Russia Information | रशिया के इतिहास के बारेमें महत्वपूर्ण घटनाएँ और जानकारी

Russia – रशिया, अधिकारिक रूप से रशियन फेडरेशन, यूरेशिया का एक संघीय राज्य है। क्षेत्रफल के हिसाब से रशिया दुनिया का सबसे बड़ा देश है, जो धरती के 1/8 भाग में बसे हुए भूमि क्षेत्र को घेरे हुए है। साथ में मार्च 2016 में रशिया 140 मिलियन की जनसँख्या के साथ दुनिया का 9 वा सबसे बड़ा देश बना।

देश के यूरोपियन पश्चिमी भाग में ज्यादा जनसँख्या बसी हुई है और साथ पूर्वी भाग के मुकाबले पश्चिमी भाग ज्यादा शहरीकृत है, रशिया की तक़रीबन 77% जनसँख्या यूरोपन रशिया में ही रहती है। रशिया की राजधानी मास्को दुनिया के सबसे बड़े शहरो में से एक है, देश में मुख्य शहरी इलाको में सेंट पीटर्सबर्ग, नोवोसिबिर्स्क, येकाटेरिनबर्ग, निज्हनी नोव्गोरोड़ और सामरा शामिल है।

Russia information

रशिया के इतिहास के बारे में महत्वपूर्ण घटनाएँ और जानकारी – Russia Information

रशिया ज्यादातर पुरे उत्तरी एशिया और पूर्वी यूरोप में फैला हुआ है, यहाँ पर कुल 11 समय क्षेत्र है और पर्यावरण और जमीन में यहाँ हमें कयी बदलाव देखने मिलते है। उत्तर-पश्चिम से दक्षिण-पूर्व तक रशिया में नोर्वे, फ़िनलैंड, इस्टोनिया, अज़रबैजान, कजाखस्तान, चीन, मंगोलिया और उत्तरी कोरिया की बॉर्डर है। साथ जापान के ओखोटस्क समुद्र और यूनाइटेड स्टेट के अलास्का की समुद्री सतहे भी रशिया में है।

देश के इतिहास की शुरुवात पूर्वी गुलामो से होती है, जिनका तीसरी और आठवीं शताब्दी के बीच यूरोप में एक प्रसिद्ध समूह था। उस समय इसकी खोज वरांजियन योद्धा इलीट ने की थी और उन्होंने एवं उनके वंशजो ने ही यहाँ पर शासन किया। 988 में उन्होंने बाइजेंटाइन साम्राज्य से रुढ़िवादी ईसाई धर्म को अपना लिया, जिससे बाइजेंटाइन के संश्लेषण की शुरुवात हुई और आने वाले हजारो सालो तक उन्होंने रशियन संस्कृति की नीव रखी।

अंत में रशिया को छोटे-छोटे राज्यों में विघटित किया गया, ज्यादातर रशियन भूमि को मंगोल शासक ही चलाने लगे थे, लेकिन धीरे-धीरे रशिया अपना अस्तित्व बनाने लगा और रशिया ने ऐसा करते हुए आज़ादी भी हासिल कर ली एवं सांस्कृतिक और राजनीतिक पहचान भी वैश्विक स्तर पर बनाने लगा था।

18 वी शताब्दी से देश का विकास तेज़ी से हो रहा था और यही विस्तार रशियन साम्राज्य के नाम से जाना जाने लगा, जो इतिहास का तीसरा सबसे विशाल साम्राज्य है, रशियन साम्रज्य पश्चिम में पोलैंड से पूर्व में अलास्का पर फैला हुआ था।

रशियन क्रांति के बाद रशियन संघीय फेडरेशन समाजवादी गणतंत्र सोवियत सोशलिस्ट रिपब्लिक संघ का सबसे बड़ा और मुख्य घटक बना। इसी वजह से बाद में रशिया द्वितीय विश्व युद्ध के बाद महाशक्ति के रूप में उभरा।

20 वी शताब्दी में रशिया के सोवियत युग में बहुत सी प्रोद्योगीकीय उपलब्धियाँ हासिल की गयी। साथ ही USSR से भी 15 आज़ाद गणतंत्र उभरकर सामने आए, जिनमे मुख्य रूप से रशिया, युक्रेन, बेलारूस, कजाखस्तान, उज्बेकिस्तान, अर्मेनिआ, अज़रबैजान, इस्टोनिया, जॉर्जिया, किर्गीजस्तान, लाटविया, लिथुँनिया, माल्डोवा, ताजीकिस्तान, तुर्कमेनिस्तान शामिल है। जिनमे से रशियन SFSR सबसे विशाल, सर्वाधिक जनसँख्या और आर्थिक रूप से मजबूत देशो में से एक है। रशिया के संघीय अर्ध-राष्ट्रपति गणतंत्र वाला देश है।

रशिया की आर्थव्यवस्था जीडीपी दर के हिसाब से 12 वी सबसे बड़ी और परचेसिंग पॉवर पैरिटी के हिसाब से छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है। रशिया में मिनरल्स और उर्जा स्त्रोतों का भंडार भी बहुत है, जो एक तेल और प्राकृतिक गैस का मुख्य उत्पादक भी बनाता है। साथ ही यह देश पाँच मुख्य नुक्लेअर शक्ति वाले देशो में से एक है, जिसके पास विशाल मात्रा में हथियारों का भंडार जमा है।

रशिया यूनाइटेड नेशन सिक्यूरिटी कौंसिल का स्थायी सदस्य है और साथ ही G20, कौंसिल ऑफ़ यूरोप, एशिया-प्रशांत इकॉनोमिक को-ऑपरेशन (APEC), शंघाई को-ऑपरेशन आर्गेनाईजेशन (SCO), आर्गेनाईजेशन फॉर सिक्यूरिटी एंड को-ऑपरेशन इन यूरोप (OSCE) और वर्ल्ड ट्रेड आर्गेनाईजेशन (WTO), कलेक्टिव सिक्यूरिटी ट्रीटी आर्गेनाईजेशन (CSTO) का भी सदस्य है और अर्मेनिआ, बेलारूस, कजाखस्तान और कीर्गीस्तान के यूरेशियन इकॉनोमिक यूनियन (EEU) के पाँच सदस्यों में से एक है।

रशिया के इतिहास के कुछ महत्वपूर्ण दिन – Important Dates in Russia History

1547 – मास्को के भव्य राजकुमार इवान IV रशिया के Tsar घोषित किये जाने वाले पहले शासक बने।

1798-1815 – रशिया ने यूरोपियन गठबंधन में क्रांतिकारियों और नेपोलियन फ्रांस के खिलाफ हिस्सा लिया और 1812 में नेपोलियन आक्रमण को पराजित किया और नेपोलियन की हार में रशिया का महत्वपूर्ण योगदान रहा।

1853-57 – क्रीमियन युद्ध में ओटोमन साम्राज्य के पराजित होने के बाद रशिया ओटोमन साम्राज्य के कुछ राज्यों को जब्त करना चाहता था।

1904-05 – मंचूरिया में रशिया के हो रहे विस्तार की वजह से 1905 की क्रांति और जापान युद्ध का उगम हुआ। जिसके चलते टसर निकोलस द्वितीय को जबरन संसद, दी ड्यूमा की स्थापना करनी पड़ी।

1914 – रशियन और ऑस्ट्रेलियाई लोगो ने बालकन्स में पहले विश्व युद्ध के प्रकोप में सहायता की, जिनमे से रशिया ब्रिटेन और फ्रांस की तरफ से लढ रहा था।

1917 – निकोलस द्वितीय को त्याग दिया गया। बोल्शेविक क्रांतिकारियों ने लेनिन का तख्तापलट कर अधिकारिक सरकार की स्थापना की।

1918-22 – लाल आर्मी और एंटी-कम्युनिस्ट सफ़ेद रशियंस के बीच गृह युद्ध की शुरुवात हुयी।

1922 – बोल्शेविक ने रशियन साम्राज्य के अवशेषों का पुनर्निर्माण सोवियत सोशलिस्ट रिपब्लिक संघ के रूप में करवाया।

1945 – नाज़ी जर्मनी के खिलाफ मित्र देशो के साथ जीत हासिल की। युद्ध के ख़त्म होते ही पश्चिम से शीत युद्ध की शुरुवात हुई।

1953 – घर में ही दमनकारी शासन की शुरुवात करने वाले तानाशाह जोसेफ स्टॅलिन की मृत्यु हो गयी, साथ ही कम्युनिस्ट पार्टी ने अपने राजनीतिक प्रभुत्व को मजबूती से बनाए रखा।

1991 – सोवियत संघ के खत्म होते ही रशिया आज़ाद हो गया, और उक्रेन एवं बेलारूस के साथ मिलकर उन्होंने स्वतंत्र राज्यों के राष्ट्रमंडल की स्थापना की, अंततः उसमे प्राचीन सोवियत संघ को भी शामिल कर लिया गया था।

2014 – रशिया ने क्रिमीआ के उक्रेन क्षेत्र पर कब्ज़ा कर लिया, जिसके चलते पूर्व-पश्चिम के बीच शीत युद्ध के बाद सबसे बड़ी तस्लीम रखी गयी।

2015 सितम्बर – रशिया ने सीरिया में मित्र प्रेसिडेंट बशर अल-अस्सद की सहायता करने के लिए सशस्त्र हस्तक्षेप लिया।

दोस्तों , अगर आपको हमारी रशिया के बारेमें दी गयी जानकारी पसंद आयी हो, तो और पढिए रशिया के बारेमें और भी कुछ रोचक बातें – Interesting Facts about Russia जिन बातों को पढ़कर आप हैरान रह जाओंगे।

Read More

I hope these “Russia Information in Hindi” will like you. If you like these “Russia Information in Hindi with History” then please like our facebook page & share on whatsapp. and For more latest articles like ” Peace Quotes in Hindi”  and more new article daily update please download : Gyani Pandit free android App.

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.