भारत के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल

Famous Tourist Places in India

भारत दुनिया का सातवां सबसे बड़ा देश है जो हिमालय के उच्च पहाड़ों से लेकर केरल की उष्णकटिबंधीय हरियाली तक और पवित्र गंगा से थार रेगिस्तान की रेत तक फैला है। इसकी निवासियों को दो हज़ार जातीय समूहों में विभाजित किया गया है और यहाँ 200 से अधिक विभिन्न भाषाये बोली जाती हैं। भारत हमेशा सबसे अच्छा छुट्टी पर्यटन की सूची में है। भारत में बहुत से प्रसिध्द पर्यटन स्थल हैं – Famous Tourist Places in India जिस के वजह से भारत को एक अलग ही पहचान मिली हैं।

famous tourist places in india

भारत में प्रसिद्ध पर्यटन स्थल – Famous Tourist Places in India

भारत के अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन को बड़े और विविध रूप से अपील करता है आइए हम भारत में सबसे ज्यादा जाने वाले स्थानों पर नजर डालें, जहां दुनिया भर के लोग एक विदेशी छुट्टी बिताने के लिए जाते हैं ।

  • Taj Mahal – ताज महल

ताजमहल भारत के आगरा शहर में यमुना नदी के दक्षिण तट पर एक संगमरमर का मकबरा है। आगरा का ताज महल दुनिया की सबसे प्रसिद्ध इमारतों में से एक है, शाहजहां की पसंदीदा पत्नी मुमताज महल का मकबरा हैं। मुमताज महल यह दुनिया के नए सात आश्चर्यों में से एक है और आगरा में तीन विश्व धरोहर स्थलों में से एक है।

1653 में, ताज महल का निर्माण मुगल राजा शाहजहां द्वारा किया गया था, शाहजहां जहां उनकी प्यारी पत्नी मुमताज महल के लिए अंतिम विश्राम स्थान था। इस स्मारक को बनाने के लिए 22 वर्षों (1630-1652) कठिन परिश्रम और 20,000 श्रमिकों और जौहरी लगे।

Read More: ताजमहल का इतिहास – The Taj Mahal History

  • Amer Fort – आमेर किला

आमेर किला एक किला है जो कि आमेर, राजस्थान, भारत में स्थित है। आमेर, राजस्थान की राजधानी जयपुर से 11 किलोमीटर दूर स्थित है। आमेर किला 1592 में महाराज मन सिंह द्वारा गढ़वाले महल के रूप में बनाया गया था। यह किला एक पहाड़ी पर उच्च स्थित है, यह जयपुर क्षेत्र में प्रमुख पर्यटक आकर्षण है। जयपुर “द पिंक सिटी” विदेशी पर्यटकों के बीच प्रसिद्ध है। यह सबसे पुराने किले में से एक है।

Read More: आमेर के किल्ले का इतिहास – History Of Amer Fort 

  • Hawa Mahal – हवा महल

राजस्थान के शाही राजपूतों के महान स्मारक, हवा महल पैलेस ऑफ विंड्स गुलाबी शहर और राजस्थान, जयपुर की राजधानी के केंद्र में स्थित है। पिरामिड आकार का पांच मंजिला महल महाराजा सवाई प्रताप सिंह द्वारा लाल और गुलाबी बलुआ पत्थर द्वारा शाही परिवारों की महिलाओं के लिए बनाया गया है।

हवा महल जयपुर का एक प्रमुख पर्यटक आकर्षण है और साथ ही शाही राज्य राजस्थान में भी है।

Read More: जयपुर के हवा महल का इतिहास – Jaipur Hawa Mahal History  

  • Qutub Minar – कुतुब मीनार

कुतुब-मीनार भारत का सबसे ऊंचा टॉवर है और भारत में दूसरा सबसे बड़ा मीनार है। यह भारत की राजधानी दिल्ली में स्थित है। कुतुब मीनार का व्यास आधार पर 14.32 मीटर और लगभग 2.75 मीटर और 72.5 मीटर की ऊँचाई के साथ शीर्ष पर है।

यह स्मारक प्रसिद्ध पर्यटक स्थलों में से एक है और कई विदेशी इस अविश्वसनीय संरचना की यात्रा करने के लिए दिल्ली आए हैं।

Read More: क़ुतुब मीनार का इतिहास – Qutub Minar History

  • Golden Temple – स्वर्ण मंदिर

श्री हरमंदिर साहिब, जिसे दरबार साहिब के नाम से भी जाना जाता है, जिसे स्वर्ण मंदिर के रूप में जाना जाता है, सिख धर्म का सबसे पवित्र गुरुद्वारा, अमृतसर, पंजाब, भारत में स्थित है। अमृतसर की स्थापना 1577 में चौथी सिख गुरु, गुरु राम दास ने की थी।

Read More: स्वर्ण मंदिर – Golden Temple

  • Humayun’s Tomb – हुमायूँ का मकबरा

हुमायूं की कब्र भारत में मुगल सम्राट हुमायूं की कब्र है। कब्र को हुमायूं की पहली पत्नी और प्रमुख पत्नी, एम्प्रेस बेगा बेगम द्वारा 1569-70 में बनवाया था, और उनके द्वारा चुना फारसी वास्तुकार मिरक मिर्जा घायस द्वारा डिजाइन किया गया था।

दिल्ली के हुमायूं का मकबरे भारत के पुरातात्विक सर्वेक्षण द्वारा संचालित है और फारसी वास्तुकला का एक उत्कृष्ट उदाहरण है। कब्र भारतीय उपमहाद्वीप पर पहली बाग-कब्र थी।

Read More: हुमायूँ के मकबरे इतिहास – Humayun Tomb History

  • Jama Masjid, Delhi – जामा मस्जिद, दिल्ली

मस्जिद-इश्ह्न-नुआ, जिसे आमतौर पर दिल्ली की जामा मस्जिद कहा जाता है, भारत में सबसे बड़ी मस्जिदों में से एक है।

Read More: दिल्ली जामा मस्जिद का इतिहास – Jama Masjid Delhi History

  • Mehrangarh Fort- मेहरानगढ़ किला

मेहरानगढ़ किला जोधपुर, राजस्थान में स्थित है। यह भारत में सबसे बड़ा किलों और प्रसिद्ध विदेशी पर्यटन स्थल है। राजस्थान का किला राव जोधा द्वारा 1460 के आसपास निर्मित शहर से 400 फीट ऊपर है और मोटी दीवार से घिरा हुआ है, जो एक दुश्मन से सुरक्षात्मक ढाल थी।

Read More: मेहरानगढ़ किले का इतिहास – Mehrangarh Fort History

  • India Gate  – इंडिया गेट

इंडिया गेट, एक युद्ध स्मारक है, जो राजपथ की अगुवाई में स्थित है, नई दिल्ली के भारत के ‘औपचारिक अक्ष’ के पूर्वी किनारे पर, जिसे पूर्व में किंग्सवे कहा जाता है। राजपथ में इंडिया गेट युद्ध स्मारक दिल्ली का एक विशिष्ट स्थल है और भारत में एक महत्वपूर्ण स्थान है।

स्मारक भारत के सबसे आश्चर्यजनक ऐतिहासिक स्मारक हैं, जिन्हें सर एडविन ल्यूतिन द्वारा डिजाइन किया गया है।

Read More: इंडिया गेट का इतिहास – India Gate History

  • Agra Fort – आगरा किला

आगरा का किला भारत में आगरा शहर में एक ऐतिहासिक किला है। यह 1638 तक मुगल वंश के सम्राटों का मुख्य निवास था, जब राजधानी को आगरा से दिल्ली स्थानांतरित कर दिया गया था। आगरा किला यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल है।

Read More: आगरा के किले का इतिहास – Agra fort history

  • दिल्ली – Delhi

वैसे तो पूरी दिल्ली ही खास है लेकिन भारत की राजधानी होने की वजह से यहां का रौनक कुछ अलग ही है। यहां पर घूमने के लिए बहुत कुछ है। दिल्ली का चाहे दिन हो चाहे रात दिल्ली हर वक्त निराला लगता है।

इंडिया गेट से लेकर चांदनी चौक तक आप तो यहां की गलियों में हर वक्त रौनक मिल जाएगी। नवीन जीवन शैली के साथ पुरातन का यहां पर अद्भुत संगम मिलता है।

यहां पर कुछ किले और इमारत 1000 वर्ष से भी ज्यादा पुराने हैं। इस प्रकार इस का ऐतिहासिक महत्व भी बढ़ जाता है। यहां पर घूमने वाले कुछ महत्वपूर्ण स्थान निम्नलिखित हैं।

दिल्ली कैसे पहुंचे – How to Reach Delhi

वैसे तो दिल्ली भारत के हर छोटे.बड़े शहरों से रेल मार्गों द्वारा जुड़ा हुआ है। लेकिन फिर भी यहां पर घरेलू तथा अंतरराष्ट्रीय विमान की सेवाएं हैं। बसों द्वारा भी यह भारत के प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है। यहां पर अंतरराज्यीय बसों की सेवाएं चालू है। यहां के एयरपोर्ट का नाम इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट है।

  • आगरा – Agra

आगरा उत्तर प्रदेश का एक प्रमुख और बहुत पुराना शहर है।आगरा का इतिहास काफी पुराना है। किसी समय में यह मुगलों का गढ़ रहा है। ताजमहल की खूबसूरती से लेकर यमुना नदी के किनारे बसे ऐतिहासिक इमारतों के लिए आगरा का नाम इतिहास के पन्नों में स्वर्णिम अक्षरों में दर्ज है।

यहां की इमारतें मुगलकालीन वास्तुकला का बेहतरीन नमूना पेश करती है। यहां की वास्तुकला की झलकियां यहां पर आने वाले पर्यटकों का मन मोह लेती है। यह अपनी संस्कृति और इस्लाम की कला का बेहतरीन नमूना पेश करती है।

ताजमहल का दीदार चांदनी रात में हर एक पर्यटक करना चाहता है। यहां पर साल भर प्रेमी जोड़ों का तांता लगा रहता है इसका एक कारण यह भी है ताजमहल पूरी दुनिया में प्रेम की निशानी से मशहूर है। यहां पर प्रमुख घूमने वाले स्थान निम्नलिखित हैं।

  • ताजमहल
  • शाहजहां का किला
  • गुरु का ताल
  • मेहताब किला
  • जामा मस्जिद
  • सिकंदरा मकबरा
  • एत्माद्दौला स्मारक

आगरा कैसे पहुंचे – How to Reach Agra

आगरा भारत के हर बड़े शहरों से रेलवे मार्गों द्वारा जुड़ा हुआ है। यह ग्वालियरए इलाहाबादएझांसीए मथुराए दिल्ली जैसे शहरों से सीधी रेल मार्गों द्वारा जुड़ा हुआ है इसके अलावा आगरा में एक अंतरराज्यीय बस अड्डा भी है जहां पर भारत के विभिन्न राज्यों से बसों का परिवहन होता है।

  • अमृतसर – Amritsar

अमृतसर पंजाब राज्य में बसा हुआ एक प्रमुख शहर है। यह गोल्डन टेंपल के लिए मशहूर है। अमृतसर से कुछ ही दूरी पर जलियांवाला बाग स्थित है। इस जगह का स्वतन्त्रता के इतिहास में अत्यंत महत्वपूर्ण स्थान है। यह सिक्खों का एक महत्वपूर्ण स्थल है।

यहां पर देश विदेश से आने वाले पर्यटकों का वर्षभर भीड़ जमा रहता है। यहां पर भारतीय पर्यटक मुख्य रूप से स्वर्ण मंदिर और बाघा बॉर्डर को देखने आते हैं। अगर आप अमृतसर घूमने जाएं तो बाघा बॉर्डर और जलियांवाला बाग जरूर देखें।

यह शहर रात में भी बहुत खूबसूरत प्रतीत होता है। वैसे तो अमृतसर किसी भी मौसम में घूमा जा सकता है लेकिन सितंबर से लेकर फरवरी तक घूमने के लिए उत्तम होता है। अमृतसर में घूमने वाले महत्वपूर्ण स्थान निम्नलिखित है।

  • स्वर्ण मंदिर
  • बाघा बॉर्डर
  • जलियांवाला बाग
  • दुर्गियाना मंदिर
  • महाराणा रणजीत सिंह म्यूजियम
  • बाबा अटल गुरुद्वारा
  • रामतीर्थ

अमृतसर कैसे पहुंचे – How to Reach Amritsar

अमृतसर भारत के विभिन्न शहरों से रेलवे रेल मार्गों से जुड़ा है। इसके अलावा यहां पर एक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा भी है। दिल्ली जैसे शहरों से या सड़क मार्ग द्वारा भी जुड़ा है। यहां पर घरेलू तथा अंतरराष्ट्रीय दोनों प्रकार की विमान सुविधाएं उपलब्ध है।

  • जयपुर – Jaipur

जयपुर राजस्थान का एक प्रमुख शहर है। साथ में ही है राजस्थान की राजधानी भी है।जयपुर का दूसरा नाम गुलाबी शहर है। यह शहर भी ऐतिहासिक धरोहर की मिसाल पेश करता है। इतिहास के पन्नों में इस शहर का नाम स्वर्णिम अक्षरों में दर्ज है।

राजस्थान की संस्कृति और राजपूताना सभ्यता के दर्शन यहां हो जाते हैं। यह महाराजा सवाई सिंह द्वितीय का बसाया हुआ शहर है। शाही राजपूत की विरासत को प्रदर्शित करता यह शहर अद्वितीय लगता है। पारंपरिक त्यौहार एवं अन्य कलाओं के लिए यह शहर मशहूर है। जयपुर में घूमने के लिए निम्नलिखित स्थानों को जाया जा सकता है

जयपुर कैसे पहुंचे – How to Reach Jaipur

जयपुर भारत के प्रमुख शहर से रेलवे रेल मार्ग बड़ा जुड़ा हुआ है या अहमदाबाद, दिल्ली, खुजराहो, मथुरा, चंडीगढ़, इलाहाबाद, मुंबई, इत्यादि शहरों से सीधा रेल मार्ग द्वारा जुड़ा हुआ है। इसके अलावा यहां पर अंतरराष्ट्रीय तथा घरेलू दोनों प्रकार की विमान सेवाएं उपलब्ध है। इसके साथ ही यह सड़क मार्ग द्वारा भारत के हर प्रमुख शहर से जुड़ा है।

  • मुंबई – Mumbai

अगर जिंदगी का तेज रंग और रौनक देखनी हो तो हमें भारत का सबसे बड़ा शहर मुंबई जरूर देखना चाहिए। मुंबई के बारे में एक बात प्रसिद्ध है कि या शहर कभी सोता नहीं है। यह भारत का फिल्म सिटी होने के साथ.साथ भारत का गेटवे भी है। वैसे तो मुंबई 1 या 2 दिन में तो नहीं घूमा जा सकता।

इसके लिए पर्याप्त समय चाहिए। यहां पर घूमने के लिए बहुत कुछ है लेकिन हम यहां पर आपको यहां पर घूमने लायक कुछ महत्वपूर्ण स्थलों की सूची उपलब्ध करवा रहे हैं। यहां पर घूमने लायक स्थान निम्नलिखित हैं।

  • गेटवे आफ इंडिया
  • हाजी अली दरगाह
  • ताज होटल
  • जुहू बीच
  • फ़िल्म सिटी
  • मरीन ड्राइव
  • चौपाटी विच
  • सिद्धिविनायक मंदिर
  • संजय गांधी नेशनल पार्क
  • मडआईलैंड

मुंबई घूमने कैसे जाएं – How to Reach Mumbai

यदि आप भारत में किसी भी शहर में हैं तो मुंबई जाना बहुत ही आसान है मुंबई भारत के लगभग हर शहर से रेलवे रेल मार्ग से सीधा जुड़ा हुआ है। इसके अलावा यहां पर घरेलू तथा अंतरराष्ट्रीय दोनों प्रकार की विमान सेवाएं उपलब्ध है।

यह विश्व के लगभग हर देशों से विमान मार्ग द्वारा जुड़ा हुआ है। इसके अलावा सड़क मार्गों द्वारा भारत के प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है।

  • कोलकाता – Kolkata

एक समय कोलकाता भारत की राजधानी हुआ करता था। यह भारत के चार प्रमुख महानगरों में एक है। यह शहर भारत के पश्चिम बंगाल राज्य में स्थित है। भारत का एक प्रमुख नगर होने के साथ पश्चिम बंगाल की राजधानी भी है। यह शहर हुगली नदी के किनारे स्थित है। तथा पर्यटन का एक महत्वपूर्ण केंद्र भी है।

1690 तक यह शहर एक छोटा सा गांव था। लेकिन यहां पर ईस्ट इंडिया कंपनी के निर्माण के बाद यह शहर उन्नति के मार्ग पर चल पड़ा आज इस शहर की रौनक ही कुछ अलग है।

वैसे तो कोलकाता में घूमने के लिए बहुत कुछ है लेकिन हम आपको कुछ महत्वपूर्ण स्थानों के बारे में बता रहे हैं जहां पर घूमने जाया जा सकता है कोलकाता में घूमने वाले प्रमुख स्थान निम्नलिखित है।

  • हावड़ा ब्रिज
  • विक्टोरिया मेमोरियल
  • शहीद मीनार
  • ईडेन गार्डन
  • साइंस सिटी
  • चिड़ियाघर
  • बेलूर मठ
  • रविन्द्र सरोवर
  • मार्बल पैलेस
  • निक्को पार्क
  • तैरता संग्रहालय

कोलकाता कैसे जाएं – How to Reach Kolkata

रेल मार्ग कोलकाता को भारत के लगभग सभी राज्य के प्रमुख नगरों से जोड़ता है। ट्रेन में बैठ कर भारत के किसी भी शहर से कोलकाता पहुंचा जा सकता है। यहां पर घरेलू तथा अंतरराष्ट्रीय दोनों प्रकार की विमान सेवाएं भी उपलब्ध हैं।

इसके साथ ही आसपास के कुछ शहरों से यहां पर बस सेवाएं भी चालू है।

  • दार्जिलिंग – Darjeeling

दार्जिलिंग पश्चिम बंगाल में बसा हुआ एक प्रमुख शहर है या भारत का हिल स्टेशन भी है यहां पर चाय की पैदावार बहुत अच्छी होती है या किसी भी मौसम में बहुत खूबसूरत लगता है पहाड़ों से हरी.भरी वादियां पर्यटकों का मन मोह लेती है यदि शहर की भागदौड़ भरी जिंदगी से आप तंग आ गए हो तो आप एक बार दार्जिलिंग जरूर आएं यहां पर आने के बाद अत्यंत शांति की अनुभूति होती है।

गर्मियों में दार्जिलिंग घूमना मानो जन्नत सा प्रतीत होता है। गर्मियों के मौसम में यहां पर सैलानियों की भीड़ जमा हो कर रखती है। दार्जिलिंग में घूमने वाले स्थान निम्नलिखित हैं।

  • कंचनजंगा
  • दार्जिलिंग
  • हिमालयन रेलवे
  • टाइगर हिल
  • हैप्पी वैली टी बगीचा
  • केबल तार
  • टॉय ट्रेन

दार्जलिंग घूमने के लिए कैसे पहुंचे – How to Reach Darjeeling

सिलीगुड़ी दार्जिलिंग से सबसे नजदीकी हवाई अड्डा है। यह दार्जिलिंग से लगभग 90 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है बस का सफर तय करके दार्जिलिंग से सिलीगुड़ी 2 घंटे में पहुंचा जा सकता है। इसके बाद वहां से विमान द्वारा भारत के प्रमुख शहरों से जुड़ा जा सकता है।

  • हिमाचल प्रदेश – Himachal Pradesh

हिमाचल प्रदेश भारत के उत्तरी ओर स्थित है। हिमाचल प्रदेश के उत्तर में कश्मीर की सीमा लगती है तथा दक्षिण में पंजाब स्थित है। गर्मियों के दिनों में यहां पर घूमने आने वाले सैलानियों की भीड़ लगी रहती है। बर्फ से सजे खूबसूरत पहाड़ पर्यटकों का ध्यान आकर्षित करते हैं। हिमाचल की राजधानी शिमला है।

जोकि सर्दियों के मौसम में जन्नत का एहसास करवाती है इसके अलावा यहां पर कुल्लू मनाली कांगड़ा चंबा इत्यादि शहर घूमने के लिए बाहर से पर्यटक आते हैं। वैसे तो यहां पर आने वाले ज्यादातर पर्यटक गर्मियों में आते हैं। परंतु सर्दियों के मौसम में भी हिमाचल प्रदेश घूमा जा सकता है। हिमाचल प्रदेश में घूमने वाले प्रमुख स्थान निम्नलिखित हैं.

  • कुल्लू मनाली
  • परागपुर
  • कांगड़ा देवी
  • ज्वाला देवी
  • चंबा की पहाड़ी
  • बरोट
  • रामपुर
  • फागु
  • ललितपुर
  • धर्मशाला
  • लाला लाजपत राय रोड

हिमाचल प्रदेश कैसे पहुंचे – How to Reach Himachal Pradesh

शिमला से नजदीकी रेलवे स्टेशन कालका है। जो कि भारत के विभिन्न रेलवे स्टेशनों से जुड़ा हुआ है। कालका पहुंचकर शिमला बस द्वारा जाया जा सकता है। इसके अलावा शिमला सड़क मार्ग द्वारा चंडीगढ़ दिल्ली देहरादून तथा पंजाब के विभिन्न शहरों द्वारा जुड़ा हुआ है। इन शहरों में पहुंचकर शिमला बसों द्वारा पहुंचा जा सकता है।

  • खजुराहो – Khajuraho

खजुराहो मध्य प्रदेश का एक महत्वपूर्ण शहर है। इसके आसपास ऐसे अनेक महत्वपूर्ण स्थान है जो कि पर्यटन के लिए महत्व रखते हैं। यहां पर बहते हुए झरने बहती हुई नहरे किसी का भी ध्यान आकर्षित कर सकती हैं।

यहां पर नौंवी दसवीं तथा ग्यारहवीं शताब्दी में बने हुए मंदिर किसी का भी ध्यान आकर्षित कर सकते है। यहां पर हिंदुओं तथा जैन मंदिरों की अधिकता है। उन मंदिरों के दीवारों पर बनी चित्र लिपि एक अनोखा एहसास करवाती है।

खुजराहो चंदेल राजाओं द्वारा बसाया हुआ नगर है। खुजराहो ठंड के मौसम में घूमने के लिए उत्तम रहता है। यहां पर घूमने के लिए महत्वपूर्ण स्थान में लिखित है।

  • पन्ना नेशनल पार्क
  • पांडव फॉल्स
  • रनेह फॉल्स
  • खजुराहो के मंदिर
  • जैन मंदिर

इसके अतिरिक्त यहां पर बहते हुए झरना का भी आनंद लिया जा सकता है।

खुजराहो कैसे पहुंचे – How to Reach Khajuraho

खुजराहो रेल मार्गों द्वारा भारत के लगभग हर शहर से जुड़ा हुआ है। यह भारत के विभिन्न शहर जैसे आगरा ग्वालियर मथुरा जयपुर दिल्ली इलाहाबाद झांसी इत्यादि शहरों से रेलवे रेल मार्गों द्वारा सीधा जुड़ा हुआ है। इसके अतिरिक्त यह सड़क मार्गों द्वारा ग्वालियर भोपाल इंदौर पन्ना झांसी इत्यादि शहरों से जुड़ा हुआ है। ग्वालियर यहां का नजदीकी एयरपोर्ट है।

  • गोवा – Goa

गोवा भारत के दक्षिण में बसा हुआ एक छोटा सा राज्य है गोवा की राजधानी पणजी है यह राज्य समुद्र के किनारे स्थित है विदेशी सैलानियों के लिए यह एक प्रमुख स्थान है यहां पर वर्ष भर विदेशी सैलानियों का जाम वाड़ा लगा रहता है। विदेशियों के साथ साथ भारतीय पर्यटकों के लिए भी महत्वपूर्ण स्थान है।

यहाँ पर गर्मियों के दिनों में समुद्र के किनारों बीच पर बैठ कर धूप का आनंद लिया जा सकता है। इसके अलवां यहाँ पर नारियल के पेड़ पूरे गोवा में यहां की सुंदरता बढ़ाते हैं। समुद्र में नाव पर बैठकर समुद्र का आनंद भी लिया जा सकता है।

गोवा में समुद्री खाने का भी आनंद लिया जा सकता है। साथ ही गोवा में अनेक घूमने वाले स्थान हैं जिसका भ्रमण किया जा सकता है। यहां पर घूमने वाले स्थान निम्नलिखित हैं

  • मडगांव
  • पणजी
  • बागा गोवा
  • पुराना गोवा
  • अंजुना
  • वास्को द गामा
  • पोंडा
  • गोवा वेल्हा
  • कालांगुते

गोवा कैसे पहुंचे – How to Reach Goa

मुंबई से गोवा सड़क मार्ग द्वारा 3 घंटे का रास्ता है। भारत के विभिन्न भागों से हवाई जहाजए रेल और सड़क के माध्यम से इस बीच डेस्टिनेशन तक आसानी से पहुंच सकते हैं। डाबोलिम हवाई अड्डा पणजी से लगभग 26 किमी दूर है जो बाकी दुनिया को गोवा शहर से जोड़ता है।

  • बोरा गुफा, विशाखापट्नम – Borra Caves Visakhapatnam

विशाखापट्नम की बोरा गुफा भारत की सबसे गहरीं गुफाओ में से एक है, जो 80 मीटर गहरी है। चुना पत्थरो से बनी दीवारों के कारण यह गुफा पत्थरो और पत्थर के अवरोही निक्षेप से ढंकी हुई है। इस गुफा को हिन्दू तीर्थस्थल भी माना जाता है क्योकि यहाँ पत्थरो के बहुत से शिवलिंग बने हुए है। जो भगवान शिव का प्रतिनिधित्व करते है।

  • दी रिज (टीला/पहाड़ी), शिमला – The Ridge Shimla

यदि आप मनमोहक शहर शिमला की यात्रा पर हो तो आपको ‘दी रिज’ की यात्रा अवश्य करनी चाहिए। इस स्थान पर एक विशाल खाली मैदान है जो शिमला के मध्य में बसा हुआ है और यहाँ बहुत सी गतिविधियों का आयोजन यात्रियों के किया जाता है। शिमला की सबसे महमोहक जगहों में से यह एक है।

  • त्सो मोरिरी सरोवर, लद्दाख – Tso Moriri Lake Ladakh

त्सो मोरिरी एक और मनमोहक सरोवर है जो लद्दाख की ऊँची पहाडियों पर समुद्र सतह से 4522 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। लेह से भी इस पहाड़ी को हम देख सकते है और पांगोंग त्सो से आसानी से इस पहाड़ी तक पंहुचा जा सकता है। यह स्थान प्राचीन नीले पानी और आस-पास के हिमालय के रमणीय दृश्य के लिए प्रसिद्ध है।

  • मैसूर पैलेस, मैसूर – Mysore Palace

मैसूर पैलेस का निर्माण 1897 और 1912 के बीच मैसूर के राजा वोडेयर ने करवाया था और यह उल्लेखनीय स्थापत्य कला के लिए जाना जाता है। हर साल यहाँ तक़रीबन 6 लाख पर्यटक आते है। पैलेस की वास्तुकला में हिन्दू, मुघल और गोथिक स्थापत्य कला का मिश्रण किया गया है।

  • बैंगलोर पैलेस और मैदान, बैंगलोर – Bangalore Palace

भारत की कुछ ही इमारतो का निर्माण तुडोर शैली में किया गया है, जिनमे से बैंगलोर पैलेस एक है। इस पैलेस का निर्माण मैसूर के महाराजा ने 20 वी शताब्दी में करवाया और कहा जाता है की जीवन में एक बार अवश्य बैंगलोर के पैलेस के दर्शन करने चाहिए। शुरू में यह पैलेस सेंट्रल हाई स्कूल के प्रिंसिपल के निवास स्थान के रूप में  किया जा रहा था लेकिन बाद में इस पैलेस को महाराजा ने खरीद लिया। पैलेस का मैदान विविध सांस्कृतिक गतिविधियों को आयोजित करने के लिए जाना जाता है। प्राचीन समय से यहाँ बहुत से रंगारंग कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है।

  • ग्वालियर किला, ग्वालियर – Gwalior Fort

इस किले पर बहुत से साम्राज्यों और शासको ने राज किया है, जानकारों के अनुसार इस किले का निर्माण सूरज सेन कछवाह ने पाँचवी शताब्दी में करवाया था। ग्वालियर का ग्वालियर किला दो महलों के मिलन से बना हुआ है और किले में हिन्दू, बुद्धिस्ट और जैन धर्म के विविध मंदिर भी बने हुए है।

  • भीमबेटका पत्थरो का आश्रय, रायसेन – Bhimbetka rock shelters

यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज साईट, भीमबेटका पत्थरो का आश्रय दुनिया की सबसे प्राचीन पुरातात्विक जगहों में से एक है। माना जाता है की इसका उपयोग होमो इरेक्टस के समय से किया जा रहा है, इस आश्रय में बहुत सी प्राचीन गुफाओ और चित्रकलाओ का समावेश है जो 30,000 सालो से भी ज्यादा प्राचीन है।

  • विक्टोरिया टर्मिनस (छत्रपति शिवाजी टर्मिनस), मुंबई – Chhatrapati Shivaji Terminus

यह इंडो-गोथिक पुनरुद्धार वास्तुकला का एक उद्गम उदाहरण और साथ ही भारत के सबसे व्यस्त रेल्वे स्टेशनों में से एक है। इसका निर्माणकार्य 1988 में पूरा हुआ और ईमारत की डिजाईन फेड्रिक विलियम स्टीवन ने बनाई है। यह स्टेशन वर्तमान में मुंबई शहर का आइकॉन बन चूका है और मुंबई की सबसे आकर्षक जगहों में से एक है।

  • जगन्नाथ मंदिर, पूरी – Jagannath Temple, Puri

मंदिर की जगह का उपयोग प्राचीन समय से पूजा करने के लिए किया जा रहा है लेकिन मंदिर की मौजूदा संरचना का निर्माण 12 शताब्दी के समय ईस्टर्न गंगा साम्राज्य ने करवाया था। पूरी का जगन्नाथ मंदिर मुख्य हिन्दू तीर्थस्थलो में से एक है और साथ ही हिन्दू धर्म के चार धामों में से भी एक है।

  • लिंगराज मंदिर परिसर, खुर्दा – Shri Lingaraj Temple

भगवान शिव को समर्पित लिंगराज मंदिर भुवनेश्वर के विशालतम हिन्दू मंदिरों में से एक है और इसका निर्माण 11 वी शताब्दी में किया गया। कलिंग पुरातात्विक कला के बचे हुए कुछ ही नमूनों में से यह एक है और इस मंदिर का निर्माण गंगा साम्राज्य के शासको ने करवाया था।

  • उदयगिरी गुफा, भोपाल – Udayagiri Caves

उदयगिरी गुफा भारत के प्राचीनतम हिन्दू संरचनाओ में से एक है और जानकारों के अनुसार इसका निर्माण पाँचवी शताब्दी में गुप्ता साम्राज्य के शासको ने करवाया था।यह गुफा भोपाल की सबसे आकर्षक जगहों में से एक है। यह गुफाए बहुत से हिन्दू देवताओ की कलाकृतियों के लिए प्रसिद्ध है।

  • किला मुबारक, भटिंडा – Qila Mubarak Patiala

इसका निर्माण पहली शताब्दी में कुषाण साम्राज्य के शासक कनिष्क ने करवाया। किला मुबारक भारत के प्राचीनतम किलो में से एक है। यह महल विशेषतः रज़िया सुल्तान के अंतिम निवासस्थान के रूप में जाना जाता है।

  • जलियाँवाला बाग़, अमृतसर -Jallianwala Bagh

भारतीय स्वतंत्रता अभियान की मुख्य जगहों में से एक जलियाँवाला बाग़ है। इस बाग़ को राष्ट्रिय स्मारक के रूप में माना जाता है। यदि ब्रिटिश अधिकारियो ने शांतिपूर्ण भारतीय जनता पर गोलियों से प्रहार किया था, जिनमे महिलाए और बच्चे भी शामिल थे। यह बाग़ 6.5 एकर में फैला हुआ है और आज भी यहाँ ब्रिटिश राज में बने छोटे-छोटे स्मारक यहाँ देखने मिलते है।

  • छत्रपति शिवाजी महाराज वास्तु संग्रहालय, मुंबई – Chhatrapati Shivaji Maharaj Vastu Sangrahalaya

इस ईमारत का निर्माण प्रिंस ऑफ़ वेल्स ने 1904 की भारत की यात्रा के दौरान करवाया। उनके जाने के बाद ईमारत को म्यूजियम में परिवर्तित किया गया, ताकि भारत के कला और शिल्प को विकसित कर सके। छत्रपति शिवाजी महाराज संग्रहालय भारत के विशालतम म्यूजियम में से एक है जो बहुत सी कलाकृतियों और पुरातात्विक वस्तुओ के भंडारण के लिए जाना जाता है।

  • झील महल, उदयपुर – Jhil Mahal Udaipur

भारत के विलासितापूर्ण होटलों में से एक झील महल का निर्माण 18 वी शताब्दी में मेवाड़ के महाराणा जगत सिंह द्वितीय ने करवाया था। इस महल का निर्माण इसकी रमणीक जगह और प्राकृतिक सुंदरता को देखकर रखा गया। इस महल तक हम स्पीड बोट के माध्यम से भी पहुच सकते है।

  • घाट और पुष्कर का प्राचीन शहर, पुष्कर :

पुष्कर के पवित्र शहर को हिन्दू धर्म के लोग सर्वाधिक मानते है और कयी बार इसे “तीर्थस्थलो के राजा” के नाम से भी जाना जाता है। यहाँ की झीलों का निर्माण भगवान ब्रह्मा के आशीर्वाद से किया गया और यह शहर भारत के प्राचीनतम शहरो में से एक है। पुष्कर शहर विशेषतः ब्रह्मा मंदिर के लिए जाना जाता है और यह शहर सृष्टि के देवता को समर्पित है।

  • रणकपुर जैन मंदिर, रणकपुर

मरू-गुर्जर पुरातत्व में बना यह मंदिर राजस्थान के पाली जिले में स्थित है। इस मंदिर का निर्माण 1437 में मेवाड़ के महाराजा ने करवाया। इस मंदिर का निर्माण सफ़ेद मार्बल से किया गया।

  • बादलमम्बरा, लखनऊ

18 वी शताब्दी में बना बादलमम्बरा भारत के विशालतम शिया स्मारकों में से एक है। स्मारक के मण्डली हॉल का निर्माण अवध के नवाब ने करवाया और बाद में मुघल शासको ने इसमें काफी सुधार किए। यह स्मारक “भूलभुलैया” के लिए प्रसिद्ध है, जहाँ 489 समान दरवाजे बने हुए है।

  •  फतेहपुर सिकरी, आगरा

फतेहपुर सिकरी एक एतिहासिक शहर है जो उत्तर प्रदेश राज्य में आगरा के पास स्थित है। इसका निर्माण प्रसिद्ध मुघल शासक अकबर ने अपने साम्राज्य की राजधानी के रूप में करवाया। लेकिन बाद में पानी की कमी के कारण शहर का त्याग किया गया और बाद में शहर पर राजपूत राजाओ के आक्रमण का भी डर बना हुआ था। यह शहर मुघल पुरातात्विक नमूनों का उद्गम उदाहरण है जहाँ भारतीय और पर्शियन शैली के बहुत से स्मारक बने हुए है।

  • हुमायूँ का मकबरा, दिल्ली :

ताजमहल से पहले हुमायूँ के मकबरे का निर्माण 1572 में मुघल महारानी बेदा बेगम ने करवाया। इसके निर्माणकार्य की देखरेख बाद में अकबर ने की और यह भारत के प्रथम बाग़ मकबरों में से एक है। मकबरे की डिजाईन को पर्शियन, तुर्की और राजपुर शैली में बनाया गया है, जिसपर जाली का काम भी किया गया है।

  • महान स्तूप :

मौर्य कालीन इमारतो के अद्भुत उदाहरणो में से एक महान स्तूप, मध्यप्रदेश के साँची में स्थित है। भगवान बुद्धा को समर्पित यह स्मारक बनाया गया है और बुद्ध धर्म के मुख्य तीर्थस्थलो में से यह एक है। इसका निर्माण तीसरी शताब्दी में मौर्य शासक अशोका ने करवाया और बाद शुंगा और सत्वहना शासको ने इसमें काफी सुधार किए।

  • जंतर-मंतर बेधशाला, जयपुर :

विश्व की विशालतम धूपघडी का घर जयपुर का जंतर मंतर भारत की पाँच खगोलीय वेधशालाओ में से एक है, जिसका निर्माण जयपुर के सवाई जय सिंह द्वितीय ने करवाया था। यह वेधशाला दीवारों से घरे शहर के बीच और सिटी पैलेस एवं हवा महल के पास बनी हुई है।

  • महान लोगो का चोला मंदिर, ठंजवुर

11 वी और 12 वी शताब्दी में बना चोला मंदिर भारत के तमिलनाडु राज्य में बना हुआ है और साथ ही यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज साईट में से एक है। मंदिर का निर्माणकार्य चोला साम्राज्य के शासको ने कर रखा है। यह मंदिर हिन्दू भगवान शिव को समर्पित है।

  • महाबलीपुरम, कांचीपुरम

महाबलीपुरम प्राचीन बंदरगाह शहर और साथ ही बहुत से स्मारकों और इमारतो का शहर है। यहाँ के बहुत से स्मारकों को यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज साईट में शामिल किया गया है और इस शहर में बहुत से मंदिर, पुरातात्विक नमूनों और गुफाओ का समावेश है, जिनका निर्माण पहली से नौवी शताब्दी के बीच किया गया।

  • आगरा का किला, उत्तर प्रदेश

आगरा के लाल किला (दिल्ली का लाल किला अलग है) का निर्माण मुघल शासक शाहजहाँ ने मुघल सिंहासन के अधिरोहण के बाद करवाया। बादलगढ़ नामक पुरानी गढ़वाली ईमारत भी इसी जगह पर स्थापित है और बहुत से उत्तर भारतीय साम्राज्यों ने इसपर राज किया है, जिनमे मुख्यतः दिल्ली सल्तनत, अफ़ग़ान,मराठा और मुघल शामिल है। साथ ही आगरा शाहजहाँ का अंतिम आराम स्थान था, जहाँ उनके बेटे औरंगजेब ने उन्हें कैद कर रखा था।

  • गुफा मंदिर, बादामी

कर्नाटक के बादामी में बने गुफा मंदिर का निर्माण छठी और आठवी शताब्दी के बीच बादामी चालुक्य ने करवाया है। यहाँ कुछ पांच गुफा मंदिर है, जिनमे से 3 पवित्र हिन्दू त्रिमूर्ति ब्रह्मा, विष्णु और शिव को समर्पित है और चौथा मंदिर जैन परंपरा को समर्पित है। यह गुफा यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज साईट में भी शामिल है और साथ ही कर्नाटक के मुख्य पर्यटन स्थलों में से एक है।

  • नालंदा यूनिवर्सिटी, बिहार शरीफ :

5वी और 12 वी शताब्दी के बीच नालंदा को प्राचीन बुद्धिस्ट शिक्षा केंद्र के नाम से जाना जाता था, साथ ही यह भारत के पुरातात्विक जवाहरातो में से एक है। इसका संबंध गौतम बुद्धा, महावीर और अशोका से है। गुप्ता साम्राज्य में यह शहर शिक्षा का मुख्य केंद्र हुआ करता था। दुर्भाग्य से 12 वी शताब्दी में तुर्की बख्तियार खिलजी ने इस जगह को अपवित्र कर दिया था।

  • जूनागढ़ किला, बीकानेर

राजस्थान के दुसरे किले पहाडियों के शीर्ष पर बने हुए है, जबकि जूनागढ़ किला बीकानेर शहर के दिल में बसा हुआ है। इस किले का निर्माण राव बिका के शासनकाल में किया गया है, जिन्होंने 15 वी शताब्दी में बीकानेर शहर की स्थापना की थी। बाद में ब्रिटिश राज में पुनः इसकी अवस्था में काफी सुधार भी किये गये। जूनागढ़ किले में राजपुताना शिल्पकला का उत्तम उदाहरण देखने मिलता है।

  • कुच बहार पैलेस, कुच बहार

लन्दन के बकिंघम पैलेस की तर्ज पर बना कुच पैलेस पश्चिम बंगाल के कुच बेहर में बना हुआ है। इसके निर्माणकार्य की देखरेख 1887 में कुच बहार के महाराजा ने की थी। भारतीय पैलेस होने के बावजूद यह ईमारत विशेष आर्किटेक्चर के लिए जानी जाती है।

  • निजामतल मम्बरा, मुर्शिदाबाद

भारत के विशालतम शिया मण्डली के हॉल, निजामतल मम्बरा का निर्माण 1847 में बंगाल के नवाब ने मुर्शिदाबाद में कर्वायाथा। इसका निर्माण मम्बरा के शीर्ष पर किया गया, जिसे 1846 में आग लगाकर ध्वस्त कर दिया गया था। ईमारत में हमें इस्लामिक और यूरोपियन कलाकृतियों का मेल दिखाई देता है।

  • बेलूर मठ, बेलूर – Beluṛ Maṭh

हिन्दू, इस्लामिक और यूरोपियन शैली में बना बेलूर मठ रामकृष्ण मिशन का मुख्यालय था।इसका स्थापना स्वामी विवेकानंद ने की थी और भारत में आध्यात्मिक शिक्षा के मुख्य संस्थानों में से यह एक है।

  • सेंट पॉल कैथेड्रल, कोलकाता

एंजेलिकल सेंट पॉल कैथेड्रल का निर्माण 1847 में हुआ और यहाँ हमें असाधारण गोथिक पुनरुद्धार वास्तुशिल्प के अद्भुत नमूने देखने मिलते है।1934 में आए भूकंप की वजह से ईमारत को काफी क्षति पहुची और इसके बाद पुनः नये आकार में इस ईमारत का निर्माण किया गया। इस चर्च का निर्माण ब्रिटिश राज में कलकत्ता में किया गया। इंडो-गोथिक आर्किटेक्चर में बनी गिनी-चुनी इमारतो में से यह एक है।

  • अकबर का मकबरा, आगरा

मुघल सम्राट अकबर के अंतिम विश्राम स्थल अकबर के मकबरे का निर्माण 1605 में किया गया और इसका निर्माणकार्य 1613 में पूरा हुआ। इसके निर्माणकार्य की शुरुवात अकबर ने ही की थी और उनके बेटे जहाँगीर ने इसका निर्माणकार्य पूरा किया, जो अकबर के बाद उनका उत्तराधिकारी भी बना था। इसका आकार बुलंद दरवाजे के ही समान है, जो फतेहपुर सिकरी का मुख्य प्रवेश द्वार है।

  • छोटा मम्बरा, लखनऊ :

हुसैनाबाद मम्बरा के नाम से प्रसिद्ध छोटा मम्बरा का निर्माण अवध के नवाब ने करवाया था, जो लखनऊ में स्थापित है। छोटा मम्बरा को प्रकाश के महल के नाम से भी जाना जाता है। मुहरम के समय इसे रौशनी से सजाया जाता है।

  • सुंदरबन नेशनल पार्क, दक्षिण 24 पर्गानस – Sundarbans National Park

1330 वर्गकिलोमीटर के भू-भाग में फैला सुंदरबन नेशनल पार्क बांगर टाइगर का मुख्य निवास स्थान है और साथ ही यहाँ वन्य जीव और पौधों की सर्वाधिक प्रजातियाँ पायी जाती है। सुंदरबन का ज्यादातर भाग डेल्टा और नदियों से घिरा हुआ है। सुंदरबन के जंगल भी काफी घने है और हर साल यहाँ लाखो लोग आते है।

I hope you find this post about ”Famous Tourist Places in India” useful. if you like this article please share it on Facebook & Whatsapp.

Note: We try hard for correctness and accuracy. please tell us If you see something that doesn’t look correct in this article About Famous Tourist Places in India in Hindi… And if you have more information History of Famous Tourist Places in India then help with the improvements in this article.

Gyanipandit.com Editorial Team create a big Article database with rich content, status for superiority and worth of contribution. Gyanipandit.com Editorial Team constantly adding new and unique content which make users visit back over and over again.

2 COMMENTS

  1. भारतीय की महत्ता एवं गुणवत्ता को बताने के लिए धन्याबाद.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.