जापान के इतिहास की महत्वपूर्ण घटनाएँ और जानकारी

Japan History

जापान पूर्वी एशिया का एक द्वीप राष्ट्र है। जो दुनिया के सबसे विशाल महासागर -प्रशांत महासागर में बसा हुआ है। जानकारों के अनुसार जापान नाम का अर्थ “सूरज के मूल” से है और अक्सर लोग इसे “उगते हुए सूरज की जमीन” भी कहते है। ऐसे ही Japan Information – जापान के बारेंमें और महत्वपूर्ण जानकारी।

जापान का इतिहास – Japan History in Hindi

Japan Information

एशिया महाद्वीप के प्रमुख देशों में से एक जापान के बारे में जानकारी – Information About Japan

देश का नाम (Country Name)जापान(Japan)।
जापान की राजधानी(Capital of Japan) टोकियो(Tokyo)।
क्षेत्रफल की दृष्टी से जापान का दुनिया में क्रमस्थान(Areawise Japan Rank in World)६१।
देश के अंतर्गत मौजूद कुल प्रांतो/राज्यों की सँख्या(Total Number of Prefecture)४७।
देश का कुल क्षेत्रफल(Total Area of Japan)३,७७,९७५ किलोमीटर वर्ग।
प्रमुख भाषाएँ (Languages in Japan)अमामी, कुनीगामी, मियाको, ओकिनवान, येयमा, योनागुनी,जापनीज और अंग्रेजी।
जापान देश का राष्ट्रीय खेल (National Game of Japan)सूमो कुश्ती (Sumo Wrestling)
देश का राष्ट्रीय पशु (National Mammal of Japan)जापनीज लंगूर (Snow Monkey)
राष्ट्रीय पक्षी (National Bird of Japan)हरा तीतर।
राष्ट्रीय पेड़ (वृक्ष)- National Tree of Japanलाल देवदार सुगी वृक्ष।
देश का राष्ट्रीय फल (National Fruit of Japan)जापानीज खजूर।
राष्ट्रीय पुष्प (फूल)- National Flower of Japanचेरी ब्लॉसम पुष्प।
जापान देश की कुल जनसँख्या (Total Population of Japan)१२ करोड़ ६३ लाख।
देश का आर्थिक चलन (Currency of Japan)जापनीज येन(Yen)।
कुल जनसँख्या अनुसार जापान का विश्व में क्रमस्थान११ वा (11th)

जापान देश की जानकारी – Japan ki Jankari

यह देश 6852 द्वीपों के स्ट्रेटो ज्वालामुखी का द्वीपसमूह है। इनमे से चार सबसे बड़े होन्शु, होक्कैडू, क्यूशू और शिकोकू शामिल है, जो जापान के 97% भाग में बसे हुए है। इस देश को 8 क्षेत्रो के 47 प्रांतो में विभाजित किया गया है। 127 मिलियन जनसँख्या के साथ जनसँख्या के हिसाब से यह दुनिया का दसवाँ सबसे बड़ा देश है। जापान की कुल जनसँख्या में से 98.5% लोग जापानी है।

जापान की राजधानी टोक्यो है, और तक़रीबन 9.1 मिलियन लोग यहाँ रहते है। आर्कियोलॉजिकल रिसर्च के अनुसार जापान पाषाण काल के भी पहले के समय से बसा हुआ है। सबसे पहले चीन इतिहास में जापान का उल्लेख हमें दिखाई देता है, जिसे पहली शताब्दी AD में लिखा गया था। सबसे पहले जापान दुसरे धर्मो से प्रभावित, विशेषतः चाइना से। 12 वी शताब्दी से 1868 तक, जापान पर सामंती सैन्यो का शासनकाल था, जो साम्राज्य के नाम पर जापान पर राज करते थे।

17 वी शताब्दी के शुरू में ही जापान ने अलगाव की अवधि में प्रवेश किया और 1853 में जब यूनाइटेड स्टेट ने जापान को पश्चिम तक खुला करने के लिए जोर डाला तब-तक जापान अलगाव की अवधि में ही था। तक़रीबन 2 दशको तक आंतरिक मनमुटाव और विद्रोह में रहने के बाद, 1868 में इम्पेरिकल कोर्ट ने अपनी राजनीतिक ताकतों को पुनः हासिल कर लिया और इस प्रकार जापान के साम्राज्य की स्थापना की गयी।

19 वी और 20 वी शताब्दी में, पहले सीनों-जापान युद्ध, रुस्सो-जापान युद्ध और प्रथम विश्व युद्ध में जीत हासिल करने के बाद जापान ने अपने साम्राज्य का विस्तार किया और साथ ही अपनी सैन्य शक्तियों को भी बढाया। 1937 के दुसरे सीनों-जापानी युद्ध का विस्तार होकर ही वह 1941 का द्वितीय विश्व युद्ध बना, जिनका अंत 1945 में हिरोशिमा और नागासाकी पर हुई बमबारी के बाद ही हुआ।

1947 में नए संविधान को अपनाने के बाद, जापान ने शासक के साथ एकात्मक संवैधानिक राजशाही को बनाए रखा था। जापान यूनाइटेड नेशन, G-7,G-8 और G-20 का सदस्य भी है और एक महाशक्ति के रूप में जाना जाता है। इस देश की अर्थव्यवस्था जीडीपी दर के हिसाब से दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है और पी.पी.पी के हिसाब से दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है।

साथ ही जापान दुनिया का चौथा सबसे बड़ा निर्यातक और चौथा सबसे बड़ा आयातक देश भी है। जापान में पढाई को ज्यादा महत्त्व दिया जाता है और सर्वोच्च शिक्षित देशो में आज जापान की तुलना की जाती है। युद्ध घोषणा करने के अपने अधिकार को जापान ने पुनर-घोषित भी किया हुआ है, जापान का सैन्य बजेट दुनिया का आठवा सबसे बड़ा सैन्य बजेट है।

जापान एक विकसित देश है, जहाँ के लोगो का स्टैण्डर्ड ऑफ़ लिविंग बहुत अच्छा है और ह्यूमन डेवलपमेंट इंडेक्स के अनुसार भी यह सबसे मानक देशो में से एक है।

जापान देश में मौजूद प्रमुख धर्म – Religions of Japan

दुनिया के अन्य देशो की तुलना में भारत के बाद शायद जापान ही ऐसा एक देश है जहाँ पूर्णतः धार्मिक स्वतंत्रता सभी धर्मियो को दी गई है और ये अमन पसंद देश है जहाँ सभी धर्म का समानता से आदर किया जाता है। बात करे यहाँ मौजूद धर्मो की तो शिंतो (Shinto) नामक धर्म का यही उगम स्थान है जिसके अधिकतर अनुयायी जापान में रहते है यु कहे तो ये लोग स्वदेशी धर्म शिंतो का अनुसरण करते है।

इसके बाद बौद्ध और इसाई धर्म के लोग यहाँ अच्छी खासी तादाद में मौजूद है, जिसमे इनके प्रार्थनास्थलों को जापान सरकारद्वारा बेहतरीन सुरक्षा मुहैय्या कराई गई है। जापान में अल्पसंख्यक समुदाय में हिन्दू धर्म, अब्राहम और बहाई मान्यताओं को मानने वाले लोग आते है, जिनकी सँख्या काफी कम है।

जापान की भाषाएँ – Languages of Japan

जैसा के हमने आपको पहले बताया के जापान में अधिकतर जापनीज भाषा का प्रयोग किया जाता है जो के इस देश की आधिकारिक भाषा भी है। कुछ हद तक इस भाषा का संबंध कोरियन और चीनी भाषा से होता है परंतु अंततः ये खुदमे एक विशिष्ट भाषा होती है। इसके अलावा देशांतर्गत बोली जाने वाली भाषाओ में रूकुयन भाषा परिवार की भाषाएँ शामिल होती है, जिसमे योनागुनी, मियाको, अमामी, येयामा, कुनिगामी, ओकीनावान इत्यादि प्रमुख भाषाएँ होती है।

इसके साथ आइनू, मोरीबंद आदि भाषाओ का देश के कुछ हिस्सों में प्रयोग किया जाता है जिन्हे स्थानिक भाषा भी कह सकते है। अंग्रेजी का शिक्षा के साथ बोलीचाली में बहुत कम हद तक इस्तेमाल होता है, पर यहाँ के लोग अंग्रेजी को बोलने और समझने में सक्षम होते है।

जापान की संस्कृति, परंपरा और सामाजिक जीवन – Culture and Tradition of Japan

जापान दुनिया के महाशक्तिशाली देशो में से एक है जिसने विगत कई दशकों में कड़ी मेहनत और अथक प्रयासों से देश को सभी क्षेत्र में उन्नत और विकसित बनाया है, जिसमें यहाँ के लोगो की जीवनशैली काफी आधुनिक दिखाई पड़ती है। इस देश के लोग काफी अमन पसंद और खुशमिजाज स्वभाव के होते है, जो के उच्च शिक्षित और खुदके बलबूते तरक्की करने पे विश्वास रखने वाले होते है।

दुनिया के अन्य देशो के तुलना में जापान का सामाजिक जीवन काफी सौहार्दपूर्ण होता है जहाँ अपराध का दर बहुत ही ज्यादा कम है। यहाँ आपको हर आम इंसान खुदके कार्य में व्यस्त दिखाई देंगा जिनका अधिकतर समय सिर्फ कारोबार, नौकरीपेशा से जुड़े कार्य, रोजगार से संबंधित गतिविधियाँ और दैनिक क्रियाकलापों में व्यतीत होता है। माना जाता है के जापान के लोग काफी शर्मिले और सरल किस्म के होते है, जो के पूर्णतः सत्य भी है तथा इनकी मेहमान नवाजी की पद्धति दुनिया भर में मशहूर है।

सामान्य तौर पर यहाँ शिंतो, बौध्द और ईसाई धर्म का पालन करनेवाले लोग अधिक है जो के इन धर्मो से जुडी मान्यताओं और पध्दति का अनुसरण करते है। अनुशासन और दृढ़ विश्वास से ये लोग सामाजिक जीवन और धार्मिकता में आपसी तालमेल बिठाकर जीना अधिक पसंद करते है। जापान में राजघरानों का वर्चस्व कई सालो से चला आया है जिनकी जीवनपद्धति पर प्राचीन काल से चीन और अन्य एशियाई देशो का प्रभाव हुआ है।

दूसरे महायुद्ध के बाद जापान ने स्वतंत्र मनोभूमिका अपनाते हुए शिक्षा को अधिक महत्व दिया और सभी क्षेत्र में अपना परचम लहराया। यहाँ का आम से आम इंसान आपको तकनीक के सभी प्रमुख संसाधनों के साथ जीवन जिते हुए नजर आयेगा तथा राष्ट्रप्रेम,त्याग, समर्पण के साथ व्यक्तिगत जीवन से ज्यादा देशहित के लिए ये लोग अधिक समय देनेवाले होते है।

बात करे आजके जापान की तो यह देश एशिया, यूरोप और उत्तर अमेरिका के संस्कृति और जीवनशैली का मिश्रण है, जिसमे इन सभी महाद्वीपों में बसे देशो की झलक देखने को मिलती है। कई वर्षो तक ये माना जाता था की चीन की संस्कृति की विरासत के झलक के तौर पर जापान देश की संस्कृति बनी है पर ये सही मायने में गलत होगा क्योंकि दूसरे महायुध्द के बाद का जापान काफी अलग और विशिष्ट है जो खुदकी स्वतंत्र सांस्कृतिक, पारंपारिक पहचान कायम किये हुआ है।

आजका जापान शिक्षा, चिकित्सा, तकनीक, खेल, साहित्य, कला और जीवन स्तर के मामले में काफी ऊँचाईया हासिल कर चूका है जिसका आर्थिक दृष्टी से क्रम स्थान दुनिया के शीर्ष पहले तीन देशो में लगता है। इस देश के अधिकतर लोग आम बोलीचाली में जापनीज भाषा का प्रयोग करते है, वही शिक्षा में अंग्रेजी का भी इस्तेमाल किया जाता है।इसके अलावा अन्य कुछ भाषाएँ भी यहाँ बोली जाती है जिसका विवरण हम आपको आगे देनेवाले है।

जापान के लोगों का प्रमुख खानपान – Cuisine of Japan Peoples

एशिया में पूर्वी देश जापान का खानपान बहुत हद तक पडोसी देशो के खानपान से मिलता जुलता नजर आता है, पर इस देश में लोगो का अधिकतर मनपसंद खाना उबले हुए चावल और इनसे बने विभिन्न व्यंजन होता है। यहाँ आपको जापान के लोगो के प्रमुख मनपसंद खाने की सूची हमने निचे दी हुई है, जिससे आपको अंदाजा लगेगा की अगर आप पर्यटन हेतु इस देश में मेहमान बनकर गए तो आपको खाने में कौनसे विशिष्ट खानपान प्रकार चखने को मिल सकते है। इसमें शामिल है –

  • सोबा (नूडल्स व्यंजन प्रकार)
  • सुशी (दुनियाभर में मशहूर जापनीज व्यंजन)
  • ग्योजा (नाश्ते में अधिकतर खाया जानेवाला व्यंजन)
  • ओकोनोमियाकी (माँस, सलाद इत्यादि से बननेवाला पिज्जा जैसा व्यंजन)
  • रामेन (जापान का सबसे पसंदीदा खानपान प्रकार)
  • तेम्पुरा (सी फ़ूड व्यंजन)
  • वागशी (मीठा व्यंजन)

जापान के प्रमुख महोत्सव – Festivals of Japan

सालभर में विभिन्न धार्मिक, सांस्कृतिक और राष्ट्रीय महोत्सवो को जापान में बड़े धूमधाम से मनाया जाता है, इनमे शामिल कुछ महत्वपूर्ण महोत्सव इस प्रकार से है –

  • कंडा मत्सुरी
  • अवा ओडोरी
  • गिआन मत्सुरी
  • किशिवाड़ा दंजीरी
  • युकी – बर्फ़बारी से संबंधित महोत्सव
  • तनबाता
  • नेबुता मत्सुरी
  • कोची योसाकोई
  • तेंजिन मत्सुरी
  • हकाता दोनताकू मत्सुरी

जापान के अंतर्गत मौजूद प्रांतो/राज्यों की सूची – State / Prefectures in Japan

यहाँ आप जान पायेंगे जापान देश में मौजूद प्रांतो के बारे में जिसमे छोटे बड़े सभी प्रकार के प्रांत मौजूद है, जिसे हमने आपके के लिए सूची अनुसार निचे दिया हुआ है। इनमे प्रमुखता से शामिल है –

  1. टोकियो (Tokyo)
  2. आओमोरी(Aomori)
  3. इवाते (Iwate)
  4. यामगाता (Yamagata)
  5. होक्काइदो(Hokkaido)
  6. अकिता (Akita)
  7. तोचिगी (Tochigi)
  8. इबाराकी (Ibaraki)
  9. सैतामा (Saitama)
  10. फुकुशिमा (Fukushima)
  11. तोयामा(Toyama)
  12. मियागी(Miyagi)
  13. नागानो (Nagano)
  14. आईची (Aichi)
  15. गुनमा (Gunma)
  16. चिबा (Chiba)
  17. कनागवा (Kanagawa)
  18. शिज़ुओका (Shizuoka)
  19. नीगाता (Niigata)
  20. फुकुई (Fukui)
  21. इशिकावा (Ishikawa)
  22. यामानाशी (Yamanashi)
  23. क्योटो (Kyoto)
  24. हयोगो (Hyogo)
  25. नारा (Nara)
  26. ग़िफु (Gifu)
  27. शिगा (Shiga)
  28. मिए (Mie)
  29. ओसाका (Osaka)
  30. वकयामा (Wakayama)
  31. कोची (Kochi)
  32. यामागुची (Yamaguchi)
  33. हिरोशिमा (Hiroshima)
  34. कागावा (Kagawa)
  35. ओकायामा (Okayama)
  36. टोटोरी (Tottori)
  37. शिमाने (Shimane)
  38. फुकुओका (Fukuoka)
  39. एहिमे (Ehime)
  40.  कुमामोतो (Kumamoto)
  41. तोकुशीमा (Tokushima)
  42. ओकिनावा (Okinawa)
  43. सागा (Saga)
  44. नागासाकी (Nagasaki)
  45. ओइता(Oita)
  46. कागोशिमा (Kagoshima)
  47. मियाजाकी (Miyazaki)

जापान के प्रसिध्द पर्यटन स्थल – Tourist Places in Japan

अगर आप के मन में जापान में घूमने जाने की इच्छा है तो यहाँ दिए जानेवाले स्थलों से संबंधित जानकारी आपके लिए काफी महत्वपूर्ण होनेवाली है। जापान के चुनिंदा प्रमुख पर्यटन स्थलों का विवरण सूची के रूप में निम्नलिखित तौर पर दिया गया है, इसमें शामिल है –

  • फूशिमी इनारी ताईशा – क्योटो
  • माउंट फुजियोमा (ज्वालामुखी का पर्वत)
  • तोड़ाई जी – नारा
  • हिमेजी कास्टल
  • मेइजी जिंगू – टोकियो
  • इम्पेरियल पैलेस – टोकियो
  • टोकियो टॉवर – मिनाटो शहर
  • नारा पार्क – नारा
  • ओसाका कास्ट्ल
  • स्काई ट्री – टोकियो
  • साप्पोरो (बर्फबारी महोत्सव के लिए प्रसिद्ध स्थल)
  • अराशियामा पर्वत श्रेणी
  • यूनिवर्सल स्टूडियो – ओसाका
  • टोकियो डिज्नीलैंड – उरायसू
  • डोटोनबोरी
  • आशी लेक
  • हिरोशिमा पीस मेमोरियल म्यूजियम
  • जिगोकुड़ानी मंकी पार्क
  • द हाकोने ओपन एयर म्यूजियम
  • केगोन वॉटर फॉल्स

जापान की प्रमुख नदियाँ – Rivers of Japan

  • टोन
  • ईशिकारी
  • यादो
  • किसो
  • शिनानो
  • सुमिदा
  • किटकामी
  • अराकावा
  • तमा
  • अगानो

जापान में मौजूद प्रमुख शिक्षा संस्थान/यूनिवर्सिटी – Educational Institutions/Universitiy in Japan

  • तोयो यूनिवर्सिटी
  • सोफिया यूनिवर्सिटी
  • टोकियो यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्नोलॉजी -मेगुरो शहर
  • होसेइ यूनिवर्सिटी
  • दोक्कयो यूनिवर्सिटी
  • सेंशु यूनिवर्सिटी
  • तेइको यूनिवर्सिटी
  • कंसाई यूनिवर्सिटी
  • द ओपन यूनिवर्सिटी ऑफ़ जापान -चिबा
  • कनागावा यूनिवर्सिटी

जापान देश के बारेमें अधिकतर बार पूछे जाने वाले सवाल – Gk Quiz on Japan

  • जापान देश का राष्ट्रीय ध्वज क्या है, इस बारे में संक्षिप्त में बताये? (What is the national flag of Japan?)                                                                                                      जवाब: जापान का राष्ट्रीय ध्वज पूर्णतः सफ़ेद रंग का होता है, जिसके ठीक मध्य भाग में सिंदूरी लाल या गहरे लाल रंग का वृत्ताकार/गोल होता है इस प्रकार से ये आयताकार ध्वज होता है।
  • जापान देश का पुराना नाम बताये? (Old name of Japan?)                                                      जवाब: निहोन, वा/वाकोकु।
  • कौनसे प्रसिध्द शहर जापान देश में मौजूद है? (Popular Cities in Japan?)                                    जवाब: टोकियो, क्योटो, हिरोशिमा, नागासाकी, कावासाकी, शिबुया, ओसाका।
  • कुल कितने हवाई अड्डे जापान में है? (Total airports in Japan?)                                              जवाब: लगभग ९८।
  • जापान की अर्थव्यवस्था विश्व में कौनसे क्रम स्थान पर है?(Economy rank of Japan in world?) जवाब: तिसरे (3rd)
  • द्वितीय विश्व महायुध्द में जापान ने कौनसे शक्तिशाली देश को पराजित किया था? (Which powerful country was beaten by Japan in second world war?)                                            जवाब: सोवियत संघ ( रशिया)
  • जापान के कौनसे दो शहरो पर द्वितीय विश्व महायुद्ध में परमाणु अस्त्र का प्रयोग किया गया था? (In second world war which two cities in japan were destroyed by the use of atom bomb?) जवाब: हिरोशिमा और नागासाकी।
  • जापान का माउंट फुजी पर्वत विश्वभर में क्यों प्रसिद्ध है? (Why mount Fuji is famous in the world?)                                                                                                                    जवाब: इस पर्वत में जिवित ज्वालामुखी है जो के अधिकतर बार सक्रिय रहता है, इस ज्वालामुखी से निकलने वाले तप्त रस से पर्वत के आजु बाजु में कई सारे छोटे छोटे पर्वत बने है जो के दुनियाभर के शोधकर्ताओ और पर्यटकों के लिए आकर्षण का विषय बना हुआ है।
  • कुल कितने द्वीप जापान देश में मौजूद है? (How many islands are there in Japan?) जवाब: लगभग ७००० छोटे बड़े द्वीप को मिलाकर जापान देश बना हुआ है, जिसमे के कुछ अति दुर्गमित द्वीप क्षेत्र है जहॉ पर अधिकतर बार नैसर्गिक आपदाओं का सामना करना पड़ता है।
  • दुनिया के कौनसे देश में सर्वाधिक भूकंप जैसी नैसर्गिक आपदा का सामना करना पड़ता है? भूकंप से विश्व का कौनसा देश सर्वाधिक प्रभावित होता है? (Most affected country in world by Earthquake?) जवाब: जापान।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here