क्या होता है नेटवर्क ‘Topology’?

What is Topology in Hindi

आप में से अधिकतर लोग नेटवर्किंग में काफी ज्यादा दिलचस्पी रखते होंगे, और इस विषय में अधिकतर जानकारी संग्रहित करने का प्रयास भी करते होंगे, पर अधिकतर लोगो को नेटवर्किंग के विषय में या तो सही जानकारी नहीं होती या फिर कुछ भ्राँतिया उनके जहन में होती है।

नेटवर्किंग को सही तरीके से समझने के लिए इसके टोपोलॉजी को जानना अत्यंत आवश्यक होता है, जिसको प्रमुख विषय बनाकर इस लेख द्वारा हम आपको इसकी जानकारी देनेवाले है। जिसे पढ़ने के बाद हमें पूरा विश्वास है आप के मन में स्थित विभिन्न शंकाओ का निराकरण होने में अवश्य मदद मिल जाएगी और टोपोलॉजी संकल्पना को आप पहले बेहतर जानेंगे।

क्या होता है नेटवर्क ‘Topology’? – What is Topology in Hindi

What is Topology in Hindi
What is Topology in Hindi

टोपोलॉजी यानी – Introduction of Topology

सरल भाषा में कहे तो टोपोलॉजी एक से ज्यादा कंप्यूटर मशीन के स्थान, उनसे जुड़े नेटवर्किंग के विभिन्न हार्डवेयर इत्यादि की रचना के भौतिक तथा तार्किक स्थापना पद्धति को दर्शाती है। भौतिक पद्धति में नेटवर्किंग से जुड़े रचना में नोड्स इत्यादि अहम बाते होती है, वही तार्किक पद्धति में डेटा फ्लो का नक्शा सबसे महत्वपूर्ण बात होती है।

नेटवर्क टोपोलॉजी की परिभाषा – Definition of Network Topology.

सुनने या पढ़ने में थोड़ा जटिल लगता है पर उतनी ये संकल्पना कठीण नहीं होती है, आम भाषा में कहे तो हम टोपोलॉजी को इस प्रकार से भी परिभाषित कर सकते है,” टोपोलॉजी नेटवर्किंग की एक विशिष्ट संरचना या कला पद्धति होती है, जिसके द्वारा एक से ज्यादा कंप्यूटर को आपस में नेटवर्किंग के प्रवाह में जोड़ा जाता है, जिसकी भौतिक पद्धति में विशिष्ट जोमेट्रिकल आकृति में रचना दिखाई पड़ती है”।

नेटवर्क टोपोलॉजी के इतिहास के बारे में जानकारी – History of Network Topology.

बीसवीं सदी के मध्य तक नेटवर्क कम्युनिकेशन के विषय में कुछ खास तरक्की नहीं हो सकी थी, हालांकि तत्कालीन समय में बहुत सारे तकनिकी विशेषज्ञ  इसके लिए प्रयासरत थे।

हर बार तकनीक से जुडी नयी समस्याएं कंप्यूटर कम्युनिकेशन के प्रगति के रस्ते में अड़चने निर्माण कर रही थी जिसमे नैसर्गिक आपदाये भी शामिल थी, रॉबर्ट मेटकॉफ नामक जानकारी विशेषज्ञ हर दिन इस में कुछ नया हासिल करने में जुटे थे जिस हेतु उन्हें काफी संघर्ष करना पड़ रहा था।

इसी दौरान साल १९६९ में रॉबर्ट मेटकॉफ ने इसी तकनीक के वरिष्ठ विशेषज्ञ हॉवर्ड फ्रैंक से सहायता माँगी, फ्रैंक की तकनीक से जुडी पृष्ठ्भूमि ऐसी थी की उन्होंने पहले से ही ‘नेटवर्क एनालिसिस कॉर्पोरेशन’ (NAC) नामक कंपनी की स्थापना की थी जो के इसी तकनीक से जुड़े कार्य करती थी।

हॉवर्ड फ्रैंक को रॉबर्ट मेटकॉफ के सहायता माँगने संबंधी सुचना मिली और उन्होंने साल १९७० में नेटवर्किंग टोपोलॉजी से जुड़े कुछ नक़्शे तैयार किये जो के उस समय अनुसार बेजोड़ थे, आगे इस पर प्रत्यक्ष कार्य भी शुरू हुए जिसमे काफी हद तक सफलता भी प्राप्त हुई।

इस विषय पर हॉवर्ड फ्रैंक द्वारा कुछ तकनिकी लेख भी लिखे गए जिससे आम लोगो को इस बारे में जानकारी मिलना शुरू हुआ। चरण बध्द तरीके से आगे नेटवर्क मेज़रमेंट संस्था की स्थापना की गई इसके अलावा हॉवर्ड फ्रैंक को आपातकालीन योजना के कार्यालय में प्रमुख पद भी दिया गया।

आगे टोपोलॉजी में तर्क पध्दति और भौतिक पद्धति में विकास हुआ जिसके अंतर्गत भौतिक पद्धति में रिंग टोपोलॉजी,बस टोपोलॉजी, स्टार टोपोलॉजी, मेश टोपोलॉजी इत्यादि टर्मिनल जोड़ने के प्रकारो का विकास हुआ।

सही मायने में कहे तो हॉवर्ड फ्रैंक के टोपोलॉजी में दिए गए अमूल्य योगदान ने उन्हें इस नेटवर्क प्रणाली के जनक (Father of Network Topology) का दर्जा प्राप्त करवा दिया।

टोपोलॉजी के विभिन्न प्रकार – Types of Topology

यहाँ हम आपको टोपोलॉजी के विभिन्न रचना पद्धति अनुसार मौजूदा प्रकारों से परिचित करवायेंगे, जिसकी सूचि निम्नलिखित तौर पर है जैसे के;

  1. स्टार टोपोलॉजी(Star Topology)
  2. रिंग टोपोलॉजी (Ring Topology)
  3. बस टोपोलॉजी (Bus Topology)
  4. हाइब्रिड टोपोलॉजी (Hybrid Topology)
  5. ट्री टोपोलॉजी (Tree Topology)
  6. मेश टोपोलॉजी (Mesh Topology)
  7. डेज़ी चेन टोपोलॉजी (Daisy Chain Topology)
  8. पी २ पी टोपोलॉजी (P2P Topology)

नेटवर्क टोपोलॉजी के सामान्य तौर पर उपयोग – Application of Network Topology

  • टोपोलॉजी नेटवर्किंग की वो व्यवस्था होती है, जिसके अंतर्गत विभिन्न कंप्यूटर मशीन को आपस में नेटवर्किंग के माध्यम से जोड़ा जाता है,इसमें स्टार टोपोलॉजी सर्वाधिक प्रसिद्ध है जिसके द्वारा अधिकतर ऑफिस, शिक्षा संस्थान, अन्य संस्थाओ में नेटवर्किंग व्यवस्था कायम की जाती है।
  • एक से अधिक सर्वर पर नियंत्रण हेतु स्टार टोपोलॉजी का इस्तेमाल किया जाता है।
  • वाइड एरिया नेटवर्क (WAN) और मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क (MAN)क्षेत्र में रिंग टोपोलॉजी का इस्तेमाल रीढ़ के हड्डी के तौर पर होता है, जैसा के अगर मुख्य नेटवर्किंग प्रवाह में तकनिकी गड़बड़ी होने के स्थिति में वहाँ के स्थानिक लोगो को रिंग टोपोलॉजी द्वारा नेटवर्किंग सुविधा मुहैय्या कराइ जाती है।
  • छोटे औद्योगिक समूह तथा लोकल एरिया नेटवर्क (LAN) क्षेत्र में बस टोपोलॉजी का इस्तेमाल किया जाता है, युनिवर्सिटी या शिक्षा संस्थान तथा अन्य ऑफिस के परिसर में आरक्षित तौर पर बस टोपोलॉजी की व्यवस्था की हुई रहती है , जो के जरुरत के समय इस्तेमाल की जाती है।
  • मेश टोपोलॉजी का विकास और उपयोग सर्वप्रथम सेना से जुड़े तकनिकी कार्य हेतु किया गया था, पर आजकल आमतौर पर घरेलु उपकरणों में विकसित स्वयंचालित उपकरण, स्मार्ट एयर कंडीशनर, स्मार्ट वेंटीलेटर और हीटिंग उपकरण के नियंत्रण हेतु भी इसका इस्तेमाल किया जाता है।आधुनिक भवनों में कई विकसित उपकरण भी मेश नेटवर्किंग द्वारा नियंत्रित करने तथा सुचारु रूप से चलाने में सहायता मिलती है।

टोपोलॉजी के फायदे – Advantage of Topology

यहाँ हम जानेंगे विभिन्न टोपोलॉजी के फायदों के बारे में जिससे आपको स्वतंत्र रूप से हर टोपोलॉजी को समझने में मदद मिल जाएँगी।

बस टोपोलॉजी – Bus Topology Advantages

  • इस प्रकार की टोपोलॉजी में अत्यंत कम मात्रा में केबल/वायर का इस्तेमाल करना पड़ता है।
  • बस टोपोलॉजी की स्थापना करना बेहद ही आसान होता है, जिसमे आप कम जगह में इसको स्थापित कर सकते है।

रिंग टोपोलॉजी – Ring Topology Advantages

  • केवल एक कंप्यूटर मशीन पर निर्भर ना होने के कारण रिंग टोपोलॉजी काफी विश्वसनीय परिणाम देती है।
  • इस व्यवस्था के अंतर्गत होस्ट कंप्यूटर ना होने के कारण इसकी कार्य कुशलता अधिक बढ़ जाती है।
  • इस नेटवर्क व्यवस्था में अचानक से अगर किसी एक लाइन या कंप्यूटर में तकनिकी खराबी के चलते, अन्य कंप्यूटर या लाइन से नेटवर्क से जुडी मदद मुहैय्या की जाती है।

स्टार टोपोलॉजी – Star Topology Advantages

  • इस नेटवर्क प्रणाली के अंतर्गत होस्ट कंप्यूटर से किसी भी एक कंप्यूटर को जोड़ने हेतु काफी काम खर्च आता है।
  • इस तरह की टोपोलॉजी में अगर आप अधिक कंप्यूटर को नेटवर्क के दायरे से जोड़ रहे है तो मात्र कंप्यूटर की गति कम हो जाती है, पर जानकारी के आदान प्रदान पर इसका सीधे तौर पर कोई असर नहीं होता है।
  • किसी एक लोकल कंप्यूटर में तकनिकी खराबी के चलते इसका अन्य कंप्यूटर मशीनों पर कोई भी असर नहीं होता।

ट्री टोपोलॉजी – Tree Topology Advantages

  • इस नेटवर्क व्यवस्था प्रकार के अंतर्गत हर पॉइंट के लिए स्वतंत्र रूप से पॉइंट तार लगाया जाता है।
  • ज्यादातर बार इस टोपोलॉजी में हार्डवेयर के विक्रेता तथा सॉफ्टवेयर के विशेषज्ञों द्वारा सहायता प्रदान की जाती है।

विभिन्न टोपोलॉजी के चुनिंदा नुकसान – Disadvantages of Various Types of Topology

रिंग टोपोलॉजी – Ring Topology Disadvantages

  • इस टोपोलॉजी की स्थापना करने हेतु अत्यंत जटिल सॉफ्टवेयर की जरुरत होती है।
  • इस तरह के नेटवर्क टोपोलॉजी में कंप्यूटर मशीनों की संख्या पे निर्भर होता है के नेटवर्क कितना गतिशील होगा।

बस टोपोलॉजी – Bus Topology Disadvantages

  • इस टोपोलॉजी व्यवस्था के अंतर्गत सभी कंप्यूटर एक ही तार से क्रम में जोड़े होने के कारण किसी भी एक कंप्यूटर में तकनिकी खराबी के चलते संपूर्ण नेटवर्क व्यवस्था प्रभावित हो जाती है और डेटा संचार रुक जाता है।
  • इस तरह की टोपोलॉजी में सुधार करने के लिए काफी ज्यादा तकलीफ का सामना करना पड़ता है।

ट्री टोपोलॉजी – Tree Topology Disadvantages

  • इस टोपोलॉजी के अंतर्गत अगर पिछे से आधार की लाइन या संचार व्यवस्था में तकनिकी गड़बड़ी के चलते संपूर्ण नेटवर्किंग बंद होने की संभावनाए अधिक होती है।
  • इस व्यवस्था में संचार तारो को बिछाना काफी मुश्किल से भरा काम होता है।

स्टार टोपोलॉजी – Star Topology Disadvantages

  • इस टोपोलॉजी में संपूर्ण नेटवर्क संचार व्यवस्था मात्र एक होस्ट कंप्यूटर पर अवलंबित होती है, जिसमे होस्ट कंप्यूटर में अगर तकनिकी गड़बड़ी हो जाये तो संपूर्ण संचार व्यवस्था प्रभावित हो जाती है।

इस प्रकार से अभी तक आपने नेटवर्क टोपोलॉजी से संबंधित सभी प्रमुख आवश्यक जानकारी के बारे में पढ़ा जिससे आपको जरूर इस विषय के बारे में कुछ नयी और दिलचस्प जानकारी मिली होगी, अगर आपको ये जानकारी आपको अच्छी लगी हो तो जरूर अपने दोस्त तथा परिवार के सदस्यों के साथ साझा करे।

अधिक जानकारी के लिए हमारे अन्य विषयो पर बने सभी लेख अवश्य पढ़े, हमसे जुड़े रहने हेतु धन्यवाद।

टोपोलॉजी के बारेमें अधिकतर बार पूछे जाने वाले सवाल – Quiz on Network Topology

  • नेटवर्क टोपोलॉजी के जनक के रूप में किसे जाना जाता है?(Who is the father of Network Topology?)
    जावाब: हॉवर्ड फ्रैंक।
  • प्रमुखता से उपयोग में आनेवाले तीन नेटवर्क टोपोलॉजी के नाम बताये?(Give the name of three mainly used types of Topology?)
    जवाब: स्टार टोपोलॉजी, रिंग टोपोलॉजी, बस टोपोलॉजी।
  • किस नेटवर्क टोपोलॉजी में एक से अधिक टोपोलॉजी के लक्षण मौजूद होते है? वे कौनसी टोपोलॉजी होती है? (which Topology includes more than one Topology effects?Give their names?)
    जवाब: ट्री टोपोलॉजी में स्टार टोपोलॉजी और बस टोपोलॉजी इस तरह से दो नेटवर्क टोपोलॉजी के लक्षण मौजूद होते है।
  • मुख्य रूप से कौनसी नेटवर्क टोपोलॉजी सबसे अधिक गतिशील होती है? (Which is the fastest network Topology?)
    जवाब: स्टार टोपोलॉजी।
  • डेटा फ्लो मैप का इस्तेमाल कौनसे नेटवर्क टोपोलॉजी में किया जाता है?(Data flow map used for which Topology?)
    जवाब: तर्कसंगत टोपोलॉजी(Logical Topology)

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *