आंध्र प्रदेश का इतिहास और जानकारी

Andhra Pradesh History in Hindi

आंध्र प्रदेश भारत के 29 राज्यों में से एक है और यह भारत का आठवां सबसे बड़ा राज्य है। इस राज्य में सबसे बड़े शहर विशाखापत्तनम और विजयवाड़ा हैं।

2 जून 2014 को, आंध्र प्रदेश के उत्तर-पश्चिमी भाग को एक नया राज्य तेलंगाना बनाने के लिए अलग किया गया था।

आंध्र प्रदेश का इतिहास और जानकारी – Andhra Pradesh History in Hindi

राज्य का नाम (State Name)आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh)
आंध्र प्रदेश की राजधानी (Capital of Andhra Pradesh)विशाखापट्टनम(Visakhapatanam)
राज्य की प्रमुख भाषाएँ (Languages of Andhra Pradesh)तेलुगु, अँग्रेजी, उर्दू, हिंदी।
राज्य निर्मिति का साल (State Formation Year)१ नवंबर १९५६।
राज्य की कुल जनसँख्या (Population of Andhra Pradesh)४,९३,८६,७९९।
क्षेत्रफल अनुसार राज्य का देश में स्थानसातवाँ (7th)
जनसँख्या अनुसार राज्य का देश में स्थानदसवाँ।
राज्य का साक्षरता दर८० प्रतिशत (%)
राज्य अंतर्गत कुल जिलों की संख्या (District in Andhra Pradesh)तेरा (१३)
कुल तालुका (तहसील) की सँख्या१८९।
कुल ग्रामीण विभागों की सँख्या२८,१२३।
कुल शहरो की सँख्या३१।
राज्य का प्रमुख जानवर (State Animal of Andhra Pradesh)काला हिरण।
प्रमुख पक्षी (State Bird of Andhra Pradesh)तोता।
प्रमुख पेड़ (वृक्ष)(State Tree of Andhra Pradesh)नीम वृक्ष।
प्रमुख फूल (पुष्प) (State Flower of Andhra Pradesh)जास्मिन पुष्प।
प्रमुख फल(State Fruit of Andhra Pradesh)आम।
प्रमुख खेल(State Game of Andhra Pradesh)कबड्डी।
राज्य का प्रमुख परंपरागत नृत्य(Folk Dance) कुचिपुड़ी।
वित्तीय और राज्यनिहाय आंध्र प्रदेश की कोड सँख्या (State Code of Andhra Pradesh)सैंतीस (३७ )
आंध्र प्रदेश अंतर्गत कुल हवाई अड्डों की सँख्यापाँच।

आंध्र प्रदेश राज्य की जानकारी – Andhra Pradesh information in Hindi

आंध्र प्रदेश काकतिया वंश, रेड्डी राजवंश, विजयनगर साम्राज्य और मुगल शासन के नियंत्रण में था। औपनिवेशिक युग की शुरुआत में, 1758 में चन्द्रती में अंग्रेजों और फ्रेंच के बीच एक बड़ी लड़ाई हुई, जिसके दौरान अंग्रेजों ने विजयनगर के महाराजा आनंद गजपति राजू को पराजित किया। 1792 में, महाराजा को पराजित करने के बाद अंग्रेजों ने इस क्षेत्र का अधिग्रहण किया।

Andhra Pradesh History in Hindi

Andhra Pradesh History in Hindi
Andhra Pradesh History in Hindi

स्वतंत्रता के बाद, हैदराबाद के निजाम को भारत से आजादी चाहिए, लेकिन उन्हें 1948 में भारत का हिस्सा बनना पड़ा। 1953 में, राज्यों के पुनर्गठन आयोग को भाषाई लाइनों पर आंध्र प्रदेश बनाने के लिए नियुक्त किया गया।

आंध्र राज्य तेलंगाना के तेलुगू भाषा क्षेत्र में विलय कर दिया गया था और 1965 में आंध्र प्रदेश बनाया गया था।

यनाम 1963 में पुडुचेरी के साथ विलय कर दिया गया था और वर्तमान में आंध्र प्रदेश के जिलों में से एक है। इसके तुरंत बाद तेलंगाना आंदोलन शुरू हुआ और राज्य का विभाजन हुआ।

आंध्र प्रदेश के जिले – Districts of Andhra Pradesh

आंध्र प्रदेश के जिलों की सूचि निम्नलिखित तौर पर है, जैसे के ;

  1. अनंतपुर
  2. पूर्वी गोदावरी
  3. चितूर
  4. गुंटूर
  5. कडापा
  6. नेल्लोर
  7. प्रकामस
  8. विशाखापत्तनम
  9. कुरनूल
  10. कृष्णा
  11. श्रीकाकुलम
  12. विजयनगरम
  13. पश्चिम गोदावरी

आंध्र प्रदेश की भाषा – Language of Andhra Pradesh

तेलुगू आधिकारिक भाषा है और आबादी के अधिकांश लोगों द्वारा बोली जाती है हालांकि, ज्यादातर शिक्षित लोग हिंदी और अंग्रेजी बोलने में सक्षम होंगे।

आंध्रप्रदेश राज्य में बहने वाली प्रमुख नदियाँ – Rivers in Andhra Pradesh State

आंध्र प्रदेश राज्य दो प्रमुख नदियों के बीच में है और वे गोदावरी और कृष्ण हैं। गोदावरी महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, कर्नाटक और उड़ीसा के माध्यम से भी बहती है। पेनेर, तुंगभद्रा, वामसाधरा, मनजीरा, नागावली, स्वर्णमुजजी, प्राणहिता आदि जैसी अन्य छोटी नदियां हैं। आंध्र प्रदेश के अन्य नदियों की सूचि निम्नलिखित तौर पर है, जैसे के ;

  1. गुंडालकम
  2. सिलेरू
  3. एर्राकालुवा
  4. हगरी
  5. कुंडू
  6. चित्रावती
  7. चंपावती
  8. पालार
  9. स्वर्णमुखी
  10. पापगानी
  11. गोस्थानी
  12. सबरी
  13. सारदा
  14. चेय्युरु
  15. अरनी

आंध्र प्रदेश राज्य की संस्कृति और परंपरा – Social Culture and Tradition of Andhra Pradesh

दक्षिण भारतीय राज्य आंध्र प्रदेश में इतिहास काल में चोल, चालुक्य, गजपति साम्राज्य, सातवाहन, रेड्डी, काकतीय वंश, बुक्क वंश का आधिपत्य रहा है, जहाँ पर ऐतिहासिक दस्तावेजों और सबूतों से ये साफ पता चलता है के ये राज्य आर्थिक और सामाजिक दृष्टी से समृध्द था।

राज्य में हिंदू, मुस्लिम, बौध्द, जैन, ख्रिश्चन, सिख आदि धर्मो के लोगो का अधिवास प्रमुखता से देखने को मिलता है। राज्य में विभिन्न जनजातियाँ भी आम तौर मौजूद है जिसमे लंबादास, बोडो गड़ाबा, बोंडा पोराजा, खोंड पोरोजा, गुटोब गड़ाबा, चेंचू, पारंगिपिरेजा,कुत्तिया कोंढ़स, कोंडा सवरास इत्यादि जनजातियाँ प्रमुखता से शामिल है।

राज्य की प्रमुख आधिकारिक भाषा तेलुगु होने के कारण इस राज्य के अंतर्गत बोलीचाली में सर्वाधिक लगभग इसी भाषा का इस्तेमाल किया जाता है। आंध्र प्रदेश में सभी धर्म के त्यौहार के साथ विशिष्ट जनजातीय मान्यताओं के अनुसार उनके त्यौहार और रस्म परंपराओ को भी पूरा कर खुशहाल जीवन जिया जाता है।

आंध्र प्रदेश के लोगो की वेशभूषा – Andhra Pradesh State Peoples Dress/Costume

राज्य में पुरुषो का प्रमुख परिधान धोती और कुर्ता होता है, जिसमे बहुत बार कुर्ता और लुंगी भी पहनने का चलन यहाँ पर है। शहरो में शर्ट, टी शर्ट और लुंगी भी आम तौर पर पहना जाता है, वही महिलाओ में मुख्यतः साड़ी और लंगा वोनी नामक वस्त्र प्रकार भी पहना जाता है।

आदिवासी जनजातियों के महिलाओ में लंबे स्कर्ट के जोड़ी के साथ ब्लाउज और सिर ओढ़ने हेतु दुपट्टा भी पहना जाता है। आजकल अधिकतर महिलाए सलवार कमीज और पश्चिमी वेशभूषा में आम तौर पर राज्य अंतर्गत पायी जाती है, वही शहरो में पुरुष साधा पैंट, शर्ट, टी शर्ट, जींस पैंट, कोट सूट इत्यादि भी पहनते है।

आंध्र प्रदेश राज्य के लोगो का प्रमुख भोजन – Staple Food of Andhra Pradesh Peoples.

इस राज्य के लोग अधिकतर तिखा व्यंजन खाने के शौक़ीन होते है, जिसमे शाकाहारी और मांस दोनों भोजन प्रकार मसालेदार, तिखे होना इनकी प्राथमिकता होती है।

चावल और चावल से बने पदार्थ यहाँ अधिक मात्रा में खाये जाते है जिसमे पुलिहोरा नामक व्यंजन यहाँ काफी पसंदीदा है, इसके साथ दोसा, इडली, वडा सांबार इत्यादि चावल से बने व्यंजन इनके रोज के भोजन में आम तौर पर शामिल होते है।

चटनी, अचार, पापड़, सलाद इत्यादि यहाँ प्रमुखता से खाया जाता है, हैदराबादी बिरयानी इस राज्य में काफी ज्यादा प्रसिध्द है। माँस के पदार्थो में यहाँ चिकन करी, मटन करी, फिश करी इत्यादि प्रमुखता से खाया जाता है वही समुद्री तटवर्तीय इलाको में भात के साथ फ्राई मछली अधिक तौर पर खाई जाती है जिसमे रस्सम का भी इस्तेमाल किया जाता है।

अन्य पदार्थो में यहाँ चकना, दालचा, मूर्घका कोरमा कट्टी दाल इत्यादि सेवन किया जाता है, वही मीठे व्यंजनों में शीर कोरमा, बंधर का लड्डू, पुठारेक़ुलू, गाजर का हलवा इत्यादि बड़े चाव से खाया जाता है।

आंध्र प्रदेश की वास्तुकला और अन्य कलाएँ – Architecture and Arts in Andhra Pradesh.

राज्य लकड़ी और पत्थर नक्काशी में अग्रणी है। कलामकारी, बिद्री, निर्मल चित्रों ने दुनिया भर में अपना नाम बनाया है। साड़ी और पोशाक सामग्री को छपाई के दौरान स्नानिक प्रिंट का उपयोग किया जाता है।

राज्य अंतर्गत प्राचीन मंदिरो का निर्माण सम्पूर्णतः द्रविड़ कलाशैली अनुसार बनाया हुआ देखने को मिलता है, इसके अलावा बौध्द स्मारक स्थल और मूर्तियों में भी द्रविड़ और मध्ययुगीन कालिन वास्तुकला की झलक देखने को मिलती है।

इस राज्य के शासक चोल, चालुक्य और सातवाहन के काल में सर्वाधिक वास्तु शिल्प निर्मित हुए है, इसके अलावा विजयनगर के शासको द्वारा भी राज्य में अप्रतिम वास्तु शिल्प के अद्भुत नमूने निर्मित किये गए है। इनमे शामिल मंदिर, अमरावती शहर के प्रसिध्द वास्तु शिल्प, गुफाएँ, स्मारक स्थल, किले इत्यादि शामिल है।

आंध्र प्रदेश राज्य का संगीत और नृत्यकला – Music and Folk Dance in Andhra Pradesh State

आंध्र प्रदेश राज्य की नृत्य और संगीतकला आदि काल से समृध्द और विशिष्ट है जो के राज्य का स्वतंत्र अस्तित्व आज तक कायम किये हुए है, बात करे राज्य अंतर्गत आनेवाले प्रमुख नृत्य प्रकार की तो ‘कुचिपुड़ी’ राज्य का परंपरागत नृत्य प्रकार है जिसको धार्मिकता के नजरिये से भी काफी ज्यादा महत्व प्राप्त है।

इसके अलावा आंध्रा नाट्यम, विलासिनी नाट्यम, बुर्राकथा, वीर नाट्यम, बुट्टा बोम्मलु, थोलू बोम्मालट्टा, लम्बाड़ी,अहिमसा, कोलताम, तप्पेटा गुल्लू आदि अन्य नृत्य प्रकार भी विभिन्न मौको पर किये जाते है।

राज्य में शास्त्रीय संगीत के साथ फ़िल्मी संगीत का भी बहुत ज्यादा चलन है, इसके अलावा लोकगीत यहाँ के ग्रामीण और जनजातीय इलाको में काफी ज्यादा पसंद किया जाता है।

धार्मिक और सांस्कृतिक मौको पर शास्त्रीय गीत संगीत अधिक तौर पर सुनना यहाँ पसंद किया जाता है, वही आजकल के आधुनिकता के युग में पश्चिमी गीत संगीत और नृत्यों का राज्य के शहरी विभागों में अधिक प्रचलन हुआ है।

आंध्र प्रदेश में शास्त्रीय संगीत के महान कलाकारों ने जन्म लिया है जिनमे मुथुस्वामी दिकस्तर, त्यागराजा और श्यामा शास्त्री शामिल है, इन्होने शास्त्रीय संगीत ना केवल समृध्द किया बल्कि विरासत के तौर पर संगीत की एक अलग नींव रखी।

शास्त्रीय संगीत निर्माताओं में यहाँ पर भद्रचल रामदासा, अन्नामाचार्य, क्षेत्रय्या नामके संगीतकार भी हुए।इस राज्य से गायक एस.पी बालसुब्रमण्यम, गायक संगीतकार देवी श्री प्रसाद इत्यादि भी काफी विख्यात हुए है।

आंध्र प्रदेश के त्यौहार – Festivals of Andhra Pradesh

राज्य में दशहरा, दीपावली, श्री राम नवमी, कृष्ण जन्माष्टमी, गणेश चतुर्थी और महाशिवरात्री जैसे हिंदू त्योहार मनाए जाते हैं। इसी तरह, मुस्लिम त्योहार जैसे कि बकर-ईद और ईद-उल-फितर और क्रिसमस और ईस्टर जैसी ईसाई त्यौहार भी उत्सुकता से मनाए जाते हैं। हालांकि, राज्य में उगाडी (मार्च-अप्रैल में तेलगू नए साल का दिन) और संक्रांति (जनवरी में) भी मनाया जाता है।

बाथकाम्मा तेलंगाना क्षेत्र के लिए विशेष है महीने के लंबे त्यौहार में, देवी बाथकाम्मा की मूर्ति की पूजा की जाती है और नदियों और झीलों पर तैरता है।

वार्षिक पर्यटन घटनाओं में वीका उत्सव, डेक्कन महोत्सव, रायलसीमा खाद्य और नृत्य महोत्सव और लुंबिनी उत्सव।

आंध्र प्रदेश राज्य के प्रमुख धार्मिक स्थल – Religious Places in Andhra Pradesh

धार्मिक और सांस्कृतिक दृष्टी से आंध्र प्रदेश राज्य को ऐतेहासिक विरासत मिली हुई है, जिसमे राज्य अंतर्गत लगभग सभी धर्मो के पवित्र धार्मिक स्थल मौजूद है, इनमे से सभी प्रमुख धार्मिक स्थलों का ब्यौरा हम यहाँ आपको संक्षेप में दे रहे है। निम्नलिखित तौर पर ऐसेही कुछ स्थल शामिल है, जैसे के;

Temple in Andhra Pradesh

Temple in Andhra Pradesh
Temple in Andhra Pradesh
  1. जगप्रसिध्द तिरुपति बालाजी वेंकटेश्वर मंदिर
  2. श्रीकालहस्तीवरा मंदिर
  3. वीरभद्र मंदिर
  4. श्री शैलम मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग मंदिर
  5. अनंतपुरम मंदिर
  6. पुट्टपर्थी सत्यसाईबाबा निवास संस्थान
  7. राघवेंद्र स्वामी मंदिर
  8. पंचमुखी अंजनेय मंदिर
  9. कनक दुर्गा मंदिर
  10. सुरेन्द्रपुरी
  11. बिर्ला मंदिर
  12. पीठापुरम
  13. अन्नावरम मंदिर
  14. अहोबीलाम
  15. देवी दुर्गा मंदिर विजयवाड़ा
  16. महानंदी मंदिर
  17. लेपाक्षी मंदिर
  18. कनिपाकम
  19. द्रक्षारामम
  20. श्री सोमेश्वर मंदिर – भीमावरम

आंध्र प्रदेश राज्य के प्रमुख पर्यटन स्थल – Tourism of Andhra Pradesh

आंध्र प्रदेश को भारत के कोह-नूर के नाम से जाना जाता है और इस खूबसूरत राज्य में आने के लिए कई जगह हैं। यह अपने समृद्ध प्राकृतिक संसाधनों, नदियों, ऐतिहासिक स्मारकों आदि के लिए प्रसिद्ध है।

विशाखापत्तनम शहर में बहुत कुछ है, और यह केवल एक समुद्र तट का स्थान नहीं है, लेकिन इसमें सुंदर झीलें, गुफाएं, घाटियां और पहाड़ी पर्वतमाला भी हैं। इसमें कई समुद्र तट हैं जैसे कि आर।के। समुद्रतट, लॉसन्स बे बीच आदि। बोरा गुफाएं भी इस शहर के पास स्थित हैं और यह अपने मिलियन वर्षीय स्टैलाटाइट और स्टालागमीट गठन के लिए प्रसिद्ध है।

Tourist Places of Andhra Pradesh

Tourist Places of Andhra Pradesh
Tourist Places of Andhra Pradesh

अरकू घाटी एक प्रसिद्ध हिल स्टेशन है जो जैव विविधता में समृद्ध है और इसमें कॉफी बागान और झरने हैं। यह एक सुंदर पर्यटन स्थल है जो हर साल बड़ी संख्या में पर्यटकों को आकर्षित करता है। होर्स्ली हिल्स एक प्रसिद्ध हिल स्टेशन भी है।

यात्रा करने के लिए स्थल झील गंगोत्री, पर्यावरण पार्क, हॉर्सली संग्रहालय और गली बांदा शामिल हैं।आंध्र प्रदेश भारत में सबसे बड़ा मीठे पानी के झीलों में से एक है जो कोलेरू झील है और यह कृष्ण और गोदावरी डेल्टा के बीच स्थित है। यह एक वन्यजीव अभयारण्य है और अंतर्राष्ट्रीय महत्व का है। यहां कई धार्मिक और तीर्थस्थल स्थलों हैं, जैसे कि तिरुपति हर साल लाखों श्रद्धालुओं द्वारा इस मंदिर का दौरा किया जाता है।

आंध्र प्रदेश राज्य पर्यटन के दृष्टी से काफी समृध्द राज्य है, जहाँ पर आपको विभिन्न ऐतिहासिक स्थल मौजूद है। ऐसेही कुछ प्रसिध्द ऐतिहासिक और प्राकृतिक सुंदरता से समृध्द पर्यटन स्थलों की जानकारी यहाँ आप जान पायेंगे, जिसे निचे वर्णित किया हुआ है, जैसे के;

  • तालकोना वॉटर फॉल्स
  • उंडावल्ली केव्ज
  • बेलम केव्ज
  • ऋषिकोंडा समुद्री तट
  • कोंडाविडू फॉल्स
  • कैलासगिरी विशाखापट्टनम
  • आर के समुद्री तट विशाखापट्टनम
  • इंदिरा गाँधी जूलॉजिकल पार्क
  • विक्टोरिया म्युजियम
  • कोंडपल्ली किला
  • पुलिकत लेक
  • नेल्लापट्टू अभयारण
  • मेपड़ समुद्री तट
  • उदयगिरी किला
  • कांचीपुरम
  • हॉर्सले हिल्स
  • गुर्रमकोंडा किला
  • नल्लामाला जंगल
  • कुर्नूल किला
  • भगवान महावीर म्युजियम
  • कोठापटनम समुद्री तट
  • गोपुरम
  • डौलेस्वरम बैरेज
  • गोदावरी बोट ट्रैवेल्स – राजामुंद्री
  • अडोनी किला

हमारा भारत देश बहुत सारे खजाने से भरा हैं उसमेंसे एक हैं प्राकृतिक और नैसर्गिक ख़जाना। उसी तरह आंध्रप्रदेश उसी खजाने से भरा हुआ हैं। आंध्रप्रदेश को कोहिनूर की उपमा मिली हैं। निसर्ग प्रेमियों के लिए यह बहुत ही खास जहग साबित होंगी।

आंध्र प्रदेश राज्य के शिक्षा संस्थान/ यूनिवर्सिटी – Educational Institutions / University in Andhra Pradesh

शिक्षा के दृष्टी से दक्षिण भारत में आंध्र प्रदेश जानामाना राज्य है, जहाँ पर विभिन्न उच्च शिक्षा संस्थान मौजूद है। निम्नलिखित तौर यहाँ आंध्र प्रदेश के कुछ प्रमुख शिक्षा संस्थान दिए हुए है जैसे के;

  • जवाहरलाल नेहरू टेक्नोलॉजी यूनिवर्सिटी, अनंतपुर
  • कृष्णा यूनिवर्सिटी, मछलीपट्टनम
  • जवाहरलाल नेहरू टेक्नोलॉजी यूनिवर्सिटी, काकीनाडा
  • डॉ. एन.टी.आर यूनिवर्सिटी ऑफ़ हेल्थ साइंस
  • डॉ. बी.आर आंबेडकर यूनिवर्सिटी श्रीकाकुलम
  • आचार्य नागार्जुन यूनिवर्सिटी, गुंटूर
  • श्री वेंकटेश्वर यूनिवर्सिटी, तिरूपति
  • श्री कृष्णदेवराय यूनिवर्सिटी, अनंतपुर
  • भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, तिरुपति (IIT Tirupati)
  • आदिकवि नन्नया यूनिवर्सिटी, राजमुंद्री
  • रायलसीमा यूनिवर्सिटी
  • नॅशनल संस्कृत यूनिवर्सिटी
  • सातवाहन यूनिवर्सिटी
  • के आर ई ए यूनिवर्सिटी
  • ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंस (AIIMS)

आंध्र प्रदेश राज्य के प्रसिद्ध व्यक्तित्व – Famous Personalities of Andhra Pradesh

Famous Personalities of Andhra Pradesh
Famous Personalities of Andhra Pradesh

यहाँ हम आपको परिचित कराएँगे आंध्र प्रदेश राज्य के देश विदेश में मशहूर व्यक्तियों से जीन का विवरण निम्नलिखित तौर पर है, जैसे के;

आंध्र प्रदेश राज्य के बारेमें अधिकतर बार पूछे गए सवाल – Quiz on Andhra Pradesh State

  • आंध्र प्रदेश राज्य के इतिहास से जुडी जानकारी हमें कौनसे किताबों से प्राप्त होती है? (best books for andhra pradesh history)
    जवाब: हिस्ट्री एंड कल्चर ऑफ़ आंध्र प्रदेश, हिस्ट्री ऑफ़ मॉडर्न आंध्रा, द रूल ऑफ़ चालुक्य चोल इन आंध्रदेसा, आंध्र प्रदेश हिस्ट्री कॉन्ग्रेस, गिल्ड्स इन मिडिवल आंध्रदेसा, सोर्स ऑफ़ हिस्ट्री एंड कल्चर ऑफ़ तेलुगु स्पीकिंग पिपल्स, एडमिनिस्ट्रेशन इन आंध्रा – फ्रॉम द अर्लीएस्ट टाइम टू 13th सेंच्युरी, लेट मिडिवल आंध्रा प्रदेश, तेलुगु डिसपोरा थ्रू द एजेस इत्यादि।
  • भारतीय राज्य आंध्र प्रदेश के प्रथम मुख्यमंत्री कौन थे? (who is the first chief minister of andhra pradesh?)
    जवाब: नीलम संजीवा रेड्डी।
  • भारत में आंध्र प्रदेश राज्य कहाँ पर स्थित है? (where is andhra pradesh?)
    जवाब: आंध्र प्रदेश राज्य के सिमा से दक्षिण दिशा में भारतीय राज्य तमिलनाडु की सिमा जुडी है तो दक्षिण पश्चिम और पश्चिम दिशा से कर्नाटक राज्य की सिमा जुडी है। आंध्र प्रदेश के उत्तर पश्चिमी तथा उत्तर दिशा में तेलंगाना राज्य की सिमा जुडी हुई है तो वही उत्तर पूर्वी दिशा से ओडिशा राज्य की सिमा जुडी हुई है।
  •  आंध्र प्रदेश राज्य में पहुँचने के लिए लगभग कितना समय लगता है? (how many days required to visit andhra pradesh?)
    जवाब: ये अंतर आपके मौजूदा स्थान से आंध्र प्रदेश के बीच की दुरी पर निर्भर होता है, इसके साथ आपके मौजूदा सफर के साधन अनुसार समय में कम ज्यादा अंतर हो सकता है। भारत में से किसी भी स्थान से आंध्र प्रदेश में रेल मार्ग से पहुंचने हेतु अधिकतम चार दिनों तक का समय लग सकता है, वही हवाई मार्ग से ये समय काफी काम लगता है। वैसे यहाँ पहुँचने के बाद आपको राज्य अंतर्गत विभिन्न पर्यटन स्थल देखने हेतु कमसे कम बीस दिन लग सकते है।
  • आंध्र प्रदेश राज्य में ठहरने हेतू कौनसे उत्तम स्थान मौजूद है? (best place to stay in andhra pradesh?)
    जवाब: विशाखापट्टनम, विजयवाड़ा, तिरुपति, अनंतपुर, नेल्लोर, गुंटूर आदि शहर आंध्र प्रदेश में ठहरने हेतु उत्तम स्थान है।
  • भारतीय राज्य आंध्र प्रदेश में घूमने हेतु जाना हो तो सबसे उचित कौनसा समय होता है? (what is the best time to visit andhra pradesh?)
    जवाब: अक्टूबर माह से लेकर फरवरी माह तक, इसके अलावा अगर आप बरसात के शौक़ीन है तो जुलाई माह से लेकर सितंबर माह तक का समय उचित होता है।
  • आंध्र प्रदेश राज्य में कुल कितने नॅशनल पार्क मौजूद है? (how many national park in andhra pradesh?)
    जवाब: तीन (३)
  • भारतीय राज्य आंध्र प्रदेश प्राचीन काल में किस नाम से जाना जाता था? (what is the old name of andhra pradesh)
    जवाब: अस्मक महाजनपद (Assaka Mahajanpad )।
  • आंध्र प्रदेश राज्य देश दुनिया में क्यों प्रसिध्द है?(what is andhra pradesh famous for?)
    जवाब: भारतीय इतिहास में आंध्र प्रदेश राज्य को ऐतिहासिक पृष्ठ्भूमि वाला राज्य माना जाता है जहाँ चोल, चालुक्य, सातवाहन, काकतीय, विजयनगर शासक इत्यादि तत्कालीन प्रबल शासकों का शासन था। इनके शासनकाल में राज्य में वास्तुकला, साहित्य कला, प्रशासन सुधार के लिए उल्लेखनीय कार्य हुए जिसमे द्रविड़ शैली के भव्य प्राचीन मंदिर और भवन आज भी आप राज्य अंतर्गत देख सकते है। इसके अलावा सुंदर गुफाएँ, स्मारक स्थल, नगर निर्मिति भी इन महान शासको द्वारा की गई जिसमे अमरावती स्थल देश दुनिया में प्रसिद्ध है। राज्य में श्री शैलम ज्योतिर्लिंग मंदिर और तिरुपति बालाजी मंदिर धार्मिक और ऐतिहासिक विरासत के रूप में पर्यटकों और श्रध्दालुओ का ध्यान अपने ओर केंद्रित करते है। आंध्र प्रदेश राज्य से भारत की प्रमुख नदीया गोदावरी, तुंगभद्रा, प्राणहिता, चित्रावती इत्यादि बहती है जिसके वजह से जलस्त्रोत प्रचुर मात्रा में उपलब्ध होता है, तथा राज्य में कृषि में भी इसके कारण काफी विकास हुआ है। आंध्र प्रदेश राज्य पर्यटन, खेल, कला, संस्कृति, साहित्य, आर्थिक और सामाजिक विकास की दृष्टी से भारत का समृध्द राज्य है इसके अलावा देश के प्रभावशाली व्यक्तियों में से बहुत से व्यक्ति इस राज्य से आते है जिसमे भारत के कुछ पूर्व राष्ट्रपति भी मूलतः इसी राज्य से थे। प्राचीन काल में अस्मक महाजनपद के नामसे जाना वाला यह राज्य तत्कालीन प्रबल जनपदों में एक हुआ करता था, इत्यादि कारणों की वजह से आंध्र प्रदेश राज्य देश दुनिया में काफी प्रसिध्द है।
  • आंध्र प्रदेश राज्य में कौनसे वन्यजीव अभयारण मौजूद है? (Wild life sanctuaries in Andhra Pradesh)
    जवाब :- कृष्णा अभयारण, गुंडला ब्रम्हेश्वरम अभयारण, कोरिंगा अभयारण, श्री वेंकटेश्वरा अभयारण, रोल्लापाडु अभयारण, कौण्डिल्य अभयारण और रयाला हाथी संरक्षण विभाग, कम्बालकोंडा अभयारण, नागार्जुन सागर, श्री लंकामल्लेश्वरा अभयारण इत्यादि।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here