जलियांवाला बाग हत्याकांड: कब क्या हुआ जानिए पूरा इतिहास | Jallianwala Bagh Massacre

Jallianwala Bagh Massacre

इतिहास में बहुत सी ऐसी घटनाएं हुई है जिसने हमारा आज बनाया है। कहते है कामयाबी कभी एक दिन की मेहनत होती है उसकी नींव रखने में ही कई साल लग जाते है। प्राचीन समय पर भारत के एक समृद्ध देश होने के कारण कई बाहरी आक्रमणकारियों ने भारत पर आक्रमण किया किसने इसे लूटने की कोशिश की तो किसी ने यहां पर अपनी सत्ता जमाने की कोशिश की। भारत पर 200 साल ब्रिटिश ने भी राज किया।

इस दौरान अंग्रेजों ने भारत को न केवल गुलाम बनाया बल्कि इसके कई विभाजन भी किए। अंग्रेजो के अत्याचारों से मुक्ति पाने और एक स्वंतत्रता देश में रहने के लिए लाखों देशवासियों संघर्ष किया। आजादी को लेकर कई आंदोलन हुए बहुत सी घटनाएं घटी। लेकिन इन सब जो घटना सबसे ज्यादा दुखद थी वो थी Jallianwala Bagh Massacre – जलियांवाला बाग की घटना।

जिसने 400 भारतीयों की मौत हो गई थी वही 2 हजार से ज्यादा लोग घायल हो गए थे। लेकिन ये नरसंहार क्यों हुआ और इसके परिणाम स्वरुप देश में ओर क्या क्या हुआ ये हम अपने आज के लेख में जानते हैं।

Jallianwala Bagh Massacre
Jallianwala Bagh Massacre

जलियांवाला बाग हत्याकांड: कब क्या हुआ जानिए पूरा इतिहास – Jallianwala Bagh Massacre

जलियांवाला बाद की घटना 13 अप्रैल 1919 में पंजाब के अमृतसर शहर में स्वर्ण मंदिर के पास स्थिति जलियांवाला बाग में घटी थी। लेकिन इसकी चिंगरियां बहुत पहले से पनपने लगी थी। हालांकि फिर भी किसी ने नहीं सोचा था कि ब्रिटिश अपनी तानशाही का नमूना इस तरह देंगे। दरअसल प्रथम विश्वयुद्ध जो 1914 से 1918 के बीच लड़ा गया था। उस दौरान भारत के नेताओं जनता ने ब्रिटेश का ये सोचकर पूरा साथ दिया था कि शायद इसके बाद ब्रिटेश भारत छोड़ देंगे।

पहले विश्व युद्ध के दौरान 45 हजार जवान भी इसी उम्मीद के कारण युद्ध लड़ते लड़ते शहीद हो गए। लेकिन विश्व युद्ध के बाद कहानी कुछ अलग ही देखने को मिली। दरअसल ब्रिटेशों के बढ़ते तानशाही रैवेये को देखते हुए पंजाब और बंगाल दोनों ही तरफ से आजादी की मांग जोरों से उठने लगी थी। ब्रिटिश कंपनी ने इस बात की समीक्षा के लिए एक समिति भी बनाई थी ताकि वो इस बात का पता लगा सकें कि कहीं इन आंदोलनों में कोई बाहरी तत्व तो उनका साथ नहीं दे रहा है।

हालांकि पंजाब में ब्रिटेश के खिलाफ विरोध की आग विश्व युद्ध के दौरान से ही उठ रही थी। जिस वजह से ब्रिटिश ने भारत में रॉलेट एक्ट – Rowlatt Act लागू कर दिया था। इस एक्ट का मुख्य उद्धेश देश में चल रहे आंदोलनों पर रोक लगाना था। जिस वजह से उस दौरान प्रेस पर भी सेंसरशिप लगा दी गई थी। एक्ट के तहत ब्रिटिश सरकार किसी भी नेता को बिना मुकदमें के जेल में डाल सकती थी। इसके अलावा लोगों को भी बिना वॉरण्ट के गिरफ्तार कर सकती थी। जिस वजह से विश्व युद्ध के बाद देश में आजादी की मांग ओर तेजी से उठने लगी।

13 अप्रैल 1919 वो दिन था जिस दिन पंजाब हरियाणा में बैसाखी का त्योहार मनाया जा रहा था। और हर साल की ही तरह बैसाखी के मेले का आयोजन हुआ था। जो जलियांवाला बाग में आयोजित हुआ था। इस मेले में एक सभा बैठाई गई थी जो ब्रिटिश के रॉलट एक्ट का विरोध कर रही थी।

लेकिन चलती सभा पर जनरल डायर के नेतृत्व में अंग्रेज ऑफिसरों ने इस सभा पर गोलियां चलाना शुरु कर दिया। इस नरंसहार में वहां मौजूद 400 लोग मारे गए वही 2000 से ज्यादा लोग घायल हो गए। हालांकि अलग – अलग विभागों में इन संख्या में थोड़ा फेरबदल है। रिपोर्टस के अनुसार इस हत्याकांड मे 337 पुरुष, 41 नाबलिग लड़के और 1 डेढ़ महीने का बच्चा भी मारा गया था।

इस हत्याकांड पर ब्रिटेन की महारानी ऐलीजाबेथ और उस समय के ब्रिटिश प्रधानमंत्री डेविड कैमरॉन ने भी शोक जताते हुए इसे ब्रिटिश इतिहास की सबसे शर्मनाक घटना बताई थी। और यहां आकर मृतको को श्रद्धाजंलि भी दी थी।

जलियांवाला बाग की घटना के बाद क्या हुआ – What happened after the Incident of Jallianwala Bagh

ब्रिटिश सरकार सोच रही थी कि इस हत्याकांड के बाद देश में आजादी के लिए होने वाले आंदोलन रुक जाएंगे लेकिन इसके परिणाम स्वरुप देश की जनता में ओर आक्रोश बढ़ गया। और आजादी की लौ जो अब तक देश के कुछ कोनों में जल रही थी। अब वो एक रुप में पूरे देश में जलने लगी थी।

इस हत्याकांड ने शहीद भगत सिंह जैसे स्वंतत्रता सेनानियों को जन्म दिया जो उस समय केवल बच्चे थे। साथ ही इस हत्याकांड के बाद महात्मा गाँधी के नेतृत्व में पूरे देश में असहयोग आंदोलन चलाया गया।

Read More:

I hope these article “Jallianwala Bagh Massacre in Hindi” will like you. If you like these “History of Jallianwala Bagh in Hindi” then please like our facebook page & share on whatsapp. and for latest update download: Gyani Pandit free android App.

loading...
Loading...

4 COMMENTS

  1. Sir ashyog andolan kab chalaya gaya tha apke blog m 2020 likha h i think 1020 hona chaiye please cross check your content this will help others

    • धन्यवाद सर आपको हमारा ये पोस्ट अच्छा लगा। हम आशा करते हैं कि आपको आगे भी हमारे आर्टिकल पसंद आएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.