आर्ट्स से 12वीं करने के बाद करें ये कोर्सेस, जिसमे हैं करियर के हैं ढेरों ऑप्शन…

Courses after 12th Arts in India

आर्ट्स को लेकर ज्यादातर लोगों के मन में यह धारणा होती है कि यह एक बेहद आसान स्ट्रीम हैं जिसे पढ़ाई में कमजोर छात्र चुनते हैं और इस फील्ड में करियर बनाने के कम विकल्प हैं तो हम आपको बता दें कि लोगों की इस तरह की धारणा बिल्कुल गलत है क्योंकि आर्ट्स में न सिर्फ साइंस और कॉमर्स विषयों की तरह करियर बनाने की अपार संभावनाएं हैं बल्कि आर्ट्स के फील्ड में भी छात्रों के लिए कई चुनौतियां हैं जो कि छात्रों को आगे की पढ़ाई या करियर बनाने के लिए अच्छे मौके प्रदान करती हैं।

आपको बता दें कि आर्ट्स स्ट्रीम से पढ़ाई करने वाले छात्रों को यूपीएससी, सिविल सर्विसेज जैसी कुछ प्रोफेशनल परीक्षाओं के लिए एक मजबूत नींव बनाने में मदद मिलती है। जिससे कि न सिर्फ वे आगे चलकर इन परीक्षाओं में सफलता हासिल कर समाज और करियर में एक अच्छा मुकाम हासिल करते हैं बल्कि मोटी सैलरी भी कमाते हैं।

आर्ट्स के फील्ड में छात्रों के लिए करियर के कई सारे विकल्प मौजूद हैं जिनके बारे में हम आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से बता रहे हैं। इन कोर्सेस की जानकारी नीचे दी गई है –

Courses after 12th Arts

आर्ट्स से 12वीं करने के बाद करें ये कोर्सेस, जिसमे हैं करियर के हैं ढेरों ऑप्शन- Courses after 12th Arts in India

जिन छात्रों ने आर्ट्स विषय से अपनी 12वीं की परीक्षा पास की है और वे इस फील्ड में अपना करियर बनाने की सोच रहे हैं तो नीचे दिए गए कुछ कोर्सेस उनके करियर के लिए बेहतर विकल्प साबित हो सकते हैं –

  • बैचलर ऑफ आर्ट्स (BA)
  • बैचलर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (BBA)
  • बैचलर ऑफ फैशन डिजाइनिंग (BFD)
  • ज्वैलरी डिजाइनिंग
  • बैचेलर इन ह्यूमेनिटी एंड सोशल साइंस
  • बैचलर ऑफ फाइन आर्ट्स (बीएफए)
  • बैचलर ऑफ डिजाइन (एनीमेशन)
  • बैचलर ऑफ होटल मैनेजमेंट (BHM)
  • बैचलर ऑफ इवेंट मैनेजमेंट (BEM)
  • इन्टीग्रेटेड लॉ (Integrated Law)
  • बीए एलएलबी
  • बैचलर ऑफ साइंस (होस्पिटेलिटी एंड ट्रैवल)
  • बैचलर ऑफ जर्नालिज्म एंड मास कम्यूनिकेशन (BJM)
  • बैचलर ऑफ सोशल वर्क (BSW)
  • बैचलर ऑफ रिटेल मैनेजमेंट (BRM)
  • केविन क्रू (Cabin Crew)
  • बैचेलर इन ह्यूमेनिटी एंड सोशल साइंस
  • सोशल वर्क

ऊपर हमने आपको आर्ट्स स्ट्रीम से संबंधित कुछ कोर्सेसे के बारे में बताया है जिनके बारे में कुछ
जानकारी इस प्रकार है –

  • बैचलर ऑफ आर्टस (बीए) – Bachelor of Arts(B.A)

जिन छात्रों ने 12वीं आर्ट्स स्ट्रीम से पास की है। उन छात्रों के लिए बीए यानि की बैचलर ऑफ
आर्ट्स एक लोकप्रिय और पसंदीदा डिग्री कोर्स है। आपको बता दें कि यह तीन साल का डिग्री कोर्स
है। वहीं जो छात्र सरकारी नौकरी करना चाहते हैं या फिर गर्वमेंट सेक्टर में जाना चाहते हैं, ऐसे
छात्रों के लिए यह कोर्स एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है।

बीए कोर्स के बाद छात्रों के पास भारतीय सिविल सेवा प्रवेश परीक्षा, डिफेंस और अन्य क्षेत्र की
प्रवेश परीक्षा और नौकरी के लिए आवेदन करने के ढेर सारे विकल्प मौजूद होते हैं। वहीं बीए में एडमिशन छात्रों के 12th के रिजल्ट के आधार पर हो जाता है।

बीए के बाद जो छात्र नौकरी करना चाहते हैं, उनके लिए ढेर सारे करियर के ऑप्शन हैं और जो छात्र इसके बाद आगे की पढ़ाई जारी रखना चाहते हैं, वे छात्र एमए कर मास्टर डिग्री हासिल कर सकते हैं या फिर 1 साल के पोस्ट ग्रेजुएशन डिप्लोमा कोर्सेस जैसे PGDCA, DCA, ADCA कर कंप्यूटर फील्ड में अपना करियर बना सकते हैं। आपको बता दें कि बीए डिग्री कोर्स में छात्रों को इतिहास, राजनीति शास्त्र, भूगोल और अर्थशास्त्र जैसे विषय की जानकारी दी जाती है।

  • बैचलर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (बीबीए) – Bachelor of Business Administration (BBA or B.B.A.)

बीबीए यानि कि बैचलर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन जो कि तीन साल का डिग्री कोर्स है। आपको बता दें कि जो छात्र बिजनेस करना चाहते हैं, उनके लिए यह कोर्स बेहतर साबित हो सकता है क्योंकि इस कोर्स के माध्यम से छात्रों में व्यापर के बारे में अच्छी जानकारी हासिल हो सकती है।

बीबीए में एडमिशन के लिए एट्रेंस एग्जाम होता है। यह तीन साल का डिग्री कोर्स है। वहीं इसके बाद छात्र चाहे तो नौकरी कर सकता है या फिर एमबीए कर उच्च शिक्षा हासिल कर सकते हैं। इसके साथ ही यह बीबीए की पढ़ाई करने वाले छात्रों में इस कोर्स के माध्यम से एमबीए के लिए भी विश्लेणात्मक और रणनीतिक सोच कौशल विकसित होती है।

  • बैचलर ऑफ फैशन डिजाइनिंग (बीएफडी) – Bachelor of Fashion Designing (BFD)

जो छात्र क्रिएटिव होते हैं और जिन छात्रों को फैशन और लाइफस्टाइल की दुनिया में रहना पसंद होता है। उनके लिए फैशन डिजाइनिंग का यह कोर्स एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है क्योंकि इस फील्ड में डिजाइनिंग करने वालों को रंगों और डिजाइन के साथ हमेशा कुछ न कुछ नया एक्सपेरिमेंट करने को मिलता रहता है।

इसलिए इस कोर्स को सिर्फ क्रिएटिव छात्र ही कर सकते हैं। इसके साथ ही सिर्फ क्रिएटिविटी से भी काम नहीं चलता है। इसके लिए अच्छी कम्यूनिकेशन स्किल भी होना बेहद जरूरी है। वहीं 12वीं के बाद आसानी से छात्र इस कोर्स के लिए आवेदन कर सकते हैं। हालांकि कुछ कॉलेजों में एडमिशन के लिए छात्रों को रिटन टेस्ट और इंटरव्यू भी देना होता है।

  • ज्वैलरी डिजाइनिंग – Jewellery Designing

ज्वैलरी का बढ़ता हुआ ट्रेंड आज युवाओं को इस फील्ड करियर बनाने के लिए प्रेरित कर रहा है। वहीं फैशन की दुनिया में जो लोग कदम रखना चाहते हैं, उनके लिए ज्वैलरी डिजाइनिंग का कोर्स बेहतर करियर विकल्प साबित हो सकता है।

आपको बता दें कि इस कोर्स के माध्यम से तरह-तरह की खूबसूरत ज्वैलरी बनाने की कला को निखारा जाता है। 12 वीं के बाद आसानी से छात्र ज्वैलरी डिजाइनिंग में करियर बना सकते हैं। वहीं अगर छात्र चाहें तो आगे के कोर्स भी कर सकते हैं।

  • बैचलर इन ह्यूमैनिटी एंड सोशल साइंस –

जिन छात्रों ने 12वीं आर्ट विषय से उत्तीर्ण की हैं, वे छात्र बैचलर इन ह्नामूनिटी एंड सोशल साइंस का कोर्स कर डिग्री हासिल कर सकते हैं। आपको बता दें कि इस कोर्स के लिए छात्रों को एंट्रेस एग्जाम से गुजरना पड़ता है।

वहीं भारत के कई राज्यों में इस कोर्स को करवाया जाता है। इस कोर्स का स्कोप भी बढ़ रहा है। इसलिए भी इस कोर्स की तरफ युवा पीढ़ी आर्कषित हो रही है।

  • बीए एलएलबी ( बैचलर ऑफ लॉ) – B.A.LLB(Bachelor of Arts + Bachelor of Laws)

बीए एलएलबी यानि बैचलर ऑफ आर्ट्स एंड बैचलर ऑफ लॉ एक लॉ कोर्स है, जिसके लिए उम्मीदवारों को न्यूनतम आवश्यक प्रतिशत के साथ किसी भी विषय में कक्षा 12वीं उत्तीर्ण करनी ज़रूरी होती है।

वहीं जो छात्र कानून क्षेत्र में एडवोकेट बनना चाहते हैं, उनके लिए बीए.एल.एल.बी एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है। इस कोर्स के माध्यम से न छात्र न सिर्फ कानून व्यवस्था के बारे में जानकारी ले सकते हैं बल्कि इस कोर्स के जरिए कानून के साथ कला को भी एकीकृत किया जाता है।

आपको बता दें कि इसमें कानून के विशेष क्षेत्रों जैसे कि आपराधिक कानून, कॉरपोरेट कानून, पेटेंट कानून, प्रशासनिक कानून, कर कानून, अंतर्राष्ट्रीय कानून और श्रम कानून जैसे कला क्षेत्रों जैसे अर्थशास्त्र, इतिहास, समाजशास्त्र और राजनीति विज्ञान आदि से संबंधित विषयों को शामिल किया गया है। भारतीय विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में बीए एलएलबी कोर्स की अवधि 5 साल की होती है।

इस कोर्स को करने के लिए छात्रों को एंट्रेस एग्ज़ाम देना पड़ता है। वहीं प्रवेश परीक्षा के अंकों के आधार पर ही छात्रों का एडमिशन किया जाता है।

इसके साथ ही यह भी बता दें कि इस कोर्स में एडमिशन के लिए छात्र की उम्र कम से कम 18 साल होनी चाहिए। वहीं इस कोर्स के बाद छात्रों के लिए अच्छी करियर विकल्प होते हैं। एलएलबी स्नातक करने वाले छात्र राज्य और केन्द्र सरकार दोनों में प्रदर्शन कर सकते हैं।

इसके अलावा एटर्नी जनरलों, न्यायाधीश, सार्वजनिक, अभियोजक आदि के रूप में काम कर सकते हैं। इसके अलावा भी एलएलबी स्नातक कानूनी प्रकाशक, कानून रिपोर्टर, और वकील के रूप में भी काम कर सकते हैं।

  • बैचलर ऑफ फाइन आर्ट्स (बीएफए) – Bachelor of Fine Arts (BFA)

जो छात्र क्रिएटिव होते हैं, उन छात्रों के लिए यह कोर्स बेहतर साबित हो सकता है। बैचलर ऑफ फाइन आर्ट्स यानि बीएफए ललित कला। जिसका स्कोप तेजी से बढ़ रहा है। वहीं विजुअल आर्ट्स और परफॉर्मिंग आर्ट्स के क्षेत्र में यह स्नातक डिग्री है।

12वीं के बाद छात्र इस कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं। एंट्रेंस एग्जाम के माध्यम से बैचलर ऑफ फाइन आर्ट्स में छात्रों को एडमिशन मिलता है। इस कोर्स के माध्यम से छात्रों अपनी कला की प्रतिभा को और भी निखार सकते हैं। यह 4 साल का डिग्री कोर्स है।

इस कोर्स के बाद ही छात्रों के लिए करियर की अपार संभावनाएं मौजूद हैं, लेकिन जो छात्र आगे की पढ़ाई करना चाहते हैं वे छात्र मास्टर डिग्री के रुप से 2 साल का मास्टर ऑफ फाइन आर्ट कोर्स भी कर सकते हैं। वहीं जिन छात्रों के मास्टर डिग्री में 50 फीसदी अंक आते हैं, वे छात्र पीएचडी भी कर सकते हैं।

आपको बता दें कि इस कोर्स के बाद या तो फ्रीलांसिंग कर पैसा कमा सकते हैं या फिर विजुअलाजिंग प्रोफेशनल, इलस्ट्रेटर, आर्ट क्रिटिक, आर्टिस्ट, आर्ट प्रोफेशनल्स, डिजाइन ट्रेनर बन पैसा कमा सकते हैं। इसके अलावा एनिमेशन इंडस्ट्री विज्ञापन कंपनी, आर्ट स्टूडियो, फैशन हाउस, पत्र-पत्रिकाएं, स्कल्पचर में काम कर भी पैसा कमा सकते हैं।

  • बैचलर ऑफ होटल मैनेजमेंट कोर्स (बीएचएम) – Bachelor of Hotel Management (BHM)

जिन लोगों को नए-नए लोगों से मिलना और उनसे बातें करना अच्छा लगता है, ऐसे लोगों के लिए होटल मैनेजमेंट का कोर्स करना एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है। वहीं आज के समय में होटल मैनेजमेंट का स्कोप भी तेजी से बढ़ रहा है।

होटल मैनेजमेंट का मतलब किसी भी होटल या होटल के व्यापार को सफलता पूर्वक चलाना ही है। आपको बता दें कि होटल मैनेजमेंट का दायरा काफी बड़ा है, इस फील्ड में ग्रेजुएशन डिग्री, पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री और डिप्लोमा कोर्सेस उपलब्ध है।

12वीं के बाद छात्र इस कोर्स में एडमिशन आसानी से ले सकते हैं। इस कोर्स में एडमिशन लेने के लिए छात्रों को एंट्रेस एग्जाम देना होता है। इस फील्ड में डिग्री कोर्स के बाद ही छात्र अच्छे होटल में जॉब कर पैसा कमा सकते हैं। वहीं जो छात्र इस फील्ड में आगे पढ़ाई करना चाहते हैं तो उनके लिए पोस्ट ग्रेजुएट लेवल पर दो साल के डिग्री और डिप्लोमा कोर्सेस भी मौजूद हैं।

  • बैचलर ऑफ इवेंट मैनेजमेंट (बीइएम) – Bachelor of Event Management (BEM)

जिन लोगों को पार्टियां करना, लोगों से मिलना-जुलना और जश्न मनाना पसंद हैं, इवेंट मैनेजमेंट का कोर्स न सिर्फ ऐसे लोगों के शौक को पूरे करता है बल्कि उनके लिए यह एक बेहतरीन करियर विकल्प भी साबित हो सकता है।

आपको बता दें कि इवेंट मैनेजमेंट का स्कोप लगातर बढ़ता जा रहा है। इस फील्ड में सिर्फ देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी करियर बनाने की अपार संभावनाएं हैं। यह तीन साल का डिग्री कोर्स हैं जिसमें 12वीं के बाद छात्र आसानी से एडमिशन ले सकते हैं। वहीं इवेंट मैनेजमेंट ने लोगों के बड़े-बड़े फंक्शन्स की जिम्मेदारी लेकर उनकी टेंशन को खत्म कर दिया है।

क्योंकि जो लोग व्यस्त होते हैं या फिर जिन लोगों को उनके घर में होने वाली बर्थडे पार्टी, शादी या फिर किसी फंक्शन को आर्गेनाइज करवाने की टेंशन रहती है, ऐसे लोग इवेंट मैनेजर से बात कर अपनी समस्या का समाधान कर सकते हैं और उनके घर – ऑफिस में होने वाले फंक्शन आसानी से और बेहतरीन तरीके से संपन्न हो जाते हैं। इसके साथ ही लोग इस तरह के फंक्शन में भरपूर एंन्जॉय कर सकते हैं।

  • बैचलर ऑफ डिजाइन (बीडीएस, एनीमेशन) – Bachelor of Design

जो छात्र क्रिएटिव है और एनीमेटेड क्रिएटिव फिल्म के शौकीन हैं तो ऐसे लोगों के लिए बैचलर ऑफ डिजाइन या बीडीएस का कोर्स एनिमेटर बनने के लिए एक बेहतरीन विकल्प साबित हो सकता है।

आपको बता दें कि यह एक डिग्री कोर्स है। 12वीं के बाद किसी भी स्ट्रीम का छात्र इस कोर्स को आसानी से कर सकता है। इस फील्ड में डिग्री, डिप्लोमा और पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्सेस भी उपलब्ध हैं। इस कोर्स के माध्यम से छात्रों को 2 डी / 3 डी एनिमेशन, एनीमेशन फिल्म मेकिंग, ग्राफिक / वेब डिज़ाइन, ध्वनि और वीडियो संपादन, विजुअल इफेक्ट्स की जानकारी दी जाती है।

इसके साथ ही इस कोर्स का स्कोप भी तेजी से बढ़ रहा है। क्योंकि न सिर्फ लोग एनीमेटेड फिल्मों की तरफ आर्कषित हो रहे हैं बल्कि इसका इस्तेमाल फिल्मों में भी काफी हद तक हो रहा है।

  • बैचलर ऑफ जर्नलिज्म – Bachelor of Journalism (B.J.)

जो छात्र पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं, उनके लिए बैचलर ऑफ जर्नालिज्म का कोर्स एक अच्छा विकल्प साबित हो सकता है। आर्ट्स के स्टूडेट्स अपनी 12वीं की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद इस फील्ड में आसानी से अपना करियर बना सकते हैं।

सिर्फ आर्ट्स ही नहीं बल्कि दूसरे स्ट्रीम के छात्र भी इस लाइन में भविष्य बना सकते हैं। इसके लिए एंट्रेस एग्जाम और रिटन टेस्ट और इंटरव्यू होता है, जिसे पास कर छात्र इस कोर्स में आसानी से एडमिशन ले सकते हैं। देश में कई बड़े विश्व विद्यालय और शिक्षण संस्थान इस कोर्स को करवाते हैं।

आपको बता दें कि यह कोर्स हिंदी और अंग्रेजी दोनों ही भाषाओं में करवाया जा रहा है। इस कोर्स को करने के बाद किसी न्यूज़ चैनल, पत्र-पत्रिकाओं, अखबारों, न्यूज़ एजेंसी, मीडिया हाऊस में आसानी से नौकरी मिल सकती है।

  • 12वीं के बाद आर्ट्स स्ट्रीम के छात्रों के पास इन फील्ड में भी हैं करियर विकल्प – Other Courses after 12th Arts

आर्ट्स के छात्रों के पास करियर के एक या दो विकल्प नहीं है बल्कि उनके लिए इस क्षेत्र में ढेरो संभावनाएं हैं जिनके बारे में नीचे लिखा गया है –

1.मैकेनिकल के फील्ड में आर्ट्स के छात्रों के लिए करियर विकल्प

जिन छात्रों ने 12वीं आर्ट्स विषय से उत्तीर्ण की है। उन छात्रों के पास मैकनिकल के फील्ड में करियर की अपार संभावनाएं हैं। जिनके बारे में नीचे लिखा गया है –

  • एयरफोर्स ऑफिसर
  • आर्मी ऑफिसर
  • ऑटोमोटिव डिज़ाइनर
  • कैमरामैन
  • फोटोग्राफर

2. बिज़नेस के फील्ड में आर्ट्स के छात्रों के लिए करियर विकल्प

12 वीं आर्ट्स के जिन छात्रों का रुझान बिजनेस की तरफ है अथवा जिन छात्रों को बिजनेस के दांव पेंच में मज़ा आता है तो ऐसे छात्रों के लिए भी इस फील्ड में विकल्पों की कमी नहीं है –

  • होस्पिटल हेल्थ मैनेजर
  • एडवरटाइजिंग एग्ज़ीक्यूटिव
  • ऐरोबिक इंस्ट्रक्चर
  • ऑक्शनर
  • बैंकर
  • बिज़नेस मैनेजर
  • कैटेगरी मैनेजर

3. साइंटिफिक के फील्ड में आर्ट्स के छात्रों के लिए करियर विकल्प

आर्ट्स के स्टूडेंट्स के लिए साइंटिफिक के फील्ड में भी करियर की अपार संभावनाएं हैं जिनके बारे में नीचे दिया गया है –

  • आर्कियोलॉजिस्ट
  • क्यूरेटर
  • एंथ्रोपोलोजिस्ट
  • कार्टोग्राफर
  • साइकोलोजिस्ट
  • डिटेक्टिव
  • गेम डेवलेपर

4.एसथेटिक के फील्ड में आर्ट्स के छात्रों के लिए करियर विकल्प

आर्ट्स के जो छात्र जिनकी रुचि कुछ कलात्मक करने की होती है तो ऐसे छात्र एसथेटिक के फील्ड में अपना बेहतरीन करियर बना सकते हैं। वहीं ऐसे छात्रों के लिए करियर विकल्पों के बारे में नीचे दिया गया है।

  • अर्बन प्लानर
  • अभिनय
  • एनिमेशन
  • ओटोमोटिव डिज़ाइनर
  • ब्यूटिशियन
  • कैमरामैन
  • कार्टूनिस्ट
  • सेरेमिक आर्टिस्ट
  • कोरियोग्राफी
  • कर्मशियल आर्टिस्ट
  • फिल्म टेलीविज़न प्रोड्यूसर

5.सोशल के फील्ड में आर्ट्स के छात्रों के लिए करियर विकल्प

आर्ट्स स्ट्रीम के ऐसे छात्र जो सामाजिक स्तर पर कुछ करना चाहते हैं, ऐसे छात्रों के लिए करियर के ढेरों ऑप्शन मौजूद हैं। जिनके बारे में नीचे लिखा गया है –

  • सोशल वर्कर
  • थेरेपिस्ट
  • एयर होस्टेस
  • बॉडीगार्ड
  • करियर काउंसलर
  • शेफ
  • क्रिमिनोलॉजिस्ट
  • आईएएसआईपीएस
  • पत्रकार

6. कलेरिकल के फील्ड में आर्ट्स के छात्रों के लिए करियर विकल्प

Loading...

आर्ट्स स्ट्रीम के छात्र कलेरिकल के फील्ड में भी अपना करियर बना सकते हैं, उन छात्रों के लिए करियर विकल्पों की जानकारी नीचे दी गई है –

  • बीपीओ एसोसिएट
  • एंथ्रोपोलोजिस्ट
  • बिग डाटा एनालिस्ट
  • कॉपी राइटर
  • डिजिटल मार्केटिंग मैनेजर
  • इकोनोमिस्ट
  • मोबाईल एप डिज़ाइनर

7.आउटडोर के फील्ड में आर्ट्स के छात्रों के लिए करियर विकल्प

आर्ट्स फील्ड का दायरा बहुत बड़ा है, इसमें करियर के ढेरों विकल्प मौजूद हैं। वहीं इसी कड़ी में आउटडोर की फील्ड में भी आर्ट्स के छात्र अपना करियर बना सकते हैं जिनके बारे में नीचे दिया गया है।

  • एयरफोर्स ऑफिसर
  • एनिमल ट्रेनर
  • आर्मी ऑफिस
  • बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स
  • स्पोर्ट्स

तो आर्ट्स स्ट्रीम के छात्रों के पास भी करियर विकल्पों की कमी नहीं है। उनके लिए भी ढेर सारे करियर के ऑप्शन हैं, जिन्हें वे अपनी रुचि के अनुसार चुन कर सही दिशा में अपना करियर बना सकते हैं। और मोटी सैलरी भी कमा सकते हैं।

Read More:

  1. Courses After 10th
  2. Courses after 12th Science
  3. Commerce Courses after 12th
  4. Courses After 12th
  5. लक्ष्य कैसे निश्चित करे

Note: अगर आपको 12 वीं आर्ट्स के बाद कुछ ऐसे हैं कोर्सेस – Courses after 12th Arts अच्छी लगे तो जरुर Share कीजिये।
Note: E-MAIL Subscription करे और पायें More Career Realed Article and Educational Article आपके ईमेल पर।  

1 COMMENT

  1. बहुत ही उपयोगी जानकारी दी है आपने.
    इससे कैरियर बनाने में काफी मदद मिलेगी.
    सर आप बायोलॉजी के लिए भी बताए कि 12th बाद क्या करना चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.