्यादा केंद्रित होती है। हालाकि अभियांत्रिकी की शिक्षा बहूत ज्यादा शिक्षा धाराओ मे फैली हुई है , फिर भी आप अपने पसंदीदा अभियांत्रिकी धारा मे शिक्षा पुरी कर सकते है, उस हिसाब से ये शिक्षा मेडिकल की पढाई से कभी भी मुश्कील नही होती।

४. क्या अभियांत्रिकी की शिक्षा पुरी करने के लिये गणित विषय बहूत मजबूत होना चाहिये?

जवाब :- एक हद तक ये चीज सही है पर ये चीज पुरी तरह सही नही है,क्योंकी आप इस विषय की अच्छी पढाई कर भी आसानी से अभियांत्रिकी पुरी कर सकते है।जो के गणित विषय हर टर्म मे नही होता ,सिर्फ शुरुआती कुछ टर्म मे होता है।

५. अभियांत्रिकी मे सबसे आसान कौनसी धाराए है ?

जवाब:- स्थापत्य शास्त्र (सिविल इंजिनीरिंग), कम्प्युटर इंजिनीरिंग इत्यादी अभियांत्रिकी धाराए औरो की तुलना मे आसान होती है।

Gyanipandit.com Editorial Team create a big Article database with rich content, status for superiority and worth of contribution. Gyanipandit.com Editorial Team constantly adding new and unique content which make users visit back over and over again.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.