फाइन आर्ट्स में ऐसे बनाएं करियर, ढेरों हैं करियर के ऑप्शन…

Career in Fine Arts in India

आज के आधुनिक युग और बदलते समाजिक परिवेश में न सिर्फ युवा पीढ़ी के करियर के लिए कई विकल्प खुल गए हैं, बल्कि इसके साथ करियर को लेकर बच्चों के अभिभावकों की भी सोच बदली है। जहां पहले अभिभावकों की यह धारणा बन गई थी कि उनके बच्चे डॉक्टर या इंजीनियर के क्षेत्र में ही अपना करियर बना सकते हैं तो वहीं अभिभावकों की यह धारणा भी पूरी तरह गलत साबित हो रही है।

क्योंकि अब सिर्फ कॉमर्स या साइंस स्ट्रीम वाले छात्रों के लिए ही नहीं बल्कि आर्टस के फील्ड में भी करियर की अपार संभावनाएं हैं। जिसमें न सिर्फ छात्र अपना करियर बना सकते हैं बल्कि अच्छी-खासी रकम भी कमा सकते हैं।

Career in Fine Arts

फाइन आर्ट्स में ऐसे बनाएं करियर, ढेरों हैं करियर के ऑप्शन – Career in Fine Arts in India

आज की नई पीढ़ी कुछ खास और क्रिएटिव करने में भरोसा रखती हैं, जिसमें उनके अभिभावक भी उनके सपने को हकीकत में बदलने में उनका सहयोग कर रहे हैं। वहीं फैशन की इस दुनिया में फाइन आर्ट्स की तरफ भी युवा आर्कषित हो रहे हैं। इसके अलावा जिन छात्रों का रुझान पेंटिंग, मूर्तिकला और अन्य तरह की कला में हैं । ऐसे छात्रों के लिए यह फील्ड काफी बेहतर साबित हो सकता है।

फाइन आर्ट्स के कोर्स के माध्यम से न सिर्फ छात्र पेंटिग्स आदि बनाकर अपनी कला को निखार सकते हैं बल्कि, अपने शौक के साथ इसमें बेहतरीन करियर भी बना सकते हैं। फाइन आर्ट्स आज का डिमांडिंग सब्जेक्ट्स भी बन चुका है।

इसलिए इसकी मांग भी ज्यादातर फील्ड में बढ़ रही है। वहीं कई फील्ड्स ऐसे भी हैं जिसमें डिजाइनर्स की ज्यादा जरूरत होती है। वहीं आज हम आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से फाइन आर्ट्स और इससे संबंधित कोर्सेस के बारे में बता रहे हैं, जिससे आप इस फील्ड में अपना भविष्य संवार सकते हैं तो इसके लिए सबसे पहले जान लेते हैं कि आखिर क्या है फाइन आर्ट-

फाइन आर्ट्स क्या है? – What is a Fine Arts

फाइन आर्ट्स का मतलब है ललित कला। ललित कला, कला के विजुअल्स का अध्ययन और निर्माण है। ललित कला नृत्य, चित्र, फोटोग्राफी, फिल्म, वास्तुकला, आदि के रूप में भी हो सकती है।

फाइन आर्ट्स में बेहतरीन करियर – Fine Arts Career

जो लोग क्रिएटिव होते हैं और जिन लोगों की रुचि पेंटिंग, और मूर्तिकला बनाने में हैं, तो ऐसे लोग फाइन आर्ट्स के फील्ड में अपना बेहतर करियर बना सकते हैं। फाइन आर्ट कोर्स के माध्यम से न सिर्फ भारतीय संस्कृति और परंपरा की पहचान बरकरार रखी जा सकती है, बल्कि इस क्षेत्र में अपना बेहतरीन करियर भी बनाया जा सकता है और मोटी रकम कमाई जा सकती है।

फाइन आर्टस का क्षेत्र तेजी से आगे बढ़ रहा है। वहीं अच्छी पेंटिग्स भी लाखों-करोड़ो रुपए में बिक रही हैं, जिससे कलाकारों को उसका पूरा फायदा भी मिल रहा है।

फाइन आर्ट्स में करियर बनाने के लिए कई तरह के डिग्री और डिप्लोमा कोर्सेस भी उपलब्ध हैं, जिनके माध्यम से छात्रों को फाइन आर्ट्स की अलग-अलग विधाओं जैसे ड्रॉइंग, पेंटिंग, डिजाइनिंग, स्कल्पटिंग, एनिमेशन, गेमिंग और इंस्टॉलेशन आदि के बारे में जानकारी दी जाती है, ताकि छात्र अपने हुनर से पैसे कमा सकें।

वहीं हम आपको फाइन आर्ट्स में करियर बनाने के लिए बीएफए डिग्री कोर्स के बारे में बताने जा रहे हैं, जो कि उन छात्रों के लिए काफी कारगर साबित हो सकता है, जो इस फील्ड में खुद को स्थापित करने के सपने संजो रहे हैं।

बैचलर ऑफ फाइन आर्ट्स (बीएफए) – Bachelor of Fine Arts

जो लोग फाइन आर्ट्स के क्षेत्र में अपना करियर बनाकर अपनी किस्मत आजमाना चाहते हैं, ऐसे लोगों के लिए बैचलर ऑफ फाइन आर्ट्स का कोर्स एक बेहतरीन विकल्प साबित हो सकता है। 12वीं के बाद छात्र यह कोर्स बेहद आसानी से कर सकते हैं।

इस कोर्स में एडमिशन लेने के लिए छात्रों को प्रवेश परीक्षा देनी होती है, तो वहीं कई ऐसे शिक्षण संस्थान भी हैं जो मेरिट के आधार पर दाखिला देते हैं। यह 4 साल का डिग्री कोर्स हैं। इस कोर्स के बाद ही छात्रों के लिए नौकरी की कई विकल्प खुल जाते हैं।

खास बात यह है कि 12वीं के बाद किसी भी स्ट्रीम के छात्र बैचलर इन फाइन आर्ट्स में अपना करियर बना सकते हैं। छात्र चाहें तो फाइन आर्ट्स के क्षेत्र में उच्च शिक्षा भी हासिल कर सकते हैं। छात्र इसी में 2 साल का मास्टर ऑफ फाइन आर्ट्स भी कर सकते हैं। वहीं जिन छात्रों के मास्टर डिग्री में 50 फीसदी अंक आते हैं, वे छात्र पीएचडी भी कर सकते हैं।

तेजी से बढ़ रहा फाइन आर्ट्स का स्कोप – Scope in Fine Arts

फाइन आर्ट्स का स्कोप तेजी से बढ़ा है, वहीं अगर पिछले कुछ सालों के रिकॉर्ड्स को खंगाला जाए तो इस क्षेत्र में जॉब की संभावनाएं भी तेजी से बढ़ी हैं। आपको बता दें कि फाइन आर्ट्स ग्रेजुएट वालों की सबसे ज्यादा मांग सॉफ्टवेयर कंपनीज, डिजाइन फर्म्स, टेलीविजन चैनल्स, एनीमेशन स्टूडियो, टेक्सटाइल इंडस्ट्री, एडवरटाइजिंग कंपनीज, डिजिटल मीडिया, पब्लिशिंग हाउसेज, मीडिया हाउसेज़, आर्ट स्टूडियो और फिल्मों में स्पेशल इफेक्ट्स के इस्तेमाल के लिए बढ़ी है।

फाइन आर्ट्स वाले इस रुप में भी कर सकते हैं काम – Fine Arts Jobs

इस क्षेत्र का दायरा सीमित नहीं है, इसका दायरा काफी बढ़ गया है। फाइन आर्ट्स का कोर्स करने के बाद इस क्षेत्र में करियर बनाने के लिए ऐड डिपार्टमेंट, अखबार या पत्रिका में इलस्ट्रेटर, कार्टूनिस्ट, एनिमेटर आदि के तौर पर भी काम किया जा सकता है।

यही नहीं इसके अलावा भी इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, टेलीविजन, फिल्म/ थिएटर प्रोडक्शन, प्रोडक्ट डिजाइन, एनिमेशन स्टूडियो, टेक्सटाइल डिजाइनिंग आदि में भी इस क्षेत्र में करियर बनाने के लिए तमाम विकल्प मौजूद हैं।

फाइन आर्ट्स वाले छात्रों के लिए विजुअल आर्टिस्ट, एनिमेटर या ग्राफिक डिजाइनर जैसे पोस्ट भी मौजूद हैं। इसके अलावा शिक्षण संस्थानों में आर्ट टीचर बनने, प्रोफेशनल कला समीक्षक, आर्ट स्पेशलिस्ट, आर्ट डीलर, आर्ट थैरेपिस्ट, पेंटर की जॉब भी हैं। वहीं अगर आप अपनी क्रिएटिविटी डिजाइनिंग में दिखाना चाहते हैं, तो आप प्रोडक्ट डिजाइनिंग, ऑटोमोबाइल डिजाइनिंग में पैसा कमा सकते हैं।

इसके अलावा इस कोर्स के बाद या तो फ्रीलांसिंग कर पैसा कमा सकते हैं या फिर विजुअलाजिंग प्रोफेशनल, इलस्ट्रेटर, आर्ट क्रिटिक, आर्टिस्ट, आर्ट प्रोफेशनल्स, डिजाइन ट्रेनर बनकर भी खासा पैसा कमा सकते हैं या फिर इसी तरह के अन्य क्षेत्रों में हुनर दिखाकर छात्र इस फील्ड में पैसा कमा सकते हैं।

फाइन आर्ट्स में इन इंडस्ट्रीज में है पैसा कमाने का मौका – Fine Arts Salary

फाइन आर्ट्स में डिग्री हासिल करने और स्पेशलाइजेशन के बाद छात्र एनिमेशन इंडस्ट्री विज्ञापन कंपनी, आर्ट स्टूडियो, फैशन हाउस, पत्र-पत्रिकाएं, स्कल्पचर, टेलीविजन, पब्लिशिंग इंडस्ट्री, ग्राफिक आर्ट, टीचिंग, फिल्म व थिएटर प्रोडक्शन, टेक्सटाइल इंडस्ट्री, प्रोफेशनल कंपनी में काम कर पैसा कमा सकते हैं या फिर इलस्ट्रेटर, एनिमेटर, ग्राफिक डिजाइनर, विजुअल डिजाइनर, डिजिटल डिजाइनर, क्रिएटिव मार्केटिंग प्रोफेशनल, फ्लैश प्रोग्रामर, 2डी/ 3डी आर्टिस्ट, वेब डेवलपर, क्राफ्ट आर्टिस्ट, लेक्चरार, आर्ट टीचर, कार्टूनिस्ट, आर्ट म्यूजियम टेक्निशियन, आर्ट कंजर्वेटर, आर्ट डायरेक्टर, क्रिएटिव डायरेक्टर, एडवरटाइजिंग एग्जीक्यूटिव/ सुपरवाइजर/ हैड, प्रोजेक्ट ऑफिसर आदि जैसे पदों पर भी काम कर सकते हैं।

यहां से कर सकते हैं कोर्स – List of Fine Arts College

भारत में फाइन आर्ट से संबंधित कोर्स चलाने वाले कुछ मुख्य कॉलेजों के नाम नीचे लिखे गए हैं –

  • बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी, वाराणसी (Banaras Hindu University)
  • दिल्ली यूनिवर्सिटी, दिल्ली (University of Delhi)
  • कॉलेज ऑफ आर्ट, दिल्ली (College of Art)
  • जामिया मिलिया यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली (Jamia Millia Islamia)
  • अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, अलीगढ़ (Aligarh Muslim University)
  • टीजीसी एनिमेशन एंड मल्टीमीडिया, दिल्ली (TGC Animation and Multimedia)
  • सर जेजे इंस्टीट्यूट ऑफ अप्लाइड आर्ट्स, मुंबई (Sir JJ School of Art)
  • इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फाइन आर्ट्स, मोदीनगर (International Institute of Fine Arts)

फाइन आर्ट्स के फायदे और नुकसान – Advantages and Disadvantages of Fine Arts

हर सिक्के के दो पहलू होते हैं, यानि कि हर क्षेत्र में मुनाफा और नुकसान दोनों ही होत है। उसी तरह फाइन आर्टस के क्षेत्र में भी कई फायदे हैं तो कुछ नुकसान भी हैं – जिनके बारे में नीचे लिखा गया है।

फाइन आर्ट्स के फायदे – Advantages of Fine Arts

  • फाइन आर्ट्स के क्षेत्र में अभिव्यक्ति का अवसर मिलता है। इसके साथ ही छात्रों को अपना कौशल विकसित करने में भी मद्द मिलती है।
  • फाइन आर्ट्स का स्कोप अच्छा होने की वजह से इसमें आसानी से रोजगार मिलता है और करियर के भी कई विकल्प मौजूद हैं।
  • अच्छा काम करने पर भी ख्याति मिलती है।

फाइन आर्ट्स के नुकसान – Disadvantages of Fine Arts

  • फाइन आर्टस के काम के चलते घंटों का पता ही नहीं चलता यानि कि ज्यादातर समय इसमें ही देना पड़ता है।
  • इस फील्ड में शुरुआत में सैलरी पैकेज भी काफी कम है, हालांकि बाद में सैलरी बढ़ जाती है।
  • जरूरी नहीं है कि इस प्रोफेशन में आपके बॉस या फिर क्लाइंट को आपकी पेटिंग्स या आपका काम पसंद आए ऐसे में उन लोगों को संतुष्ट कर पाना किसी बड़ी चुनौती से कम नहीं है।

फाइन आर्ट के फील्ड में खुद को ऐसे करें स्थापित –

फाइन आर्ट्स के क्षेत्र में जो सफलता हासिल करना चाहते हैं, उन लोगों को इसके लिए कुछ खास गैलरी से जोड़ने की कोशिश करनी चाहिए। इस क्षेत्र में जो मुनाफा कमाना चाहते हैं और आर्कषण पाना चाहते हैं।

ऐसे लोगों को गैलरी मालिकों से सेटिंग कर अपनी कलाकृतियों की प्रदर्शनी लगवाना चाहिए और उसकी नीलामी करवाना चाहिए, जिससे उन्हें काफी फायदा होगा। इसके अलावा इस फील्ड में खुद को स्थापित करने के लिए कई मशहूर कलाकारों के साथ जुड़कर कॉन्ट्रैक्ट पर भी काम कर सकते हैं।

इससे न सिर्फ सीनियर कलाकारों की आर्ट स्टाइल के बारे में भी जानने मौका मिलता है बल्कि इस फील्ड में इनकम के अन्य स्त्रोतों के बारे में भी पता चलता है।

वहीं जिन छात्रों ने बैचलर इन फाइन आर्ट्स का कोर्स पूरा कर लिया है, वे छात्र इस फील्ड के अन्य छात्रों और मित्रों के साथ मिलकर ग्रुप बनाकर अपनी पेटिंग्स् की प्रदर्शनी लगा सकते हैं। आपको बता दें कि आर्ट गैलरी के मालिक अपने साथ अक्सर स्टाइल और अभिरुचि के मुताबिक होनहार स्टूडेंट्स को जोड़ते हैं, इसके अलावा भी गैलरी मालिक अक्सर फ्रेशर्स फाइन आर्ट्स ग्रेजुएट्स की कलाकृतियों की प्रदर्शनियां आयोजित करवाते हैं।

वहीं जब जूनियर आर्टिस्ट प्रदर्शनी लगाते हैं, तो उनकी कला की आलोचना भी होती है, जिससे उन्हें अपनी कमी का पता चलता है और आगे बढ़ने में मदत मिलती है। वहीं कई बार नामी कलाकारों द्वारा कैंप भी आयोजित किए जाते हैं, जो फ्रेशर्स के लिए वरदान साबित होते हैं क्योंकि कई कलाकारों का सिलेक्शन भी हो जाता है।

फाइन आर्टस में टेक्नोलॉजी हो रही मद्दगार साबित

फाइन आर्ट्स के फील्ड में टेक्नोलॉजी काफी मद्दगार साबित हो रही है। टेक्नोलॉजी से न सिर्फ आर्टिस्ट को अपनी पहचान बनाने में मद्द मिल रही है, बल्कि उन्हें अपनी कलाकृतियों को भी दूसरे तक पहुंचाने में भी काफी आसानी हो रही है।

पहले जहां कलाकारों को अपनी पोर्टफोलियो के साथ एक गैलरी से दूसरी गैलरी तक दौड़ना पड़ता था, लेकिन अब ई-मेल, व्हाटसऐप, फेसबुक और अन्य सोशल मीडिया ऐप के माध्यम से अपनी पेंटिग्स को दूसरे तक आसानी से पहुंचाया जा सकता है।

वहीं इससे न सिर्फ कलाकार को अपना हुनर का प्रदर्शन करने का मौका मिल रहा है बल्कि इंटरनेट पर उनकी पेंटिग्स के अच्छे खऱीददार भी मिल रहे हैं। आपको बता दें कि आजकल इंडियन आर्ट का कारोबार काफी बढ़ गया है।

इंटरनेट में देश के ही नहीं बल्कि विदेश के लोग भी इंडियन पेंटिग्स को खरीदने में अपनी रुचि दिखा रहे हैं। यही वजह है कि बड़ी-बड़ी आर्ट गैलरियों के मालिक रोजगार के तौर पर अपनी कॉर्मशियल वेबसाइट बना रहे हैं, ताकि वे इसका फायदा उठा सकें।

आपको बता दें कि ग्लोबल मार्केट में भारतीय, पाकिस्तानी और चाइनीज आर्ट्स की भी बहुत ज्यादा मांग बढ़ गई है।

इसके अलावा फाइन आर्ट्स का कोर्स पूरा कर चुके फ्रेशर्स भी अपनी पेंटिग्स को बेचने के लिए अपने पोर्टल्स बना लेते हैं, जिससे उनका इस फील्ड से सीधा जुड़ाव हो जाता है।

हालांकि, ऑनलाइन पेंटिंग्स बेचना उतना आसान नहीं है, क्योंकि इसमें अपनी प्रमाणिकता साबित करना किसी बड़ी चुनौती से कम नहीं है। दरअसल पेंटिग्स के ज्यादातर खरीददार वेबसाइट्स की तुलना में आर्ट गैलरियों से ही पेंटिग्स खरीदना ज्यादा पसंद करते हैं।

इस तरह फाइन आर्ट्स के क्षेत्र में करियर की अपार संभावनाएं हैं, इसके साथ ही स्टूडेंट्स इसमें अपने हुनर का प्रदर्शन कर न सिर्फ क्रिएटिव माइंड के साथ अपने शौक को पूरा कर सकते हैं बल्कि इसमें मोटी सैलरी भी कमा सकते हैं।

Read More:

  1. Courses After 10th
  2. Courses after 12th Science
  3. Commerce Courses after 12th
  4. Courses After 12th
  5. Courses after 12th Arts

Note: अगर आपको 12 वीं आर्ट्स के बाद कुछ ऐसे हैं कोर्सेस – Courses after 12th Arts अच्छी लगे तो जरुर Share कीजिये।
Note: E-MAIL Subscription करे और पायें More Career Realed Article and Educational Article आपके ईमेल पर।  

Loading...

2 COMMENTS

    • अगर आपको फाइन आर्टस के क्षेत्र में रुचि है और आप क्रिएटिव हैं तो निश्चत ही आप इस फील्ड में बिना फिक्र किए अच्छा करियर बना सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.