शतरंज के शहजादे विश्वनाथन आनंद की जीवनी

Viswanathan Anand Jivani

आनन्द विश्वनाथन एक अद्भुत प्रतिभा वाले तेज-तर्रार शतरंज खिलाड़ी हैं, यह अपनी एक चाल से ही पूरे शतरंज का पासा पलट देते हैं और अपने  प्रतिद्वंदी पर दबाव डालकर उसे गलती करने पर मजबूर कर देते है।

इसलिए उन्हें शतरंज का जादूगर और शतरंज का शहंशाह भी कहा जाता है। वे खेल के क्षेत्र में मिलने वाले सबसे बड़े राजीव गाँधी खेल रत्न पुरस्कार पाने वाले पहले खिलाडी है।

इसके अलावा वे 5 बार वर्ल्ड चैस चैम्पियनशिप भी अपने नाम कर अपनी खेल प्रभुता साबित कर चुके हैं। तो आइए जानते हैं शतरंज की दुनिया के बादशाह विश्ननाथन आनंद के जीवन के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बातें-

शतरंज के शहजादे विश्वनाथन आनंद की जीवनी – Viswanathan Anand Biography in Hindi

Viswanathan Anand

विश्वनाथन आनंद की जीवनी एक नजर में- Viswanathan Anand Information in Hindi

नाम (Name) विश्वनाथन आनंद
जन्म (Birthday) 11 दिसम्बर, 1969, माइलादुत्रयी, तमिलनाडु
पिता (Father Name) विश्वनाथन अय्यर
माता (Mother Name) सुशीला
पत्नी (Wife Name) अरुणा आनंद
बच्चे (Childrens) अखिल
शिक्षा (Education) ग्रेजुएशऩ

विश्वनाथन आनंद का जन्म एवं शुरुआत जीवन – Viswanathan Anand History

विश्वनाथ आनंद 11 दिसंबर, 1969 को तमिलनाडु के एक छोटे से शहर मयिलाडुथराई में अपने माता-पिता की सबसे छोटी संतान के रुप में जन्में थे। जबकि उनका पालन-पोषण चेन्नई में हुआ था।

उनके पिता विश्वनाथन अय्यर, दक्षिणी रेलवे के एक रिटायर्ड मैनेजर थे। जबकि उनकी मां सुशीला देवी शतरंज ट्रेनर और प्रभावशाली समाज सुधारिक थी। विश्वनाथ आनंद अपनी मां की वजह से ही शतरंज खेल की तरफ आर्कषित हुए थे।

वहीं उनकी मां ने 6 साल की उम्र से ही उन्हें शतरंज खेलने की ट्रेनिंग शुरु कर दी थी। विश्वनाथन आनंद के एक बड़े भाई शिवकुमार और बहन अनुराधा भी हैं।

विश्वनाथन आनंद ने अपनी शुरुआती पढ़ाई चेन्नई के एग्मोरे में स्थित  डॉन बॉस्को मैट्रीकुलेशन हायर सेकेंडरी स्कूल से की और उन्होंने कॉमर्स विषय से ग्रेजुएशन की पढ़ाई चेन्नई के ही लोयोला कॉलेज से पूरी थी।

विश्वनाथन आनंद का विवाह एवं बच्चे – Viswanathan Anand Marriage

वर्ल्ड शतरंज चैम्पियन विश्वनाथन आनंद ने अरुणा आनंद के साथ शादी की थी। शादी के बाद दोनों को साल 2011 में एक बेटा पैदा हुआ था, जिसका नाम अखिल है।

विश्वनाथन आनंद का करियर – Viswanathan Anand Career

विश्वनाथन आनंद ने साल 2000 से 2002 तक फीडे विश्व शतरंज चैंपियनशिप (Fide World Chess Championship) का खिताब अपने नाम कर अपनी शतरंज खेलने की अनूठी प्रतिभा से सबको हैरान कर दिया था।

साल 2007 में विश्वनाथन आनंद ने वर्ल्ड शतरंज चैम्पियनशिप जीतकर पूरी दुनिया में अपनी प्रतिभा का जादू बिखेरा था।

इसके बाद वे इस दिमाग का खेल माने जाने वाले शतरंज के निर्विवाद शहंशाह बन गए थे।

2008 में आयोजित वर्ल्ड शतरंज चैंपियनशिप में विश्वनाथन आनंद ने ब्लादिमीर क्रैमनिक को हराकर अपनी जीत का खिताब बरकरार रखा। इस जीत के बाद वे शतरंज चैंपियनशिप के नॉकआउट, टूर्नामेंट और मैच में जीतने वाले वर्ल्ड शतरंज इतिहास के पहले खिलाड़ी बन गए थे।

साल 2010 में विश्वनाथ आनंद का मुकाबला बुल्गारिया के दिग्गज वेसेलिन टोपालोव से हुआ और उन्हें वर्ल्ड चैस चैम्पियनशिप का खिताब अपने नाम किया।

लगातार अपने बेहतरीन प्रदर्शन से सफलता हासिल कर रहे विश्वनाथ आनंद ने साल 2012 में भी अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखा और बोरिस गेलफैंड को हराकर एक बार फिर से विश्व चैस चैम्पियनशिप अपने नाम की।

साल 2013 और 2014 विश्वनाथ आनंद के लिए निराशाजनक रहा। इस दौरान उन्हें मैग्नस कार्ललन से दोनों बार हार का सामना करना पड़ा।

साल 2018 में विश्वनाथन आनंद ने कोलकाता में पहला टाटा स्टील शतरंज भारत ब्लिट्ज टूर्नमेंट का खिताब जीता। इस टूर्नामेंट में आनंद पहले चरण के बाद चौथे स्थान पर थे, लेकिन आखिरी दिन उन्होंने 6 बाजियां जीती और उन्होंने तीन ड्रॉ खेली और वह विश्व में तीसरे नंबर के अमेरिकी नाकामुरा की बराबरी पर पहुंच गए थे।

इसके बाद विजेता तय करने के लिए दो दौर का प्लेऑफ खेला गया जो ब्लिट्ज से भी तेज होता है। आनंद ने सफेद मोहरों से जीत दर्ज की और फिर काले मोहरों से ड्रॉ खेलकर 1.5-0.5 से जीत हासिल हासिल की। यह मुकाबला काफी दिलचस्प रहा था।

खेल करियर में सफलता एवं उपलब्धियां – Viswanathan Anand Records

  • साल 1988 में विश्वनाथन भारत के पहले ग्रैंडमास्टर बने।
  • साल 2000 में फीडे वर्ल्ड शतरंज चैम्पियनशिप जीतने वाले विश्वनाथन आनंद पहले भारतीय बने। इसके साथ ही वे इतिहास के उन 9 खिलाड़ियों  में से एक हैं, जिन्होंने फीडे विश्व चैस चैम्पियनशिप में पुराने रिकॉर्ड्स को तोड़ा और वे 21 महीनों तक वर्ल्ड के नंबर 1 खिलाड़ी बने रहे।
  • विश्वनाथन आनंद ने अपने खेल करियर में साल 1997, 1998, 2003, 2004, 2007 और 2008 में 6 बार शतरंज ऑस्कर जीता था।
  • विश्वनाथन आनंद ने 2000, 2007, 2008, 2010 और 2012 में करीब 5 बार विश्व शतरंज चैंपियन रह चुके हैं। यह उनके करियरकी यह एक बड़ी उपलब्धि है।

पुरुस्कार एवं सम्मान – Viswanathan Anand Awards

  • 1985 में विश्वनाथन आनंद को अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
  • साल 1987 में विश्वनाथन को भारत के सर्वोच्च सम्मानों में से एक पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
  • इसके अलावा 1987 में ही उन्हें राष्ट्रीय नागरिक पुरस्कार और सोवियत लैंड नेहरू पुरस्कार से भी नवाजा गया था।
  • 1991-92 में विश्वनाथन आनंद को राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। वे खेल के क्षेत्र में मिलने वाले इस सबसे बड़े पुरस्कार को पाने वाले पहले खिलाड़ी हैं।
  • साल 1998 में विश्वनाथन आनंद को स्पोर्ट्स स्टार मिलेनियम अवार्ड से नवाजा गया था।
  • साल 2000 में विश्वनाथन को अपनी अनूठी शतरंज खेल प्रतिभा के लिए पद्म भूषण सम्मान से नवाजा गया था।
  • साल 2007 में विश्वनाथन आनंद को भारत सरकार की तरफ से पद्म विभूषण पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है।

शतरंज के जादूगर माने जाने वाले विश्वनाथ आनंद कई खिलाडि़यों के आदर्श हैं। चैस के लाखों प्रशंसक उनके चैस खेलने की अद्भुत शैली के कायल हैं।

Note: आपके पास About Viswanathan Anand in Hindi मैं और Information हैं, या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिखे हम इस अपडेट करते रहेंगे। धन्यवाद… 
अगर आपको Life History of Viswanathan Anand in Hindi language अच्छी लगे तो जरुर हमें WhatsApp status और Facebook  पर Like कीजिये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.