बांग्लादेश देश की महत्वपूर्ण घटनाएँ और जानकारी | Bangladesh Information

बांग्लादेश देश की पूरी और महत्वपूर्ण जानकारी – Bangladesh Information हम आपके लिए लाये हैं । आशा हैं की आपकों इस जानकारी से लाभदायक होंगी ।

Bangladesh Information
बांग्लादेश देश की महत्वपूर्ण घटनाएँ और जानकारी – Bangladesh Information

बांग्लादेश, अधिकारिक रूप से पीपल्स रिपब्लिक ऑफ़ बांग्लादेश दक्षिण एशिया का एक संप्रभु राज्य है। इसके पूर्वी भाग में इस देश में बंगाल की जातीय-भाषाई क्षेत्र का निर्माण किया हुआ है। यह देश बंगाल की खाड़ी के सर्वोच्च स्थान पर बना हुआ है, इस देश में भारत और म्यांमार की सीमाये है और सिलिगुरी गलियारे की वजह से यह नेपाल और भूटान से अलग है। 170 मिलियन की जनसँख्या के साथ, जनसँख्या की दृष्टी से बांग्लादेश दुनिया का आठवा सबसे बड़ा देश है, और एशिया में जनसँख्या की दृष्टी से पाँचवा सबसे बड़ा देश और सर्वाधिक मुस्लिम जनसँख्या की दृष्टी से तीसरा सबसे बड़ा देश है। अधिकारिक बंगाली भाषा दुनिया में सातवी सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा है, जिसका उपयोग बांग्लादेश के साथ-साथ पडोसी राष्ट्र भारत के पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा और आसाम में भी किया जाता है।

एशिया की तीन विशाल नदियाँ, गंगा (पद्मा), ब्रह्मपुत्र (जमुना) और मेघना, बांग्लादेश और उपजाऊ बांग्ला डेल्टा से होकर ही बहती है – जो दुनिया का सबसे बड़ा डेल्टा है। समृद्ध जैव विविधता के साथ, बांग्लादेश 700 से भी ज्यादा नदियों का घर है, जिनमे से ज्यादातर सुंदरबन में है, जिसे दुनिया का सर्वश्रेष्ट सदाबहार वन और वर्षावन माना जाता है, 600 किलोमीटर के समुद्र तट के साथ ही यह दुनिया के सबसे लंबे बिच (समुद्र तट) में से एक है। साथ ही यहाँ कोरल रीफ जैसे दुसरे द्वीप भी है। बांग्लादेश दुनिया में सबसे घनी आबादी वाला देश है, जिसका नंबर दक्षिण कोरिया और मोनाको के साथ आता है। बांग्लादेश की राजधानी ढाका और बंदरगाह वाला शहर चित्तागोंग, बांग्लादेश के प्रमुख शहरी इलाको में से एक है। देश के प्रमुख जातीय समूह बंगाली, बंगाली-मुस्लिम, बंगाली हिन्दू, चक्मास, बंगाली क्रिस्चियन, मर्मस, तंचंग्यास, बिस्नुप्रिया मणिपुरिस, बंगाली बुद्धिस्ट, गारोस, संथाल्स बिहारी, ओरों, त्रिपुरी, मुंडा, रखीं, रोहिंग्या, इस्माइल और बहाई है।

ज्यादातर बंगाल प्राचीन समय में गंगारिदाई के ग्रीक और रोमन के नाम से भी जाना जाता था। डेल्टा के लोगो ने अपनी खुद की भाषा, साहित्य, संगीत, कला, लिपि और आर्किटेक्चर को विकसित किया था। प्राचीन एशियन साहित्य को इस समय में काफी प्रभावशाली माना गया था। साथ ही यह ऐतिहासिक सिल्क रोड का महत्वपूर्ण पुनर्निर्यात करने वाला देश था। धीरे-धीरे बंगाल की मुस्लिम राष्ट्र के रूप में ही अवशोषित कर लिया गया और तक़रीबन 4 शताब्दियों तक यहाँ पर सुल्तान ने शासन किया था, जिनमे दिल्ली सल्तनत और बंगाल सल्तनत के शासको का भी समावेश है। बाद में मुग़ल साम्राज्य के एडमिनिस्ट्रेशन ने इसकी बागडोर अपने हाँथो में ले ली। इस्लामिक बंगाल एक पिघलने वाला बंगाल था, लेकिन मध्यकालीन विश्व व्यापार में यह क्षेत्रीय ताकत के रूप में उभरकर सामने आया। 18 वी शताब्दी में ब्रिटिश ने औपनिवेशिक जीत हासिल की थी। इसके बाद ब्रिटिश राज में 19 वी और 20 वी शताब्दी में राष्ट्रवाद, सामाजिक सुधार और कला का विकास किया गया। उस समय यह क्षेत्र उपमहाद्वीप में विरोधी औपनिवेशिक अभियान का बड़ा केंद्र था।

पहला ब्रिटिश विभाजन 1905 में बंगाल का किया गया, जिसके चलते पूर्वी बंगाल और आसाम प्रांत का निर्माण किया गया, इसीने 1947 में ब्रिटिश भारत के विभाजन की मिसाल रखी थी, और जब पूर्वी बंगाल पाकिस्तान में शामिल हो गया था तब 1955 में इसका नाम बदलकर पूर्वी पाकिस्तान रखा गया था। यह भारतीय क्षेत्र के पश्चिम पाकिस्तान से 1400 किलोमीटर दूर और अलग था। 1971 में हुए बांग्लादेश मुक्ति संग्राम में परिणामस्वरूप पूर्वी पाकिस्तान का अपगमन कर नये गणराज्य की स्थापना की गयी। 1975 में बांग्लादेश छोटा एक पार्टी का राज्य था, जहाँ बहुत से सैन्य तख्तापलट किये गये और राष्ट्रपति सरकार की स्थापना की गयी। इसके बाद 1991 में संसदीय गणराज्य को पुनर्स्थापित करने के बाद देश की आर्थिक स्थिति में सुधार आया और देश की अर्थव्यवस्था भी स्थिर थी। लेकिन बांग्लादेश के सामने फिर भी गरीबी, भ्रष्टाचार, ध्रुवीकृत राजनीती, सुरक्षा कर्मियों द्वारा मानव अधिकारों का हनन, बढती जनसँख्या और ग्लोबल वार्मिंग जैसी चुनौतियाँ थी। जबकि देश ने बहुत कम समय में ही प्रभावशाली रूप से मानव विकास कर लिया था, जिनमे स्वास्थ, शिक्षा, लिंग समानता, जनसँख्या नियंत्रण और खाद्य उत्पादन में सुधार मुख्य रूप से शामिल है। 1990 में जो गरीबी दर बांग्लादेश में 57% थी वह 2014 में घटकर 25.6% ही रह गयी।

बांग्लादेश को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक शक्तिशाली देश के रूप में देखा जाता है और साथ ही इसे नेक्स्ट एलेवेन में भी शामिल किया गया है। निर्वाचित संसद के साथ यह एकात्मक राज्य है जिसे जतियो संग्षद का नाम भी दिया गया है। बांग्लादेश की अर्थव्यवस्था दुनिया में तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है और दक्षिण एशिया में इसकी सैन्य शक्ति भारत और पाकिस्तान से थोड़ी कम है। बांग्लादेश SAARC (सार्क) का संस्थापक सदस्य और BIMSTEC का स्थायी सेक्रेटरी भी है। यूनाइटेड स्टेट के शांति अभियान एम बांग्लादेश का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। विकसनशील 8 देशो में बांग्लादेश का भी नाम है, साथ ही बांग्लादेश OIC, कामनवेल्थ ऑफ़ नेशन, वर्ल्ड ट्रेड आर्गेनाईजेशन, G-77 और नेचुरल गैस और लाइमस्टोन का सदस्य भी है। बांग्लादेश में मुख्यतः चावल, जूट और चाय की खेती की जाती है। ऐतिहासिक रूप से यह मलमल और रेशम के लिये भी प्रसिद्ध है, आधुनिक बांग्लादेश दुनिया के प्रमुख टेक्सटाइल उत्पादक देशो में से एक है। इसके प्रमुख्य व्यापर सहयोगियों में यूरोपियन संघ, यूनाइटेड स्टेट, जापान और आस-पास के देशो में चाइना, सिंगापूर, मलेशिया और भारत का समावेश है।

बांग्लादेश के इतिहास के कुछ महत्वपूर्ण दिन – Important Dates in Bangladesh History

1947 – भारत में ब्रिटिश औपनिवेश शासन का अंत हुआ। सर्वाधिक मुस्लिम जनसँख्या वाले राज्य पूर्वी और पश्चिमी पाकिस्तान की स्थापना की गयी। इस दोनों प्रांतो को एक दुसरे से 1500 किलोमीटर की दुरी से अलग किया गया।

1971 – बंगालि राष्ट्रवादी और पाकिस्तान के बीच नौ महीने तक चले युद्ध के बाद आज़ादी मिली।

1973 – पहले संसदीय चुनाव में आवामी लीग ने एकतरफा जीत हासिल की।

1975 – सैन्य बलो ने देखा की संस्थापक राष्ट्रपति शेख मुजीबुर रहमान और उनके परिवार के सदस्यों की हत्या कर दी गयी, और इस प्रकार नागरिक शासन का अंत हुआ।

1979 – दुसरे संसदीय चुनाव में बांग्लादेश राष्ट्रवादी पार्टी के लीडर और भूतपूर्व आर्मी चीफ ज़ौर रहमान को राष्ट्रपति बनाया गया।

1981 – निष्फल सैन्य तख्तापलट के समय में ज़ौर रहमान की हत्या कर दी गयी।

1982 – जनरल इरशाद को आर्मी की ताकत सौपी गयी। उन्होंने संविधान और राजनीतिक पार्टी को बर्खास्त कर दिया था।

1991 – पाँचवे संसदीय चुनाव में, बांग्लादेश राष्ट्रवादी पार्टी के नेता जिया के खिलाफ खालेदा जिया ने जीत हासिल की और उन्होंने राजनीतिक ताकत सौपी गयी। और देश में फिर से संसदीय शासन प्रणाली को लागु किया गया।

दोस्तों , अगर आपको हमारी बांग्लादेश के बारेमें दी गयी जानकारी पसंद आयी हो, तो और पढिए बांग्लादेश के बारेमें और भी कुछ रोचक बातें – Interesting Facts about Bangladesh जिन बातों को पढ़कर आप हैरान रह जाओंगे।

Read More –

I hope these “Bangladesh Information in Hindi” will like you. If you like these
“Bangladesh Information in Hindi with History” then please like our facebook page & share on whatsapp. and for latest update download : Gyani Pandit free android App

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.