असम राज्य का इतिहास और जानकारी | Assam History Information

Assam – असम दुनियाभर में चाय की खेती के लिए जाना जाता है और इसे सात बहनों के रहस्य का प्रवेशद्वार भी कहा जाता है। दिसपुर असम की राजधानी है और उपनगर गुवाहाटी क्षेत्र का सबसे बड़ा शहर है।

Assam

असम राज्य का इतिहास और जानकारी – Assam History Information

असम राज्य में एक समृद्ध और प्राचीन इतिहास है। इस राज्य में भारत-आर्यन, ऑस्ट्रो-एशियाटिक और तिब्बती-बर्मन मूल के लोगों का संगम रहा है।

कहा जाता हैं की पहली सहस्त्राब्दी के समय असम को प्रागज्योतिष-कामरूप के नाम से जाना जाता था और दूसरी सहस्त्राब्दी के शुरू में ही इसे छोटे-छोटे राज्यों में विभाजित कर दिया गया। जबकि बादमे 13 वी शताब्दी के बाद अगले 600 वर्षो के लिए क्षेत्र को अहोम और कोचेस साम्राज्यों के नेतृत्व में असम साम्राज्य (संयुक्त संप्रभु राज्य) के रूप में स्थापित किया गया।

प्राचीन समय में तक़रीबन 700 वर्षो तक असम प्रागज्योतिष कामरूप के लगातार तीन राजवंशियो के नेतृत्व में रहा और मध्यकालीन युग में तक़रीबन 600 वर्षो तक असम अहोम के नेतृत्व में था, उस समय मुघलो को छोड़कर कोई भी विदेशी शक्तियाँ असम साम्राज्य पर आक्रमण करने में सफल नही रही।

प्राचीन समय में उत्तर भारतीय साम्राज्यों द्वारा काफी असफल कोशिशे करने के बावजूद, मुघलो ने असम पर कुल 17 बार आक्रमण किया, जिनमे से केवल 1 बार उनके हाथ एक छोटी सी सफलता लगी, जिसमे असम के छोटे से भाग पर उन्हें केवल 2 साल तक शासन करने मिला।
17 वी शताब्दी में मुघलो को पराजित कर उन्हें पूरी तरह से ब्रह्मपुत्र घाटी से निकाल दिया गया। ब्रिटिशो के आने तक कोई भी असम साम्राज्य पर कब्ज़ा करने में असफल रहा।

1947 में भारत के विभाजन और स्वतंत्रता के साथ, सिलीहट जिले को पाकिस्तान भेजा गया (पूर्वी भाग जिसका बांग्लादेश बन गया)। 1950 में असम एक घटक राज्य बन गया। 1961 और 1962 में, चीनी सशस्त्र बलों ने भारत और तिब्बत के बीच सीमा के रूप में मैकमोहन लाइन पर विवाद किया, उत्तर-पूर्वी सीमावर्ती एजेंसी (अब अरुणाचल प्रदेश लेकिन फिर असम का हिस्सा) का कब्जा कर लिया। दिसंबर 1962 में, हालांकि, वे स्वेच्छा से तिब्बत वापस ले गए।

1960 के दशक के शुरूआती और 1970 के दशक के शुरूआती दौर में असम के नए राज्यों के लिए अपने बहुत से क्षेत्रफल खो गए, जो अपनी सीमाओं से उभरे। 1963 में नागा हिल्स डिस्ट्रिक्ट नागालैंड के नाम से भारत का 16 वां राज्य बन गया। उत्तर पूर्व फ्रंटियर एजेंसी के एक पूर्व क्षेत्रीय Tuensang का हिस्सा भी नागालैंड में जोड़ा गया था।

1970 में, मेघालय पठार के आदिवासी लोगों की मांगों के जवाब में, खासी पहाड़ियों, जयंतिया हिल्स और गारो हिल्स को गले लगाते जिलों असम के भीतर एक स्वायत्त राज्य में गठित किए गए थे और 1972 में यह एक अलग राज्य बन गया मेघालय का इसके अलावा 1972 में अरुणाचल प्रदेश और मिजोरम असम से केंद्र शासित प्रदेशों में अलग हो गए थे; दोनों ही 1986 में राज्य बन गए।

पुरातात्विक और एतिहासिक रूप से समृद्ध होने के बावजूद, आज भी असम दुनिया के लिए एक अनजान इलाका है।

असम राज्य की संस्कृति – Culture of Assam state

असम राज्य की संस्कृति सम्रुद्ध है। दक्षिण एशियाई और दक्षिण पूर्वी एशियाई संस्कृति के मिलने का यह स्थान है, जहाँ की प्रधान भाषा असामी है। असम की नृत्यकला, संगीत, संगीत वाद्ययंत्र और वस्त्रो की डिजाईन भी दुसरे राज्यों की तुलना में थोड़ी अलग है।

असम राज्य की भाषा – Assam State Language

असम के लोगो की मुख्य भाषा असमीज और कुछ क्षेत्र में सामान्य भाषा ही प्रयोग किया जाता है। असम की दो भाषा, बोडो और असमीज को अधिकारिक भाषा कहा गया है और बैरक घाटी में बंगाली भाषा का उपयोग किया जाता है।

राज्य की स्थानिक भाषाओ में मुख्यतः मिशिंग, कर्बी, दिमोसा, गारो, हमार, ब्रू, तैफाके, तैखामती इत्यादि शामिल है और इन भाषाओ का उपयोग विशेष सांस्कृतिक समूह के लोग करते है। जबकि शिक्षित लोग ज्यादातर अंग्रेजी और हिंदी भाषा का उपयोग करते है।

असम के बहुत से भागो में बंगाली भाषा बोली जाती है, विशेषतः गुवाहाटी और स्लिचार में बंगाली समुदाय के लोग बंगाली भाषा का ही उपयोग करते है। साथ ही यहाँ दूसरी भारतीय भाषाओ का भी उपयोग किया जाता है जैसे पंजाबी, मारवाड़ी, भोजपुरी और गुजराती इत्यादि।
असामी भाषा के बाद यहाँ सर्वाधिक अंग्रेजी भाषा का उपयोग किया जाता है।

असम और इसके आस-पास के क्षेत्र प्रकृति प्रेमी और खोजकर्ताओ के लिए किसी स्वर्ग से कम नही। क्षेत्र की अद्वितीय प्राकृतिक सुंदरता पुरे एशिया में कही नही है।

असम दुनिया के सर्वाधिक समृद्ध जैव विविधता वाले क्षेत्रो में से एक है और इस क्षेत्र में उष्णकटिबंधीय वर्षावन, पतझड़ी वन, नदी घास के मैदान, बांस के बगीचे और विविध आर्टलैंड पारिस्थितिक तंत्र भी शामिल है, यहाँ के बहुत से जंगलो को नेशनल पार्क और आरक्षित वन बनाकर सुरक्षित रखा गया है।

यह क्षेत्र जानवरों की बहुत सी लुप्तप्राय प्रजातियों का घर भी बना हुआ है, जिनमे मुख्यतः सुनहरा लंगूर, सफ़ेद पंखो वाला लकड़ी का बतख, बंगाल फ्लोरिकन, काली छाती का पेड़बोट, बौना सूअर, महान एजितांट, हेपिड खरगोश, दक्षिण अफ़्रीकी बंदर और दलदल फ्रैंकोलिन इत्यादि शामिल है। असम के कुछ प्रसिद्ध जानवरों में शेर, हाथी, हूलॉक गिब्बन, जेरडन बब्ब्लर और इत्यादि जानवर शामिल है।

चाय की खेती की वजह से असम के ग्रामीण इलाके हरे-भरे, कभी न ख़त्म होने वाले धान के खेत और विशाल जंगलो से भरे होते है। असम के परिदृश्य पर बहुत सी नदियों के द्वीप बने हुए है और ब्रह्मपुत्र के तट पर रेत का विशाल मैदान भी है। राज्य चारो तरफ से पहाड़ी और पर्वतो से घिरा हुआ है।

वन्य निवास स्थान से रहस्यवाद के प्राचीन मंदिर तक, यहाँ बहुत से मंदिर और अद्वितीय मठ, स्वदेशी संस्कृति वाले गाँव, रंगीन महोत्सव और मेहमान नवाजी करने वाले आबादी है। बहुत से आकर्षणों और रहस्यों के साथ असम निश्चित रूप से एकदम सही गैर पर्यटन स्थल है। महान स्वामी विवेकानंद ने एक बार सच कहा था की, “कश्मीर तक अगला सुन्दर राज्य केवल असम ही है।”

प्रकृति माँ ने असम की धरती को अपना भरपूर आशीर्वाद दिया है। इसमें कोई आश्चर्य नहीं कि असम का पयर्टन साल दर साल बढ़ा है और अब भी हर दिन बढ़ रहा है। पूरे साल बने रहने वाला सुहाना मौसम और घने जंगलों में रोमांचक वन्य जीवन, असम के पयर्टन को विशेष लाभ देते हैं।

यह प्रसिद्ध एक सींग वाले गैंडे और कुछ अन्य दुर्लभ प्रजातियों का घर है। इसलिए पयर्टकों के साथ-साथ यह वन्य जीव प्रेमियों की भी पसंदीदा जगह है। असम में सालभर बहुत से धार्मिक त्यौहार मनाये जाते है और बड़ी धूम-धाम से बढ़-चढकर लोग इस महोत्सव में हिसा लेते है।

Read More:

Note: We try hard for correctness and accuracy. please tell us If you see something that doesn’t look correct in this article about Assam and if you have more information about Assam History then help for the improvements this article.

1 COMMENT

  1. बढ़िया लेख, मैंने अभी तक असम के इतिहास बारे में नहीं जानता था .. आपके इस लेख से मुझे काफी जानकारी मिल पाई , इसके लिए आपका बहोत बहोत धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.